क्या भारतीय राजनीति महाभारत का एक रूप है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

4:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं बल्कि महाभारत की जो महाभारत में जो आपने रूप देखा है उस समय दुश्मनों में भी खुश रहता है तो भी कुछ वर्जन आई थी कुछ मर्यादा ए थी किंतु आज की राजनीति का जो इस तरह हुआ भारत की राजनीति का वह तो उससे भी ज्यादा निम्न स्तर है क्योंकि उस समय मैं मानता हूं कि द्वापर युग में चल पड़े हुए लेकिन नैतिक तक कि आप यह नैतिकता नहीं कहेंगे तो आप याद कीजिए जिस समय की सारी कौरवों की सेना हार चुकी थी और केवल पांच कौरव जिंदा रह गए थे उस समय दुर्योधन जल के अंदर पानी के अंदर छुप गया था तब भगवान श्रीकृष्ण ने आवाज देकर किसे बुलाया कि दुर्योधन बाहर निकलो कायरों की तरह पानी में छुपकर मत पर हो बाहर निकल कर के आओ तो वह निकल कर के आया दुर्योधन उसके समक्ष अर्जुन ने श्रीकृष्ण ने एक प्रस्ताव रख दिया अर्जुन नहीं पर शायद शब्द ही प्रस्ताव रखा था कि हम पांचों भाइयों में से जिस व्यक्ति से भी तुम युद्ध करना चाहते हैं उस व्यक्ति के साथ युद्ध कर लो और यदि तुम जीत जाते हो तो तुम्हारे हुए नहीं हो बल्कि ज्योत विजेताओं और यदि हमार जाते हैं उस समय यदि दुर्योधन ने क्योंकि दुर्योधन गदा युद्ध का मास्टर की व्यक्ति का शव मिला था और उसी मुकाबला करने के लिए केवल धीमी था बगीचा इन पांचों पांडवों में सब अलग-अलग विधाओं को जानने वाले थे जैसे अर्जुन जो था वह तीर कमान से युद्ध करने में माहिर था धनुष विद्या का ज्ञाता था उधर भाला फेंक नहीं बहुत अटपटे मास्टरपीस उधर के दिन जूता बुक गदा युद्ध का बहुत मन था बड़ा स्टेट लिस्ट था उसका टॉप जाता था और नकुल और सहदेव नकुल जूतों को तलवारबाजी का था और सहदेव सवारी की विधि हमें बहुत एक्सपर्ट था लेकिन नैतिकता देखिए दुर्योधन की दुर्योधन ने वहां केवल क्योंकि दुर्योधन का हमेशा से ही जो गैर रहा वह केवल भी हमसे रहा था तो वहां भी उसने नैतिकता के आधार पर की टीम से युद्ध महायुद्ध यदि वह अर्जुन को कह देता तो निश्चित रूप से हार जाते हैं यदि और यदि वह युधिष्ठिर से भी गदा युद्ध करता तो युधिस्टर भी हार जाता क्योंकि दुर्योधन गदा युद्ध में उतना ही माहिर कुशल कुशल योद्धा था जितना कि भीम था लेकिन नैतिकता के आधार पर उन्होंने वहां दुर्योधन ने वहां तीन से युद्ध की याद युद्ध की मांग की और युद्ध हुआ अंत में श्री कृष्ण ने 16 के द्वारा दुर्योधन को मरवा दिया भीम ने गदा से उसकी जाम पर प्रहार किया जबकि गदा युद्ध में चांद पर प्रहार नहीं किया जाता है आज की राजनीति भारत की राजनीति आज तो उस महाभारत के काल से भी बहुत ज्यादा नीचे गिर चुकी है बहुत ज्यादा स्तर भी हो गई है आज की राजनीतिक व्यक्तिगत स्वार्थों से भरे हुए घोटाले विवाद में दबंगों के भ्रष्टाचार की आज की भारत की राजनीति भ्रष्टाचार की जननी है प्रमुख स्थान है स्पेशल घर में ही भ्रष्टाचार दवा घोटाले रिश्वतखोरी की सभी कुछ पनपती हैं किसी भी राजनीतिक पार्टी की कोई अस्तित्व नहीं है किसी भी राजनीतिक विगो आपके अपने स्वार्थ से इतनी पा सकते हैं सभी राजनीतिक भाई भतीजावाद करने वाले हैं और बंदर बांटे रेवड़ी फिर पर अपनों को देबो स्थिति आज आपको भारत में दिखाई दे सकती है

