जम्मू कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने का क्या लाभ है?...


user

Sanjoy Sachdev

Life Coach | Chairman Love Commandos

3:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जम्मू कश्मीर राज्य को दो भागों में बांटने के यूनियन टेरिटरी बना देने का कोई बड़ा लाभ होने वाला नहीं है लद्दाख के एक हिस्से के लोगों की मांग की यूनियन टेरिटरी बनाकर देने की थी लेकिन लद्दाख के क्षेत्र में यदि पूरी हम करगिल को देखें और लद्दाख को देखे उसमें दो अलग-अलग तरह के लोग हैं कर दिल जहां मुस्लिम शिया डोमिनेटेड है वहां लद्दाख बोदरा मिली और कुल 1 पाली मंत्री क्वेश्चन सी है इसलिए उसको अगर आप रे जूती बना भी दिया तो वहां के जो लोग बहुसंख्यक आबादी है यूनियन टेरिटरी के हक में नहीं है इसी तरह जम्मू-कश्मीर को आप पर यूनियन टेरिटरी बना तो दिया लेकिन वहां के लोगों की भावना ऐसे नहीं यदि हम इतिहास में जाएं तो तब के महाराजा हरि सिंह ने सन 1921 में इंग्लैंड में गोलमेज कांफ्रेंस में डंके की चोट पर कहा था कि मैं भारतीय हूं आया मैंने इंडियन लेकिन उस बात की भावना का आदर नहीं कर पाए हम लोग वही महाराजा हरिसिंह थे जिन्होंने अपने दौर में लगभग 2000 स्कूल बनाए दो बड़े सरकारी अस्पताल एक जम्मू श्रीनगर में बना और जो आजादी की लड़ाई आज जो कश्मीर का हिसाब के साथ जुड़ा है वह action-packed के तथा और उसके रिश्तेदार चमके प्रधानमंत्री शेख अब्दुल्ला जम्मू-कश्मीर के प्रधानमंत्री थे हाजी इतिहास पढ़ाया नहीं जाता अब भ्रष्ट इतिहास पढ़ाया जाता इसलिए लगता है कि इससे कोई लाभ होगा लव कोई नहीं होगा बल्कि ड्यूटीज के बीच में जो एक राज्य था लोगों को आने-जाने और टैक्सेशन में दिक्कतें आएंगी जहां तक सवाल है जम्मू कश्मीर के लोगों को लाभ का तो वहां भी कोई लाभ जैसी स्थिति नजर नहीं आती है क्योंकि इंडस्ट्री की हालत पहले ही वहां नहीं थी नहीं नसीब लगने की कोई संभावना नहीं है वहां के लोग आपस में एक दूसरे के साथ मिलकर थे आज उनके बीच में एक नया अंतर आएगा जो होने वाले काम थे वह तो हुए नहीं लेकिन इस बात को लेकर चला दिया गया धारा 370 को भी खत्म करने की जब बात की जाती है तो 370 कब पार्ट वन तो आपने रिटर्न कर लिया तो 370 खत्म नहीं हुआ हां 35a जिससे वहां के नागरिकों के जम्मू कश्मीर के दोनों खेतों के नागरिकों के दोनों यूपी के नागरिकों के जो मूल अधिकार है उन पर अतिक्रमण होता था उसे खत्म किया गया एक अच्छा कदम रहा लेकिन उसके तहत बने हुए कानूनों को खत्म नहीं किया अब उसी 351 के तहत आपने जो कनूलेक बनाया हुआ जबकि ऐसे उसे आज तक आपने जिंदा रखा है लोगों की जो नागरिक अधिकार है वह बाहर किए नहीं इसके लाभ होने की वजह नुकसान होने की उम्मीद ज्यादा है घर आने वाला समय बताएगा किसका ही मिस क्या होता है

jammu kashmir rajya ko do bhaagon me baantne ke union Territory bana dene ka koi bada labh hone vala nahi hai ladakh ke ek hisse ke logo ki maang ki union Territory banakar dene ki thi lekin ladakh ke kshetra me yadi puri hum kargil ko dekhen aur ladakh ko dekhe usme do alag alag tarah ke log hain kar dil jaha muslim shiya domineted hai wahan ladakh bodra mili aur kul 1 paali mantri question si hai isliye usko agar aap ray juti bana bhi diya toh wahan ke jo log bahusankhyak aabadi hai union Territory ke haq me nahi hai isi tarah jammu kashmir ko aap par union Territory bana toh diya lekin wahan ke logo ki bhavna aise nahi yadi hum itihas me jayen toh tab ke maharaja hari Singh ne san 1921 me england me golamej conference me danke ki chot par kaha tha ki main bharatiya hoon aaya maine indian lekin us baat ki bhavna ka aadar nahi kar paye hum log wahi maharaja harisingh the jinhone apne daur me lagbhag 2000 school banaye do bade sarkari aspatal ek jammu srinagar me bana aur jo azadi ki ladai aaj jo kashmir ka hisab ke saath juda hai vaah action packed ke tatha aur uske rishtedar chamke pradhanmantri shaikh abdullah jammu kashmir ke pradhanmantri the haji itihas padhaya nahi jata ab bhrasht itihas padhaya jata isliye lagta hai ki isse koi labh hoga love koi nahi hoga balki duties ke beech me jo ek rajya tha logo ko aane jaane aur taxation me dikkaten aayengi jaha tak sawaal hai jammu kashmir ke logo ko labh ka toh wahan bhi koi labh jaisi sthiti nazar nahi aati hai kyonki industry ki halat pehle hi wahan nahi thi nahi nasib lagne ki koi sambhavna nahi hai wahan ke log aapas me ek dusre ke saath milkar the aaj unke beech me ek naya antar aayega jo hone waale kaam the vaah toh hue nahi lekin is baat ko lekar chala diya gaya dhara 370 ko bhi khatam karne ki jab baat ki jaati hai toh 370 kab part van toh aapne return kar liya toh 370 khatam nahi hua haan 35a jisse wahan ke nagriko ke jammu kashmir ke dono kheton ke nagriko ke dono up ke nagriko ke jo mul adhikaar hai un par atikraman hota tha use khatam kiya gaya ek accha kadam raha lekin uske tahat bane hue kanuno ko khatam nahi kiya ab usi 351 ke tahat aapne jo kanulek banaya hua jabki aise use aaj tak aapne zinda rakha hai logo ki jo nagarik adhikaar hai vaah bahar kiye nahi iske labh hone ki wajah nuksan hone ki ummid zyada hai ghar aane vala samay batayega kiska hi miss kya hota hai

जम्मू कश्मीर राज्य को दो भागों में बांटने के यूनियन टेरिटरी बना देने का कोई बड़ा लाभ होने

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  93
KooApp_icon
WhatsApp_icon
17 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!