आप किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं?...


user
1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं इस दुनिया में अपना कार्य करने आया हूं और जो कार्य करने आया हूं उस कार्य को करके ही जाना चाहता मानवता की सेवा करना है और जो ईश्वर ने मुझे कार्य दिया है उस कार्य को मैं पूरा करना चाहता हूं और मुझे अपने लिए किसी से कुछ नहीं चाहिए जो देना है इस आचरण देगा मेरे मेरे दिल में कोई ऐसी इच्छा नहीं है कि नहीं सब मेरा खूब नाम हो लोग मुझे याद करें मुझे कोई याद ना करें मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता क्यों मान सम्मान धन्य अभ्यास यश अपयश ईश्वर देता है किसी के चाहने या ना चाहने से कुछ नहीं मिलता तो मैं अपने जीवन में जो देश लेकर आया हूं उस उद्देश्य को पूरा करना चाहता हूं और विरासत में मुझे कुछ नहीं चाहिए ना किसी को कुछ देना है ना कुछ न कुछ लेना है बस अपना कार्य करना है

main is duniya me apna karya karne aaya hoon aur jo karya karne aaya hoon us karya ko karke hi jana chahta manavta ki seva karna hai aur jo ishwar ne mujhe karya diya hai us karya ko main pura karna chahta hoon aur mujhe apne liye kisi se kuch nahi chahiye jo dena hai is aacharan dega mere mere dil me koi aisi iccha nahi hai ki nahi sab mera khoob naam ho log mujhe yaad kare mujhe koi yaad na kare mujhe koi fark nahi padta kyon maan sammaan dhanya abhyas yash apayash ishwar deta hai kisi ke chahne ya na chahne se kuch nahi milta toh main apne jeevan me jo desh lekar aaya hoon us uddeshya ko pura karna chahta hoon aur virasat me mujhe kuch nahi chahiye na kisi ko kuch dena hai na kuch na kuch lena hai bus apna karya karna hai

मैं इस दुनिया में अपना कार्य करने आया हूं और जो कार्य करने आया हूं उस कार्य को करके ही जान

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Lalit Sharma

Director International Dogra Society (Community Work), Assoc CIPD (London)

0:31
Play

Likes  25  Dislikes    views  2328
WhatsApp_icon
user

Mohommed Ali Shah

Indian theatre and film personality, Motivational Speaker known worldwide for his powerful talks

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अंबे बाद में करता हूं कि एजुकेशन एंड नेशन अंधा हो सकता है मार्टिन लूथर किंग ने कहा था कि टाइट ही लाभदायक ब्राइटनेस की लाइट नेलसन मंडेला ने कहा था अगर हम अपने दुश्मन से दोस्ती कर लेते हैं वह मैं दुश्मनी हमारे 5 मिनट बाद आएंगे वह और आप देखेंगे हमारी यह रिश्ता कहां तक कितना गिरेगा चटनी रोटी खाके या भूखे हो जाएगा तो कोई बात नहीं आगे की पढ़ाई लिखाई उनको उनको उनके मां-बाप कुर्बानियां रहे हैं आप आगे बढ़ो आगे बढ़ते जाइए और दुनिया को वर्ल्ड को और एजुकेशन

ambe baad mein karta hoon ki education and nation andha ho sakta hai martin luther king ne kaha tha ki tight hi labhdayak brightness ki light nellson mandela ne kaha tha agar hum apne dushman se dosti kar lete hain vaah main dushmani hamare 5 minute baad aayenge vaah aur aap dekhenge hamari yah rishta kahaan tak kitna girega chatni roti khaake ya bhukhe ho jaega toh koi baat nahi aage ki padhai likhai unko unko unke maa baap kurbaniyan rahe hain aap aage badho aage badhte jaiye aur duniya ko world ko aur education

अंबे बाद में करता हूं कि एजुकेशन एंड नेशन अंधा हो सकता है मार्टिन लूथर किंग ने कहा था कि ट

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
play
user

Kanchan Kalra

Life Coach

0:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे जाने के बाद हमारी विरासत क्या होगी हमें कोई याद करेगा या नहीं करेगा मेरे ख्याल से यह हमारे सोच का विषय नहीं होना चाहिए हम जो भी कर रहे हैं उसे हम पूरी निष्ठा से करें अपने कर्तव्य का पालन करें अच्छे काम करें अपने साथ-साथ दूसरे लोगों की भी मदद करें आगे बढ़ने में अच्छा काम करने में अच्छा सोचने में इतना ही काफी है हमारे जाने के बाद हमारे कामों को कोई कैसे याद करेगा इसका निर्णय हम नहीं कर सकते हैं तो बेहतर रहेगा कि हम यह सोचे कि अपने जीवन काल में हम किस तरह कार्य कर रहे हैं हम अपने कर्तव्यों कैसे निभा रहे हैं कैसे हम मानवता की सेवा कर रहे हैं उतना ही सोचना काफी रहेगा धन्यवाद

hamare jaane ke baad hamari virasat kya hogi hamein koi yaad karega ya nahi karega mere khayal se yah hamare soch ka vishay nahi hona chahiye hum jo bhi kar rahe hai use hum puri nishtha se kare apne kartavya ka palan kare acche kaam kare apne saath saath dusre logo ki bhi madad kare aage badhne mein accha kaam karne mein accha sochne mein itna hi kaafi hai hamare jaane ke baad hamare kaamo ko koi kaise yaad karega iska nirnay hum nahi kar sakte hai toh behtar rahega ki hum yah soche ki apne jeevan kaal mein hum kis tarah karya kar rahe hai hum apne kartavyon kaise nibha rahe hai kaise hum manavta ki seva kar rahe hai utana hi sochna kaafi rahega dhanyavad

हमारे जाने के बाद हमारी विरासत क्या होगी हमें कोई याद करेगा या नहीं करेगा मेरे ख्याल से यह

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  649
WhatsApp_icon
user

Greeshma Nataraj

Psychology Counseling, Life Coach, NLP, Cognitive Behavioral Therapist, Motivational Speaker, Handwriting Signature Analyst.

