एक भारतीय के रूप में जो इतने लंबे समय से विदेशी भूमि में रह रहा है आपको कैसा लगता है?...


user

DR. MANISH

MULTI TASKER & DR.M.D (A.M.), B-PHARMA, PGDM-M

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो मैं बताता हूं कि अब करो ना वायरस में देखा जो लंबे समय से बाहर रह रहे हैं विदेश के अंदर वह अपने देश आने को तरस रहे विदेशी लोगों ने उनको भगा दिया अब वह ना नौकरी के नए घर का कुत्ता न घर का न घाट का अब वह लोग असल में इस तरह की स्थिति में आ चुके हैं थोड़े से पैसों के लालच में थोड़ी सी रेपुटेशन के लालच में और थोड़ी सी सोशल प्रेस्टीज के लालच में काफी लोग इंडिया से बाहर चले गए लेकिन जो वहां पर एपिडेमिक आता है या कोई ऐसी दिक्कत आती है तो उनको भगा दिया जाता है वह फिर सरकार के आगे रोना रोते हैं कि हमें एरोप्लेन से भुला दो कैसे भी बुला लो और हम देखें यह लोग असल में राष्ट्र हित की बातें नहीं करते सिर्फ बातें बातें करती है अपने पर्सनल स्वार्थ के लिए विदेश जाकर रहते हैं विदेशी खेली नहीं जाते अगर देश की बातें बातें हैं जो सिर्फ फॉर्मेलिटी के लिए जमीन को गरज पढ़ते देश हित की बात करते हैं और जब उनकी तरफ निकल जाती वापस दे देना विदेशी वहां खत्म होगा वापस भाग जाएंगे कोई हमारे देश के लिए नहीं आ रही है बाद में यह अपनी जान बचाने के लिए आ रहे हमारे देश के लिए कलंक है धन्यवाद

dekho main batata hoon ki ab karo na virus me dekha jo lambe samay se bahar reh rahe hain videsh ke andar vaah apne desh aane ko taras rahe videshi logo ne unko bhaga diya ab vaah na naukri ke naye ghar ka kutta na ghar ka na ghat ka ab vaah log asal me is tarah ki sthiti me aa chuke hain thode se paison ke lalach me thodi si reputation ke lalach me aur thodi si social prestige ke lalach me kaafi log india se bahar chale gaye lekin jo wahan par epidemic aata hai ya koi aisi dikkat aati hai toh unko bhaga diya jata hai vaah phir sarkar ke aage rona rote hain ki hamein aeroplane se bhula do kaise bhi bula lo aur hum dekhen yah log asal me rashtra hit ki batein nahi karte sirf batein batein karti hai apne personal swarth ke liye videsh jaakar rehte hain videshi kheli nahi jaate agar desh ki batein batein hain jo sirf formality ke liye jameen ko garaj padhte desh hit ki baat karte hain aur jab unki taraf nikal jaati wapas de dena videshi wahan khatam hoga wapas bhag jaenge koi hamare desh ke liye nahi aa rahi hai baad me yah apni jaan bachane ke liye aa rahe hamare desh ke liye kalank hai dhanyavad

देखो मैं बताता हूं कि अब करो ना वायरस में देखा जो लंबे समय से बाहर रह रहे हैं विदेश के अंद

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Lalit Sharma

Director International Dogra Society (Community Work), Assoc CIPD (London)

0:55

Likes  21  Dislikes    views  714
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो व्यक्ति खाता है भारत का गाता है विदेशी चोदी करता है साला कुछ नहीं कुछ नहीं है इंडिया मेरी भक्ति करो भगवान की

jo vyakti khaata hai bharat ka gaata hai videshi chodi karta hai sala kuch nahi kuch nahi hai india meri bhakti karo bhagwan ki

जो व्यक्ति खाता है भारत का गाता है विदेशी चोदी करता है साला कुछ नहीं कुछ नहीं है इंडिया मे

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!