BHU में मुस्लिम प्रोफेसर डॉ. फिरोज को लेकर छात्र क्यूँ विरोध कर रहे है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीच में मुस्लिम प्रोफेसर डॉक्टर फिरोज को लेकर छात्र की लोक कथाएं और वह बीएचयू संस्कृत पढ़ आएंगे और संस्कृत हो सकता है क्योंकि विद्यार्थियों में यह भावना के संस्कृत देववाणी है और वह हम किसी मुस्लिम प्रोफेसर नहीं पढ़े हालांकि डॉ विनोद जी के पिताजी को जयपुर से बिलोंग करते हैं और उन्होंने संस्कृत में बहुत ही तेजी और बहुत ही अच्छे अध्यापक प्रोफेसर हैं और उनको सब संस्कृत में बहुत ही उत्तम जान अब मोदी जी ने भी इसके ऊपर नाराजगी जाहिर की है कि किसी भी भाषा को धर्म से जोड़ना वह बिल्कुल और जो बीएचयू के छात्र जो कर रहे हैं उस पर भी मोदी जी ने नाराजगी जाहिर की है क्योंकि कोई भी भाषा है उसने किसी भी धर्म का एकाधिकार नहीं हो पाए एकाधिकार की आवाज की भावना गलत है इंसानों को इंसान से जोड़ने का काम करते हैं किलो को जोड़ने का काम करती है अगर समझ ले कि हम अंग्रेजी बोलते हैं और लोग अंग्रेजी बोलते नहीं हो सकते अनीता मुंह और लंदन में रेड पिक्चर में बहुत सारे अंग्रेजी के प्रोफेसर हैं तो ऐसा नहीं होता है ना क्योंकि कोई भी तो फिर किसी भाषा का ज्ञाता हो तो वह किसी धर्म विशेष का हो ऐसा कोई जरूरी नहीं है भाषा का ज्ञान पाना लिटरेचर में खेती करना वह कोई छोटी मोटी बात नहीं होती और पंकज की स्पेशल इतना ज्ञान दम जामनगर सकता कि रोड के पास है तो उसे पढ़ने दे चुके छात्रों को जरा भी आपत्ति नहीं होनी चाहिए और धर्म से उसको भरता को नहीं जोड़ना चाहिए हो सकता है कि यह आंदोलन उच्च राजकीय प्लेलिस्ट उज्जैन यू का आंदोलन हो चाहे यह बीएचयू का आंदोलन यह सब विद्यार्थियों को कुछ ना कुछ गलत तरीके से आंदोलन को भेज दिया जाना है और कुछ विरोधी पार्टियों की गतिविधियां हो सकती है ऐसा लोग शंका दिखा रहा है आने वाले समय में यह सब आम धीरे-धीरे खत्म हो जाएंगे क्योंकि विरोधियों पार्टियों को अभी तक कोई भी आंदोलन का मौका नहीं मिला 370 की कला में से कोई भी पहचान विरोध नहीं किया इसलिए विरोधी पार्टियां संग संग के बैठ गई तीन तलाक का हुआ उसने भी कोई भी इतना विरोध जनता की तरफ से नहीं हुआ अब ऐसे छोटे-छोटे मुद्दे को लेकर और विद्यार्थियों को भड़का कर करना जैसे किसी के गाइड करने पर खुद ना उसको करना चाहिए धन्यवाद जय हिंद

beech mein muslim professor doctor firoz ko lekar chatra ki lok kathaen aur vaah bhu sanskrit padh aayenge aur sanskrit ho sakta hai kyonki vidyarthiyon mein yah bhavna ke sanskrit devavani hai aur vaah hum kisi muslim professor nahi padhe halaki Dr. vinod ji ke pitaji ko jaipur se belong karte hain aur unhone sanskrit mein bahut hi teji aur bahut hi acche adhyapak professor hain aur unko sab sanskrit mein bahut hi uttam jaan ab modi ji ne bhi iske upar narajgi jaahir ki hai ki kisi bhi bhasha ko dharm se jodna vaah bilkul aur jo bhu ke chatra jo kar rahe hain us par bhi modi ji ne narajgi jaahir ki hai kyonki koi bhi bhasha hai usne kisi bhi dharm ka ekadhikar nahi ho paye ekadhikar ki awaaz ki bhavna galat hai insano ko insaan se jodne ka kaam karte hain kilo ko jodne ka kaam karti hai agar samajh le ki hum angrezi bolte hain aur log angrezi bolte nahi ho sakte anita mooh aur london mein red picture mein bahut saare angrezi ke professor hain toh aisa nahi hota hai na kyonki koi bhi toh phir kisi bhasha ka gyaata ho toh vaah kisi dharm vishesh ka ho aisa koi zaroori nahi hai bhasha ka gyaan paana literature mein kheti karna vaah koi choti moti baat nahi hoti aur pankaj ki special itna gyaan dum jamnagar sakta ki road ke paas hai toh use padhne de chuke chhatro ko zara bhi apatti nahi honi chahiye aur dharm se usko bharta ko nahi jodna chahiye ho sakta hai ki yah andolan ucch rajkiya playlist ujjain you ka andolan ho chahen yah bhu ka andolan yah sab vidyarthiyon ko kuch na kuch galat tarike se andolan ko bhej diya jana hai aur kuch virodhi partiyon ki gatividhiyan ho sakti hai aisa log shanka dikha raha hai aane waale samay mein yah sab aam dhire dhire khatam ho jaenge kyonki virodhiyon partiyon ko abhi tak koi bhi andolan ka mauka nahi mila 370 ki kala mein se koi bhi pehchaan virodh nahi kiya isliye virodhi partyian sang sang ke baith gayi teen talak ka hua usne bhi koi bhi itna virodh janta ki taraf se nahi hua ab aise chote chhote mudde ko lekar aur vidyarthiyon ko bhadaka kar karna jaise kisi ke guide karne par khud na usko karna chahiye dhanyavad jai hind

बीच में मुस्लिम प्रोफेसर डॉक्टर फिरोज को लेकर छात्र की लोक कथाएं और वह बीएचयू संस्कृत पढ़

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  1356
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!