भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बौने थे?...


user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

2:25
Play

Likes  167  Dislikes    views  2203
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बोले थे प्रश्न है भगवान विष्णु ने वामन अवतार में बने थे जिन्होंने दाएं पैर माफ करके पूरी सृष्टि को पूरी पृथ्वी को माफिया

bhagwan vishnu apne kis avatar mein bole the prashna hai bhagwan vishnu ne waman avatar mein bane the jinhone dayen pair maaf karke puri shrishti ko puri prithvi ko mafia

भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बोले थे प्रश्न है भगवान विष्णु ने वामन अवतार में बने थे जि

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:37

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा बलि के अभिमान को चोट करते हुए और उसके प्रति स्वर्ग और पाताल लोक को मुक्त कराने के लिए बोलो रूप धारण किया था उसे वामन अवतार के रूप में याद करते हैं और लास्ट बस की भक्ति से ईमानदारी सत्यनिष्ठा से प्रसन्न होकर की उसी राजा बलि को पाताल लोक का राजा बना दिया यह वामन अवतार कहलाता है और भगवान विष्णु के मोस्ट अवतारों में से अकाउंट किया जाता

raja bali ke abhimaan ko chot karte hue aur uske prati swarg aur paatal lok ko mukt karane ke liye bolo roop dharan kiya tha use waman avatar ke roop mein yaad karte hain aur last bus ki bhakti se imaandaari satyanishtha se prasann hokar ki usi raja bali ko paatal lok ka raja bana diya yah waman avatar kehlata hai aur bhagwan vishnu ke most avataron mein se account kiya jata

राजा बलि के अभिमान को चोट करते हुए और उसके प्रति स्वर्ग और पाताल लोक को मुक्त कराने के लिए

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  1476
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न भगवान आपको बता दूं कि एक समय बादी नाम के व्यक्ति ने अपना साम्राज्य स्वर्ग प्रति पाताल सभी जगह स्थापित कर दिया था और बाली वैसे तो धर्मात्मा था बहुत बड़ा दानवीर था लेकिन तू को देखा और उसके नेतृत्व में व्यक्ति लोग पृथ्वी पर अत्याचार कर रही थी स्वर्ग में उन्हें देवराज इंद्र से छीन लिया था तू खाली विकृत रूप से बहुत धर्म अपना था तो उसके उसके अरमान को दूर करने के लिए उसके अत्याचारों से प्रति को स्वतंत्र कराने के लिए और देवराज इंद्र की विजय के लिए भगवान विष्णु ने वामन अवतार वामन अवतार लिया था छोटी सी कद में भगवान विष्णु मारे थे और उन्होंने बाली सी तीन पग भूमि दान में मांगी थी वादी का जो पुरोहित था उदित शुक्राचार्य थी वह भगवान विष्णु को पहचान गए उसने बहुत मेरे द्वार पर भगवान आई है मैं भगवान को इनकार नहीं करूंगा वादी ने दानवीर की मर्यादा निभाते हुए भगवान विष्णु से कहा अंशिका भगवान आपकी पक्षी सकते हैं तो एक पल में भगवान विष्णु ने पृथ्वी को नाप लिया दूसरी में स्वर को नाप लिया और फिर कहा था पर मैं कहां रखूं तब गाली निकाल भगवान इसे आप मेरे सर पर रखें और भगवान विष्णु ने उसके सिर पर दूसरा पाठ रखा और वह पाताल लोक में चला गया कलाकार पाताल लोक में भगवान विष्णु का टेकन बाली को पाताल लोक से बंद करने के लिए वहां पर हरा दिया करता है यही वामन अवतार की कहानी है

