भूस्खलन क्या है, इसे रोकने के लिए उपाय बताइए?...


user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गूगल क्या है जिसे रोकने के लिए जाते हैं कि आंकड़ों के देखते हैं जब उनके साथ मिट्टी कट करके जारी पाने की शक्ति भी कट करके बाहर आ जाती है मेहंदी का कट करके पानी के साथ रहना ही गुस्सा आता है और जैसे पेड़ों की कटाई होती जा रही है और पेड़ पौधे मिट्टी से दूर होते जा रहे हैं तो क्या होती है तो उसे पेड़ होते होते हैं या नहीं होगे तुम क्या कटाक में सबसे पहले इसे रोकने का तरीका खिचड़ी जमीन तक जाती और आसानी से मिट्टी को पकड़ लेती है जिससे

google kya hai jise rokne ke liye jaate hain ki aankado ke dekhte hain jab unke saath mitti cut karke jaari paane ki shakti bhi cut karke bahar aa jaati hai mehendi ka cut karke paani ke saath rehna hi gussa aata hai aur jaise pedon ki katai hoti ja rahi hai aur ped paudhe mitti se dur hote ja rahe hain toh kya hoti hai toh use ped hote hote hain ya nahi hoge tum kya katak me sabse pehle ise rokne ka tarika khichdi jameen tak jaati aur aasani se mitti ko pakad leti hai jisse

गूगल क्या है जिसे रोकने के लिए जाते हैं कि आंकड़ों के देखते हैं जब उनके साथ मिट्टी कट करके

Romanized Version
Likes  266  Dislikes    views  1845
WhatsApp_icon
16 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है भूस्खलन क्या है इसे रोकने के उपाय बताइए जी हां भूस्खलन भूमि के कटाव को कहते हैं जब भूमि अर्थात मिट्टी विभिन्न प्राकृतिक व मानवीय कारणों से कटाव करती है अपना स्थान छोड़ती है वह भूस्खलन व जिसको रोकने का उपाय वृक्षारोपण है साथ ही जहां पर पानी के बहाव की समस्या है वहां पर सीढ़ीदार खेती पानी के बहाव को कम करना बरसात का पानी अपने साथ भूमि को तेजी से ले जाता है और यदि इस भूमि पर वनस्पति है वृक्ष है तो उसकी जड़ें भूमि को कटनी से रोकती यदि नहीं रोक पाती हैं तो कटाव की मात्रा अवश्य कम कर देती है धन्यवाद

aapka sawaal hai bhuskhalan kya hai ise rokne ke upay bataiye ji haan bhuskhalan bhoomi ke kataav ko kehte hain jab bhoomi arthat mitti vibhinn prakirtik va manviya karanon se kataav karti hai apna sthan chhodatee hai vaah bhuskhalan va jisko rokne ka upay vriksharopan hai saath hi jaha par paani ke bahav ki samasya hai wahan par sidhidaar kheti paani ke bahav ko kam karna barsat ka paani apne saath bhoomi ko teji se le jata hai aur yadi is bhoomi par vanaspati hai vriksh hai toh uski jaden bhoomi ko katni se rokti yadi nahi rok pati hain toh kataav ki matra avashya kam kar deti hai dhanyavad

आपका सवाल है भूस्खलन क्या है इसे रोकने के उपाय बताइए जी हां भूस्खलन भूमि के कटाव को कहते ह

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1215
WhatsApp_icon
user

sikh boy

Student

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आज का सवाल आपका है बहुत संकलन क्या है इसे रोकने के लिए क्या उपाय तो मैं आपको बताना चाहूंगा मुंह संकलन एक ऐसा है कि यह प्राकृतिक नियम अनुसार हमारा बाल आना भारी वर्षा होना भूकंप आना यानी कि कोई भी आपदा जो प्राकृतिक की देन है वह घटित होना एक भू संकलन कहलाता है इसे रोकने के लिए उपाय तो बहुत करने की कोशिश करते हैं लेकिन उपाय नहीं हो पाता क्योंकि हमारा जो अपने हित की बातें होती हैं उस पर तो हम रोक लगा सकते हैं लेकिन प्राकृत नियमों पर हम कोई भी लोकिया अंकुश नहीं लगा सकते क्योंकि आप सभी जानते हैं क्योंकि प्राकृतिक की जो देन है वह अपने अनुसार ही है क्योंकि प्राकृतिक देन किसी के नियमानुसार नहीं चलती क्योंकि वह ऊपर वाले की देन होती है जो वह चाहेगा वही होगा तो हम तो एक प्राणी है जीवित प्राणी है अपनी तरफ से अलग अलग टाइप की कोशिश कर सकते हैं हम ज्यादातर ऐसा कर सकते हैं कि हमारे यहां पर बाढ़ ना आए भूकंप ना आए और भारी बरसाना पड़े इस पर हम रोक नहीं लगा सकते तो क्यों नहीं लगा सकते क्योंकि यह एक प्राकृतिक देना धन्यवाद

