राम मंदिर का फैसला किस सरकार ने दिया?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम मंदिर का फैसला किस सरकार ने दिया तो देखे राम मंदिर का फैसला है वह किसी सरकार ने नहीं दी है यह जो केस था वो काफी दिनों से वह सर्वोच्च न्यायालय में पेंडिंग था चल रहा था तो सर्वोच्च न्यायालय की दो पांच जजों की संविधान पीठ ने सुनवाई करते हुए पूरे मामले की है वह फैसला दिया दोनों नंबर आया था तो इसमें सरकार ने किसी निकालते हुए आदमी सुप्रीम कोर्ट का फैसला सर्वोच्च न्यायालय और यह जो मुख्य न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय रंजन गोविंद उन्होंने इस फैसले को सुनाया

ram mandir ka faisla kis sarkar ne diya toh dekhe ram mandir ka faisla hai vaah kisi sarkar ne nahi di hai yah jo case tha vo kaafi dino se vaah sarvoch nyayalaya mein pending tha chal raha tha toh sarvoch nyayalaya ki do paanch judgon ki samvidhan peeth ne sunvai karte hue poore mamle ki hai vaah faisla diya dono number aaya tha toh isme sarkar ne kisi nikalate hue aadmi supreme court ka faisla sarvoch nyayalaya aur yah jo mukhya nyayadhish sarvoch nyayalaya ranjan govind unhone is faisle ko sunaya

राम मंदिर का फैसला किस सरकार ने दिया तो देखे राम मंदिर का फैसला है वह किसी सरकार ने नहीं द

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  156
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!