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वेरी गुड आफ्टरनून टू यू फॉर मी मेरी विरासत है मेरा काम मेरी जो बातें और जिन लोगों के दिल पर मैंने जो छाप छोड़ी है वह अगर मुझे लोग याद रखना चाहेंगे तो तबीयत को सुनाया इसमें याद आई थिंक दैट इज द उपलब्धि ऑफ माय लाइफ ऐसा मुझे लगता है आज भी मैं बहुत पैरों में घूमी हूं मैं बहुत जगह पर जा कर आई हूं देश के कोने कोने में विदेशों में भी हम आज बहुत लोगों से मैं वह मिलती हूं और दोस्ती भी रखती हूं लेकिन उनसे डेली बेसिस पर बात नहीं होती है जब वह मुझे याद करते हैं मुझे दुआएं देते हैं यह सब मुझे अच्छा लगता है क्योंकि वह कहीं ना कहीं मेरे साथ कनेक्ट होते हैं और मेरी बातें उनके दिल में घर कर जाती है तो आज आज अगर मैं हूं तो मेरे स्वभाव के कारण मेरे विचारों के कारण अंदर भी आया यह सारी ब्लशिंग जो है मुझे मेरे परिजनों से मिली है मेरे दोस्तों से मिलिए मेरे साथ मैं हमेशा इसी तरह से रहना चाहती थी और इसी नाम की विरासत में वापस लोगों में देना चाहती हूं आई हो मैप क्लियर यू थैंक यू

very good afternoon to you for me meri virasat hai mera kaam meri jo batein aur jin logo ke dil par maine jo chhaap chodi hai vaah agar mujhe log yaad rakhna chahenge toh tabiyat ko sunaya isme yaad I think that is the upalabdhi of my life aisa mujhe lagta hai aaj bhi main bahut pairon mein ghumi hoon main bahut jagah par ja kar I hoon desh ke kone kone mein videshon mein bhi hum aaj bahut logo se main vaah milti hoon aur dosti bhi rakhti hoon lekin unse daily basis par baat nahi hoti hai jab vaah mujhe yaad karte hain mujhe duaen dete hain yah sab mujhe accha lagta hai kyonki vaah kahin na kahin mere saath connect hote hain aur meri batein unke dil mein ghar kar jaati hai toh aaj aaj agar main hoon toh mere swabhav ke karan mere vicharon ke karan andar bhi aaya yah saree blushing jo hai mujhe mere parijanon se mili hai mere doston se miliye mere saath main hamesha isi tarah se rehna chahti thi aur isi naam ki virasat mein wapas logo mein dena chahti hoon I ho map clear you thank you

वेरी गुड आफ्टरनून टू यू फॉर मी मेरी विरासत है मेरा काम मेरी जो बातें और जिन लोगों के दिल प

Romanized Version
Likes  212  Dislikes    views  3033
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं तो किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं क्योंकि छोड़ने की बात जो हमने जीवन में धन अर्जित किया है वह धन तो विरासत के रूप में जरूर पीछे की धमाल की चोट से ज्यादा किताबे अच्छी-अच्छी लाइब्रेरी घर में बताइए और वह विरासत में देना चाहता हूं और जो दिखाएं सिद्धांत बताएं इसके अलावा जो संतान को खुद निर्णय लेने की क्षमता उसको ब्लॉक हमारे रहते ही कर रहे हैं और संतान उत्पन्न किया जो एक जिम्मेदार इंसान बनते हैं कि जब कोई भी आपत्ति आती है तो निर्णय लेने की क्षमता रखती है और आगे बढ़ा कि किसके द्वारा याद किया जाना हो हमने जिंदगी में तो सबकी परोपकार और बधाई की उत्पत्ति भिलाई की है हमसे भूल चुके हैं लेकिन हो सकता है कि वह भी हमारे समाज में जरूर याद करें किसी को नहीं सभी के सामने आंखों में आंसू किसानों को प्रगति में सहायक बने हैं जो बना हो तो उसे हुए लोग भले ही हम उनके सामने ना बोलते हैं अच्छा काम उनके दिलों में धन्यवाद

ab kis tarah ki virasat ko peeche chhodna chahte hain toh kiske dwara yaad kiya jana chahte hain kyonki chodne ki baat jo humne jeevan mein dhan arjit kiya hai vaah dhan toh virasat ke roop mein zaroor peeche ki dhamaal ki chot se zyada kitabe achi achi library ghar mein bataye aur vaah virasat mein dena chahta hoon aur jo dikhaen siddhant bataye iske alava jo santan ko khud nirnay lene ki kshamta usko block hamare rehte hi kar rahe hain aur santan utpann kiya jo ek zimmedar insaan bante hain ki jab koi bhi apatti aati hai toh nirnay lene ki kshamta rakhti hai aur aage badha ki kiske dwara yaad kiya jana ho humne zindagi mein toh sabki paropkaar aur badhai ki utpatti bhilai ki hai humse bhool chuke hain lekin ho sakta hai ki vaah bhi hamare samaj mein zaroor yaad kare kisi ko nahi sabhi ke saamne aankho mein aasu kisano ko pragati mein sahayak bane hain jo bana ho toh use hue log bhale hi hum unke saamne na bolte hain accha kaam unke dilon mein dhanyavad