namaskar aaj ka sawaal aapka hai bahut sankalan kya hai ise rokne ke liye kya upay toh main aapko batana chahunga mooh sankalan ek aisa hai ki yah prakirtik niyam anusaar hamara baal aana bhari varsha hona bhukamp aana yani ki koi bhi aapda jo prakirtik ki then hai vaah ghatit hona ek bhu sankalan kehlata hai ise rokne ke liye upay toh bahut karne ki koshish karte hain lekin upay nahi ho pata kyonki hamara jo apne hit ki batein hoti hain us par toh hum rok laga sakte hain lekin prakrit niyamon par hum koi bhi lokiya ankush nahi laga sakte kyonki aap sabhi jante hain kyonki prakirtik ki jo then hai vaah apne anusaar hi hai kyonki prakirtik then kisi ke niyamanusar nahi chalti kyonki vaah upar waale ki then hoti hai jo vaah chahega wahi hoga toh hum toh ek prani hai jeevit prani hai apni taraf se alag alag type ki koshish kar sakte hain hum jyadatar aisa kar sakte hain ki hamare yahan par baadh na aaye bhukamp na aaye aur bhari barsana pade is par hum rok nahi laga sakte toh kyon nahi laga sakte kyonki yah ek prakirtik dena dhanyavad

नमस्कार आज का सवाल आपका है बहुत संकलन क्या है इसे रोकने के लिए क्या उपाय तो मैं आपको बताना

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

Shivdesh

Student

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है उस खनन क्या है इसे रोकने के लिए उपाय बताइए लेकिन भूस्खलन भूस्खलन का मतलब मैं भूखा मतलब कितना या टूट ला सकती है टूटती है इससे कहीं पर भी संभावना ज्यादा तक पहाड़ी क्षेत्र में ज्यादा रहती है तो इससे बहुत तबाही आती है यह पिक प्राकृतिक आपदा है और इसे रोकने के लिए हमें सबसे पहले की प्रकृति से छेड़छाड़ नहीं करना चाहिए और यह सब प्रकृति के छेड़छाड़ के ही नतीजे हैं किधर से बाहर आना सूखा है भूस्खलन है यह सभी देखा जाए तो मानव का बहुत बड़ा हाथ है तुझे रोकने का सबसे ज्यादा नाचे की प्रकृति से छेड़छाड़ ना करें तो बेहतर होगा तो ऐसी समस्याओं से निजात पाई जा सकती है

aapka sawaal hai us khanan kya hai ise rokne ke liye upay bataiye lekin bhuskhalan bhuskhalan ka matlab main bhukha matlab kitna ya toot la sakti hai tootati hai isse kahin par bhi sambhavna zyada tak pahadi kshetra me zyada rehti hai toh isse bahut tabaahi aati hai yah pic prakirtik aapda hai aur ise rokne ke liye hamein sabse pehle ki prakriti se chedchad nahi karna chahiye aur yah sab prakriti ke chedchad ke hi natije hain kidhar se bahar aana sukha hai bhuskhalan hai yah sabhi dekha jaaye toh manav ka bahut bada hath hai tujhe rokne ka sabse zyada nache ki prakriti se chedchad na kare toh behtar hoga toh aisi samasyaon se nijat payi ja sakti hai

आपका सवाल है उस खनन क्या है इसे रोकने के लिए उपाय बताइए लेकिन भूस्खलन भूस्खलन का मतलब मैं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Ranjan Raj

Student

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पर्वतीय भागों से भूकंप बाढ़ शादी के कारणों से चट्टान का टूटकर मिट्टी कंकड़ पत्थर और मध्य में के साथ नीचे बाहर जाना है इसका ना ही हम उस कलर कहलाती है इसमें हमें जान माल का बहुत ही नुकसान होता है भूस्खलन के बचाव के उपाय अधिक बोस्टन के चित्रों वाले सड़क बांध से निर्माण कहां पर प्रतिबंध होना चाहिए कम ढलान वाले क्षेत्रों में एक निजी कार्य तथा पशुपालन की अनुमति देना चाहिए किसी भी परियोजना पर नियंत्रण होना चाहिए इसमें बंद रोपण का कार्य भी करना चाहिए क्योंकि पैरों की जड़ी मिट्टी को बांधकर रखती है और जमीन के कटाव को रूकती है जल के बहाव की गति को कम करने के लिए जल माह में बांध का निर्माण किस प्रकार किया जाना चाहिए कि जल के बहाव को नियंत्रित किया जा सके इसमें से विधान सीढ़ीदार खेती का निर्माण करना

parvatiya bhaagon se bhukamp baadh shaadi ke karanon se chattan ka tutkar mitti kankad patthar aur madhya me ke saath niche bahar jana hai iska na hi hum us color kahalati hai isme hamein jaan maal ka bahut hi nuksan hota hai bhuskhalan ke bachav ke upay adhik boston ke chitron waale sadak bandh se nirmaan kaha par pratibandh hona chahiye kam dhalan waale kshetro me ek niji karya tatha pashupalan ki anumati dena chahiye kisi bhi pariyojana par niyantran hona chahiye isme band ropan ka karya bhi karna chahiye kyonki pairon ki jadi mitti ko bandhkar rakhti hai aur jameen ke kataav ko rukti hai jal ke bahav ki gati ko kam karne ke liye jal mah me bandh ka nirmaan kis prakar kiya jana chahiye ki jal ke bahav ko niyantrit kiya ja sake isme se vidhan sidhidaar kheti ka nirmaan karna

