बात बात पर गुस्सा आता गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए कि वह ना आए?...


user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

0:44
Play

Likes  112  Dislikes    views  3040
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mahak Gehani

Yoga Trainer

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते आपका प्रश्न है बात बात पर गुस्सा को कैसे कंट्रोल करें कि वह हर बार ना आए तो इसका जो उत्तर है वह ऐसा है कि आपको जो बार-बार गुस्सा आता है वह आपको गुस्सा आता है आपका जो माइंड है उसको बहुत सारे व्हाट्सएप आपका दिमाग शांत नहीं है अब बहुत चीजों को लेकर सोचते हैं या कई बार आप एक किस के ऊपर बहुत ज्यादा सोचते हैं तो इससे आपकी जोहार मॉडल आपके जो दिमाग में डंगवाल से आपकी माइंड आपकी इमोशनल स्टेबिलिटी नहीं है तो उस गुस्से को कंट्रोल करने के लिए आपको मेडिटेटेड करना चाहिए आप अगर रोज मेडिकेट करेंगे तो आपको धीरे धीरे धीरे आपका गुस्सा कम हो जाएगा आप कई लोग ऐसे आसन होते हैं जो योगा करने से आपका गुस्सा कम हो जाएगा तो मैं आपको सलाह दूंगा कि आप अपने दिनचर्या में योगा और मेडिटेशन का उपयोग करें आप योगा करने से और मेडिटेशन करने से आपको बहुत फायदा होगा और आप देखेंगे धीरे धीरे धीरे आप में बहुत ज्यादा बदलाव आएगा आपको किसी को भी अगर ही साला देना चाहे तो फॉरवर्ड करें आपको घर जाना है क्या यूट्यूब और रोशन करें कैसे करें तो आप मेरे को यूट्यूब पर फॉलो कर सकते हैं सब्सक्राइब कर सकते हैं और आप मुझे वह करते भी फॉलो कर सकते हैं मुस्कुराते रहें धन्यवाद

namaste aapka prashna hai baat baat par gussa ko kaise control kare ki vaah har baar na aaye toh iska jo uttar hai vaah aisa hai ki aapko jo baar baar gussa aata hai vaah aapko gussa aata hai aapka jo mind hai usko bahut saare whatsapp aapka dimag shaant nahi hai ab bahut chijon ko lekar sochte hain ya kai baar aap ek kis ke upar bahut zyada sochte hain toh isse aapki johar model aapke jo dimag mein dangaval se aapki mind aapki emotional stability nahi hai toh us gusse ko control karne ke liye aapko meditated karna chahiye aap agar roj mediket karenge toh aapko dhire dhire dhire aapka gussa kam ho jaega aap kai log aise aasan hote hain jo yoga karne se aapka gussa kam ho jaega toh main aapko salah dunga ki aap apne dincharya mein yoga aur meditation ka upyog kare aap yoga karne se aur meditation karne se aapko bahut fayda hoga aur aap dekhenge dhire dhire dhire aap mein bahut zyada badlav aayega aapko kisi ko bhi agar hi sala dena chahen toh forward kare aapko ghar jana hai kya youtube aur roshan kare kaise kare toh aap mere ko youtube par follow kar sakte hain subscribe kar sakte hain aur aap mujhe vaah karte bhi follow kar sakte hain muskurate rahein dhanyavad

नमस्ते आपका प्रश्न है बात बात पर गुस्सा को कैसे कंट्रोल करें कि वह हर बार ना आए तो इसका जो

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  244
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पर्सनल बात बात पर गुस्सा आता है गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए वरना इतनी गुस्से को कंट्रोल करने के लिए आप योग करें प्रणाम और मेडिटेशन करेंगे जवाब प्रणाम और मेडिटेशन करेंगे तो मन मस्तिष्क आपका शांत होगा और जवान होगा और आपके अंदर से नेगेटिव विचारधारा हटेगी और अब को कम होगा धन्यवाद

aapka personal baat baat par gussa aata hai gusse ko kaise control kiya jaaye varna itni gusse ko control karne ke liye aap yog kare pranam aur meditation karenge jawab pranam aur meditation karenge toh man mastishk aapka shaant hoga aur jawaan hoga aur aapke andar se Negative vichardhara hategi aur ab ko kam hoga dhanyavad

