क्या बाहुबली मूवी की कहानी असली है?...


user

Vikas Singh

Political Analyst

6:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या बाहुबली मूवी की कहानी असली है जी हां हम कह सकते हैं कि बाहुबली मूवी की कहानी असली है बाहुबली मूवी में एक राजपूत राजा के बारे में दिखाया गया है राजपूत रानी के बारे में दिखाया गया है राजपूत राजा जो इंसाफ करने वाला होता है वह अपने भ्रष्टाचारी भाई का भी विरोध करता है और रियल में ऐसा होना चाहिए और रियल में ऐसा ही होता है हमारे देश में बहुत राजपूत राजा हुए जिन्होंने अपने देश के रक्षा के लिए अपने कुल की रक्षा के लिए अपने धर्म की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्योछावर की बहुत राजपूत रानियां हुई जिन्होंने धर्म कुल और देश के रक्षा के लिए अपने प्राण न्योछावर महाराणा प्रताप पृथ्वीराज चौहान छत्रपति शिवाजी महाराज महान राजा थे इन लोगों ने देश के लिए देश में रहने वाले लोगों के रक्षा के लिए युद्ध किया और युद्ध भूमि में अपने प्राण न्योछावर किए जिनके कारण हमारा हिंदुस्तान आज भी सुरक्षित है इन्हीं लोगों की देन है महाराणा प्रताप के बारे में जब भी हम लोग पढ़ते हैं तो पता चलता है कितने केजी का भाला लेकर चलते थे इतने के जी का कवच पहनते थे इतना 2G उनका वेट था वही चीज बाहुबली में दिखाया गया है बाहुबली में यह दिखाया गया है कि अगर आपका भाई गलत करता है तो क्षत्रिय धर्म के जो लोग होते हैं वह अपने भाई का भी साथ नहीं देते हैं अपने भाई को वह छोड़ते नहीं है पक्ष में नहीं है राजपूत हमेशा इंसाफ करता है सत्रीय हमेशा इंसाफ करता है जो गलत करेगा उसे सजा पक्का मिलेगी महाभारत में भी ऐसा ही हुआ कौरव पांडव कोई बाहर के नहीं थे दोनों चचेरे भाई थे लेकिन कोरोनिता चार किया पांडवों के ऊपर और कौरवों ने काफी अत्याचार अपने आसपास के लोगों के ऊपर भी किया इसी कारण महाभारत का युद्ध हुआ भगवान कृष्ण ने पांडव का साथ दिया और अंत में कौरवों को हार मिली उनकी मृत्यु हुई पांडवों ने कौरवों को खत्म किया और फिर पूरे देश की रक्षा हुई महाराणा प्रताप ने घास की रोटी खाई बहुत जीवन में संघर्ष किया उन्होंने अपने देश के रक्षा के लिए माता पद्मावती ने सोलह सौ रानियों के साथ जौहर को शिकार किया हमारे कुल धर्म और देश के रक्षा के लिए महारानी लक्ष्मी बाई के इतिहास को बताने की जरूरत नहीं है आप सभी लोग जानते होंगे तो यही सब कुछ बाहुबली में दिखाया है बाहुबली में कैसे इंसाफ किया जाता है और क्षत्रिय धर्म के लोग कैसे इंसाफ करते हैं क्षत्रिय का मतलब क्या होता है यह सब कुछ दिखाया गया है सत्रीय का मतलब होता है जिसकी छत्रछाया में सभी धर्म जाति के लोग सुरक्षित रहते हो उसे सत्रीय कहते हैं कोई गरीब गया किसी गरीब को कोई प्रताड़ित कर रहा है और वह किसी सत्रीय के घर गया और बोला कि भैया वह मुझे बहुत सता रहे हैं तो सत्रीय की जिम्मेदारी है कि उस गरीब व्यक्ति की ओर रक्षा करें और उस भ्रष्टाचारी को सजा दे या दिलवाए और आज के युग में ऐसा होना चाहिए आज के डेट में भी बहुत विधायक सांसद ऐसे हैं जो राजपूत समुदाय से हैं जो जनसभा करते हैं और जिनकी जनसभा में सभी धर्म के लोग आते हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सभी धर्म के लोग आते हैं और सभी धर्म के लोगों के साथ वहां पर इंसाफ होता है अगर कोई किसी के साथ उनके साथ गलत करता है तो उस गलती करने वाले व्यक्ति को सजा कानून के माध्यम से दिलवाने की रणनीति बनती है और उन्हें दिलवाया जाता है श्री योगी आदित्यनाथ जी राजपूत उनका असली नाम अजय सिंह बिष्ट है वह आनंद सिंह बिष्ट के पुत्र हैं जो गोरखपुर में वह सांसद थे तो वह प्रतिदिन जनसभा करते थे और गोरखपुर आसपास के लोग यूपी के यूपी के हर क्षेत्र के लोग वहां जाते थे इंसाफ के लिए और वहां से आंदोलन का रास्ता प्रशस्त किया जाता था और जिस व्यक्ति के साथ कोई गलती करता था तो गलती करने वाले को पक्का सजा मिलती थी और वहां पर इंसाफ होता था तो हम कह सकते हैं कि जो योगी आदित्यनाथ जी हैं वह इंसाफ करते थे वह सक्रिय परंपरा को आगे बढ़ाएं और हिंदुत्व की रक्षा के लिए आज भी बहुत अच्छा काम कर रहे हैं वह मुख्यमंत्री हैं इसलिए 22 करोड़ उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए काफी बेहतरीन काम कर रहे हैं आज बहुत दुख हुआ जब यह पता चला कि उनके पिता जी का आज देहांत हो गया लेकिन योगी जी अंतिम संस्कार में नहीं जा पाएंगे और वो दिल्ली हॉस्पिटल भी नहीं जा पाए क्योंकि उन्हें 22 करोड़ लोगों की चिंता है उनके पिताजी उनसे कहते थे कि तुम देश के लिए और समाज के लिए हमेशा समर्थ पुराना और हमेशा उनके लिए जीने की कोशिश करना तो योगी जी अंतिम संस्कार में नहीं जा पाएंगे क्योंकि को रोना से अभी भारत दूसरा है और उन्हें अपने पिताजी के सपने को भी पूरा करना है और 22 करोड़ लोगों की जिंदगियों की भी रक्षा करनी है तो वह बाद में जब को रोना मत हो जाएगा उत्तर प्रदेश तो फिर बाद में अपने पैतृक गांव जाएंगे और अपनी माताओं ताजी से मिलेंगे और फिर अपने पिताजी का दर्शन करेंगे वहां पर फोटो तो तो रखा रहेगा सब कुछ रहेगा तो हम दर्शन करेंगे तो ऐसा होना चाहिए इसे कहते हैं सत्रीय धर राजपूत धन्यवाद