अब किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं तो किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं क्यो

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1538
WhatsApp_icon
user
0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छे काम काज करके समाज में अपना नाम इज्जत क्षमा करें आप अपने पीछे विरासत छोड़ सकते हो ताकि समाज के लोग घर परिवार के लोग आपको याद करें इसके लिए आपको अच्छे काम करना होंगे घर परिवार के लिए काफी कुछ पीछे छोड़ कर जाना होगा बच्चों के लिए पत्नी के लिए उनको सारा सेटलमेंट करके जाना और समाज में अच्छा काम करना होगा देश के लिए अच्छा काम करना होगा राज्य में अच्छा काम करना होगा जब दुनिया छोड़ कर जाओगे तो लोग दुनिया देश आपको याद करेगा

acche kaam kaaj karke samaj mein apna naam izzat kshama kare aap apne peeche virasat chhod sakte ho taki samaj ke log ghar parivar ke log aapko yaad kare iske liye aapko acche kaam karna honge ghar parivar ke liye kaafi kuch peeche chhod kar jana hoga baccho ke liye patni ke liye unko saara settlement karke jana aur samaj mein accha kaam karna hoga desh ke liye accha kaam karna hoga rajya mein accha kaam karna hoga jab duniya chhod kar jaoge toh log duniya desh aapko yaad karega

अच्छे काम काज करके समाज में अपना नाम इज्जत क्षमा करें आप अपने पीछे विरासत छोड़ सकते हो ताक

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  2198
WhatsApp_icon
user

Ravi Kumar

Health and Fitness Expert

4:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना जवारा याद किया जाना चाहते हैं जब आप इस पृथ्वी से चले जाएंगे तो आपको कुछ भी होने की जरूरत नहीं है ना ही आप किसी को याद आने की जरूरत है क्योंकि अगर आप विरासत छोड़ भी जाएंगे तो उससे क्या होगा यह जितने भी फांसी के सारे सुख सुविधा और यह पात्रता महान इस धरती की बनाई किसी इंसान की बनाई की थी क्योंकि इंसान के जब तक शरीर है तब तक इनकी वैल्यू होती है वह भी वह इंसानों के लिए जो कि बाहरी खुशी पर डिपेंड करता है इंसान अंदर डिपेंड करता हूं उनको इन चीजों की क्या जरूरत है उसको किसी विरासत की क्या जरूरत है उसको क्या मतलब है जब हम भरे गए आपको क्या मतलब है आपको कोई याद करे ना करे और जब मरी गए आपको क्या मतलब आप की विरासत हो या ना हो मुझे इस क्वेश्चन का कुछ लॉजिक समझ नहीं आया आप ही बैली तब तक लोगों के लिए जब तक आप से जब हम मर गए आप की कोई वैल्यू नहीं आप एक मिट्टी मिट्टी की डेरी हो जिसको आप आपको या तो गंगा जी में बहा दिया जाएगा या फिर आप को दफना दिया जाएगा तो विरासत सोना चढ़ाना याद आना है या नहीं आना ना यह सब छोड़िए और अपना जीवन में कुछ करना ही है आपको अगर आप चाहते हो आप कुछ कर नहीं जाते हो लोगों के लिए आप कुछ नहीं कर सकते अगर आप अपने लिए कुछ करना चाहते हो तो ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगा है क्योंकि जो आप खाते हो वह पेड़ आपको देते हैं जो पेड़ खाते हैं आप उनको देते हैं भाई आप का सबसे बड़ा दोस्त आपका फैमिली मेंबर आपका प्यार सब कुछ आप का पेड़ आप लगाना ही चाहते हो तो पेड़ लगाएं जिससे आपको फ्रेश ऑक्सीजन मिले और जो आपकी लाइफ है अच्छे से गुजरे यह याद आना विरासत यह आपके मन के बाद आपकी किस काम की जो भी आप का रुतबा है वह सिर्फ आपकी जब तक आपकी योर बॉडी है ना जिंदा रहती थी तब तक ही है जब यह बॉडी खत्म आप का रुतबा खत्म आपकी याद खत्म तो आप इन चीजों के पीछे छोड़ भागने से हो रही है और तेल लगाएं और अच्छा जीवन जी हमारे यहां पर जीवन जी नहीं है और यहां पर यादें छोड़ने या फिर रास्ते मनाने नहीं है हमने वह करके कब का देख लिया क्या हो गया विरासत है सिकंदर भी खाली हाथ गया वहां क्या कर लोगे

aap kis tarah ki virasat ko peeche chhodna chahte hain aur kiske dwara yaad kiya jana jawara yaad kiya jana chahte hain jab aap is prithvi se chale jaenge toh aapko kuch bhi hone ki zarurat nahi hai na hi aap kisi ko yaad aane ki zarurat hai kyonki agar aap virasat chod bhi jaenge toh usse kya hoga yah jitne bhi fansi ke saare sukh suvidha aur yah patrata mahaan is dharti ki banai kisi insaan ki banai ki thi kyonki insaan ke jab tak sharir hai tab tak inki value hoti hai vaah bhi vaah insano ke liye jo ki bahri khushi par depend karta hai insaan andar depend karta hoon unko in chijon ki kya zarurat hai usko kisi virasat ki kya zarurat hai usko kya matlab hai jab hum bhare gaye aapko kya matlab hai aapko koi yaad kare na kare aur jab mari gaye aapko kya matlab aap ki virasat ho ya na ho mujhe is question ka kuch logic samajh nahi aaya aap hi bailey tab tak logo ke liye jab tak aap se jab hum mar gaye aap ki koi value nahi aap ek mitti mitti ki dairy ho jisko aap aapko ya toh ganga ji mein baha diya jaega ya phir aap ko dafana diya jaega toh virasat sona chadhana yaad aana hai ya nahi aana na yah sab chodiye aur apna jeevan mein kuch karna hi hai aapko agar aap chahte ho aap kuch kar nahi jaate ho logo ke liye aap kuch nahi kar sakte agar aap apne liye kuch karna chahte ho toh zyada se zyada ped laga hai kyonki jo aap khate ho vaah ped aapko dete hain jo ped khate hain aap unko dete hain bhai aap ka sabse bada dost aapka family member aapka pyar sab kuch aap ka ped aap lagana hi chahte ho toh ped lagaye jisse aapko fresh oxygen mile aur jo aapki life hai acche se gujare yah yaad aana virasat yah aapke man ke baad aapki kis kaam ki jo bhi aap ka rutbaa hai vaah sirf aapki jab tak aapki your body hai na zinda rehti thi tab tak hi hai jab yah body khatam aap ka rutbaa khatam aapki yaad khatam toh aap in chijon ke peeche chod bhagne se ho rahi hai aur tel lagaye aur accha jeevan ji hamare yahan par jeevan ji nahi hai aur yahan par yaadain chodne ya phir raste manane nahi hai humne vaah karke kab ka dekh liya kya ho gaya virasat hai sikandar bhi khaali hath gaya wahan kya kar loge

आप किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना जवारा याद किया

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  321
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम लोग महापुरुषों के के विरासत को को आगे बढ़ाना चाहिए उनके छोरी भी बातों को याद करनी चाहिए उनके लोक कल्याणकारी कार्यों को बढ़ाना चाहिए अच्छे कार्य को रोक विच गाना चाहिए उनको याद किया जाना चाहिए इंसान अपनी बुराइयों को इंसान को खुश होना चाहिए शायद गुणों को अपनाना चाहिए महापुरुषों के जीवन पर आधारित काम करना चाहिए जिससे हमारे समाज का राज्य का देश की प्रगति हो

hum log mahapurushon ke ke virasat ko ko aage badhana chahiye unke chhori bhi baaton ko yaad karni chahiye unke lok kalyaankari karyo ko badhana chahiye acche karya ko rok which gaana chahiye unko yaad kiya jana chahiye insaan apni buraiyon ko insaan ko khush hona chahiye shayad gunon ko apnana chahiye mahapurushon ke jeevan par aadharit kaam karna chahiye jisse hamare samaj ka rajya ka desh ki pragati ho

हम लोग महापुरुषों के के विरासत को को आगे बढ़ाना चाहिए उनके छोरी भी बातों को याद करनी चाहिए

Romanized Version
Likes  266  Dislikes    views  2360
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

8:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे मित्रों भारत देश में अनेकानेक महापुरुष हुए हैं यह तो महापुरुषों की जन्म स्थली है यह महा कवियों की जन्मस्थली है यह वीर वीरांगनाओं की जन्मस्थली है यदि हम सब अनुसरण करना चाहे तो हम विश्व के अन्य देशों की महापुरुषों की अनुसरण करने की आवश्यकता नहीं हमारे देश में ही बहुत हूं यह रामकृष्ण की भूमि है राम का चरित्र अकेले राम का चरित्र का अनुसरण कर दिया जाए उनके गुणों को धारण कर ले भारत का प्रत्येक बच्चा बच्ची राम मन जाए तो यह तुम सोचो हम बस इस पृथ्वी पर स्वर्ग उतार सकते हैं सर की कल्पना को साकार कर सकते हैं आपको शायद वह गीत याद होगा प्रेरणात्मक है चंदन है इस देश की माटी तपोभूमि हर ग्राम है हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है बच्चा बच्चा राम है हमारे यहां सीता जैसे चरित्र में हमारे हराम जैसे चरित्रवान लोगों को उनकी गुरु का हम लोगों ने उनके गुणों को छोड़ दिया है हम लोगों ने उनके रास्तों को त्याग कर दिया है हमारे देश में डॉक्टर अब्दुल कलाम जैसे साइंटिस्ट पैदा हुए हैं महान इंसान पैदा हुए हैं महापुरुष पैदा हुए हैं हमारे देश में मदर टेरेसा जैसी मां रही है जो साक्षात देवी थी उसके रास्ते को काश हम ने अपनाया होता लेकिन बिट्टू हम तो रास्ते की दूसरे गलत अपना रहे हैं हम तो वेस्टर्न कल्चर के पॉल और बन रहे हैं जबरदस्ती कि भारतीय संस्कृति जिस भारतीय संस्कृति को महानता को विश्व के समस्त देश देशों के लोग भौतिक बातें तंग होकर के भौतिकवाद के दुष्परिणामों से दुखी होकर के भारतीय संस्कृति का अनुसरण करने के लिए मथुरा वृंदावन बार करके पड़े हुए हैं भारतीय संस्कृति का फॉलोइंग कर रहे हैं राधे कृष्णा के गुणगान कर रहे हैं उस भारतीय संस्कृति को हम भारतीय लोग घर की मुर्गी दाल बराबर मान करके उसको त्याग चुके हम लोग उस गंदी वासना मई दबा दी ताकि में गंदे दुष्परिणाम देने वाली उस पेटर्न कल्चर को अपना रहे हैं हमारे नए लड़के लड़कियों में यह वायरस से ज्यादा खतरनाक रूप से संक्रमित हो रही है उसी का दुष्परिणाम हो रहा है कि आज के लड़के लड़कियों का चारित्रिक पतन अंतिम सीमा पर पहुंच चुका है अब तुम सोचो तुम इससे क्या संदेश दे रहे हो इससे तुम्हें क्या मिल रहा है इससे तुम्हें कुछ नहीं मिल रहा है तो मिट्टी बूस्ट की पता करो जो विश्व के समस्त देश जिस भारतीय संस्कृति के दीवाने विमान इसको बनाने के लिए भाग रहे कर भारत आ रहे हैं विभाग करके राम और कृष्ण की जन्मस्थली ओं में उस शांति की प्राप्ति के लिए आ रहे हैं और हमें गर्व होना चाहिए कि हम ऐसे महान भारत के निवासी हैं जिस भारत भूमि में राम और कृष्ण ने जन्म लिया है जिसकी संस्कृति विश्व में अद्भुत है अनुपम में परम शांति देने वाली है जी और चीन युद्ध के सिद्धांत का पालन करने वाली उसी संस्कृति को हम क्या क्रिकेट भौतिकता वादी संस्कृति को अपना रहे हैं हम वेस्टर्न कल्चर के फॉलोअर्स भरने हैं अंधे होकर कि हमारे लड़के लड़कियां उनके पीछे भाग रहे हैं दीवाने हो करके इवनिंग मेरी विचार वाला सिद्धांत है जो वेस्टर्न कल्चर की जान है उस सिद्धांत के पीछे बंद करके हम लोगों ने अपने परिजनों को भी अपने भाई बंधुओं का भी त्याग कर दिया है और नितांत स्वार्थ में डूबे हुए खुदगर्जी में डूबे हुए लालच अधिक करते हुए हम इस भौतिकवादी संस्कृति में रंगे जा रहे हैं रंग रहे हैं मैं मानता हूं उसे फैलाने में भक्ति पिक्चर में बहुत बड़ा सहयोग दे रही हैं लेकिन हमें हमारे आइडियल हमें उन हीरो हीरोइनों को नहीं बनाना है इन हीरो हीरोइनों को तुम यदि आईडी बनाएंगे तो निश्चित रूप से यह आप अधोगति को प्राप्त करेंगे वह हाल होगा जो आज हो रहा है क्योंकि हीरोइनों को देखिए भारतीय फिल्मी हीरोइनों की अधिकांश हीरोइनों ने दूसरी स्त्रियों का घर बर्बाद करने के लिए अधिकांश शादीशुदा पुरुषों से शादी की है अधिकांश हीरोइनों ने दूसरी महिलाओं की जिंदगी बर्बाद करने के लिए ऐसे शादीशुदा पुरुषों से विवाह किया है इनकी ऑलरेडी पत्नियां थी बच्चे थे आप ऐसे हीरोइनों का अनुसरण करेंगे अरे तुम सोचो जिस भारतीय संस्कृति में महापुरुषों की कमी नहीं है एक से एक महापुरुष से 19 किसी को भी अपना आदर्श बनाई है और ऐसी संस्कृति विकसित कीजिए इस भारतीय संस्कृति को चरमोत्कर्ष ताकि सीमा तक ले जाइए और भारत को अपने महान भारत बनाइए जिस भारत में सभी मिलकर के प्रेम पूर्वक भाईचारे के साथ एक दूसरे को जीवन के लिए देते हुए सेवा करते हुए सहायता करते हुए हम आगे बढ़े और विश्व को आगे बढ़ाएं ऐसी महान भारतीय संस्कृति के गुणों को अपनाओ अभी आने वाली पीढ़ियों के लिए संदेश दो बेबी जियो और जीने दो के सिद्धांत में विश्वास रखें उचित वाली बने एक दूसरे के लिए त्याग समर्पण हनी सिंह युक्त विचार बनाएं हम ऐसी विरासत छोड़ना चाहते हैं जो विश्व के अन्य देशों के लिए अनुसरण करने के लिए योग्य क्योंकि कहते हैं जैसा जैसा श्रेष्ठ लोग करते हैं विश्व के समस्त लोग उसी का अनुसरण करते जाते हैं वही प्रमाण बन जाते हैं राम ने कृष्ण ने जो जैसी खारी किए थे वह आज हमारे लिए सन्मार्ग बन चुका है हम उन पर उस पथ का अनुगमन करें जिससे समस्त मानवता अलंकृत हूं समस्त मानवता आगे बढ़े हमें उसकी विरासत में छोड़ना है जिससे हमारी नई पीढ़ी या आगे बढ़ सकें और मानवता के हित में कार्य कर सकें और मानवता को जीवित रखें आज तुम देख रही हो चारों तरफ आप भीड़ देखते हो लेकिन आपने कभी देखा है इस भीड़ में कभी टोल के देखूं स्वार्थ खुदगर्जी लालच से रहित सभी मानव तन को प्रेम करने वाले प्रेम भाईचारे से जीने वाले तमाम ममता संवेदना विभागों को धारण करने वाले ऐसे आपको कुछ ही लोग मिलेंगे अधिकांश लोग स्वार्थ में लिप्त खुदगर्ज हिंदी की तरह जीने वाली मिलेंगे जो हमें नहीं करना है यह सब वेस्टर्न कल्चर के कारण हो रहा है यह सब आधुनिकता के कारण हो रहा है हमें इसे नहीं अपनाना है अपनी आने वाली पीढ़ियों को यह संदेश नहीं देना है हमारी आने वाली पीढ़ी अंकल यह ना कहें कि हमारे पूर्वज कैसे थे कितने खुदगर्ज होते हैं कितने स्वार्थी देखने लालची थे कितने भी मानते कितने चली रे भी कपटी थे कि उन्होंने धूर्तता की समस्त अवगुणों को अपना लिया लेकिन मानवता के लिए कुछ नहीं छोड़ा मेरे मित्रों करिए तो बुलाना मत सुनो कल के लिए तुम ऐसा मत करो हम कल की आने वाली पीढ़ियों के लिए मानवता का संदेश दे जियो और जीने दो के सिद्धांत का परिपालन करने की विरासत छोड़े जिससे सब मिलकर के प्रेम भाईचारे के साथ में रहे और इस भारत को उन्हें हम महान भारत का गौरव दिलाने में समर्थ हो सके

