सरदार वल्लभ भाई पटेल के बारे में कुछ बताइए?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार बल्लभ भाई पटेल का जन्म गुजरात में हुआ था सरदार वल्लभभाई पटेल गुजरात के ही नेता नहीं थे अपितु उन्हें आज समस्त भारतीय अपने दिल से सम्मान देते हैं क्योंकि बेचन प्रिय नेता है आज की डेट में भी देखा जाए तो आज प्रत्येक भारती का यह विचार है कि यदि कुछ समझ में जिस समय देश स्वतंत्र हुआ था काश महात्मा गांधी जी ने या अन्य नेताओं ने सब ने मिलकर के जवाहरलाल नेहरू की जगह यदि सरदार वल्लभभाई पटेल को विश करने तब तो दिया होता और प्रधानमंत्री बनाए होते तो आज भारत के सामने बहुत सारी समस्याएं नहीं होती नंबर 1 पाकिस्तान नहीं हो पाता भारत पर निबंध अलग नहीं होता और नंबर दो कश्मीर की समस्या नहीं होती जिससे देश सुपर 75 सालों से जूझता रहा है नंबर 3 सरदार वल्लभभाई की देन है जो आप की हकीकत भारत देख रहे हैं यह सारा एकीकरण का कार्य सरदार बल्लभ भाई पटेल ने अकेले नहीं किया था इसलिए प्रत्येक भारतीय नागरिक आज उन्हें बहुत अधिक रास्ता किस देश से देखता है और आज के लिए पीर दी हवा तोते सरदार बल्लभ भाई पटेल की देश का नेतृत्व करते और आज भी उस समय में देश के प्रधानमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल को बना दिया जाता तो आज भारत विशेष श्रेणी के रास्ते में खड़ा होता विकासशील राष्ट्रों में नहीं होता तो की बहुत बहुत सारी उन्नति कर चुका होता था यह जातिवाद की राजनीति हो पाती ना यह धर्म बात करते है गुलाब का मिलता तो पूछते उनसे कि एक्टिविटीज एक रास्ता सुपर कुंती जबकि दुर्भाग्य इस बात का रहा कि उनके वार्ड में आज हमको सरदार वल्लभभाई पटेल जैसे राष्ट्रीय विचारों वाले नेता की बहुत बड़ी आवश्यकता है जाकर कीर्तनी इंदिरा जी के बाद में इस देश में भी कोई प्रस्ताव प्रधानमंत्री द्वारा रहा है तो नरेंद्र मोदी साहब मगर आ रहे हैं बनना मेरा मानना तो यह है कि इस देश में केवल दो ही प्रधानमंत्री तो कहीं जा सकते हैं एक तो श्रीमती इंदिरा गांधी जी और एक पुस्तक नरेंद्र मोदी सरदार वल्लभभाई पटेल जी नरेंद्र मोदी के सीट नीतियों के थे गाज़ी जैसे विचारों के थे स्ट्रांग के पास देश के प्रधानमंत्री के बन गए होते तो आज भारत चोटी के देशों में गिना जाता है भारत का स्थान बहुत ही गौरवशाली पूर्ण होता

sardar ballabh bhai patel ka janam gujarat mein hua tha sardar vallabhbhai patel gujarat ke hi neta nahi the apitu unhe aaj samast bharatiya apne dil se sammaan dete hain kyonki bechan priya neta hai aaj ki date mein bhi dekha jaaye toh aaj pratyek bharati ka yah vichar hai ki yadi kuch samajh mein jis samay desh swatantra hua tha kash mahatma gandhi ji ne ya anya netaon ne sab ne milkar ke jawaharlal nehru ki jagah yadi sardar vallabhbhai patel ko wish karne tab toh diya hota aur pradhanmantri banaye hote toh aaj bharat ke saamne bahut saree samasyaen nahi hoti number 1 pakistan nahi ho pata bharat par nibandh alag nahi hota aur number do kashmir ki samasya nahi hoti jisse desh super 75 salon se jujhta raha hai number 3 sardar vallabhbhai ki then hai jo aap ki haqiqat bharat dekh rahe hain yah saara ekikaran ka karya sardar ballabh bhai patel ne akele nahi kiya tha isliye pratyek bharatiya nagarik aaj unhe bahut adhik rasta kis desh se dekhta hai aur aaj ke liye pir di hawa tote sardar ballabh bhai patel ki desh ka netritva karte aur aaj bhi us samay mein desh ke pradhanmantri sardar ballabh bhai patel ko bana diya jata toh aaj bharat vishesh shreni ke raste mein khada hota vikasshil rashtro mein nahi hota toh ki bahut bahut saree unnati kar chuka hota tha yah jaatiwad ki raajneeti ho pati na yah dharm baat karte hai gulab ka milta toh poochhte unse ki activities ek rasta super kuntee jabki durbhagya is baat ka raha ki unke ward mein aaj hamko sardar vallabhbhai patel jaise rashtriya vicharon waale neta ki bahut badi avashyakta hai jaakar kirtani indira ji ke baad mein is desh mein bhi koi prastaav pradhanmantri dwara raha hai toh narendra modi saheb magar aa rahe hain banna mera manana toh yah hai ki is desh mein keval do hi pradhanmantri toh kahin ja sakte hain ek toh shrimati indira gandhi ji aur ek pustak narendra modi sardar vallabhbhai patel ji narendra modi ke seat nitiyon ke the gazi jaise vicharon ke the strong ke paas desh ke pradhanmantri ke ban gaye hote toh aaj bharat choti ke deshon mein gina jata hai bharat ka sthan bahut hi gauravshali purn hota