पर्वतीय भागों से भूकंप बाढ़ शादी के कारणों से चट्टान का टूटकर मिट्टी कंकड़ पत्थर और मध्य म

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन का अर्थ होता है भूमि का स्थान होना यानी भूमि का टूटना टूटना या भूमिका इधर से उधर बजाना मिट्टी का इधर से उधर जाना ही स्थान कहलाता है रोकने का उपाय हैं

bhuskhalan ka arth hota hai bhoomi ka sthan hona yani bhoomi ka tutana tutana ya bhumika idhar se udhar bajana mitti ka idhar se udhar jana hi sthan kehlata hai rokne ka upay hain

भूस्खलन का अर्थ होता है भूमि का स्थान होना यानी भूमि का टूटना टूटना या भूमिका इधर से उधर ब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

utkarsh

Student

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन क्या है इसके रोकने के लिए उपाय बताइए उसका अर्थ होता जमीन का धड़कना जमीन का मतलब भूकंप भूकंप आने में क्या क्या शामिल है के संबंध पृथ्वी की संरचना से है पृथ्वी से लगभग एक 100 किलोमीटर अंदर का भाग बहुत नियत है इसे भूपेश कहते हैं पृथ्वी से 200 किलोमीटर अंदर की भाग बहुत नादान है वह निर्माण मेटल कहलाता है नीचे पाए जाने वाली खनिज पदार्थ बहुत गर्म अवस्था में रहने के कारण बहुत बहुत गर्म धारों में बैठी रहती है तो भूस्खलन का क्या अर्थ और उसका वाक्य है इससे बचने के लिए हम को कोई इसके इसको इंग्लिश में शौच करते भूकंप को और भूकंप को नापने के लिए किस स्केल का मजाक ले आया था उस स्कूल का नाम है रिक्शा रिक्शा मशीन स्केच अरेस्टेड बाय गुड मॉर्निंग फॉर एवरी ऑल ऑफ यू थैंक यू

bhuskhalan kya hai iske rokne ke liye upay bataiye uska arth hota jameen ka dhadakana jameen ka matlab bhukamp bhukamp aane me kya kya shaamil hai ke sambandh prithvi ki sanrachna se hai prithvi se lagbhag ek 100 kilometre andar ka bhag bahut niyat hai ise bhupesh kehte hain prithvi se 200 kilometre andar ki bhag bahut nadan hai vaah nirmaan metal kehlata hai niche paye jaane wali khanij padarth bahut garam avastha me rehne ke karan bahut bahut garam dharon me baithi rehti hai toh bhuskhalan ka kya arth aur uska vakya hai isse bachne ke liye hum ko koi iske isko english me sauch karte bhukamp ko aur bhukamp ko napne ke liye kis scale ka mazak le aaya tha us school ka naam hai riksha riksha machine Sketch arrested bye good morning for every all of you thank you

भूस्खलन क्या है इसके रोकने के लिए उपाय बताइए उसका अर्थ होता जमीन का धड़कना जमीन का मतलब भू