nahi balki mahabharat ki jo mahabharat mein jo aapne roop dekha hai us samay dushmano mein bhi khush rehta hai toh bhi kuch version I thi kuch maryada a thi kintu aaj ki raajneeti ka jo is tarah hua bharat ki raajneeti ka vaah toh usse bhi zyada nimn sthar hai kyonki us samay main manata hoon ki dwapar yug mein chal pade hue lekin naitik tak ki aap yah naitikta nahi kahenge toh aap yaad kijiye jis samay ki saree kauravon ki sena haar chuki thi aur keval paanch kaurav zinda reh gaye the us samay duryodhan jal ke andar paani ke andar chup gaya tha tab bhagwan shrikrishna ne awaaz dekar kise bulaya ki duryodhan bahar niklo kayaron ki tarah paani mein chhupakar mat par ho bahar nikal kar ke aao toh vaah nikal kar ke aaya duryodhan uske samaksh arjun ne shrikrishna ne ek prastaav rakh diya arjun nahi par shayad shabd hi prastaav rakha tha ki hum panchon bhaiyo mein se jis vyakti se bhi tum yudh karna chahte hai us vyakti ke saath yudh kar lo aur yadi tum jeet jaate ho toh tumhare hue nahi ho balki jyot vijetaon aur yadi hamar jaate hai us samay yadi duryodhan ne kyonki duryodhan gada yudh ka master ki vyakti ka shav mila tha aur usi muqabla karne ke liye keval dheemi tha bagicha in panchon pandavon mein sab alag alag vidhaon ko jaanne waale the jaise arjun jo tha vaah teer kamaan se yudh karne mein maahir tha dhanush vidya ka gyaata tha udhar bhala fenk nahi bahut atapate masterpiece udhar ke din juta book gada yudh ka bahut man tha bada state list tha uska top jata tha aur nakul aur sahdev nakul jooton ko talavarbaji ka tha aur sahdev sawari ki vidhi hamein bahut expert tha lekin naitikta dekhiye duryodhan ki duryodhan ne wahan keval kyonki duryodhan ka hamesha se hi jo gair raha vaah keval bhi humse raha tha toh wahan bhi usne naitikta ke aadhaar par ki team se yudh mahayuddh yadi vaah arjun ko keh deta toh nishchit roop se haar jaate hai yadi aur yadi vaah yudhishthir se bhi gada yudh karta toh yudhistar bhi haar jata kyonki duryodhan gada yudh mein utana hi maahir kushal kushal yodha tha jitna ki bhim tha lekin naitikta ke aadhaar par unhone wahan duryodhan ne wahan teen se yudh ki yaad yudh ki maang ki aur yudh hua ant mein shri krishna ne 16 ke dwara duryodhan ko marava diya bhim ne gada se uski jam par prahaar kiya jabki gada yudh mein chand par prahaar nahi kiya jata hai aaj ki raajneeti bharat ki raajneeti aaj toh us mahabharat ke kaal se bhi bahut zyada niche gir chuki hai bahut zyada sthar bhi ho gayi hai aaj ki raajnitik vyaktigat swarthon se bhare hue ghotale vivaad mein dabangon ke bhrashtachar ki aaj ki bharat ki raajneeti bhrashtachar ki janani hai pramukh sthan hai special ghar mein hi bhrashtachar dawa ghotale rishwat khori ki sabhi kuch panpati hai kisi bhi raajnitik party ki koi astitva nahi hai kisi bhi raajnitik vigo aapke apne swarth se itni paa sakte hai sabhi raajnitik bhai bhatijavad karne waale hai aur bandar bante revadi phir par apnon ko debo sthiti aaj aapko bharat mein dikhai de sakti hai

नहीं बल्कि महाभारत की जो महाभारत में जो आपने रूप देखा है उस समय दुश्मनों में भी खुश रहता ह

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  1632
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!