एक समय में पटना विश्वविद्यालय को 'ऑक्सफोर्ड ऑफ बिहार' कहा जाता था, वह रैंकिंग में सबसे घटिया प्रदर्शन करने वाली संस्था कैसे बन गई?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को अवार्ड ऑफ बिहार कहा जाता था वह रैकिंग में सबसे घटिया प्रदर्शन करने वाली संस्था कैसे बन गई देखिए उत्थान और पतन सृष्टि का नियम है चक्कर R15 का चित्र भाग्य पंक्ति प्रत्येक संस्था का उत्थान होना है तोहरा श्री होना है और कभी पटना विश्वविद्यालय को बिहार का बढ़ता जाता था अरे दुनिया का कोट हमारे बिहार का नालंदा यूनिवर्सिटी था समय का चक्कर है जैसा राजा होगा वैसी प्रजा होगी वैसे लोग होंगे जिस जमाने में बिहार में पढ़ाई पर ध्यान देने वाले राजा हुए उस जमाने में पटना विश्वविद्यालय नामी-गिरामी संस्थाओं में शुमार हुआ आजकल के जो राजा हैं वह कमीशन खोर है घूसखोर है चोर है उचक्के हैं सारे अच्छी नहीं थी करने वाले लोग हमारे विधानसभा में बैठे हैं उनको शिक्षण संस्थानों से क्या लेना देना बहुत-बहुत धन्यवाद

ek samay mein patna vishwavidyalaya ko award of bihar kaha jata tha vaah ranking mein sabse ghatiya pradarshan karne waali sanstha kaise ban gayi dekhiye utthan aur patan shrishti ka niyam hai chakkar R15 ka chitra bhagya pankti pratyek sanstha ka utthan hona hai teohar shri hona hai aur kabhi patna vishwavidyalaya ko bihar ka badhta jata tha arre duniya ka coat hamare bihar ka nalanda university tha samay ka chakkar hai jaisa raja hoga vaisi praja hogi waise log honge jis jamaane mein bihar mein padhai par dhyan dene waale raja hue us jamaane mein patna vishwavidyalaya nami girami sasthaon mein shumaar hua aajkal ke jo raja hain vaah commision khor hai ghuskhor hai chor hai uchakke hain saare achi nahi thi karne waale log hamare vidhan sabha mein baithe hain unko shikshan sansthano se kya lena dena bahut bahut dhanyavad

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को अवार्ड ऑफ बिहार कहा जाता था वह रैकिंग में सबसे घटिया प्रद

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  890
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन किसी चीज को मेंटेन करने के लिए ना आपको अपने आपको बनाना पड़ता है आप अपने फिगर ही ले लिए अगर आप रोज जाएंगे नहीं साफ नहीं करेंगे चेहरे को हाथ पैरों को कपड़ों को साफ सुथरा नहीं बदलेंगे कौन आपसे बात करना पड़ेगा इसीलिए वह बिहार यूनिवर्सिटी का जो अक्सर वाली बात कही है आपने मानते हैं और था लेकिन आज उसकी हालत यह है कि वहां के नेताओं ने वहां के अफसरों ने उन किताबों का सत्यानाश कर दिया जो टाइम था उस हिसाब से चलते हैं जो आजकल टेक्नोलॉजी चेंज हो रही है उस हिसाब से बदलते किताबों को कुछ नहीं होगा और नतीजा यह निकला कि आज वह बिहार यूनिवर्सिटी का रिजल्ट विश्वविद्यालय है पटना विश्वविद्यालय सबसे नीचे आ गया आए दिन आप पढ़ते हैं कि वहां पर कैसे नंबरों को नंबर देकर पैसे देकर लोगों को पास किया जाता है तो इसी वजह से नहीं पसंद किया जो है वहां से बिहार से बिहार यूनिवर्सिटी से रजिस्टर्ड पोस्ट द्वारा नहीं करते जरा सा मांस एमएससी पीएचडी की डिग्री लेकर आएंगे बाहर आ गया को पता लगे आपको इंग्लिश भी नहीं आती है उसे क्या होगा इज्जत मिट्टी में मिल जाएगी या नौकरी कर रहे हैं आप की बेजती होगी देसी जब देखे कितने बच्चे के पढ़ने वाले हैं वहां से छोड़कर दूसरी जगह जा रहे हैं पिछले 10 साल बाद साल में बिहार की रबड़ी सीखनी बन गई है कि लोग हंसने से भी डरते हैं इस वजह से सबसे अधिक है

lekin kisi cheez ko maintain karne ke liye na aapko apne aapko banana padta hai aap apne figure hi le liye agar aap roj jaenge nahi saaf nahi karenge chehre ko hath pairon ko kapdo ko saaf suthara nahi badalenge kaun aapse baat karna padega isliye vaah bihar university ka jo aksar waali baat kahi hai aapne maante hain aur tha lekin aaj uski halat yah hai ki wahan ke netaon ne wahan ke afsaron ne un kitabon ka satyanash kar diya jo time tha us hisab se chalte hain jo aajkal technology change ho rahi hai us hisab se badalte kitabon ko kuch nahi hoga aur natija yah nikala ki aaj vaah bihar university ka result vishwavidyalaya hai patna vishwavidyalaya sabse neeche aa gaya aaye din aap padhte hain ki wahan par kaise numberon ko number dekar paise dekar logon ko paas kiya jata hai toh isi wajah se nahi pasand kiya jo hai wahan se bihar se bihar university se registered post dwara nahi karte zara sa maans mnc phd ki degree lekar aayenge bahar aa gaya ko pata lage aapko english bhi nahi aati hai use kya hoga izzat mitti mein mil jayegi ya naukri kar rahe hain aap ki bejti hogi desi jab dekhe kitne bacche ke padhne waale hain wahan se chhodkar dusri jagah ja rahe hain pichhle 10 saal baad saal mein bihar ki rabdi seekhni ban gayi hai ki log hansane se bhi darte hain is wajah se sabse adhik hai