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user
10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन इसका अंग्रेजी में जो है लैंडस्लाइड नाम दिया जाता है यह अधिकतर पर्वतीय भागों में होता है और होने का मुख्य कारण क्या है कि वर्षा के भी बहुत जोरदार वर्षा होती है तो अक्सर हैं पर्वतीय भागों में भूस्खलन या कहें कि लैंडस्लाइड होती है इसकी समाचारों में भी रिपोर्ट होते रहता है इसमें होता क्या है कि बड़े-बड़े शिलाखंड की शक्कर नीचे आ जाते हैं मैदानी भागों में मिट्टी की परत कटने लगती है जल धाराओं के कारण अनेक गहरी नालियां बन जाती है जिससे जिससे भूमि उबड़ खाबड़ हो जाती है इससे भूमि कृषि के अयोग हो जाती है ऐसे नालियों को अवनालिका भी करते हैं लेकिन आप का सवाल है कि भूस्खलन क्या है तो बस खनन होता क्या है कि पृथ्वी पर अनेक गतिशील प्रक्रिया है कार्य करती रहती है हिंदी शक्तियों के कार्य को हम अपरदन कहते हैं अपरदन अंग्रेजी में इसको रोशन करते हैं और अपरदन के जो दूध हैं वह कौन-कौन है हम बता देते हैं आपको नदी हो गया हिमनद पवन ऑन मत एमवाई समुद्री लहरें आदि अपरदन के प्रमुख दूध है यह दूध अपरदन के बाद अवसादो का परिवहन तथा अन्य जगहों में निक्षेप भी करते हैं अब अपरदन के लिए परिवहन कार्य अत्यधिक महत्वपूर्ण है परिवहन में परिवहन के क्रम में चट्टानों के टुकड़े काली तथा किनारे की चट्टानों को घिस घिसकर तोड़ तोड़ देती है या और कौन क्या करता है पवन मतलब हवा यह अपने साथ उड़ाने वाले बालू के कणों को उड़ा देता है और यह कौन सामने की पहाड़िया टीले को पीसकर या फिर तोड़ कर नष्ट कर देता आता परिवहन ना होने पर न तो तोड़फोड़ की क्रिया हो सकती है और ना नीचे आता अपरदन में आप घर्षण परिवहन और नीचे प्रतिक्रियाएं होती है हम जानते हैं कि जब वर्षा होती है तो उसका कुछ भाग भूमि में समा जाता है जवाब कुछ भाग भाग बनकर हवा में मिल जाता है और अधिकांश जल छोटी-छोटी धाराओं में बहते हुए नदियों का निर्माण करते हैं और यह नदियां समुद्र में जहां मिलती हैं वर्षा का यह जादू नदियों के रूप में अनेक प्रकार के अपरदन करता है जैसा कि मैंने आपको पहले बताया कि पर्वतीय भागों में अधिक वर्षा से भूस्खलन होता है इससे सबसे बड़े बड़े शिलाखंड खींच कर नीचे आ जाते हैं और मैदानी भाग में मिट्टी की परतें कटने लगती है अब आपका सवाल है कि इसको रोकने के लिए क्या उपाय है बहुत ही सिंपल सा उपाय है और हमें इस पर ध्यान देना ही चाहिए वह सिंपल सा उपाय यह है कि हम पर्यावरण को संतुलित और साफ-सुथरा बनाए और साफ सुथरा कैसे बना सकते हैं हमें पर्वतीय क्षेत्रों में वनों की कटाई पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा देनी चाहिए क्योंकि हम किस भौतिकता की बात कर रहे हैं जब बन ही नहीं बचेंगे जंगल है तो हम लोग जिंदा है जंगल में भी अपनी हार हार से बौखलाए होती हैं तो सारा पारिस्थितिकी तंत्र यदि बिगड़ रहा है तो हमें ध्यान देना होगा यह पेड़ की कटाई जो है सबसे मुख्य कारणों में से एक है ठीक वैसे ही जैसे की मांगों की बढ़ती हुई आबादी जो है सारी समस्याओं का जड़ बन रहा है अभी उसी प्रकार पेड़ों की कटाई जो है पर्यावरण को असंतुलन करने का सबसे मुख्य कारण है इसे जो है हमें समझना होगा कि इसका फल हमको इसी दुनिया में मिल जाएगा पेड़ों को बचाना ही भूस्खलन से रोकने का रूप में भूस्खलन को रोकने का एक उपाय है इसमें सरकार को भी बढ़-चढ़कर के ध्यान देना चाहिए और सभी बातें तो सरकार नहीं कर सकती है हम यदि पर्वतीय क्षेत्रों के निवासी हैं तो पर्वतीय क्षेत्रों में पेड़ को कटने से एकदम रोका जाए और होता क्या है कि यह जो है अपनी जड़ों में बहुत ही जोरदार ढंग से मिट्टी को पकड़ लेता है और अपरदन के दूतों जैसे बरसा हवा के आदि से जान तक बरसात मिट्टी को काटने नहीं देता है और मिट्टी के यदि ऊपरी परत निकल जाएगी तो समझिए कि उपजाऊ परत निकल कृषि योग्य नहीं रह पाती है खासकर के पहाड़ी क्षेत्रों में मिट्टी का अभाव हो जाता है तो इससे बचने का सबसे बढ़िया उपाय लगाइए आप जो है जितना पेड़ लगाइए का जितना उतना ही फायदे में रहेंगे क्योंकि उन्हें परसेंट हम लोगों को पेड़ चाहिए 19% वन की आवश्यकता है कुछ लोग तो कहते हैं कि 23% होनी चाहिए लेकिन हो नहीं रहा है इतना यह कैसे संभव होगा हमें अपने पर्यावरण की चिंता स्वयं करती होंगी हमारे दिखी गांव जो हमारे जो धार्मिक संस्कार है उसमें पेड़ को पूजा जाता है क्यों पूजा जाता है बस यही सब कारण था कि एयर जो है मानव जाति को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं एकदम प्रत्यक्ष रूप से यदि आप उनका उनका हम अभी ऑक्सीजन ले रहे हैं तो कहां से यह मिल रहा है पेड़ों के माध्यम से ही मिल रहा है और बड़े-बड़े शहरों में जाइए जहां ऑक्सीजन की भारी कमी है तो कपड़ा जनित रोग होते हो जाते हैं तो लंबी बातों का गोल मतलब यह वाक्य में पेड़ लगाना चाहिए हर हाल में और यही जो है आपको मिट्टियों के पटाओ और उन्हें बहाव से रोक सकता है अन्यथा और कोई दूसरा उपाय तो जो भी होगा वह तत्काल लीची होगा तो होगा नहीं और दीर्घकालिक उपाय करने के लिए हमें अपने जंगलों को बचाना होगा जानते हैं जंगलों में भी आहार श्रृंखला चलती है जिसमें टाइगर आहार श्रृंखला में उचित स्थान रखते हैं यह सभी बढ़िया है वह यह मिलकर के पर्यावरण को संतुलित रखती हैं और आपके सवाल में यह बात छिपी हुई है कि भूस्खलन होने का कारण पर्यावरण का असंतुलित होना और पहाड़ी क्षेत्रों में पेड़ों का खूब घटना तो यदि इस पर ध्यान दिया जाए तो भू असलम को रोका जा सकता है वह स्वयं को रोकना हमारे हाथों में है यानी मानव के हाथों में है पहाड़ी क्षेत्रों में जितने भी पहाड़ी वाले बंद है उसको वन क्षेत्र को बढ़ाया जाए काटने पर ध्यान दिया जाए जितना कौन क्षेत्र बढ़ेगा उतना ही जो है भूस्खलन में कमी आएगी और उधर का जो एरिया होगा जहां लोग रहते हैं उन्हें इस भूस्खलन से निजात मिल जाएगा वह अपने आप में वर्षा के समय में होता है रेडियो समाचारों में इस उम्मीद में कभी-कभी दिखाई पड़ता है फलाने जगह भूस्खलन हो जाता है यह साधारण प्रक्रिया में होता है तो इसे जान माल की बहुत बड़ी क्षति होती है और इसके जिम्मेवार खुद मानव ही हैं मानव नहीं अपने सारे पर्यावरण को प्रदूषित कर रखा है तो भुक्तभोगी कौन होगा और हम मानवों के साथ-साथ वह जंगली जीव भी प्रभावित हो जाते हैं जो अपना आवास और अधिवास को डालते हैं और भटक कर के मैं आ जाते हैं गांव देहातों में मनुष्य को मार डालता है

