इतिहास लेखन में वंशावली का क्या महत्व है?...


play
user

shekhar11

Volunteer

0:39

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परंपरा अध्ययन शोध पीठ पर जाकर उनके संबंधियों की उपस्थिति में संक्षेप में सृष्टि की रचना से लेकर उसके पूर्वजों के समय की ऐतिहासिक ऐतिहासिक सामाजिक आर्थिक और धार्मिक घटनाओं का वर्णन करते हुए उस व्यक्ति उसके मैसेज का मंच कर्म अपनी हस्तलिखित प्रतियों में अंकित करना होता है यानी उनके परिवार वालों से मिलकर उनके बारे में उनके इतिहास उनके वंशावली सब की जानकारी ले जाती और पुस्तक लिखी जाती

parampara adhyayan shodh peeth par jaakar unke sambandhiyon ki upasthitee mein sankshep mein shrishti ki rachna se lekar uske purvajon ke samay ki etihasik aitihasik samajik aarthik aur dharmik ghatnaon ka varnan karte hue us vyakti uske massage ka manch karm apni hastlikhit pratiyon mein ankit karna hota hai yani unke parivar walon se milkar unke bare mein unke itihas unke vanshavali sab ki jaankari le jaati aur pustak likhi jaati

परंपरा अध्ययन शोध पीठ पर जाकर उनके संबंधियों की उपस्थिति में संक्षेप में सृष्टि की रचना से

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!