आपका पर्सनल बात बात पर गुस्सा आता है गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए वरना इतनी गुस्से को क

Romanized Version
Likes  145  Dislikes    views  2766
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

2:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है बात बात पर गुस्सा आता गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए कि वह ना आए गुस्से को कंट्रोल करने के लिए सिंपल ही तरीका है मैं आपको एक जॉब करते हो और आपके बात पर गुस्सा होते तो आप क्या करोगे सामने उन पर गुस्सा हो गए क्या कुछ बोलोगे तो बोलने की नहीं बोल पाओगे घर पर आओगे मम्मी पापा भी निकालो तो नहीं बोलोगी वहां तो आप बैठ जाओगे तो गुस्सा तब वहां पर कंट्रोल होता है बहुत के सामने तो घर पर क्यों नहीं होता है कंट्रोल करना या न करना वह सब अपने ही डिपेंड है आपको कहां गुस्सा करना है कहां गुस्सा कंट्रोल करना है वह सब आप जानते हो बस आपको ही कंट्रोल करना और सब आपके बस में ही है गुस्सा कंट्रोल करने के लिए तो आप गुस्सा कंट्रोल कर सकते हो और जब बॉस बोलते तब गुस्सा कैसे कंट्रोल करते हो चुपचाप खड़े होकर मन में तो ज्वालामुखी पड़ता होगा लेकिन तू भी अब गुस्सा कंट्रोल करते हो जहां दिखाना है वहां पर गुस्सा गुस्सा मत दिखाओ जो आपसे कमजोर है उन पर गुस्सा मत दिखाओ सबसे ताकतवर है वहां जाकर गुस्सा दिखाओ तो हम बात माने और जहां ताकतवर कोई वहां पर गुस्सा दिखाओगे तो पता है आपकी जॉब चली जाएगी तो क्या करोगे बिचारा लाचार हो कि अब बैठते हो अपने मन को कंट्रोल कर सकते हो अपने दिमाग कंट्रोल करते हो अपने दिमाग को मन को जो ऑर्डर करेंगे वह वही मानेगा तो बस अपने मन और दिमाग को आर्डर करिए कि गुस्सा नहीं करना है बेवजह फालतू का यहां-वहां घूम के दिमाग खराब नहीं करना है बस वही मैं इन चीजों को संभाल नहीं है और आपको उपाय चाहिए गुस्सा कंट्रोल करने के लिए तो 100 से 1 तक उल्टी गिनती करिए एक गिलास पानी पी लीजिए आपके मन में कुछ अच्छा सोचिए यही सारे उपाय है हर रोज सुबह मेडिटेशन करिए तो भी गुस्सा कंट्रोल होगा आपका दिन शुभ हो धन्यवाद गुल्लक पर लाइफ केयर

aapka prashna hai baat baat par gussa aata gusse ko kaise control kiya jaaye ki vaah na aaye gusse ko control karne ke liye simple hi tarika hai aapko ek job karte ho aur aapke baat par gussa hote toh aap kya karoge saamne un par gussa ho gaye kya kuch bologe toh bolne ki nahi bol paoge ghar par aaoge mummy papa bhi nikalo toh nahi bologi wahan toh aap baith jaoge toh gussa tab wahan par control hota hai bahut ke saamne toh ghar par kyon nahi hota hai control karna ya na karna vaah sab apne hi depend hai aapko kahaan gussa karna hai kahaan gussa control karna hai vaah sab aap jante ho bus aapko hi control karna aur sab aapke bus mein hi hai gussa control karne ke liye toh aap gussa control kar sakte ho aur jab boss bolte tab gussa kaise control karte ho chupchap khade hokar man mein toh jwalamukhi padta hoga lekin tu bhi ab gussa control karte ho jaha dikhana hai wahan par gussa gussa mat dikhaao jo aapse kamjor hai un par gussa mat dikhaao sabse takatwar hai wahan jaakar gussa dikhaao toh hum baat maane aur jaha takatwar koi wahan par gussa dikhaoge toh pata hai aapki job chali jayegi toh kya karoge bichara lachar ho ki ab baithate ho apne man ko control kar sakte ho apne dimag control karte ho apne dimag ko man ko jo order karenge vaah wahi manega toh bus apne man aur dimag ko order kariye ki gussa nahi karna hai bewajah faltu ka yahan wahan ghum ke dimag kharab nahi karna hai bus wahi main in chijon ko sambhaal nahi hai aur aapko upay chahiye gussa control karne ke liye toh 100 se 1 tak ulti ginti kariye ek gilas paani p lijiye aapke man mein kuch accha sochiye yahi saare upay hai har roj subah meditation kariye toh bhi gussa control hoga aapka din shubha ho dhanyavad gullak par life care

