एक समय में पटना विश्वविद्यालय को 'ऑक्सफोर्ड ऑफ बिहार' कहा जाता था, वह रैंकिंग में सबसे घटिया प्रदर्शन करने वाली संस्था कैसे बन गई?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को खोलो बिहार का जाता था वर्किंग के मामले में घटिया प्रदर्शन करने वाली संस्था से बने यह तो सही बात है कि पटना विश्वविद्यालय जो है वह ब्याज कहा जाता था हालांकि आज भी कहना चाहिए लेकिन राजनीतिक क्षेत्र के कारण उसका जो वाइस चांसलर रहे हैं चाहे दूसरी समस्याएं हैं विद्यार्थियों की समस्या है उसको नजरअंदाज करने के लिए उसकी रैंकिंग पूरी कम हो गई है लेकिन ऐसा नहीं है कि पटना विश्वविद्यालय कोई ऐसी लगन या संस्था बन गई है पटना विश्वविद्यालय का महत्व पहले चाइना से इंसान बाहर से आए थे उन्होंने बीएचयू पटना विश्वविद्यालय को नालंदा विश्वविद्यालय बहुत कुछ सीख कर गए थे उसके बाद में मम्मी इतिहास में लिखा हुआ इसलिए बात तो नहीं करता है राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण जो कुछ भी बदलाव आते हैं इसलिए यह संस्था ऐसा घटिया प्रदर्शन कर रही है लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में पटना से विद्यालय पहले वाली अपनी जो मां तो है वही हासिल करें धन्यवाद विशाल दर्शन

ek samay mein patna vishwavidyalaya ko kholo bihar ka jata tha working ke mamle mein ghatiya pradarshan karne waali sanstha se bane yah toh sahi baat hai ki patna vishwavidyalaya jo hai vaah byaj kaha jata tha halanki aaj bhi kehna chahiye lekin raajnitik kshetra ke karan uska jo voice chancellor rahe hain chahen dusri samasyaen hain vidyarthiyon ki samasya hai usko najarandaj karne ke liye uski ranking puri kam ho gayi hai lekin aisa nahi hai ki patna vishwavidyalaya koi aisi lagan ya sanstha ban gayi hai patna vishwavidyalaya ka mahatva pehle china se insaan bahar se aaye the unhone bhu patna vishwavidyalaya ko nalanda vishwavidyalaya bahut kuch seekh kar gaye the uske baad mein mummy itihas mein likha hua isliye baat toh nahi karta hai raajnitik hastakshep ke karan jo kuch bhi badlav aate hain isliye yah sanstha aisa ghatiya pradarshan kar rahi hai lekin hum ummid karte hain ki bhavishya mein patna se vidyalaya pehle waali apni jo maa toh hai wahi hasil karen dhanyavad vishal darshan

एक समय में पटना विश्वविद्यालय को खोलो बिहार का जाता था वर्किंग के मामले में घटिया प्रदर्शन

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  1343
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!