aapka prashna bhagwan aapko bata doon ki ek samay badi naam ke vyakti ne apna samrajya swarg prati paatal sabhi jagah sthapit kar diya tha aur baali waise toh dharmatma tha bahut bada daanveer tha lekin tu ko dekha aur uske netritva me vyakti log prithvi par atyachar kar rahi thi swarg me unhe devraj indra se cheen liya tha tu khaali vikrit roop se bahut dharm apna tha toh uske uske armaan ko dur karne ke liye uske atyacharo se prati ko swatantra karane ke liye aur devraj indra ki vijay ke liye bhagwan vishnu ne waman avatar waman avatar liya tha choti si kad me bhagwan vishnu maare the aur unhone baali si teen pug bhoomi daan me maangi thi wadi ka jo purohit tha udit shukraachaary thi vaah bhagwan vishnu ko pehchaan gaye usne bahut mere dwar par bhagwan I hai main bhagwan ko inkar nahi karunga wadi ne daanveer ki maryada nibhate hue bhagwan vishnu se kaha anshika bhagwan aapki pakshi sakte hain toh ek pal me bhagwan vishnu ne prithvi ko naap liya dusri me swar ko naap liya aur phir kaha tha par main kaha rakhun tab gaali nikaal bhagwan ise aap mere sir par rakhen aur bhagwan vishnu ne uske sir par doosra path rakha aur vaah paatal lok me chala gaya kalakar paatal lok me bhagwan vishnu ka taken baali ko paatal lok se band karne ke liye wahan par hara diya karta hai yahi waman avatar ki kahani hai

आपका प्रश्न भगवान आपको बता दूं कि एक समय बादी नाम के व्यक्ति ने अपना साम्राज्य स्वर्ग प्रत

Romanized Version
Likes  254  Dislikes    views  2851
WhatsApp_icon
user

Dr. Narayan Sharma

Agriculture Adviser

4:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्रों आपका प्रश्न है भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बने तो मित्र में बताना चाहूंगा आपका जो भगवान विष्णु का वामन अवतार हुआ उसमें भगवान विष्णु का 52 अवतार मानते हैं उसमें भगवान का स्वरूप बहुत ही सुंदर और एक छोटा सा छोटी स्वरूप में हुआ 2 अवतार भगवान बामन ने लेकर के राजा बलि के दरबार के राजा बलि के दरबार में जाकर 3:30 पृथ्वी का दान मांगा वह पृथ्वी जो मांगी उसको भगवान ने 2 दिन तक पृथ्वी में के लिए दान मांगा राजा बलि ने दी का शोषण देना चाहा तो उधर शुक्राचार्य ने उनको संकेत दिया इससे यह तो भगवान विष्णु है इनको संकल्पना करें तो राजा बलि ने कहा अगर भगवान स्वयं हमारे यहां आए हैं तो इससे बड़ी और क्या बात हो सकती है भगवान हमको सबको देते हैं और हमारे दरवाजे पर मांगने आए यह हमारे लिए बड़ी कौरु नगर भगवान है तो वह हमको वैसे भी जीत सकते हैं तो उनको दान देने में कोई अब रात में मैं अवश्य दांत शुक्राचार्य का मन नहीं माना तो उन्होंने जो भगवान संकल्प करने लगे तो संकल्प दो सागर की टोटी के अंदर बैठ गए क्या करते समय से देखने लगे तो भगवान बामन ने कुशन निकाली और उसमें घुसा दे जिससे शुक्राचार्य की एक आंख फूट गई तो आजकल ऐसा ही चीज से हमको एक सीख मिलती है अगर किसी का भला अच्छा काम बन रहा हो किसी के द्वारा तो हमें उसमें शुक्राचार्य नहीं बनना चाहिए और जो जो शुक्राचार्य बनेगा उसकी आंख छूटेगी एक कटु सत्य है तो वही अवतार भगवान विष्णु का 52 अवतार चलाया जिसमें भगवान ने तीन पग में दीपक में ही पूरी पृथ्वी नाथ ली और कहा यादव कहां रखें तब्बली जी मेरा शौक है तो उधर उनकी पत्नी ने मस्तीखोर आज पुलिस से कहा मस्तिक नवा दिया और कहा हमारे सर पर रख जो संपूर्ण राज्य हमारी अंदर में था मैं उसका शासक तो मैं भी इस पूरे का शासक होता हूं इसलिए हमारे सर परंतु तो आपका पूरा पर हो जाएगा तो भगवान ने मस्तक पर रख कर के जो पसंद हो कर कहा राजा बलि आप हमसे जो मांगना चाहे वह मांग सकते हैं तो भगवान ने राजा बली को प्रस नगर के सुतल लोक का राजा बना दिया और राजा बलि ने मान लिया आप हमारे यहां परिवार बनकर मैं जिस भी दरवाजे से निकलूंगा वहां पर आपका दर्शन होना चाहिए तो वहां पर भगवान करे रह गए जब यह लक्ष्मी को पता चली तो माता लक्ष्मी पूर्णमासी के दिन राजा बलि के राखी बंधन की राखी बांधी तो राजा बलि ने उसे कहा आप हम से मांग लीजिए क्या मांगा था दोनों ने भगवान विष्णु को मांग लिए कहा काजोल के पहरेदार हैं वही हमको चाहिए उसी पूर्णमासी को यह राखी का रक्षाबंधन का त्योहार प्रारंभ हुआ तो नमस्कार मित्रों अगर हमारे जवाब से असंतोष तो कृपा करके लाइक करना ना भूलें

