आरएसएस का भारत में कौन प्रवर्तक है?...


user

Roopam prajapati

Business Owner

3:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है आर एस एस का भारत में कौन प्रवर्तक है देखिए आरस का प्रवर्तक हर वह व्यक्ति है जिसमें देशभक्ति की भावना अब बात यहां पर यह आती है कि संघ का निर्माण कब हुआ संघ का निर्माण किसने किया तो यह एक भिन्न प्रश्न है प्रोग्राम इसके निर्माण की और इसके इतिहास की बात करें तो 1925 में नागपुर के मोहिते बाड़ा से डॉक्टर हेडगेवार डॉक्टर स्वर्गीय श्री डॉ केशव बलिराम पंत जी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की नियम रखी थी और इसका इतिहास बड़ा ही रोचक है अगर हम और कोई संगठन देखें तो जिसके निर्माण के लिए उन व्यक्तियों की आवश्यकता होती है जो कि मिर्ची और हो समझदार हो और कई बार देखते हैं कि कई संगठन जो है कि बहुत ही अमीर लोगों के द्वारा बनाया जाता है परंतु राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना डॉक्टर साहब ने कुछ तरुण किशोर बालकों के साथ तरुण और बाल स्वयंसेवकों के साथ की थी क्योंकि वह या नहीं चाहते थे कि संगठन बनाकर व्यक्तिगत फायदा लेना वे चाहते थे संगठन निर्माण करके समाज को और खासकर हिंदू समाज को कैसे उसका विकास किया जाए तो यह भावना डॉक्टर हेडगेवार जी के मन में थी जो कि उन्होंने बाल स्वयंसेवक तरुण स्वयंसेवकों से पहुंचाया और छोटा पौधा होता है और उसमें हम जल देते हैं और जल और खाद का जब उस पौधे को भरपूर पोषण मिलता है तो वह एक विशाल वृक्ष के रूप में आकार लेता है इसी प्रकार जब बचपन से ही एक बालक के ह्रदय में देशभक्ति की भावना का संचार किया जाएगा तो निश्चय ही है कि वह बड़ा होकर देश के लिए समर्पण की भावना को दिखाएं और आप आज देख सकते हैं कि कोरोना का जो चल रहा है आज कुछ संगठनों बैकफुट पर आ गए हैं हालांकि सभी संगठन ने अपने स्तर पर सेवा करी है परंतु आप आज भी देख सकते हैं कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का प्रत्येक स्वयंसेवक सेवा भाव का कार्य कर रहा है तो मैंने आपको बताया की राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के निर्माण के बारे में निर्माण उसका कैसे किया गया और आज भारत के हर एक कोने में कोई ना कोई स्वयंसेवक समर्पण के साथ समर्पण के भाव से सेवा कर रहा है और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सबसे अच्छी बात यह है कि एक बार यदि आप ह्रदय से भगवा ध्वज को प्रणाम करते हैं तो आप जीवन पर्यंत स्वयंसेवक बन जाते हैं कई बार समय की व्यस्तता के चलते कुछ लोग शाखा नहीं जा पाते परंतु यदि बचपन में आपके हृदय में संघ का संघ की सेवा का भाव उत्पन्न हो गया है तो यह जीवन पर्यंत आपके साथ देशभक्ति के रूप में जुड़ा रहता है इसलिए हर वह व्यक्ति आरक्षित का प्रवर्तक है जो देश को विश्व गुरु के रूप में स्थापित करना चाहता है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai R S S ka bharat me kaun pravartak hai dekhiye arsh ka pravartak har vaah vyakti hai jisme deshbhakti ki bhavna ab baat yahan par yah aati hai ki sangh ka nirmaan kab hua sangh ka nirmaan kisne kiya toh yah ek bhinn prashna hai program iske nirmaan ki aur iske itihas ki baat kare toh 1925 me nagpur ke mohite badaa se doctor hedgevar doctor swargiya shri Dr. keshav baliram pant ji ne rashtriya swayamsevak sangh ki niyam rakhi thi aur iska itihas bada hi rochak hai agar hum aur koi sangathan dekhen toh jiske nirmaan ke liye un vyaktiyon ki avashyakta hoti hai jo ki mirchi aur ho samajhdar ho aur kai baar dekhte hain ki kai sangathan jo hai ki bahut hi amir logo ke dwara banaya jata hai parantu rashtriya swayamsevak sangh ki sthapna doctor saheb ne kuch tarun kishore baalakon ke saath tarun aur baal swayansevakon ke saath ki thi kyonki vaah ya nahi chahte the ki sangathan banakar vyaktigat fayda lena ve chahte the sangathan nirmaan karke samaj ko aur khaskar hindu samaj ko kaise uska vikas kiya jaaye toh yah bhavna doctor hedgevar ji ke man me thi jo ki unhone baal swayamsevak tarun swayansevakon se pahunchaya aur chota paudha hota hai aur usme hum jal dete hain aur jal aur khad ka jab us paudhe ko bharpur poshan milta hai toh vaah ek vishal vriksh ke roop me aakaar leta hai isi prakar jab bachpan se hi ek balak ke hriday me deshbhakti ki bhavna ka sanchar kiya jaega toh nishchay hi hai ki vaah bada hokar desh ke liye samarpan ki bhavna ko dikhaen aur aap aaj dekh sakte hain ki corona ka jo chal raha hai aaj kuch sangathano baikfut par aa gaye hain halaki sabhi sangathan ne apne sthar par seva kari hai parantu aap aaj bhi dekh sakte hain ki rashtriya swayamsevak sangh ka pratyek swayamsevak seva bhav ka karya kar raha hai toh maine aapko bataya ki rashtriya swayamsevak sangh ke nirmaan ke bare me nirmaan uska kaise kiya gaya aur aaj bharat ke har ek kone me koi na koi swayamsevak samarpan ke saath samarpan ke bhav se seva kar raha hai aur rashtriya swayamsevak sangh ki sabse achi baat yah hai ki ek baar yadi aap hriday se bhagva dhwaj ko pranam karte hain toh aap jeevan paryant swayamsevak ban jaate hain kai baar samay ki vyastata ke chalte kuch log shakha nahi ja paate parantu yadi bachpan me aapke hriday me sangh ka sangh ki seva ka bhav utpann ho gaya hai toh yah jeevan paryant aapke saath deshbhakti ke roop me juda rehta hai isliye har vaah vyakti arakshit ka pravartak hai jo desh ko vishwa guru ke roop me sthapit karna chahta hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है आर एस एस का भारत में कौन प्रवर्तक है देखिए आरस का प्रवर्तक हर वह व्

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  253
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!