bhuskhalan iska angrezi me jo hai laindaslaid naam diya jata hai yah adhiktar parvatiya bhaagon me hota hai aur hone ka mukhya karan kya hai ki varsha ke bhi bahut jordaar varsha hoti hai toh aksar hain parvatiya bhaagon me bhuskhalan ya kahein ki laindaslaid hoti hai iski samaachaaron me bhi report hote rehta hai isme hota kya hai ki bade bade shilakhand ki shakkar niche aa jaate hain maidaani bhaagon me mitti ki parat katane lagti hai jal dharaon ke karan anek gehri naliyan ban jaati hai jisse jisse bhoomi ubad khabad ho jaati hai isse bhoomi krishi ke ayog ho jaati hai aise naliyon ko bhi karte hain lekin aap ka sawaal hai ki bhuskhalan kya hai toh bus khanan hota kya hai ki prithvi par anek gatisheel prakriya hai karya karti rehti hai hindi shaktiyon ke karya ko hum aparadan kehte hain aparadan angrezi me isko roshan karte hain aur aparadan ke jo doodh hain vaah kaun kaun hai hum bata dete hain aapko nadi ho gaya himnad pawan on mat MY samudri laharen aadi aparadan ke pramukh doodh hai yah doodh aparadan ke baad avasado ka parivahan tatha anya jagaho me nikshep bhi karte hain ab aparadan ke liye parivahan karya atyadhik mahatvapurna hai parivahan me parivahan ke kram me chattanon ke tukde kali tatha kinare ki chattanon ko ghis ghisakar tod tod deti hai ya aur kaun kya karta hai pawan matlab hawa yah apne saath udane waale baalu ke kanon ko uda deta hai aur yah kaun saamne ki pahariya teele ko piskar ya phir tod kar nasht kar deta aata parivahan na hone par na toh thorphor ki kriya ho sakti hai aur na niche aata aparadan me aap gharshan parivahan aur niche pratikriyaen hoti hai hum jante hain ki jab varsha hoti hai toh uska kuch bhag bhoomi me sama jata hai jawab kuch bhag bhag bankar hawa me mil jata hai aur adhikaansh jal choti choti dharaon me bahte hue nadiyon ka nirmaan karte hain aur yah nadiyan samudra me jaha milti hain varsha ka yah jadu nadiyon ke roop me anek prakar ke aparadan karta hai jaisa ki maine aapko pehle bataya ki parvatiya bhaagon me adhik varsha se bhuskhalan hota hai isse sabse bade bade shilakhand khinch kar niche aa jaate hain aur maidaani bhag me mitti ki paratein katane lagti hai ab aapka sawaal hai ki isko rokne ke liye kya upay hai bahut hi simple sa upay hai aur hamein is par dhyan dena hi chahiye vaah simple sa upay yah hai ki hum paryavaran ko santulit aur saaf suthara banaye aur saaf suthara kaise bana sakte hain hamein parvatiya kshetro me vano ki katai par tatkal prabhav se rok laga deni chahiye kyonki hum kis bhautikata ki baat kar rahe hain jab ban hi nahi bachenge jungle hai toh hum log zinda hai jungle me bhi apni haar haar se baukhlaye hoti hain toh saara paristhitikee tantra yadi bigad raha hai toh hamein dhyan dena hoga yah ped ki katai jo hai sabse mukhya karanon me se ek hai theek waise hi jaise ki maangon ki badhti hui aabadi jo hai saari samasyaon ka jad ban raha hai abhi usi prakar pedon ki katai jo hai paryavaran ko asantulan karne ka sabse mukhya karan hai ise jo hai hamein samajhna hoga ki iska fal hamko isi duniya me mil jaega pedon ko bachaana hi bhuskhalan se rokne ka roop me bhuskhalan ko rokne ka ek upay hai isme sarkar ko bhi badh chadhakar ke dhyan dena chahiye aur sabhi batein toh sarkar nahi kar sakti hai hum yadi parvatiya kshetro ke niwasi hain toh parvatiya kshetro me ped ko katane se ekdam roka jaaye aur hota kya hai ki yah jo hai apni jadon me bahut hi jordaar dhang se mitti ko pakad leta hai aur aparadan ke duton jaise barsa hawa ke aadi se jaan tak barsat mitti ko katne nahi deta hai aur mitti ke yadi upari parat nikal jayegi toh samjhiye ki upajau parat nikal krishi yogya nahi reh pati hai khaskar ke pahadi kshetro me mitti ka abhaav ho jata hai toh isse bachne ka sabse badhiya upay lagaaiye aap jo hai jitna ped lagaaiye ka jitna utana hi fayde me rahenge kyonki unhe percent hum logo ko ped chahiye 19 van ki avashyakta hai kuch log toh kehte hain ki 23 honi chahiye lekin ho nahi raha hai itna yah kaise sambhav hoga hamein apne paryavaran ki chinta swayam karti hongi hamare dikhi gaon jo hamare jo dharmik sanskar hai usme ped ko puja jata hai kyon puja jata hai bus yahi sab karan tha ki air jo hai manav jati ko bachane me mahatvapurna bhumika nibhate hain ekdam pratyaksh roop se yadi aap unka unka hum abhi oxygen le rahe hain toh kaha se yah mil raha hai pedon ke madhyam se hi mil raha hai aur bade bade shaharon me jaiye jaha oxygen ki bhari kami hai toh kapda janit rog hote ho jaate hain toh lambi baaton ka gol matlab yah vakya me ped lagana chahiye har haal me aur yahi jo hai aapko mittiyo ke patao aur unhe bahav se rok sakta hai anyatha aur koi doosra upay toh jo bhi hoga vaah tatkal lichi hoga toh hoga nahi aur dirghkalik upay karne ke liye hamein apne jungalon ko bachaana hoga jante hain jungalon me bhi aahaar shrinkhala chalti hai jisme tiger aahaar shrinkhala me uchit sthan rakhte hain yah sabhi badhiya hai vaah yah milkar ke paryavaran ko santulit rakhti hain aur aapke sawaal me yah baat chipi hui hai ki bhuskhalan hone ka karan paryavaran ka asantulit hona aur pahadi kshetro me pedon ka khoob ghatna toh yadi is par dhyan diya jaaye toh bhu aslam ko roka ja sakta hai vaah swayam ko rokna hamare hathon me hai yani manav ke hathon me hai pahadi kshetro me jitne bhi pahadi waale band hai usko van kshetra ko badhaya jaaye katne par dhyan diya jaaye jitna kaun kshetra badhega utana hi jo hai bhuskhalan me kami aayegi aur udhar ka jo area hoga jaha log rehte hain unhe is bhuskhalan se nijat mil jaega vaah apne aap me varsha ke samay me hota hai radio samaachaaron me is ummid me kabhi kabhi dikhai padta hai falane jagah bhuskhalan ho jata hai yah sadhaaran prakriya me hota hai toh ise jaan maal ki bahut badi kshati hoti hai aur iske jimmewar khud manav hi hain manav nahi apne saare paryavaran ko pradushit kar rakha hai toh bhuktabhogi kaun hoga aur hum manavon ke saath saath vaah jungli jeev bhi prabhavit ho jaate hain jo apna aawas aur adhivas ko daalte hain aur bhatak kar ke main aa jaate hain gaon dehaton me manushya ko maar dalta hai

