बढ़ते प्रदूषण का क्या क्या कारण हो सकता है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रति प्रदूषण का एक मुख्य कारण मानव का स्वार्थ भारतीय लोग लोग लालच स्वार्थी संसार को क्या दें भारतीय लोग जंगल के जंगल का क्या रेट लगाते नहीं है पत्थरों को काट रहे हैं पत्थरों के लिए मिट्टी के टीलों को डाला है दिन-रात बीए संचार के साधन जो का ट्रक बस हवाई जहाज ट्रेन आदि चल रही है सिवाय प्रदूषण फैला है बनी प्रदूषण कराएं लोग घरों में बहुत तेज आवाज में लाउडस्पीकर बजाते हैं वास्तव में चलते हुए मोबाइल पर बात करते हुए कार्पस और मोर साइकिल आदि चलाते हैं यह सब भी एक बहुत तुझ संग के बढ़ने का कारण है इन सब को रोका जाना चाहिए जब तक जब पास आप नहीं देगी जनता से मानसिकता नहीं बनाएगी प्रदूषण मुक्त भारत अब तक भारत का प्रदूषण मुक्त होना बहुत मुश्किल है क्योंकि भारतीय जनता स्वाति अधिक है लालची अधिक है इसलिए यह सब प्रदूषण व उनकी मानसिकता के कारण बढ़ रहा है अबे से गंगा माता के तेज जमुना माता कहते हैं लेकिन उसी गंगा माता में यह खाते हैं पिकनिक मनाने जाते हैं और वहीं गंदगी को तुम्हें माता में फेंक देते हैं और मजबूत विसर्जन नहीं करते हैं उसी गंगा माता जमुना माता में यह सारी धरती गंदे पानी को डाल रहे हैं कल कारखानों की गंदे रासायनिक पानी को डाल रहे हैं तो दूसरी बढ़ा रहे हैं भारतीयों का लालच कब नहीं होगा स्वार्थ कम नहीं होगा शिक्षा जाग रही होगी अब तक भारत का प्रदूषण मुक्त होना अत्यंत कठिन है

prati pradushan ka ek mukhya karan manav ka swarth bharatiya log log lalach swaarthi sansar ko kya de bharatiya log jungle ke jungle ka kya rate lagate nahi hai pattharon ko kaat rahe hain pattharon ke liye mitti ke tilon ko dala hai din raat BA sanchar ke sadhan jo ka truck bus hawai jahaj train aadi chal rahi hai shivaay pradushan faila hai bani pradushan karaye log gharon me bahut tez awaaz me loudspeaker bajaate hain vaastav me chalte hue mobile par baat karte hue karpas aur mor cycle aadi chalte hain yah sab bhi ek bahut tujhe sang ke badhne ka karan hai in sab ko roka jana chahiye jab tak jab paas aap nahi degi janta se mansikta nahi banayegi pradushan mukt bharat ab tak bharat ka pradushan mukt hona bahut mushkil hai kyonki bharatiya janta swati adhik hai lalchi adhik hai isliye yah sab pradushan va unki mansikta ke karan badh raha hai abe se ganga mata ke tez jamuna mata kehte hain lekin usi ganga mata me yah khate hain picnic manane jaate hain aur wahi gandagi ko tumhe mata me fenk dete hain aur majboot visarjan nahi karte hain usi ganga mata jamuna mata me yah saari dharti gande paani ko daal rahe hain kal karkhanon ki gande Rasayanik paani ko daal rahe hain toh dusri badha rahe hain bharatiyon ka lalach kab nahi hoga swarth kam nahi hoga shiksha jag rahi hogi ab tak bharat ka pradushan mukt hona atyant kathin hai

प्रति प्रदूषण का एक मुख्य कारण मानव का स्वार्थ भारतीय लोग लोग लालच स्वार्थी संसार को क्या

Romanized Version
Likes  348  Dislikes    views  4805
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:54
Play

Likes  78  Dislikes    views  2378
WhatsApp_icon
user

.

Mai IAS Exam Ki Taiyari Kar Raha Hu.Aour Main Chahta Hu Ki Main Logo KO Sabhi Type Ke Questions Ka Answer De Saku.I AM A Student In Bsc Agriculture...

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धोनी चालित वाहनों और पर्यावरण का कारण है और अंधाधुंध पेड़ों की कटाई भी पर्यावरण प्रदूषण के कारण है

dhoni chalit vahanon aur paryavaran ka karan hai aur andhadhundh pedon ki katai bhi paryavaran pradushan ke karan hai

धोनी चालित वाहनों और पर्यावरण का कारण है और अंधाधुंध पेड़ों की कटाई भी पर्यावरण प्रदूषण के

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Gupta family

logo Ki Madat Karna

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बढ़ते प्रदूषण का जो कारण है वह मानव एवं आज के स्माल किए जाने वाले कारखानों मशीनों गाड़ी से निकलने वाले वह इन सभी कारणों से जो है तो बढ़ते जिलों में प्रदूषित होता जा रहा है कुछ ऐसा समय आएगा जो कि पर्यावरण नष्ट होने की कगार पर हो जाएगा

badhte pradushan ka jo karan hai vaah manav evam aaj ke small kiye jaane waale karkhanon machino gaadi se nikalne waale vaah in sabhi karanon se jo hai toh badhte jilon mein pradushit hota ja raha hai kuch aisa samay aayega jo ki paryavaran nasht hone ki kagar par ho jaega

बढ़ते प्रदूषण का जो कारण है वह मानव एवं आज के स्माल किए जाने वाले कारखानों मशीनों गाड़ी से

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  54
WhatsApp_icon
user
0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बढ़ते प्रदूषण के बहुत सारे कारण हो सकते हैं जैसे कि अंधाधुन पेड़ों की कटाई खराब करके रखी से निकलती धुआं गाड़ियों से निकलते धुंए इतनी सारी गाड़ियां जो रोड पर चलती है जिसके कारण

badhte pradushan ke bahut saare karan ho sakte hain jaise ki andhadhun pedon ki katai kharab karke rakhi se nikalti dhuan gadiyon se nikalte dhuen itni saree gadiyan jo road par chalti hai jiske karan

बढ़ते प्रदूषण के बहुत सारे कारण हो सकते हैं जैसे कि अंधाधुन पेड़ों की कटाई खराब करके रखी स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!