mere mitron bharat desh me anekanek mahapurush hue hain yah toh mahapurushon ki janam sthali hai yah maha kaviyon ki janmasthali hai yah veer viranganaon ki janmasthali hai yadi hum sab anusaran karna chahen toh hum vishwa ke anya deshon ki mahapurushon ki anusaran karne ki avashyakta nahi hamare desh me hi bahut hoon yah ramakrishna ki bhoomi hai ram ka charitra akele ram ka charitra ka anusaran kar diya jaaye unke gunon ko dharan kar le bharat ka pratyek baccha bachi ram man jaaye toh yah tum socho hum bus is prithvi par swarg utar sakte hain sir ki kalpana ko saakar kar sakte hain aapko shayad vaah geet yaad hoga prernatmak hai chandan hai is desh ki mati tapobhumi har gram hai har bala devi ki pratima baccha baccha ram hai baccha baccha ram hai hamare yahan sita jaise charitra me hamare haraam jaise charitravan logo ko unki guru ka hum logo ne unke gunon ko chhod diya hai hum logo ne unke raston ko tyag kar diya hai hamare desh me doctor abdul kalam jaise scientist paida hue hain mahaan insaan paida hue hain mahapurush paida hue hain hamare desh me mother teresa jaisi maa rahi hai jo sakshat devi thi uske raste ko kash hum ne apnaya hota lekin bittu hum toh raste ki dusre galat apna rahe hain hum toh western culture ke paul aur ban rahe hain jabardasti ki bharatiya sanskriti jis bharatiya sanskriti ko mahanata ko vishwa ke samast desh deshon ke log bhautik batein tang hokar ke bhautikvad ke dushparinamon se dukhi hokar ke bharatiya sanskriti ka anusaran karne ke liye mathura vrindavan baar karke pade hue hain bharatiya sanskriti ka following kar rahe hain radhe krishna ke gunagan kar rahe hain us bharatiya sanskriti ko hum bharatiya log ghar ki murgi daal barabar maan karke usko tyag chuke hum log us gandi vasana may daba di taki me gande dushparinaam dene wali us pattern culture ko apna rahe hain hamare naye ladke ladkiyon me yah virus se zyada khataranaak roop se sankrameet ho rahi hai usi ka dushparinaam ho raha hai ki aaj ke ladke ladkiyon ka charittrik patan antim seema par pohch chuka hai ab tum socho tum isse kya sandesh de rahe ho isse tumhe kya mil raha hai isse tumhe kuch nahi mil raha hai toh mitti boost ki pata karo jo vishwa ke samast desh jis bharatiya sanskriti ke deewane Vimaan isko banane ke liye bhag rahe kar bharat aa rahe hain vibhag karke ram aur krishna ki janmasthali on me us shanti ki prapti ke liye aa rahe hain aur hamein garv hona chahiye ki hum aise mahaan bharat ke niwasi hain jis bharat bhoomi me ram aur krishna ne janam liya hai jiski sanskriti vishwa me adbhut hai anupam me param shanti dene wali hai ji aur china yudh ke siddhant ka palan karne wali usi sanskriti ko hum kya cricket bhautikata wadi sanskriti ko apna rahe hain hum western culture ke followers bharne hain andhe hokar ki hamare ladke ladkiya unke peeche bhag rahe hain deewane ho karke evening meri vichar vala siddhant hai jo western culture ki jaan hai us siddhant ke peeche band karke hum logo ne apne parijanon ko bhi apne bhai bandhuon ka bhi tyag kar diya hai aur nitant swarth me doobe hue khudagarji me doobe hue lalach adhik karte hue hum is bhautikvadi sanskriti me rangey ja rahe hain rang rahe hain main maanta hoon use felane me bhakti picture me bahut bada sahyog de rahi hain lekin hamein hamare ideal hamein un hero hiroinon ko nahi banana hai in hero hiroinon ko tum yadi id banayenge toh nishchit roop se yah aap adhogati ko prapt karenge vaah haal hoga jo aaj ho raha hai kyonki hiroinon ko dekhiye bharatiya filmy hiroinon ki adhikaansh hiroinon ne dusri sthreeyon ka ghar barbad karne ke liye adhikaansh shaadishuda purushon se shaadi ki hai adhikaansh hiroinon ne dusri mahilaon ki zindagi barbad karne ke liye aise shaadishuda purushon se vivah kiya hai inki already patniya thi bacche the aap aise hiroinon ka anusaran karenge are tum socho jis bharatiya sanskriti me mahapurushon ki kami nahi hai ek se ek mahapurush se 19 kisi ko bhi apna adarsh banai hai aur aisi sanskriti viksit kijiye is bharatiya sanskriti ko charamotkarsh taki seema tak le jaiye aur bharat ko apne mahaan bharat banaiye jis bharat me sabhi milkar ke prem purvak bhaichare ke saath ek dusre ko jeevan ke liye dete hue seva karte hue sahayta karte hue hum aage badhe aur vishwa ko aage badhaye aisi mahaan bharatiya sanskriti ke gunon ko apnao abhi aane wali peedhiyon ke liye sandesh do baby jio aur jeene do ke siddhant me vishwas rakhen uchit wali bane ek dusre ke liye tyag samarpan honey Singh yukt vichar banaye hum aisi virasat chhodna chahte hain jo vishwa ke anya deshon ke liye anusaran karne ke liye yogya kyonki kehte hain jaisa jaisa shreshtha log karte hain vishwa ke samast log usi ka anusaran karte jaate hain wahi pramaan ban jaate hain ram ne krishna ne jo jaisi khari kiye the vaah aaj hamare liye sanmarg ban chuka hai hum un par us path ka anugaman kare jisse samast manavta alankrit hoon samast manavta aage badhe hamein uski virasat me chhodna hai jisse hamari nayi peedhi ya aage badh sake aur manavta ke hit me karya kar sake aur manavta ko jeevit rakhen aaj tum dekh rahi ho charo taraf aap bheed dekhte ho lekin aapne kabhi dekha hai is bheed me kabhi toll ke dekhu swarth khudagarji lalach se rahit sabhi manav tan ko prem karne waale prem bhaichare se jeene waale tamaam mamata samvedana vibhagon ko dharan karne waale aise aapko kuch hi log milenge adhikaansh log swarth me lipt khudagarj hindi ki tarah jeene wali milenge jo hamein nahi karna hai yah sab western culture ke karan ho raha hai yah sab adhunikata ke karan ho raha hai hamein ise nahi apnana hai apni aane wali peedhiyon ko yah sandesh nahi dena hai hamari aane wali peedhi uncle yah na kahein ki hamare purvaj kaise the kitne khudagarj hote hain kitne swaarthi dekhne lalchi the kitne bhi maante kitne chali ray bhi kapati the ki unhone dhurtata ki samast avagunon ko apna liya lekin manavta ke liye kuch nahi choda mere mitron kariye toh bulana mat suno kal ke liye tum aisa mat karo hum kal ki aane wali peedhiyon ke liye manavta ka sandesh de jio aur jeene do ke siddhant ka paripalan karne ki virasat chode jisse sab milkar ke prem bhaichare ke saath me rahe aur is bharat ko unhe hum mahaan bharat ka gaurav dilaane me samarth ho sake

