आपकी सबसे बड़ी लर्निंग एक आर्टिस्ट के रूप में क्या है?...


play
user

Kafeel Jafri

Actor, Bengaluru's only Dastangoi performer

1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा थिएटर आर्टिस्ट जो मैं सबसे ज्यादा एहसान मानता हूं अपनी सितारों का कि जिसकी वजह से मैं तेरा आशिक बना दी है कि मैं अब किसी भी चीज को अपनी आम जिंदगी में भी किसी भी इस ऊपर किसी भी प्रॉब्लम पर कोई भी प्रॉब्लम हो मैं उसको सिर्फ एक नजरिए से नहीं देखा उसको कम से कम दोनों गिरीश देता हूं ऐसी बातें कोई भी चीज हो कोई भी इंसिडेंट हो कोई भी प्रॉब्लम हो आप को उसे अलग अलग नजरों से देखना चाहिए तो इस तरह से जी नहीं सबसे बड़ी लर्निंग रही है क्योंकि थिएटर में आप जो यीशु लेते हैं जो जिद पर बात करते हैं आप उसी के ऊपर आपको शिशु को उस सब्जेक्ट को आप अलग अलग नजरों से देखते तो वह ना सिर्फ मैंने तेज पर किया थिएटर के लिए किया नया वह अपनी आम जिंदगी भी ठिकाने लगाऊं और जब कोई इसलिए मेरा किसी से कांटेक्ट नहीं होता सच बोलो अब मेरी वजह से नहीं कर सकता क्योंकि कोई भी लड़ाई कौन सी जगह होती जवाब आ जाती है कि नहीं मैं ही सही हूं उन्हें देखना नहीं चाहता कि तुम्हारा नजरिया ना देखने नहीं जाता बनती है कांटेक्ट बिल्कुल दिल से ओपन हो किस बात के लिए बिल्कुल खुले में होगी वही सामने वाला क्या कह रहे हो उसकी बात भी समझो उसका नजरिया भी समझो तो यह है अगर आप ऐसा कर सके तो आपके लिए जिंदगी बहुत आसान हो जाएगी और मेरे ख्याल से यह जो मेरे अंदर बताइए यह सिर्फ स्टेटस शायरी तो इसके लिए मैं बहुत एहसान होगा

aisa theater artist jo main sabse zyada ehsaan manata hoon apni sitaron ka ki jiski wajah se main tera aashik bana di hai ki main ab kisi bhi cheez ko apni aam zindagi mein bhi kisi bhi is upar kisi bhi problem par koi bhi problem ho main usko sirf ek nazariye se nahi dekha usko kam se kam dono girish deta hoon aisi batein koi bhi cheez ho koi bhi incident ho koi bhi problem ho aap ko use alag alag nazro se dekhna chahiye toh is tarah se ji nahi sabse badi learning rahi hai kyonki theater mein aap jo yeshu lete hain jo jid par baat karte hain aap usi ke upar aapko shishu ko us subject ko aap alag alag nazro se dekhte toh vaah na sirf maine tez par kiya theater ke liye kiya naya vaah apni aam zindagi bhi thikane lagau aur jab koi isliye mera kisi se Contact nahi hota sach bolo ab meri wajah se nahi kar sakta kyonki koi bhi ladai kaun si jagah hoti jawab aa jaati hai ki nahi main hi sahi hoon unhe dekhna nahi chahta ki tumhara najariya na dekhne nahi jata banti hai Contact bilkul dil se open ho kis baat ke liye bilkul khule mein hogi wahi saamne vala kya keh rahe ho uski baat bhi samjho uska najariya bhi samjho toh yah hai agar aap aisa kar sake toh aapke liye zindagi bahut aasaan ho jayegi aur mere khayal se yah jo mere andar bataiye yah sirf status shaayari toh iske liye main bahut ehsaan hoga

ऐसा थिएटर आर्टिस्ट जो मैं सबसे ज्यादा एहसान मानता हूं अपनी सितारों का कि जिसकी वजह से मैं

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  124
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!