शिवसेना बोली- PM से मिलने पर क्‍या खिचड़ी ही पकती है? आपकी क्या राय है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:08

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतना बोली पीएम से मिलने पर क्या खिचड़ी पकती है आपकी क्या राय सेना के जो सकता है संजय राऊत संजय रावत जी समय-समय पर कुछ न कुछ बोलते ही रहते हैं और ध्यान आकर्षित करते हैं अपने किसानों के द्वारा उस दिन वह अस्पताल में अपनी ट्रीटमेंट करवा रहे थे ऐसे ही अस्पताल से बाहर आते ही उन्होंने इंटरव्यू देने शुरू कर दिए पत्रकारों को और फिलहाल जो हालत है महाराष्ट्र में तो तीनों पक्ष शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाने का उन्होंने ऐलान किया था कि हम बना रहे हैं कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर सहमति बन गई है बकरा बकरा बहुत सारे स्टेटमेंट दी फिर बाद में शरद पवार जी मिलने गए सोनिया गांधी दिल्ली और सोनिया गांधी से मिलकर जब बाहर है तो उन्होंने दूसरी बात कही सरकार बनाने की कोई बात ही नहीं हुई है ऐसा उन्होंने अब सामने आ रहा है कि इन सिटी का ढाई साल चीफ मिनिस्टर रहेगा और शिवसेना का ढाई साल चीफ मिनिस्टर रहेगा इस तरह की आम सहमति बन रही है और कांग्रेस का स्पीकर रहेगा इससे मतलब चिड़ी तू वहां तक रही है और शिवसेना ने एक स्टेटमेंट पर दिया है कि अगर बीजेपी जो है एनडीए से निकालने वाली कौन होती है इंडियन का गठन हुआ था तो हम सब ने मिलकर इंडिया बनाया था और फिर से अगर वह फार्मूले पर विचार करें तो हम फिर से सरकार बनाने पर विचार कर सकते हैं ऐसा शिवसेना का स्टेटमेंट था और समय-समय पर यह सब खिचड़ी पकती रहती है लेकिन पीएम मोदी जो है अभी तक शांत बैठे हैं अमित शाह बिल्कुल शांत बैठे हैं उन्होंने कोई भी स्टेटमेंट नहीं दिया शिवसेना ने अभी तक कितना ही बोला है कितनी उनके प्रवक्ता ने चाहे कितना भी स्टेटमेंट दिए हो सेंड खुलासे किए लेकिन अभी तक पीएम मोदी और अमित शाह ने कोई किसी भी तरह का स्टेटमेंट नहीं दिया है अब जब शिवसेना को देख लेते हैं कि शिवसेना पूरा हाथ पांव मार ले और जब थक जाएगी और सरकार नहीं बना पाएगी तब जाकर वह बीजेपी के साथ जो जनता का मेन गेट है उसको वह मान देगी सम्मान दे इसलिए वह समय की राह देख रहे इस बीच अगर वह सरकार बनाते हैं तो कार्य को बहुत दिखता नहीं है लेकिन इस तरह का बोलना कि पीएम से मिलने पर क्या खिचड़ी बन सकती है या नहीं पीएम से मिलने के बाद ही क्या कुछ हो सकता है यह भावार्थ इसका निकाला जा सकता है लेकिन अभी भी वह अपरिपक्व स्टेटमेंट सब उनकी तरफ से आ रहे हैं और ऐसा शिवसेना को एक जिम्मेदार पार्टी होने के नाते इस तरफ से स्टेटमेंट नहीं देना चाहिए ऐसी सोच है क्योंकि प्रादेशिक पार्टी है शिवसेना नेशनल लेवल की पार्टी नहीं है बीजेपी जरूरत पड़ती है इसलिए इस तरह के स्टेटमेंट देख कर वह खुद ही प्रजा की नजरों में अभी तक जो काम किया है प्रजा के नजरों में तो गिरे और ऐसे स्टेशन लेकर और भी अपना स्तर गिरा रहे हैं और ऐसे स्टेशन से शिवसेना को बचना चाहिए धन्यवाद