mitron aapka prashna hai bhagwan vishnu apne kis avatar mein bane toh mitra mein bataana chahunga aapka jo bhagwan vishnu ka waman avatar hua usme bhagwan vishnu ka 52 avatar maante hain usme bhagwan ka swaroop bahut hi sundar aur ek chota sa choti swaroop mein hua 2 avatar bhagwan baman ne lekar ke raja bali ke darbaar ke raja bali ke darbaar mein jaakar 3 30 prithvi ka daan manga vaah prithvi jo maangi usko bhagwan ne 2 din tak prithvi mein ke liye daan manga raja bali ne di ka shoshan dena chaha toh udhar shukraachaary ne unko sanket diya isse yah toh bhagwan vishnu hai inko sankalpana kare toh raja bali ne kaha agar bhagwan swayam hamare yahan aaye hain toh isse badi aur kya baat ho sakti hai bhagwan hamko sabko dete hain aur hamare darwaze par mangne aaye yah hamare liye badi kauru nagar bhagwan hai toh vaah hamko waise bhi jeet sakte hain toh unko daan dene mein koi ab raat mein main avashya dant shukraachaary ka man nahi mana toh unhone jo bhagwan sankalp karne lage toh sankalp do sagar ki toti ke andar baith gaye kya karte samay se dekhne lage toh bhagwan baman ne cushion nikali aur usme ghusa de jisse shukraachaary ki ek aankh foot gayi toh aajkal aisa hi cheez se hamko ek seekh milti hai agar kisi ka bhala accha kaam ban raha ho kisi ke dwara toh hamein usme shukraachaary nahi bana chahiye aur jo jo shukraachaary banega uski aankh chutegi ek katu satya hai toh wahi avatar bhagwan vishnu ka 52 avatar chalaya jisme bhagwan ne teen pug mein deepak mein hi puri prithvi nath li aur kaha yadav kahaan rakhen tabbali ji mera shauk hai toh udhar unki patni ne mastikhor aaj police se kaha mastisk nava diya aur kaha hamare sir par rakh jo sampurna rajya hamari andar mein tha main uska shasak toh main bhi is poore ka shasak hota hoon isliye hamare sir parantu toh aapka pura par ho jaega toh bhagwan ne mastak par rakh kar ke jo pasand ho kar kaha raja bali aap humse jo maangna chahen vaah maang sakte hain toh bhagwan ne raja bali ko pras nagar ke sutala lok ka raja bana diya aur raja bali ne maan liya aap hamare yahan parivar bankar main jis bhi darwaze se niklunga wahan par aapka darshan hona chahiye toh wahan par bhagwan kare reh gaye jab yah laxmi ko pata chali toh mata laxmi purnamasi ke din raja bali ke rakhi bandhan ki rakhi bandhi toh raja bali ne use kaha aap hum se maang lijiye kya manga tha dono ne bhagwan vishnu ko maang liye kaha kajol ke pehredar hain wahi hamko chahiye usi purnamasi ko yah rakhi ka rakshabandhan ka tyohar prarambh hua toh namaskar mitron agar hamare jawab se asantosh toh kripa karke like karna na bhoolein

मित्रों आपका प्रश्न है भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बने तो मित्र में बताना चाहूंगा आपका