लेकिन किसी चीज को मेंटेन करने के लिए ना आपको अपने आपको बनाना पड़ता है आप अपने फिगर ही ले ल

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  624
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को खोलो बिहार का जाता था वर्किंग के मामले में घटिया प्रदर्शन करने वाली संस्था से बने यह तो सही बात है कि पटना विश्वविद्यालय जो है वह ब्याज कहा जाता था हालांकि आज भी कहना चाहिए लेकिन राजनीतिक क्षेत्र के कारण उसका जो वाइस चांसलर रहे हैं चाहे दूसरी समस्याएं हैं विद्यार्थियों की समस्या है उसको नजरअंदाज करने के लिए उसकी रैंकिंग पूरी कम हो गई है लेकिन ऐसा नहीं है कि पटना विश्वविद्यालय कोई ऐसी लगन या संस्था बन गई है पटना विश्वविद्यालय का महत्व पहले चाइना से इंसान बाहर से आए थे उन्होंने बीएचयू पटना विश्वविद्यालय को नालंदा विश्वविद्यालय बहुत कुछ सीख कर गए थे उसके बाद में मम्मी इतिहास में लिखा हुआ इसलिए बात तो नहीं करता है राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण जो कुछ भी बदलाव आते हैं इसलिए यह संस्था ऐसा घटिया प्रदर्शन कर रही है लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में पटना से विद्यालय पहले वाली अपनी जो मां तो है वही हासिल करें धन्यवाद विशाल दर्शन

ek samay mein patna vishwavidyalaya ko kholo bihar ka jata tha working ke mamle mein ghatiya pradarshan karne waali sanstha se bane yah toh sahi baat hai ki patna vishwavidyalaya jo hai vaah byaj kaha jata tha halanki aaj bhi kehna chahiye lekin raajnitik kshetra ke karan uska jo voice chancellor rahe hain chahen dusri samasyaen hain vidyarthiyon ki samasya hai usko najarandaj karne ke liye uski ranking puri kam ho gayi hai lekin aisa nahi hai ki patna vishwavidyalaya koi aisi lagan ya sanstha ban gayi hai patna vishwavidyalaya ka mahatva pehle china se insaan bahar se aaye the unhone bhu patna vishwavidyalaya ko nalanda vishwavidyalaya bahut kuch seekh kar gaye the uske baad mein mummy itihas mein likha hua isliye baat toh nahi karta hai raajnitik hastakshep ke karan jo kuch bhi badlav aate hain isliye yah sanstha aisa ghatiya pradarshan kar rahi hai lekin hum ummid karte hain ki bhavishya mein patna se vidyalaya pehle waali apni jo maa toh hai wahi hasil karen dhanyavad vishal darshan

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को खोलो बिहार का जाता था वर्किंग के मामले में घटिया प्रदर्शन

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  1343
WhatsApp_icon
user

M S Aditya Pandit

Entrepreneur | Politician

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह सत्य है वहीं नालंदा दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी में से एक है जहां से हजारों लाखों अच्छे लोग पैदा हो जाए पूरी दुनिया में खेल का प्रदर्शन पटना भी एजुकेशन के मामले में बहुत अच्छा लेकिन बीते दौर में करप्शन भ्रष्टाचार नकल और ऐसी चीजों से गिरा हुआ कोई वजूद पर खतरा एजुकेशन बेलो जीरो कारण क्या है कि उस एजुकेशन का सही ढंग से मॉडर्नाइज नहीं किया हमसे यह बिजनेस के ट्विटर नहीं है इन्वेंशन होगा तब तक हमारे हिंदुस्तान की स्पेशल इंडिया की कौन सी नदी के बारे में सब बात करते हैं अपनी कैसे सीखे अपने एबिलिटी को इग्नोर करता है और ज्यादा स्कूल अभी हमें अपने देश की हर हर कॉलेज हर प्राइम मिनिस्टर के जितने भी कॉलेज स्कूल सभी में मॉडर्न टेक्नोलॉजी किसका-किसका पारंपरिक शिक्षा उसको लेकर चल कर आगे बढ़ना पूरी दुनिया में एजुकेशन स्ट्रक्चर एंड फंक्शन सभी में पूरी दुनिया में झंडा

haan yah satya hai wahin nalanda duniya ki sabse badi university mein se ek hai jahan se hazaron laakhon acche log paida ho jaaye puri duniya mein khel ka pradarshan patna bhi education ke mamle mein bahut accha lekin bite daur mein corruption bhrashtachar nakal aur aisi chijon se gira hua koi vajuud par khatra education below zero karan kya hai ki us education ka sahi dhang se modernise nahi kiya humse yah business ke twitter nahi hai invention hoga tab tak hamare Hindustan ki special india ki kaun si nadi ke bare mein sab baat karte hain apni kaise sikhe apne ability ko ignore karta hai aur zyada school abhi hamein apne desh ki har har college har prime minister ke jitne bhi college school sabhi mein modern technology kiska kiska paramparik shiksha usko lekar chal kar aage badhana puri duniya mein education structure and function sabhi mein puri duniya mein jhanda

हां यह सत्य है वहीं नालंदा दुनिया की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी में से एक है जहां से हजारों लाख

Romanized Version
Likes  181  Dislikes    views  2279
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!