क्या सरकारी कुर्सी के लिए भी मैच फिक्सिंग होती है? आपकी क्या राय है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या सरकारी कुर्सी के लिए भी मैच फिक्सिंग होती है आपकी क्या राय है लेकिन जिस तरह से अभी बता रहा है और हर समय देखते हैं कि सरकारी कुटी की लिस्ट सब कुछ जाएं पहले हम सोचे थे कि एवरीथिंग इस फेयर इन लव एंड कॉस्ट विद पॉलिटिक्स इसलिए पॉलिटिक्स में जोड़ना पड़ेगा कि एवरीथिंग इस फेयर इन लव एंड पॉलिटिक्स कुछ भी हो ना हो सकता है हम जो सोच नहीं सकते वह सब आप इसको सिर्फ मैच फिक्सिंग नहीं कहेंगे लेकिन मैच फिक्सिंग से भी जा सरकारी कुर्सी के लिए उपयोग हम समय-समय पर देखते हैं बहुत कुछ लिखा है कि नैतिकता को दरकिनार करके और अपने सिद्धांतों को एक बाजू रखकर मिक्सिंग हो जाती है चाहे कश्मीर वह कर्नाटक हो चाहे महाराष्ट्र हो और साउथ में भी होती रही है ऐसी बात नहीं पूरा भारत से अछूता नहीं है पहले गुजरात में भी इस तरह का हो चुका है मिक्सिंग किसके द्वारा व्यक्ति है जो सत्ताधारी पार्टी होती उसी का हाथ पर रहता है दिल्ली में जो शासन करता है वही सब कुछ करवा सकता है ऐसा राजनीति के गलियारे में सुनने में लेकिन मैट्रिक्सन से भी ज्यादा सेटिंग ना करती है लोग सत्ता पाने के लिए सरकारी कुर्सी पाने के लिए सब कुछ अपने सिद्धांत और नैतिकता को एक तरफ दरकिनार कर देते हैं धन्यवाद

kya sarkari kursi ke liye bhi match fixing hoti hai aapki kya rai hai lekin jis tarah se abhi bata raha hai aur har samay dekhte hain ki sarkari kuti ki list sab kuch jayen pehle hum soche the ki everything is fair in love and cost with politics isliye politics mein jodna padega ki everything is fair in love and politics kuch bhi ho na ho sakta hai hum jo soch nahi sakte vaah sab aap isko sirf match fixing nahi kahenge lekin match fixing se bhi ja sarkari kursi ke liye upyog hum samay samay par dekhte hain bahut kuch likha hai ki naitikta ko darakinar karke aur apne siddhanto ko ek baju rakhakar mixing ho jaati hai chahen kashmir vaah karnataka ho chahen maharashtra ho aur south mein bhi hoti rahi hai aisi baat nahi pura bharat se achuta nahi hai pehle gujarat mein bhi is tarah ka ho chuka hai mixing kiske dwara vyakti hai jo sattadhari party hoti usi ka hath par rehta hai delhi mein jo shasan karta hai wahi sab kuch karva sakta hai aisa raajneeti ke galiyare mein sunne mein lekin maitriksan se bhi zyada setting na karti hai log satta paane ke liye sarkari kursi paane ke liye sab kuch apne siddhant aur naitikta ko ek taraf darakinar kar dete hain dhanyavad

क्या सरकारी कुर्सी के लिए भी मैच फिक्सिंग होती है आपकी क्या राय है लेकिन जिस तरह से अभी बत

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  1227
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!