भूस्खलन इसका अंग्रेजी में जो है लैंडस्लाइड नाम दिया जाता है यह अधिकतर पर्वतीय भागों में हो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन क्या है इसे रोकने के उपाय बताइए लेकिन भूस्खलन मतलब की मिट्टी का कटाव पानी के कारण मिट्टी में जाना पानी के कारण मिट्टी का भेजा ना ही भूस्खलन कहलाता है जैसे कि पेड़ों की कटाई होने के कारण उनकी जड़ें जब निकल जाती है तो वह मिट्टी को छोड़ देते हैं और तब पानी गिरता है तो वह मिट्टी वहां से बह जाती है जो मिट्टी का जो कटा होता है उसे हम भूस्खलन कहते हैं इसे रोकने के उपाय इसको हम ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाकर रोक सकते हैं और पत्थरों को गड्ढे में डालकर इस को रोका भी जा सकता है

bhuskhalan kya hai ise rokne ke upay bataiye lekin bhuskhalan matlab ki mitti ka kataav paani ke karan mitti me jana paani ke karan mitti ka bheja na hi bhuskhalan kehlata hai jaise ki pedon ki katai hone ke karan unki jaden jab nikal jaati hai toh vaah mitti ko chhod dete hain aur tab paani girta hai toh vaah mitti wahan se wah jaati hai jo mitti ka jo kata hota hai use hum bhuskhalan kehte hain ise rokne ke upay isko hum zyada se zyada ped lagakar rok sakte hain aur pattharon ko gaddhe me dalkar is ko roka bhi ja sakta hai

भूस्खलन क्या है इसे रोकने के उपाय बताइए लेकिन भूस्खलन मतलब की मिट्टी का कटाव पानी के कारण

