हम लोग नहाते क्यों हैं?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम लोग यहां पर क्यों लिखे हम लोग जाते इसलिए क्योंकि हमारा शरीर जो है पंचमहाभूत से बना जल वायु अग्नि आकाश और पृथ्वी और जल तत्व जो है वह हमारे शरीर पर जब पड़ता है हमारा शरीर अंदर तो जल है 70% हमारे शरीर के अंदर जल्दी-जल्दी तत्व और ऊपर जो हमारी स्किन है वह जल के द्वारा पोषित होती है इसलिए जो व्यक्ति दिया हमारे परिसर पर जो जीवाणु है जो धूल के कण हैं जो यह शब्द जो खराब असर दिखाते हैं तो हम सब उनके द्वारा जगनाथ स्किन को साफ करते हैं और जो सिर्फ पानी पड़ता है तो हमारे आंदोलन दिमाग को भी आराम मिलता है क्योंकि उसमें भी अंदर पानी है शरीर के अंदर दिमाग के अंदर पानी है तबीयत के अंदर पानी है लेकिन ऊपर से 100 तक में सफाई करने के लिए लाना जरूरी होता है और हमें भोजन करना चाहिए और कहते हैं कि जब तक मनुष्य सुबह स्नान नहीं करता तब तक अशोक गहलोत सुबह और रात को सोने के पहले का स्नान करें तो अच्छी नींद आती है यह हमारे बड़े हो और हम इस बात को फॉलो करते हैं और हमारे शरीर के ऊपर जो दुर्गंध पश्चिमी की है या धूलसिरस कर उसे साफ करते स्वच्छता की और अच्छी तरह से जीते जीते

hum log yahan par kyon likhe hum log jaate isliye kyonki hamara sharir jo hai panchamahabhut se bana jal vayu agni akash aur prithvi aur jal tatva jo hai vaah hamare sharir par jab padta hai hamara sharir andar toh jal hai 70 hamare sharir ke andar jaldi jaldi tatva aur upar jo hamari skin hai vaah jal ke dwara poshit hoti hai isliye jo vyakti diya hamare parisar par jo jivanu hai jo dhul ke kan hain jo yah shabd jo kharab asar dikhate hain toh hum sab unke dwara jagnath skin ko saaf karte hain aur jo sirf paani padta hai toh hamare andolan dimag ko bhi aaram milta hai kyonki usme bhi andar paani hai sharir ke andar dimag ke andar paani hai tabiyat ke andar paani hai lekin upar se 100 tak mein safaai karne ke liye lana zaroori hota hai aur hamein bhojan karna chahiye aur kehte hain ki jab tak manushya subah snan nahi karta tab tak ashok gehlot subah aur raat ko sone ke pehle ka snan kare toh achi neend aati hai yah hamare bade ho aur hum is baat ko follow karte hain aur hamare sharir ke upar jo durgandh pashchimi ki hai ya dhulsiras kar use saaf karte swachhta ki aur achi tarah se jeete jeete

हम लोग यहां पर क्यों लिखे हम लोग जाते इसलिए क्योंकि हमारा शरीर जो है पंचमहाभूत से बना जल व

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  1312
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!