मैं राजनीति में जाना चाहता हूँ लेकिन पैसों आभाव है क्या करूँ?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

3:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा मैं राजनीति में जाना चाहता हूं लेकिन पैसों का भाव है क्या करूं तो क्या राजनीति में अमीरी लोग जाते हैं सच तो यह है कि राजनीति में अंग्रेज लोग जाते हैं गरीब वह गरीब लोग जो ढंग से गरीब नहीं जो मन से गरीब है तो आत्मा से गरीब फकीर है जो लोकतंत्र की हत्या करने वाले हैं वह लोग राजनीति में प्रवेश करते हैं गरीब लोग तो राजनीति से दूर रहते हैं जो उन्हें मालूम है उनकी इज्जत उनकी मर्यादा की छीछालेदर कर दी जाएगी तो किसी भी राजनेता की चमचागिरी कर लीजिएगा उनकी प्रशंसा की जीत गांधी जाएगा उनकी कृतियों में शामिल हो जाएगा और उनकी बाएं या दाएं हाथ आप राजनीति में कुछ जाएंगे आप पैसे के अभाव की बात कर रही हैं पैसे आपके ऊपर बरसेगा क्योंकि जितनी डोनट हमारे देश के राजनेताओं के पास है इतनी चंपू दोनों समाधि रिजर्व बैंक में भी नहीं है हमारी भगवान के खजाने में भी नहीं है कितनी डॉट इन राजनेताओं के 5 अमीर आदमी दुनिया का सबसे बड़ा बेवकूफ है सबसे बड़ी इंडस्ट्रीज है सबसे बड़ी फैक्ट्री है जहां थन के अलावा कुछ पैदा नहीं होता दोलत पैदा होती है कल तक झोपड़पट्टी में रहने वाले एमपी एमएलए वह करोड़ों की कोठी के मालिक हो जाते हैं ना जाने कितने फॉर्म हाउस हो जाते हैं किंतु उनकी गाड़ियां चलती हैं यह राजनीति है इसलिए आप भी राजनीत में जाना चाहते हैं एक सच्ची राजनीति करनी है तो इस भौतिक राजनीति से दूर होकर समाज की सेवा करो समाज के लिए काम करो यह बहुत अच्छी राजनीत होगी क्योंकि आलोचना करना गुनाह नहीं है किसको हमारी आलोचना बुरी लगती है एक बार मंथन करें कि ऐसा क्यों कहा गया है ऐसा हमने क्या किया है कि हमारे विषय में ऐसी बात कही गई है विचार कीजिए और केंद्र बदलाव कीजिए साबित कीजिए कि नहीं सर हम ठीक हैं और आदरणीय आप गलत थे तभी कुछ कहेंगे कि हां हमने खाना बनाइए अपने ही विद्वान बनी है ताकि पहचान हमेशा जन समुदाय से होती है

aapne kaha main raajneeti mein jana chahta hoon lekin paison ka bhav hai kya karu toh kya raajneeti mein amiri log jaate hain sach toh yah hai ki raajneeti mein angrej log jaate hain garib vaah garib log jo dhang se garib nahi jo man se garib hai toh aatma se garib fakir hai jo loktantra ki hatya karne waale hain vaah log raajneeti mein pravesh karte hain garib log toh raajneeti se dur rehte hain jo unhe maloom hai unki izzat unki maryada ki chichaledar kar di jayegi toh kisi bhi raajneta ki chamchagiri kar lijiega unki prashansa ki jeet gandhi jaega unki kritiyon mein shaamil ho jaega aur unki baen ya dayen hath aap raajneeti mein kuch jaenge aap paise ke abhaav ki baat kar rahi hain paise aapke upar barsega kyonki jitni doughnut hamare desh ke rajnetao ke paas hai itni champu dono samadhi reserve bank mein bhi nahi hai hamari bhagwan ke khajaane mein bhi nahi hai kitni dot in rajnetao ke 5 amir aadmi duniya ka sabse bada bewakoof hai sabse badi industries hai sabse badi factory hai jaha than ke alava kuch paida nahi hota dolat paida hoti hai kal tak jhopadapatti mein rehne waale mp mla vaah karodo ki kothi ke malik ho jaate hain na jaane kitne form house ho jaate hain kintu unki gadiyan chalti hain yah raajneeti hai isliye aap bhi rajanit mein jana chahte hain ek sachi raajneeti karni hai toh is bhautik raajneeti se dur hokar samaj ki seva karo samaj ke liye kaam karo yah bahut achi rajanit hogi kyonki aalochana karna gunah nahi hai kisko hamari aalochana buri lagti hai ek baar manthan kare ki aisa kyon kaha gaya hai aisa humne kya kiya hai ki hamare vishay mein aisi baat kahi gayi hai vichar kijiye aur kendra badlav kijiye saabit kijiye ki nahi sir hum theek hain aur adaraniya aap galat the tabhi kuch kahenge ki haan humne khana banaiye apne hi vidhwaan bani hai taki pehchaan hamesha jan samuday se hoti hai

आपने कहा मैं राजनीति में जाना चाहता हूं लेकिन पैसों का भाव है क्या करूं तो क्या राजनीति मे

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  1094
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!