सरदार बल्लभ भाई पटेल का जन्म गुजरात में हुआ था सरदार वल्लभभाई पटेल गुजरात के ही नेता नहीं

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1447
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के रक्षा मंत्री थे उन्होंने देश में कई राजाओं को भारत के अंदर मिलाने में अहम भूमिका निभाई उन्होंने कई राजा जो कि भारत में नहीं मिलना चाहते थे जिनमें राजकोट के राजा हैदराबाद के नवाब अजमेर के राजा और भी जितने कईला जाते हो ने भारत में मिलाने में ग्वालियर के राजा इन सभी को भारत में भिलाई कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी उन्हें लौह पुरुष के नाम से जाना जाता था वह निर्णय करने में काफी अभ्यास भिजवा दीजिए वे देश के प्रधानमंत्री बनाए जाने थे लेकिन गांधीजी ने उन्हें प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री बना दिया था पुल के नीचे आज पंछी देश के सच्चे सपूत थे और गुजरात से छुए और गुजरात में कौन हेलो पुरुष के नाम से पूरा देश की जनता है वर्तमान में नरेंद्र मोदी ने उनके नाम पर नवागांव सरदार सरोवर बांध कहां पर स्टेचू ऑफ यूनिटी के नाम से विशाल आजमगढ़ मूर्ति बनाई है तो पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के आदर्शों पर हमें चलना चाहिए देश के महान सच्चे सपूत जननायक

sardar vallabhbhai patel bharat ke raksha mantri the unhone desh mein kai rajaon ko bharat ke andar milaane mein aham bhumika nibhaai unhone kai raja jo ki bharat mein nahi milna chahte the jinmein rajkot ke raja hyderabad ke nawab ajmer ke raja aur bhi jitne kaila jaate ho ne bharat mein milaane mein gwalior ke raja in sabhi ko bharat mein bhilai karane mein mahatvapurna bhumika nibhaai thi unhe loha purush ke naam se jana jata tha vaah nirnay karne mein kaafi abhyas bhijwa dijiye ve desh ke pradhanmantri banaye jaane the lekin gandhiji ne unhe pradhanmantri pradhanmantri bana diya tha pool ke niche aaj panchhi desh ke sacche sapoot the aur gujarat se chuye aur gujarat mein kaun hello purush ke naam se pura desh ki janta hai vartaman mein narendra modi ne unke naam par nawagaon sardar sarovar bandh kahaan par statue of unity ke naam se vishal azamgarh murti banai hai toh purush sardar vallabh bhai patel ke aadarshon par hamein chalna chahiye desh ke mahaan sacche sapoot jannayak

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के रक्षा मंत्री थे उन्होंने देश में कई राजाओं को भारत के अंदर मिल

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  1791
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

3:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार बल्लभ भाई पटेल हमारे पंडित जवाहरलाल नेहरू युग के एक कांग्रेसी नेता थे बहुत सशक्त नेता के बहुत बुद्धिजीवी नेता थे लौह पुरुष के नाम से जाने जाते थे एक बार हमारे देश में व्यापारियों ने बेटा जातिवाद विटारा आजादी के बाद व्यापारियों ने कहा मालिका स्टॉक कर लिया और हमारे सामने अनाज की समस्या खड़ी हो गई उस समय सरदार वल्लभभाई पटेल जी देश के गृह मंत्री थे और स्थिति यह थी कि हमारे पास अनाज की कमी पड़ी तो इन्होंने अनाउंस किया कि हमने विदेशी व्यापारियों से इतना अनाज जो है वह मंगा लिया है और वह अनाज देखना चित्र हमारे पास दो-तीन दिन के अंदर पहुंचने वाला है इसलिए भारतीय जनमानस जनता आप लोग चिंता ना करें अभी दो-तीन दिन की बात है थोड़ा सा एक दूसरे में सहयोग करते हुए इस समय कोकाटे फिर आपके पास अनाज की समस्या का अंत हो जाएगा और एक संदेश उन्होंने यह भी दिया कि जिन भी ठोक पक्षियों के पास अनाज अगर तक मैं निकला तो उनके साथ बहुत कड़ा और कठोर निर्णय लिया जाएगा और उनको केवल जेल नहीं बल्कि उनके ऊपर कड़ा जुर्माना लगाया जाएगा जो पुरुष से बड़ी सशक्त से जो निर्णय ले लिया ले लिया और युग की विशेषता के कारण रातों-रात उद्योगपतियों ने जिन्होंने अनाज का स्टॉक कर रखा था वह बाहर मैदान में सड़कों पर उतार दिया पता ही नहीं चला कि मना कब सड़कों पर आ गया और लोगों ने खेतों में आ गया और यह उनकी सूची तो थी कि उन्होंने उद्योग पतियों को मजबूर कर दिया बिना किसी दंड के और हमारा सारा नाच बाजार में आ गया और समस्त भारतीय जनता को एक ट्रक उनका सामना करना पड़ा इसलिए आज हम सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को याद करते हैं ऐसे लोग पुरुष दुनिया में बहुत कम होते हैं कोई इनकी तुलना जरूर करें कि मैं भी ऐसा कर रहा हूं मैं विश्वास से कह सकता हूं कि उनकी बराबरी करना तो छोड़िए उनकी छाया की बराबरी कर लो तो बहुत बड़ी बात है

