सार्वजानिक वितरण प्रणाली में भ्रष्टाचार के मामले में यूपी सबसे ऊपर। आपकी क्या राय है?...


user

Dharmendra Singh

Govt officer

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में भ्रष्टाचार में यूपी सुपर ऐसा नहीं है कि केवल यूपी ही भ्रष्टाचार में लिप्त है राशन प्रणाली में अभी तो पूरे भारत के जो राशन वितरण के जो मालिक बने हैं कोटेदार इनके द्वारा तो गड़बड़ी होती ही जाती है क्योंकि उनका कहना है कि सरकार हमें ना तो मान दे देती है और ना ही कोई वेतन दूध देती है और ना ही कोई सुविधा देती है अब हमें इसी में से अपने खर्च निकालना है अपने बच्चों के लिए बचाना है हम कहां से करेंगे जो करेंगे तो इसी में से करेंगे इसलिए हम सबका थोड़ा-थोड़ा काटकर के राशन अपने खर्च निकालते हैं ऐसी स्थिति में भ्रष्टाचार दो दोस्तों खुद ही पैदा कर रही है दूसरी चीज इस बार जितना भी राशन कार्ड बनाया गया है वह सीधे ऑनलाइन बना करके जारी कर दिया जाता है उस पर कोई अरबिया कोई प्रमाणिक का नहीं किया जाता कि पात्र पा रहा है कि अपात्र पा रहा है ऑनलाइन में जो जिसने बांट दिया उसी को सही मानकर उसको राशन देना शुरू कर दिया जाए इस व्यवस्था को सुधारने के लिए सबसे पहले तो राशन कार्ड का सघन सर्वे होना चाहिए जो पात्र हैं उनके नाम लिखो हटा देनी चाहिए इसके पश्चात से पात्र परिवारों को राशन दिया जाना चाहिए दूसरा दिन कोटेदारों को ज्यादा मानदेय दिया जाए या उनके व्यवस्था में होने वाले खर्च की क्षतिपूर्ति की जाए तभी संरक्षण रुक सकता है हम सब कुछ नहीं होता और पास मशीन में जो गांव का व्यक्ति अनपढ़ है वह जाने नहीं पता कि मेरी इंट्री हो गई अथवा नहीं हो गई उनको जब भी खूब बना कर भगा दिया जाता है उनका राशन कब लिया जाता है

sarvajanik vitaran pranali mein bhrashtachar mein up super aisa nahi hai ki keval up hi bhrashtachar mein lipt hai raashan pranali mein abhi toh poore bharat ke jo raashan vitaran ke jo malik bane hain kotedar inke dwara toh gadbadi hoti hi jaati hai kyonki unka kehna hai ki sarkar hamein na toh maan de deti hai aur na hi koi vetan doodh deti hai aur na hi koi suvidha deti hai ab hamein isi mein se apne kharch nikalna hai apne baccho ke liye bachaana hai hum kahaan se karenge jo karenge toh isi mein se karenge isliye hum sabka thoda thoda katkar ke raashan apne kharch nikalate hain aisi sthiti mein bhrashtachar do doston khud hi paida kar rahi hai dusri cheez is baar jitna bhi raashan card banaya gaya hai vaah sidhe online bana karke jaari kar diya jata hai us par koi arabia koi pramanik ka nahi kiya jata ki patra paa raha hai ki apatra paa raha hai online mein jo jisne baant diya usi ko sahi maankar usko raashan dena shuru kar diya jaaye is vyavastha ko sudhaarne ke liye sabse pehle toh raashan card ka saghan survey hona chahiye jo patra hain unke naam likho hata deni chahiye iske pashchat se patra parivaron ko raashan diya jana chahiye doosra din kotedaron ko zyada manday diya jaaye ya unke vyavastha mein hone waale kharch ki kshatipoorti ki jaaye tabhi sanrakshan ruk sakta hai hum sab kuch nahi hota aur paas machine mein jo gaon ka vyakti anpad hai vaah jaane nahi pata ki meri intri ho gayi athva nahi ho gayi unko jab bhi khoob bana kar bhaga diya jata hai unka raashan kab liya jata hai

सार्वजनिक वितरण प्रणाली में भ्रष्टाचार में यूपी सुपर ऐसा नहीं है कि केवल यूपी ही भ्रष्टाचा

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  340
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!