मीरा बाई कौन थी?...


play
user

Raghuveer Singh

👤Teacher & Advisor🙏

1:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीराबाई नागौर की कुर्की गांव के रहने वाले थे उनके दादा का नाम राव दूदा था और उनका विवाह है महाराणा संग्राम सिंह के प्रसिद्ध जिन्होंने खानवा का युद्ध में राणा सांगा के बड़े पुत्र गुजरात से हुई थी मीरा की शादी लेकिन वह हमेशा कृष्ण की भक्ति में लीन रहते थे और आज की मृत्यु हो गई थी उसके उपरांत है उन्होंने भगवान कृष्ण के भक्ति में अपने आप को क्लीन कर दिया बहुत बड़ी कृष्ण प्रेमा योगिनी थी और भगवान कृष्ण की भक्ति में हमेशा लगी रहती थी वह राजकुमारी थी फिर भी भगवान कृष्ण की भक्ति में लीन रहते थे इस बात का बिल्कुल भी जरा सा भी घमंड नहीं था कि वह एक राजकुमारी है इस बात की लज्जा शर्म भी नहीं आती थी कि महाराणा सांगा की पुत्रवधू होने के नाते इतने बड़े मेवाड़ है जो राज्य था उस समय सबसे ताकतवर था उससे राजे की पुत्र वधू होने के नाते भी जरा भी शर्म नहीं आती थी कि भगवान कृष्ण की भक्ति में तारे देखे नाच रही हैं और आखिर में है वह द्वारका चली जाती है और द्वारका की भगवान कृष्ण की मूर्ति में प्रवेश कर जाती है ऐसा क्यों जानती हैं तो बजा पुजारी है वह भागकर के हैं भगवान मीराबाई का पल्लू पकड़ता है और वह भगवान कृष्ण की मूर्ति के बारे रजत राधा को कहा जाता है

mirabai nagaur ki kurki gaon ke rehne waale the unke dada ka naam rav duda tha aur unka vivah hai maharana sangram Singh ke prasiddh jinhone khanava ka yudh mein rana sanga ke bade putra gujarat se hui thi meera ki shadi lekin vaah hamesha krishna ki bhakti mein Lean rehte the aur aaj ki mrityu ho gayi thi uske uprant hai unhone bhagwan krishna ke bhakti mein apne aap ko clean kar diya bahut badi krishna prema yogini thi aur bhagwan krishna ki bhakti mein hamesha lagi rehti thi vaah rajkumari thi phir bhi bhagwan krishna ki bhakti mein Lean rehte the is baat ka bilkul bhi zara sa bhi ghamand nahi tha ki vaah ek rajkumari hai is baat ki lajja sharm bhi nahi aati thi ki maharana sanga ki putravadhu hone ke naate itne bade mewad hai jo rajya tha us samay sabse takatwar tha usse raje ki putra vadhu hone ke naate bhi zara bhi sharm nahi aati thi ki bhagwan krishna ki bhakti mein taare dekhe nach rahi hain aur aakhir mein hai vaah dwarka chali jaati hai aur dwarka ki bhagwan krishna ki murti mein pravesh kar jaati hai aisa kyon jaanti hain toh baja pujari hai vaah bhagkar ke hain bhagwan mirabai ka pallu pakadta hai aur vaah bhagwan krishna ki murti ke bare rajat radha ko kaha jata hai

मीराबाई नागौर की कुर्की गांव के रहने वाले थे उनके दादा का नाम राव दूदा था और उनका विवाह है

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!