मेरे मित्रों भारत देश में अनेकानेक महापुरुष हुए हैं यह तो महापुरुषों की जन्म स्थली है यह म

Romanized Version
Likes  242  Dislikes    views  4855
WhatsApp_icon
user

Krishna Singh

Motivational Speaker

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं लेकिन जहां तक विरासत का सवाल है आप मान लीजिए कि बहुत ही धनवान है आपने 7 पुश्तो को बैठे-बैठे कहां सके इतना धन कमा लिया है वह अगर आपको छोड़कर भी गए तो अगले अगर लायक ना निकले तो उनको उस धन को खर्च करने में ज्यादा समय नहीं लगेगा इसलिए इस सृष्टि पर अगर आप आए हैं तो अगर कुछ विरासत के रूप में छोड़ना चाहते हैं तो वह आपको अपने सुकर्म छोड़ने चाहिए ताकि आप अपने सुकर्म द्वारा याद किए जाएं और आपके फुट स्टेप्स लोगों के लिए प्रेरणादाई बने कोई भी आपत्ति का समय आए उस समय अगर कोई व्यक्ति कंफ्यूज हो तो उसे याद आएगी हां इन्होंने इस समय पर यह किया था दृढ़ता वक्त तो यह हासिल किया तो आप लोगों के लिए प्रेरणादाई बने तो आप अपने कर्मों की शुभ कर्मों की विरासत द्वारा ही किसी को मार्गदर्शन दे सकते हैं कर सकते हैं ना कि स्टूल धनवा द्वारा स्थूल धन तो अगला अगर नालायक निकलेगा तो तुरंत खत्म कर देगा लेकिन आपका नाम सदैव इस जगत में किसी न किसी प्रकार से अमर रहेगा और लिया जाएगा अगर विशाल रूप से नहीं लिया जाएगा तो आपकी कम्युनिटी में किसी न किसी रूप से लिया जाएगा अगर आपके कर्म सही में अच्छे होंगे

