प्यार कितना प्रकार का होता है और किस प्यार किसके साथ किया जाता है?...


user

Raj Kumar

Lawyer

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्यार कितने प्रकार का होता है और इस प्यार को किसके साथ किया जाता है देखो प्यार के काफी स्वरूप प्यार अपनी मां से भी होता है जन्म से जब भी कोई जन्म लेता है तो सबसे पहले प्यार का संबंध उस जातक या या तो क्या करूं उस लड़के लड़की का अपनी मां के साथ में स्थापित होता है फिर उसके पश्चात अपने पिता से फिर उसके पश्चात घर के अन्य सदस्यों से जो उसके भाई-बहन होते हैं दादा-दादी होते हैं या फिर अन्य कोई और रिश्तेदारी में होते हैं उसके बाद प्यार की परिभाषा में आता है फिर सामाजिक किया जब वह लड़का या लड़की धीरे-धीरे बड़े होते हैं इधर-उधर अपने समाज को देखने लगते हैं समझने लगते हैं तो समाज के प्रति भी है प्यार होता है उसके बाद उसके जेहन में आता है राष्ट्र जिसको हम राष्ट्र धर्म भी बोलते हैं तो एक राष्ट्र के प्रति भी प्यार हो सकता है प्यार माता-पिता भाई-बहन रिश्तेदारों के मध्य समाज के प्रति अपने राष्ट्र के प्रति होता है पर अक्सर यह देखा गया है कि प्यार का अर्थ प्रेमिका के साथ में लिया जाता है यानी उस हमसफर के साथ में लिया जाता है जिसके साथ आप अपने जीवन यापन की परिक्रमा करते हैं और उसको अपनी प्रेमिका के रूप में देखना शुरु करते हैं किसी को भी यह प्रेमी के रूप में देखना शुरु करते हैं या बतौर पत्नी उसको परिकल्पना में समझने लग जाते हैं तो प्यार किस तरह की अलग-अलग श्रेणियों अब निर्भर करता है कि आप प्यार की परिभाषा को किस संदर्भ में देखना चाह रहे हैं प्रेमिका के तौर परिवारिक तौर पर सामाजिक तौर पर या राष्ट्रीय स्तर

pyar kitne prakar ka hota hai aur is pyar ko kiske saath kiya jata hai dekho pyar ke kaafi swaroop pyar apni maa se bhi hota hai janam se jab bhi koi janam leta hai toh sabse pehle pyar ka sambandh us jatak ya ya toh kya karu us ladke ladki ka apni maa ke saath me sthapit hota hai phir uske pashchat apne pita se phir uske pashchat ghar ke anya sadasyon se jo uske bhai behen hote hain dada dadi hote hain ya phir anya koi aur rishtedaari me hote hain uske baad pyar ki paribhasha me aata hai phir samajik kiya jab vaah ladka ya ladki dhire dhire bade hote hain idhar udhar apne samaj ko dekhne lagte hain samjhne lagte hain toh samaj ke prati bhi hai pyar hota hai uske baad uske jehan me aata hai rashtra jisko hum rashtra dharm bhi bolte hain toh ek rashtra ke prati bhi pyar ho sakta hai pyar mata pita bhai behen rishtedaron ke madhya samaj ke prati apne rashtra ke prati hota hai par aksar yah dekha gaya hai ki pyar ka arth premika ke saath me liya jata hai yani us humsafar ke saath me liya jata hai jiske saath aap apne jeevan yaapan ki parikrama karte hain aur usko apni premika ke roop me dekhna shuru karte hain kisi ko bhi yah premi ke roop me dekhna shuru karte hain ya bataur patni usko parikalpana me samjhne lag jaate hain toh pyar kis tarah ki alag alag shreniyon ab nirbhar karta hai ki aap pyar ki paribhasha ko kis sandarbh me dekhna chah rahe hain premika ke taur pariwarik taur par samajik taur par ya rashtriya sthar

प्यार कितने प्रकार का होता है और इस प्यार को किसके साथ किया जाता है देखो प्यार के काफी स्व

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  67
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!