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  835
WhatsApp_icon
user

सपना शर्मा

सामाजिक कार्यकर्ता

0:14
Play

Likes  19  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

gyanendra tiwari

Singer&dharmik

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्त नमस्कार आपका सवाल है भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बने थे तो मैं आपको बता दूं कि वह जब इस धरती पर वामन अवतार लेकर अवतरित हुए थे उस अवतार में वह बने थे वह मानवता इसी अवतार में वह बने थे विष्णु भगवान ने बहुत सारे अवतार लिए हैं जिसमें से भी 1 केवी होता है उनका और उनको इस अवतार में वामन बोला जाता था जो कि बोनेट धन्यवाद

hello dost namaskar aapka sawaal hai bhagwan vishnu apne kis avatar mein bane the toh main aapko bata doon ki vaah jab is dharti par waman avatar lekar avtarit hue the us avatar mein vaah bane the vaah manavta isi avatar mein vaah bane the vishnu bhagwan ne bahut saare avatar liye hain jisme se bhi 1 kv hota hai unka aur unko is avatar mein waman bola jata tha jo ki bonnet dhanyavad

हेलो दोस्त नमस्कार आपका सवाल है भगवान विष्णु अपने किस अवतार में बने थे तो मैं आपको बता दूं

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user
0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान विष्णु के 10 अवतार हुए थे वामन विष्णु के पांचवें तथा त्रेता युग के पहले अवतार थे विष्णु के पहले ऐसे अवतार थे जो मानव रूप में प्रकट हुए अलबत्ता बोनी ब्राह्मण के रूप में उनको दक्षिण को दक्षिण भारत में उपेंद्र नाम से भी जाना जाता है भागवत कथा के अनुसार विष्णु ने इंद्र को देवलोक में अधिकार पुनः स्थापित करने के लिए यह अवतार लिया विष्णु के 10 अवतार मच्छ अवतार कुरमा अवतार वराह अवतार भगवान भरोसे अवतार वामन अवतार श्री राम अवतार श्री कृष्ण अवतार परशुराम अवतार बुद्ध अवतार और कल्कि अवतार

bhagwan vishnu ke 10 avatar hue the waman vishnu ke panchwe tatha treta yug ke pehle avatar the vishnu ke pehle aise avatar the jo manav roop mein prakat hue alabatta bony brahman ke roop mein unko dakshin ko dakshin bharat mein upendra naam se bhi jana jata hai bhagwat katha ke anusaar vishnu ne indra ko devlok mein adhikaar punh sthapit karne ke liye yah avatar liya vishnu ke 10 avatar macch avatar kurma avatar varah avatar bhagwan bharose avatar waman avatar shri ram avatar shri krishna avatar parshuram avatar buddha avatar aur click avatar

भगवान विष्णु के 10 अवतार हुए थे वामन विष्णु के पांचवें तथा त्रेता युग के पहले अवतार थे विष

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user

Raghuveer Singh

👤Teacher & Advisor🙏

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान विष्णु अपने कि सरकार में बने थे तो बोलने का मतलब होता है द्वार किया छोटे सिग्नल का तो यह वामन अवतार हुआ था भगवान विष्णु का वामन जो 52 अंगुल का हुआ था वह मानवता कहते हैं इसका तू वामन अवतार में क्या होता है कि जो राजा बलि था उसने 99 यज्ञ किए थे अगर वह सब आएगी कर लेता तो बहुत बलशाली हो जाता ताकतवर हो जाता और उससे स्वामी यह को देश ट्राई करने के लिए यानी उस को भंग करने के लिए उन्होंने वामन अवतार धारण किया था

bhagwan vishnu apne ki sarkar mein bane the toh bolne ka matlab hota hai dwar kiya chote signal ka toh yah waman avatar hua tha bhagwan vishnu ka waman jo 52 angul ka hua tha vaah manavta kehte hain iska tu waman avatar mein kya hota hai ki jo raja bali tha usne 99 yagya kiye the agar vaah sab aayegi kar leta toh bahut balshali ho jata takatwar ho jata aur usse swami yah ko desh try karne ke liye yani us ko bhang karne ke liye unhone waman avatar dharan kiya tha

भगवान विष्णु अपने कि सरकार में बने थे तो बोलने का मतलब होता है द्वार किया छोटे सिग्नल का त

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!