गांधी जी ने शिक्षा प्राप्त कहाँ की?...


user

Amit Kumar

Career counselor

4:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं हूं आप को बुखार फेसबुक पर आपका सवाल है गांधी जी ने शिक्षा कहां से प्राप्त गांधी जी ने बचपन में शिक्षा गांधीजी को प्रबंधन के प्राथमिक स्कूल में प्रवेश प्रश्न सबकी अजब गांधी जी की आयु 7 वर्ष की थी तो अपने माता-पिता के साथ राजकोट हाई स्कूल में प्रवेश हो गए और यही तो उन्होंने 2887 में मैट्रिक की परीक्षा पास की 13 वर्ष की आयु में उनका विवाह प्रबंधन के एक व्यापारी गोलकनाथ मानक जी की पुत्री कस्तूरबा बाई से हो गई एक शांत व स्थिर स्वभाव की लड़की थी उनके स्वभाव से गांधी जी को अत्यधिक प्रभावित किया अपने वैवाहिक जीवन के पश्चात भी गांधीजी ने पढ़ाई जारी रखी अपनी स्कूल समय के दौरान गांधीजी ना तो पढ़ाई में ही प्रथम थे और ना ही खेल में 1 वर्ष में वे परीक्षा में फेल हुए लेकिन अगले वर्ष एक साथ दोपहर कक्षाएं पास करके अपने साथियों के साथ पढ़ने लगे मैट्रिक की परीक्षा पास करने के बाद जरूर भावनगर कॉलेज में प्रवेश लिया तो वहां पर अंग्रेजी पढ़ना पढ़ना उन्हें अच्छा नहीं लगता था इसलिए उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और क़ानून की शिक्षा प्राप्त करने के लिए इंग्लैंड चले गए और वहां 888 से 8891 तक रहे वहां पर कानून की शिक्षा प्राप्त करने के बड़े 4G स्वामी नामक एक जैन मुनि ने उनकी पूरी मदद की इस मुनि के प्रभाव से गांधीजी के जीवन में कभी शराब मांस और औरत को न छूने की प्रतिज्ञा की विदेश में पढ़ाई के दौरान गांधीजी को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा वहां पर उन्हें उनकी बहुत याद सताती थी वहां पर साहब टाटा ही रहने का ही रहना बड़ा मुश्किल काम था इसलिए कुछ समय के लिए गांधीजी विदेश में जंग के रंग रंग में रंग गए लेकिन जल्दी ही उनकी आत्मा की आवाज में उनको गलती का एहसास दिलाया और वह सामान्य जीवन जीने लगे और 4991 कि मेरी स्त्री की परीक्षा पास करके भाग जोड़ दें बाबा की वकालत करनी शुरू की लेकिन उन्हें भारतीय कानून और अदालतों का ज्ञान नहीं था इसलिए उसकी वकालत ना चली इसके बाद वे अपने मित्रों के ऊपर सुझाव पर कानून का अध्ययन करने मुंबई चले गए वहां भी वह इस देश में असफल रहे और वापिस राजकोट आए वहां आने पर गांधीजी को दक्षिण अफ्रीका में दादा अब्दुल्लाह एंड कंपनी की तरफ से एक-एक मुखजी की पैरवी करने का अवसर प्राप्त हुआ गांधी जी ने इस अवसर का पूरा लाभ उठाया और 1893 में अफ्रीका चले गए 8793 में उन्होंने जर्मन जाकर मुखड़ा औरत की गांधीजी वहां केवल 1 वर्ष के लिए गए थे लेकिन वहां पर गोरी शासन की नीति को समाप्त कराने के लिए 20 वर्ष तक रहे गांधी जी ने वहां पर रंगभेद की नीति एनी पॉलिसी ऑफ अप आउटलेट के खिलाफ सत्याग्रह आंदोलन चलाया वह कई बार जेल भी गये वहां पर उनके मालिक राजनीति राजनीतिक दर्शन का निर्माण का निर्माण हुआ जिसे उन्होंने सत्याग्रह का नाम दिया गांधी जी ने अफ्रीका में सरकार भारतीय भारतीयों को मताधिकार से वंचित करने पर वह करने वाले नेता विधानसभा दिल को भी रद्द करवाया दक्षिण अफ्रीका में रहकर गांधी जी ने भारतीयों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध आवाज उठाई और उन्होंने समान सम्मान द का दर्जा दिलाया जब गांधीजी आश्वस्त हो गए कि अफ्रीका में भारतीय का जीवन सुरक्षित सुबह वापस चले जाना चल पड़े और 9 जनवरी 1915 को मुंबई पहुंचे वहीं 1915 में भारत का आकर गांधी जी ने राष्ट्रीय स्वतंत्रा संग्राम की बागडोर संभाली भारत में गांधी जी को भारतीय स्वतंत्र संग्राम कबीर कहां गया गांधी जी ने समाज सुधार पर लिखना और बोलना आरंभ कर दिया उन्होंने भारतीय भारत की राजनीतिक समस्याओं पर चुप्पी साधे रखी इसके दो कारण थे एक तो गोखले मैं उसके यह वचन ले लिया था कि वह 1 साल तक भारत की राजनीतिक परिस्थिति पर अपनी राय जाहिर नहीं करेंगे तथा दूसरे वे कुछ भी कहने से पहले देश की राजनीतिक परिस्थिति का पूरा जायजा लेना चाहते