aap kis tarah ki virasat ko peeche chhodna chahte hain aur kiske dwara yaad kiya jana chahte hain lekin jaha tak virasat ka sawaal hai aap maan lijiye ki bahut hi dhanwan hai aapne 7 pushto ko baithe baithe kaha sake itna dhan kama liya hai vaah agar aapko chhodkar bhi gaye toh agle agar layak na nikle toh unko us dhan ko kharch karne me zyada samay nahi lagega isliye is shrishti par agar aap aaye hain toh agar kuch virasat ke roop me chhodna chahte hain toh vaah aapko apne sukarm chodne chahiye taki aap apne sukarm dwara yaad kiye jayen aur aapke feet steps logo ke liye preranadai bane koi bhi apatti ka samay aaye us samay agar koi vyakti confuse ho toh use yaad aayegi haan inhone is samay par yah kiya tha dridhta waqt toh yah hasil kiya toh aap logo ke liye preranadai bane toh aap apne karmon ki shubha karmon ki virasat dwara hi kisi ko margdarshan de sakte hain kar sakte hain na ki stool dhanava dwara sthool dhan toh agla agar nalayak niklega toh turant khatam kar dega lekin aapka naam sadaiv is jagat me kisi na kisi prakar se amar rahega aur liya jaega agar vishal roop se nahi liya jaega toh aapki community me kisi na kisi roop se liya jaega agar aapke karm sahi me acche honge

आप किस तरह की विरासत को पीछे छोड़ना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं लेकि

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

Pankaj Paradkar

Managing Director and founder

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं अपने ज्ञान को विरासत के रूप में छोड़कर जाना चाहता हूं जिससे कि आने वाली पीढ़ी इस देश का समाज का और अपने खुद के व्यक्तिमत्व का विकास कर सके और इस देश को एक अच्छे मुकाम तक पहुंचा सके

main apne gyaan ko virasat ke roop mein chhodkar jana chahta hoon jisse ki aane wali peedhi is desh ka samaj ka aur apne khud ke vyaktimatva ka vikas kar sake aur is desh ko ek acche mukam tak pohcha sake

मैं अपने ज्ञान को विरासत के रूप में छोड़कर जाना चाहता हूं जिससे कि आने वाली पीढ़ी इस देश क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user
2:00
Play

Likes  43  Dislikes    views  857
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं तो एक ज्ञान की विरासत रियल लाइफ तो 40 साल पिक्चर भेज चुकी हूं इसलिए मैं चाहती हूं कि हर इंसान हर दृष्टि से पूर्ण हो मेरे द्वारा जितने शिक्षित हैं और वह हमारे इस ग्रुप

main toh ek gyaan ki virasat real life toh 40 saal picture bhej chuki hoon isliye main chahti hoon ki har insaan har drishti se purn ho mere dwara jitne shikshit hain aur vaah hamare is group

मैं तो एक ज्ञान की विरासत रियल लाइफ तो 40 साल पिक्चर भेज चुकी हूं इसलिए मैं चाहती हूं कि ह

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  234
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते वासुदेव कुटुंबकम बड़ों को प्रणाम वालों से राम-राम और छोटों से ढेर सारा प्यार किसी भैया ने सवाल पूछा है कि आप किस तरह की लाश को पीछे छोड़ जाना चाहते हैं और किसके द्वारा याद किया जाना चाहते हैं तो मैं अपने व्यक्तिगत जीवन के आधार पर यह बताना चाहता हूं कि मैं कैसी राशन बनाना चाहता हूं जिसमें मनुष्य से लेकर चींटी तक सभी लाभान्वित हो सके उदाहरण के लिए एक पेड़ पेड़ पर रहने पर एक शिविर में रहता है एक ज़ी टीवी रहती है एक नीति छाया भी प्राप्त करता है और शुद्ध हवा का करता है और भी अनेक बातें

namaste vasudev kutumbakam badon ko pranam walon se ram ram aur choton se dher saara pyar kisi bhaiya ne sawaal poocha hai ki aap kis tarah ki laash ko peeche chhod jana chahte hain aur kiske dwara yaad kiya jana chahte hain toh main apne vyaktigat jeevan ke aadhar par yah batana chahta hoon ki main kaisi raashan banana chahta hoon jisme manushya se lekar chinti tak sabhi labhanvit ho sake udaharan ke liye ek ped ped par rehne par ek shivir me rehta hai ek zee TV rehti hai ek niti chhaya bhi prapt karta hai aur shudh hawa ka karta hai aur bhi anek batein

नमस्ते वासुदेव कुटुंबकम बड़ों को प्रणाम वालों से राम-राम और छोटों से ढेर सारा प्यार किसी भ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!