sardar ballabh bhai patel hamare pandit jawaharlal nehru yug ke ek congressi neta the bahut sashakt neta ke bahut buddhijeevi neta the loha purush ke naam se jaane jaate the ek baar hamare desh mein vyapariyon ne beta jaatiwad vitara azadi ke baad vyapariyon ne kaha malika stock kar liya aur hamare saamne anaaj ki samasya khadi ho gayi us samay sardar vallabhbhai patel ji desh ke grah mantri the aur sthiti yah thi ki hamare paas anaaj ki kami padi toh inhone anauns kiya ki humne videshi vyapariyon se itna anaaj jo hai vaah Manga liya hai aur vaah anaaj dekhna chitra hamare paas do teen din ke andar pahuchne vala hai isliye bharatiya janmanas janta aap log chinta na kare abhi do teen din ki baat hai thoda sa ek dusre mein sahyog karte hue is samay kokate phir aapke paas anaaj ki samasya ka ant ho jaega aur ek sandesh unhone yah bhi diya ki jin bhi thok pakshiyo ke paas anaaj agar tak main nikala toh unke saath bahut kada aur kathor nirnay liya jaega aur unko keval jail nahi balki unke upar kada jurmana lagaya jaega jo purush se baadi sashakt se jo nirnay le liya le liya aur yug ki visheshata ke karan raatoon raat udyogpatiyon ne jinhone anaaj ka stock kar rakha tha vaah bahar maidan mein sadkon par utar diya pata hi nahi chala ki mana kab sadkon par aa gaya aur logo ne kheton mein aa gaya aur yah unki suchi toh thi ki unhone udyog patiyon ko majboor kar diya bina kisi dand ke aur hamara saara nach bazaar mein aa gaya aur samast bharatiya janta ko ek truck unka samana karna pada isliye aaj hum sardar vallabh bhai patel ji ko yaad karte hai aise log purush duniya mein bahut kam hote hai koi inki tulna zaroor kare ki main bhi aisa kar raha hoon main vishwas se keh sakta hoon ki unki barabari karna toh chodiye unki chhaya ki barabari kar lo toh bahut baadi baat hai

सरदार बल्लभ भाई पटेल हमारे पंडित जवाहरलाल नेहरू युग के एक कांग्रेसी नेता थे बहुत सशक्त नेत

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  1340
WhatsApp_icon
user
0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष कहा जाता है या भारत के पहले उप प्रधानमंत्री थे इनका जन्म 31 अक्टूबर 18 सो 75 ईस्वी को हुआ था और उनकी मृत्यु 15 दिसंबर 1985 को हुआ था इसका एक भारत स्टेज भी बना हुआ है जो गुजरात में स्थित है

sardar vallabh bhai patel ko loha purush kaha jata hai ya bharat ke pehle up pradhanmantri the inka janam 31 october 18 so 75 isvi ko hua tha aur unki mrityu 15 december 1985 ko hua tha iska ek bharat stage bhi bana hua hai jo gujarat me sthit hai

सरदार वल्लभ भाई पटेल को लौह पुरुष कहा जाता है या भारत के पहले उप प्रधानमंत्री थे इनका जन्म

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
user

shekhar11

Volunteer

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के आलम भाई जावेद भाई पटेल को सरदार बल्लभ भाई पटेल के नाम से लोकप्रिय थे भारतीय राजनीतिज्ञ थे उन्होंने भारत के पहले प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया था भारतीय अधिवक्ता और राजनेता थे जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता और भारतीय गणराज के संस्थापक सीता के जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए देश के अग्रणी भूमिका भी निभाई थी वह पहले करीब मंत्री भी बने थे भारत के

aaj ke aalam bhai javed bhai patel ko sardar ballabh bhai patel ke naam se lokpriya the bharatiya rajanitigya the unhone bharat ke pehle pradhanmantri ke roop mein karya kiya tha bharatiya adhivakta aur raajneta the jo bharatiya rashtriya congress ke ek varishtha neta aur bharatiya ganraaj ke sansthapak sita ke jinhone swatantrata ke liye desh ke agranee bhumika bhi nibhaai thi vaah pehle kareeb mantri bhi bane the bharat ke

आज के आलम भाई जावेद भाई पटेल को सरदार बल्लभ भाई पटेल के नाम से लोकप्रिय थे भारतीय राजनीतिज

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!