main hoon aap ko bukhar facebook par aapka sawaal hai gandhi ji ne shiksha kaha se prapt gandhi ji ne bachpan me shiksha gandhiji ko prabandhan ke prathmik school me pravesh prashna sabki ajab gandhi ji ki aayu 7 varsh ki thi toh apne mata pita ke saath rajkot high school me pravesh ho gaye aur yahi toh unhone 2887 me metric ki pariksha paas ki 13 varsh ki aayu me unka vivah prabandhan ke ek vyapaari golaknath maanak ji ki putri kasturba bai se ho gayi ek shaant va sthir swabhav ki ladki thi unke swabhav se gandhi ji ko atyadhik prabhavit kiya apne vaivahik jeevan ke pashchat bhi gandhiji ne padhai jaari rakhi apni school samay ke dauran gandhiji na toh padhai me hi pratham the aur na hi khel me 1 varsh me ve pariksha me fail hue lekin agle varsh ek saath dopahar kakshaen paas karke apne sathiyo ke saath padhne lage metric ki pariksha paas karne ke baad zaroor bhawnagar college me pravesh liya toh wahan par angrezi padhna padhna unhe accha nahi lagta tha isliye unhone padhai chhod di aur kaanoon ki shiksha prapt karne ke liye england chale gaye aur wahan 888 se 8891 tak rahe wahan par kanoon ki shiksha prapt karne ke bade 4G swami namak ek jain muni ne unki puri madad ki is muni ke prabhav se gandhiji ke jeevan me kabhi sharab maas aur aurat ko na chune ki pratigya ki videsh me padhai ke dauran gandhiji ko kai pareshaniyo ka samana karna pada wahan par unhe unki bahut yaad satati thi wahan par saheb tata hi rehne ka hi rehna bada mushkil kaam tha isliye kuch samay ke liye gandhiji videsh me jung ke rang rang me rang gaye lekin jaldi hi unki aatma ki awaaz me unko galti ka ehsaas dilaya aur vaah samanya jeevan jeene lage aur 4991 ki meri stree ki pariksha paas karke bhag jod de baba ki vakalat karni shuru ki lekin unhe bharatiya kanoon aur adalaton ka gyaan nahi tha isliye uski vakalat na chali iske baad ve apne mitron ke upar sujhaav par kanoon ka adhyayan karne mumbai chale gaye wahan bhi vaah is desh me asafal rahe aur vaapas rajkot aaye wahan aane par gandhiji ko dakshin africa me dada Abdullah and company ki taraf se ek ek mukhji ki pairavi karne ka avsar prapt hua gandhi ji ne is avsar ka pura labh uthaya aur 1893 me africa chale gaye 8793 me unhone german jaakar mukhda aurat ki gandhiji wahan keval 1 varsh ke liye gaye the lekin wahan par gori shasan ki niti ko samapt karane ke liye 20 varsh tak rahe gandhi ji ne wahan par rangbhed ki niti any policy of up outlet ke khilaf satyagrah andolan chalaya vaah kai baar jail bhi gaye wahan par unke malik raajneeti raajnitik darshan ka nirmaan ka nirmaan hua jise unhone satyagrah ka naam diya gandhi ji ne africa me sarkar bharatiya bharatiyon ko matadhikar se vanchit karne par vaah karne waale neta vidhan sabha dil ko bhi radd karvaya dakshin africa me rahkar gandhi ji ne bharatiyon par ho rahe atyachar ke viruddh awaaz uthayi aur unhone saman sammaan the ka darja dilaya jab gandhiji aashvast ho gaye ki africa me bharatiya ka jeevan surakshit subah wapas chale jana chal pade aur 9 january 1915 ko mumbai pahuche wahi 1915 me bharat ka aakar gandhi ji ne rashtriya swatantra sangram ki baghdor sambhali bharat me gandhi ji ko bharatiya swatantra sangram kabir kaha gaya gandhi ji ne samaj sudhaar par likhna aur bolna aarambh kar diya unhone bharatiya bharat ki raajnitik samasyaon par chuppi saadhe rakhi iske do karan the ek toh gokhale main uske yah vachan le liya tha ki vaah 1 saal tak bharat ki raajnitik paristhiti par apni rai jaahir nahi karenge tatha dusre ve kuch bhi kehne se pehle desh ki raajnitik paristhiti ka pura jayja lena chahte

मैं हूं आप को बुखार फेसबुक पर आपका सवाल है गांधी जी ने शिक्षा कहां से प्राप्त गांधी जी ने

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  1788
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!