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user
0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन से बचने का एकमात्र उपाय बताए कि जहां-जहां बाढ़ का क्या क्या अधिकार लोग गाय भैंस भेड़ बकरी करने के लिए जाना चाहिए प्लीज बाजारपेठ बुजुर्ग अधिक बताओ वरना गाना

bhuskhalan se bachne ka ekmatra upay bataye ki jaha jaha baadh ka kya kya adhikaar log gaay bhains bhed bakri karne ke liye jana chahiye please bajarpeth bujurg adhik batao varna gaana

भूस्खलन से बचने का एकमात्र उपाय बताए कि जहां-जहां बाढ़ का क्या क्या अधिकार लोग गाय भैंस भे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user

Amit

Student

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन भूमि के कटाव को कहते हैं जहां पर जो मृदा होती है वह अपने जगह से नीचे खिसक जाती है उसे भूस्खलन कहते हैं इसे रोकने के उपाय वृक्षारोपण और इसके द्वारा खेती भी की जाती है

bhuskhalan bhoomi ke kataav ko kehte hain jaha par jo mrida hoti hai vaah apne jagah se niche khisak jaati hai use bhuskhalan kehte hain ise rokne ke upay vriksharopan aur iske dwara kheti bhi ki jaati hai

भूस्खलन भूमि के कटाव को कहते हैं जहां पर जो मृदा होती है वह अपने जगह से नीचे खिसक जाती है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन का मतलब होता है कि भूमि की पृथ्वी की ऊपरी परत का अपनी जगह से खिसक जाना यह प्रक्रिया अधिकतर पहाड़ों के पाई जाती है अधिकतर वनों के कटाव के गाना जो 1 मिट्टी को पकड़ कर रखते हैं वह मिट्टी धीरे-धीरे बंद करने के कारण खेल सकती जाती है बारिश होने पर यह अधिकतम खेल सकती है बारिश के साथ आवर्धन क्रिया के द्वारा यह जाती है इस्त्री एवं भूस्खलन कहते हैं इसको रोकने के लिए हम दोनों को अधिक से अधिक लगा सकते हैं पेड़ लगा सकते हैं दूसरा कि हम पहाड़ी इलाके में सड़क के पास दीवार बना सकते हैं ताकि दीवार से जो भी मलवा ऊपर से आए वह दिवस से रुक जाए दीवार से दब जाए वह साइड में दीप अनासक्ति हीरोइन के तीसरा हम पहाड़ पर कैसी होती है वेदिका कृषि उस तरीके से ऋषि कर सकते हैं प्रवाल प्रवाल एक सेल होता है जंतुओं के मरे हुए होते हैं इनको हम मिट्टी के ऊपर डाल सकते हैं जिससे मिट्टी ढक जाएगी जिससे भूस्खलन क्रिया कम हो जाएगी कहीं अब तक इस प्रकार हम देखते हैं कि वनों का हमारे यहां इसलिए अगर आप यह वीडियो सुन रहे हैं तो कम से कम एक पेड़ जरूर लगाएगा इससे हमारे पर्यावरण को भी लाभ होगा आपको भी लाभ होगा हमें भी आने वाली पीढ़ी के लिए अपने लिए सभी के लिए थैंक यू सो मच

bhuskhalan ka matlab hota hai ki bhoomi ki prithvi ki upari parat ka apni jagah se khisak jana yah prakriya adhiktar pahadon ke payi jaati hai adhiktar vano ke kataav ke gaana jo 1 mitti ko pakad kar rakhte hain vaah mitti dhire dhire band karne ke karan khel sakti jaati hai barish hone par yah adhiktam khel sakti hai barish ke saath avardhan kriya ke dwara yah jaati hai istree evam bhuskhalan kehte hain isko rokne ke liye hum dono ko adhik se adhik laga sakte hain ped laga sakte hain doosra ki hum pahadi ilaake me sadak ke paas deewaar bana sakte hain taki deewaar se jo bhi malava upar se aaye vaah divas se ruk jaaye deewaar se dab jaaye vaah side me deep anasakti heroine ke teesra hum pahad par kaisi hoti hai vedika krishi us tarike se rishi kar sakte hain praval praval ek cell hota hai jantuon ke mare hue hote hain inko hum mitti ke upar daal sakte hain jisse mitti dhak jayegi jisse bhuskhalan kriya kam ho jayegi kahin ab tak is prakar hum dekhte hain ki vano ka hamare yahan isliye agar aap yah video sun rahe hain toh kam se kam ek ped zaroor lagaega isse hamare paryavaran ko bhi labh hoga aapko bhi labh hoga hamein bhi aane wali peedhi ke liye apne liye sabhi ke liye thank you so match

भूस्खलन का मतलब होता है कि भूमि की पृथ्वी की ऊपरी परत का अपनी जगह से खिसक जाना यह प्रक्रिय