aapka sawaal hai kya bahubali movie ki kahani asli hai ji haan hum keh sakte hain ki bahubali movie ki kahani asli hai bahubali movie me ek rajput raja ke bare me dikhaya gaya hai rajput rani ke bare me dikhaya gaya hai rajput raja jo insaaf karne vala hota hai vaah apne bhrashtachaari bhai ka bhi virodh karta hai aur real me aisa hona chahiye aur real me aisa hi hota hai hamare desh me bahut rajput raja hue jinhone apne desh ke raksha ke liye apne kul ki raksha ke liye apne dharm ki raksha ke liye apne pranon ko nyochavar ki bahut rajput raaniyan hui jinhone dharm kul aur desh ke raksha ke liye apne praan nyochavar maharana pratap prithviraj Chauhan chhatrapati shivaji maharaj mahaan raja the in logo ne desh ke liye desh me rehne waale logo ke raksha ke liye yudh kiya aur yudh bhoomi me apne praan nyochavar kiye jinke karan hamara Hindustan aaj bhi surakshit hai inhin logo ki then hai maharana pratap ke bare me jab bhi hum log padhte hain toh pata chalta hai kitne KG ka bhala lekar chalte the itne ke ji ka kavach pehente the itna 2G unka wait tha wahi cheez bahubali me dikhaya gaya hai bahubali me yah dikhaya gaya hai ki agar aapka bhai galat karta hai toh kshatriya dharm ke jo log hote hain vaah apne bhai ka bhi saath nahi dete hain apne bhai ko vaah chodte nahi hai paksh me nahi hai rajput hamesha insaaf karta hai satriya hamesha insaaf karta hai jo galat karega use saza pakka milegi mahabharat me bhi aisa hi hua kaurav pandav koi bahar ke nahi the dono chachere bhai the lekin koronita char kiya pandavon ke upar aur kauravon ne kaafi atyachar apne aaspass ke logo ke upar bhi kiya isi karan mahabharat ka yudh hua bhagwan krishna ne pandav ka saath diya aur ant me kauravon ko haar mili unki mrityu hui pandavon ne kauravon ko khatam kiya aur phir poore desh ki raksha hui maharana pratap ne ghas ki roti khai bahut jeevan me sangharsh kiya unhone apne desh ke raksha ke liye mata padmavati ne solah sau raniyon ke saath jauhar ko shikaar kiya hamare kul dharm aur desh ke raksha ke liye maharani laxmi bai ke itihas ko batane ki zarurat nahi hai aap sabhi log jante honge toh yahi sab kuch bahubali me dikhaya hai bahubali me kaise insaaf kiya jata hai aur kshatriya dharm ke log kaise insaaf karte hain kshatriya ka matlab kya hota hai yah sab kuch dikhaya gaya hai satriya ka matlab hota hai jiski chatrachaya me sabhi dharm jati ke log surakshit rehte ho use satriya kehte hain koi garib gaya kisi garib ko koi pratarit kar raha hai aur vaah kisi satriya ke ghar gaya aur bola ki bhaiya vaah mujhe bahut sata rahe hain toh satriya ki jimmedari hai ki us garib vyakti ki aur raksha kare aur us bhrashtachaari ko saza de ya dilvaye aur aaj ke yug me aisa hona chahiye aaj ke date me bhi bahut vidhayak saansad aise hain jo rajput samuday se hain jo jansabha karte hain aur jinki jansabha me sabhi dharm ke log aate hindu muslim sikh isai sabhi dharm ke log aate hain aur sabhi dharm ke logo ke saath wahan par insaaf hota hai agar koi kisi ke saath unke saath galat karta hai toh us galti karne waale vyakti ko saza kanoon ke madhyam se dilwane ki rananiti banti hai aur unhe dilvaya jata hai shri yogi adityanath ji rajput unka asli naam ajay Singh bist hai vaah anand Singh bist ke putra hain jo gorakhpur me vaah saansad the toh vaah pratidin jansabha karte the aur gorakhpur aaspass ke log up ke up ke har kshetra ke log wahan jaate the insaaf ke liye aur wahan se andolan ka rasta prashast kiya jata tha aur jis vyakti ke saath koi galti karta tha toh galti karne waale ko pakka saza milti thi aur wahan par insaaf hota tha toh hum keh sakte hain ki jo yogi adityanath ji hain vaah insaaf karte the vaah sakriy parampara ko aage badhaye aur hindutv ki raksha ke liye aaj bhi bahut accha kaam kar rahe hain vaah mukhyamantri hain isliye 22 crore uttar pradesh ke logo ke liye kaafi behtareen kaam kar rahe hain aaj bahut dukh hua jab yah pata chala ki unke pita ji ka aaj dehant ho gaya lekin yogi ji antim sanskar me nahi ja payenge aur vo delhi hospital bhi nahi ja paye kyonki unhe 22 crore logo ki chinta hai unke pitaji unse kehte the ki tum desh ke liye aur samaj ke liye hamesha samarth purana aur hamesha unke liye jeene ki koshish karna toh yogi ji antim sanskar me nahi ja payenge kyonki ko rona se abhi bharat doosra hai aur unhe apne pitaji ke sapne ko bhi pura karna hai aur 22 crore logo ki jindagiyon ki bhi raksha karni hai toh vaah baad me jab ko rona mat ho jaega uttar pradesh toh phir baad me apne paitrik gaon jaenge aur apni mataon taazi se milenge aur phir apne pitaji ka darshan karenge wahan par photo toh toh rakha rahega sab kuch rahega toh hum darshan karenge toh aisa hona chahiye ise kehte hain satriya dhar rajput dhanyavad

आपका सवाल है क्या बाहुबली मूवी की कहानी असली है जी हां हम कह सकते हैं कि बाहुबली मूवी की क

Romanized Version
Likes  337  Dislikes    views  3310
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!