खालसा पंत की स्थापना किसने की?...


user

आचार्य सुशील मिश्र

आध्यात्मिक गुरु

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खालसा पंथ की स्थापना सिक्खों के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह जी ने की खालसा का अर्थ होता है शुद्ध शब्द खाली से बना रहे खालिस मतलब शुद्ध खालसा पंथ की स्थापना के पीछे उद्देश्य था कि मुगल शासन सत्ता द्वारा जो हिंदू समाज को नष्ट भ्रष्ट किया जा रहा था हिंदू बहन बेटियों के साथ जो जोर-जबर्दस्ती कार्य हो रहा था धर्मांतरण किया जा रहा था उसको रोकने के लिए एक शक्तिशाली सैन्य संगठन बनाना इसके लिए गुरु गोविंद सिंह जी ने हर परिवार से एक एक पुत्र मांगा दान रूप में जिसके पास पांच थे उससे एक मांगा पहले के समय में लोगों संतृप्ति के रूप में ही धन मिलता था गरीब से गरीब के पास अभी तीन चार पांच छह 10 पुत्र होते थे तो गुरु गोविंद सिंह जी ने धन ना मांग कर कोई और वस्तु ना मानकर धर्म की रक्षा के लिए लोगों से उनकी संतति का दान मांगा और जो धर्म की रक्षा के लिए दान दिया जाता है वह खाली सोता है वह शुद्ध होता है तो जो सैनी संगठन हिंदू समाज द्वारा अपनी संतानों के दानों के फलस्वरूप बना वह खाली कहां गया और उसे खालसा खालसा पंथ का नाम दिया गया पंत जो एक पथ प्रदर्शन का काम कर सके जब-जब समाज ने व्यक्ति कार्य किया धार्मिक शक्तियां नकारात्मक कार्य करती हैं तब तक कोई धर्म का जानकार कोई महान आत्मा एक विशेष पथ का मार्गदर्शन करता है एक विशेष पथ का प्रदर्शन करता है उसी को पंथ कहते हैं हरि ओम

khalsa panth ki sthapna sikkhon ke dasven guru guru govind Singh ji ne ki khalsa ka arth hota hai shudh shabd khaali se bana rahe khalisa matlab shudh khalsa panth ki sthapna ke peeche uddeshya tha ki mughal shasan satta dwara jo hindu samaj ko nasht bhrasht kiya ja raha tha hindu behen betiyon ke saath jo jor jabardasti karya ho raha tha dharmanataran kiya ja raha tha usko rokne ke liye ek shaktishali sainya sangathan banana iske liye guru govind Singh ji ne har parivar se ek ek putra manga daan roop me jiske paas paanch the usse ek manga pehle ke samay me logo santripti ke roop me hi dhan milta tha garib se garib ke paas abhi teen char paanch cheh 10 putra hote the toh guru govind Singh ji ne dhan na maang kar koi aur vastu na maankar dharm ki raksha ke liye logo se unki santati ka daan manga aur jo dharm ki raksha ke liye daan diya jata hai vaah khaali sota hai vaah shudh hota hai toh jo saini sangathan hindu samaj dwara apni santano ke danon ke phalswarup bana vaah khaali kaha gaya aur use khalsa khalsa panth ka naam diya gaya pant jo ek path pradarshan ka kaam kar sake jab jab samaj ne vyakti karya kiya dharmik shaktiyan nakaratmak karya karti hain tab tak koi dharm ka janakar koi mahaan aatma ek vishesh path ka margdarshan karta hai ek vishesh path ka pradarshan karta hai usi ko panth kehte hain hari om

खालसा पंथ की स्थापना सिक्खों के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह जी ने की खालसा का अर्थ होता है

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  305
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!