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Laxman

Student

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों भूषण भूषण ने कैसी आपदाएं मदर भी कह सकते हैं ऐसी विकट स्थिति है जिसमें क्या है जैसे बारिश होती है तो बारिश के साथ मिट्टी पानी के साथ में बैठ कर जाती है तो किसी विशेष स्थान को कट करके जाती है तो वहां से फिर वह जो बाकी जमीन होती है गिर जाती आंध्र मतलब पानी से खड़ा हो जाता है तो वह बाकी ऊपर से जमीन मतलब पहाड़ों पर भी ऐसी स्थिति आ सकती है मतलब जैसे पहाड़ है और यह बारिश की वजह से पानी अगर बीच में से चला गया अगर वह भांजे के पहाड़ों में भी थोड़ी बहुत मिलती है तो वहां से निकल जाती है कैसे की जाती है पानी के साथ तो वह जो है वह बौद्ध संघ में हो सकता है पड़ सकता है तो फिर ऐसे में समतल मैदानी इलाकों में भी यह हो सकता है क्योंकि वहां पर पानी का रिसाव होता है तो फिर जमीन बंदर गंदा हो जाता है तो फिर वह बाहरी ऊपर का जो हिस्सा होता है उधर से आता है इसे भू संकलन कहते हैं और इसको बताने का एक और उपाय भी है जहां ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं पेड़ लगाएंगे तो पेड़ों की गजलें अंदर जाएगी तेरे मिट्टी को काबू मदद कर लेंगे और मिट्टी बहने से काफी रुक सकती है वहां भूषण की स्थिति जो है कम हो सकती है नमस्ते

namaste doston bhushan bhushan ne kaisi apadaen mother bhi keh sakte hain aisi vikat sthiti hai jisme kya hai jaise barish hoti hai toh barish ke saath mitti paani ke saath me baith kar jaati hai toh kisi vishesh sthan ko cut karke jaati hai toh wahan se phir vaah jo baki jameen hoti hai gir jaati andhra matlab paani se khada ho jata hai toh vaah baki upar se jameen matlab pahadon par bhi aisi sthiti aa sakti hai matlab jaise pahad hai aur yah barish ki wajah se paani agar beech me se chala gaya agar vaah bhanje ke pahadon me bhi thodi bahut milti hai toh wahan se nikal jaati hai kaise ki jaati hai paani ke saath toh vaah jo hai vaah Baudh sangh me ho sakta hai pad sakta hai toh phir aise me samtal maidaani ilako me bhi yah ho sakta hai kyonki wahan par paani ka rishav hota hai toh phir jameen bandar ganda ho jata hai toh phir vaah bahri upar ka jo hissa hota hai udhar se aata hai ise bhu sankalan kehte hain aur isko batane ka ek aur upay bhi hai jaha zyada se zyada ped lagaye ped lagayenge toh pedon ki gajlen andar jayegi tere mitti ko kabu madad kar lenge aur mitti behne se kaafi ruk sakti hai wahan bhushan ki sthiti jo hai kam ho sakti hai namaste

नमस्ते दोस्तों भूषण भूषण ने कैसी आपदाएं मदर भी कह सकते हैं ऐसी विकट स्थिति है जिसमें क्या

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
user
1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भूस्खलन उसको रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा बाढ़ नदियों के पानी तथा जो भूस्खलन एक ऐसा भूमिका 6 है जिसके माध्यम से भूमि की जो यह रखता क्षमता भूमिका ऊपरी आवरण नष्ट हो जाता है इसे भूस्खलन के नाम से जाना जाता है उसको रोकने के लिए मेड बंदी जैसे उपाय अपनाने चाहिए और लोगों को जो यह नदियों के पानी बाढ़ के पानी इनका उचित साधन के द्वारा प्रयोग करना चाहिए

bhuskhalan usko rokne ke liye zyada se zyada baadh nadiyon ke paani tatha jo bhuskhalan ek aisa bhumika 6 hai jiske madhyam se bhoomi ki jo yah rakhta kshamta bhumika upari aavaran nasht ho jata hai ise bhuskhalan ke naam se jana jata hai usko rokne ke liye made bandi jaise upay apnane chahiye aur logo ko jo yah nadiyon ke paani baadh ke paani inka uchit sadhan ke dwara prayog karna chahiye

भूस्खलन उसको रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा बाढ़ नदियों के पानी तथा जो भूस्खलन एक ऐसा भूमिक

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोना से हिना कपूर सकता है कौन सा जानवर मैं नापाक कौन सी विधा है

sona se heena kapur sakta hai kaun sa janwar main napaak kaun si vidhaa hai

सोना से हिना कपूर सकता है कौन सा जानवर मैं नापाक कौन सी विधा है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user

munmun

Volunteer

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या है और यदि उसको ही कहते हैं और इसे रोकने के लिए ढेर सारे पेड़ पौधे लगाने की जमीन से बोलूं जो जाता है और वह जब बारिश होती है तो कोई सेट हो जाती है

kya hai aur yadi usko hi kehte hai aur ise rokne ke liye dher saare ped paudhe lagane ki jameen se bolu jo jata hai aur vaah jab BA rish hoti hai toh koi set ho jaati hai

क्या है और यदि उसको ही कहते हैं और इसे रोकने के लिए ढेर सारे पेड़ पौधे लगाने की जमीन से बो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  41
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
भूस्खलन को रोकने के उपाय ; भूस्खलन से बचाव के उपाय ; bhuskhalan ko rokne ke upay ; bhuskhalan rokne ke upay ; हिमस्खलन से बचाव के उपाय ; bhuskhalan se bachne ke upay ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!