itna boli pm se milne par kya khichdi pakti hai aapki kya rai sena ke jo sakta hai sanjay raut sanjay rawat ji samay samay par kuch na kuch bolte hi rehte hain aur dhyan aakarshit karte hain apne kisano ke dwara us din vaah aspatal mein apni treatment karva rahe the aise hi aspatal se bahar aate hi unhone interview dene shuru kar diye patrakaron ko aur filhal jo halat hai maharashtra mein toh teenon paksh shivsena ncp aur congress milkar sarkar banaane ka unhone elaan kiya tha ki hum bana rahe hain common minimum program par sahmati ban gayi hai bakara bakara bahut saare statement di phir baad mein sharad power ji milne gaye sonia gandhi delhi aur sonia gandhi se milkar jab bahar hai toh unhone dusri baat kahi sarkar banaane ki koi baat hi nahi hui hai aisa unhone ab saamne aa raha hai ki in city ka dhai saal chief minister rahega aur shivsena ka dhai saal chief minister rahega is tarah ki aam sahmati ban rahi hai aur congress ka speaker rahega isse matlab chidi tu wahan tak rahi hai aur shivsena ne ek statement par diya hai ki agar bjp jo hai nda se nikalne waali kaun hoti hai indian ka gathan hua tha toh hum sab ne milkar india banaya tha aur phir se agar vaah formulae par vichar karen toh hum phir se sarkar banaane par vichar kar sakte hain aisa shivsena ka statement tha aur samay samay par yah sab khichdi pakti rehti hai lekin pm modi jo hai abhi tak shaant baithe hain amit shah bilkul shaant baithe hain unhone koi bhi statement nahi diya shivsena ne abhi tak kitna hi bola hai kitni unke pravakta ne chahen kitna bhi statement diye ho send khulase kiye lekin abhi tak pm modi aur amit shah ne koi kisi bhi tarah ka statement nahi diya hai ab jab shivsena ko dekh lete hain ki shivsena pura hath paav maar le aur jab thak jayegi aur sarkar nahi bana payegi tab jaakar vaah bjp ke saath jo janta ka main gate hai usko vaah maan degi sammaan de isliye vaah samay ki raah dekh rahe is beech agar vaah sarkar banate hain toh karya ko bahut dikhta nahi hai lekin is tarah ka bolna ki pm se milne par kya khichdi ban sakti hai ya nahi pm se milne ke baad hi kya kuch ho sakta hai yah bhaavaarth iska nikaala ja sakta hai lekin abhi bhi vaah aparipakwa statement sab unki taraf se aa rahe hain aur aisa shivsena ko ek zimmedar party hone ke naate is taraf se statement nahi dena chahiye aisi soch hai kyonki pradeshik party hai shivsena national level ki party nahi hai bjp zaroorat padti hai isliye is tarah ke statement dekh kar vaah khud hi praja ki najaron mein abhi tak jo kaam kiya hai praja ke najaron mein toh gire aur aise station lekar aur bhi apna sthar gira rahe hain aur aise station se shivsena ko bachana chahiye dhanyavad

इतना बोली पीएम से मिलने पर क्या खिचड़ी पकती है आपकी क्या राय सेना के जो सकता है संजय राऊत

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  1111
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kuldeep

Educator

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यहां पर बोला है किसी से ना बोले पीएम से मिलने से क्या खिचड़ी पकती है तो मैं बता दूं कि देखो खिचड़ी तो कहती है कि मिलने से मिलने को चीन से मिलने से क्या होता है मैं भी इसी से ना जाने उनका हाल जाने खिचड़ी वह पकड़ लेंगे और राजनीति के अपने हिसाब से काम करेंगे क्योंकि पॉलिटिकल चीजें ऐसी है उसको बयानबाजी करते हैं तो घर पर किसी भी काम को डाटा फ्री है कि मैं किसी विशेष बुलेटिन पार्टी को वोट नहीं करना चाहता हूं मेरा मर जाना ही पड़ेगा ना अफीम से मिलना है यहां पर वेरी वेरी इंपॉर्टेंट बाकी आप अपने हिसाब से

yahan par bola hai kisi se na bole pm se milne se kya khichdi pakti hai toh main bata doon ki dekho khichdi toh kehti hai ki milne se milne ko china se milne se kya hota hai main bhi isi se na jaane unka haal jaane khichdi vaah pakad lenge aur raajneeti ke apne hisab se kaam karenge kyonki political cheezen aisi hai usko bayanbazi karte hain toh ghar par kisi bhi kaam ko data free hai ki main kisi vishesh buletin party ko vote nahi karna chahta hoon mera mar jana hi padega na afeem se milna hai yahan par very very important baki aap apne hisab se

यहां पर बोला है किसी से ना बोले पीएम से मिलने से क्या खिचड़ी पकती है तो मैं बता दूं कि देख

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामधन मोदी हाल हाल में चाहेंगे कि महाराष्ट्र में एक मजबूत सरकार बने जो पूरे 5 साल तक बिना किसी मजबूरी का चल सके इसलिए वह एनसीपी से सहयोग मांगने की कोशिश कर रहे हैं दूसरी बात है शिवसेना और कांग्रेस की सरकार बनाएं उनकी मंशा है कि सरकार बीच में ना टूटे और पूरी 5 साल तक चले लेकिन ऐसी संभावना देखने को नहीं मिली ऐसी संभावना है खासकर 5 साल खिचड़ी सरकार 5 साल की सरकार बने और पूरे 5 साल तक वह महाराष्ट्र में एक स्थाई सरकार दे सके और एनसीपी को भी इससे फायदा है क्योंकि एनसीपी को केंद्र में मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है इसका प्रस्ताव भी कहीं ना कहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने दिए होंगे धन्यवाद

ramadhan modi haal haal mein chahenge ki maharashtra mein ek mazboot sarkar bane jo poore 5 saal tak bina kisi majburi ka chal sake isliye vaah ncp se sahyog mangne ki koshish kar rahe hain dusri baat hai shivsena aur congress ki sarkar banaye unki mansha hai ki sarkar beech mein na tute aur puri 5 saal tak chale lekin aisi sambhavna dekhne ko nahi mili aisi sambhavna hai khaskar 5 saal khichdi sarkar 5 saal ki sarkar bane aur poore 5 saal tak vaah maharashtra mein ek sthai sarkar de sake aur ncp ko bhi isse fayda hai kyonki ncp ko kendra mein mantrimandal mein shaamil kiya ja sakta hai iska prastaav bhi kahin na kahin pm narendra modi ne diye honge dhanyavad

रामधन मोदी हाल हाल में चाहेंगे कि महाराष्ट्र में एक मजबूत सरकार बने जो पूरे 5 साल तक बिना

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतना तो कोई भी प्रधानमंत्री विकास नहीं होता कि वह खिचड़ी पका रहे हां आपको मुझे मिलने जाते हैं आपका टाइम देकर फिक्स होता है कि आपने इसे बजे जाना है अभी से बजे आपको वापस तो उसने आप अपने प्रदेश की बातें रख सकते हैं किसको क्या कष्ट है वह बातें आप कर सकते हैं इसके अलावा कुलदीपक सकती है वह मैं नहीं जानती

itna toh koi bhi pradhanmantri vikas nahi hota ki vaah khichdi paka rahe haan aapko mujhe milne jaate hain aapka time dekar fix hota hai ki aapne ise baje jana hai abhi se baje aapko wapas toh usne aap apne pradesh ki batein rakh sakte hain kisko kya kasht hai vaah batein aap kar sakte hain iske alava kuldipak sakti hai vaah main nahi jaanti

इतना तो कोई भी प्रधानमंत्री विकास नहीं होता कि वह खिचड़ी पका रहे हां आपको मुझे मिलने जाते

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!