आपका प्रश्न है बात बात पर गुस्सा आता गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए कि वह ना आए गुस्से को

Romanized Version
Likes  260  Dislikes    views  4755
WhatsApp_icon
user

Suraj Shaw

Entrepreneur, Career Counsellor

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स काफी अच्छा सवाल है गुस्से पर कंट्रोल कैसे करें देखिए जो गुस्सा नहीं करेगा वह हमें सिर्फ तभी आता है जब हमें लगता है कि हम कुछ कर सकते हैं अगर आपको आपके दोस्त पर गुस्सा आ रहा इसका मतलब आप अपने दोस्त को गुस्सा कर सकता है ना आपको अपने घरवालों को गुस्सा आ रहा है मतलब आपके घर वालों ने आपको इतनी छूट दे रखी है कि आप उन पर गुस्सा कर सकते आपकी लाइफ में भी ऐसे लोग होंगे जिन पर आप चाहकर भी गुस्सा नहीं कर सकते ना क्यों क्योंकि उन्होंने आपको परमिशन नहीं दी क्या आप उन पर गुस्सा करें तो एक तो यह रीजन होता है आना क्योंकि हमें पता है गुस्सा कर सकते हैं कैसे हम उन पर गुस्सा करते हैं दूसरी चीज अगर हमें इस चीज को सुधार नहीं है यही प्रॉब्लम होती है सारे बच्चों के साथ अगर उन्हें अपनी प्रॉब्लम पता है और अगर उनको चाहते हैं अपना गुस्सा कम करें तो बहुत सिंपल बहुत सिंपल सा जब भी गुस्सा है और कुछ करने का मन करे चलाने का मन करें किसी को मारने का मन करें कहीं जाने का मन करे कभी भी व्हाट व्हाट टू डू सिर्फ 10 सेकंड सिर्फ 10 सेकंड आप शांत हो जाए रिलैक्स हो जाएं कुछ मत सोचे किसी कोने में जाकर के बैठ गए किसी के साथ भी सिर्फ 10 सेकंड आफ कंट्रोल कीजिए कि आपको कुछ नहीं करना उस 10 सेकंड में आपका जो गुस्सा है वह बिल्कुल लो पर चला जायेगा जो आप का गुस्सा पीरफेताब कुछ करने जा रहे थे सिर्फ 10 सेकंड आप उस आपको उस गुस्से को खत्म कर देगा बिल्कुल तो आप ऐसा कर सकते हैं जब भी आपका मन करें जिससे पर गुस्सा करने का या कुछ ऐसे पर चलाने का आपको सिर्फ कंट्रोल करने थोड़ी देर और ही आपको हमेशा नहीं करना जब आप थोड़े दिन तक ऐसा फॉलो करेंगे तो फिर आपको इस चीज की आदत हो जाएगी और हर बार जब आप गुस्सा करने को सोचेंगे तो आप नहीं कर पाएंगे क्योंकि आपको इस चीज की आदत पड़ चुकी है ना हो पाप को समझ में आ गई होगी बात थैंक यू सो मच गई

hello friends kaafi accha sawaal hai gusse par control kaise kare dekhiye jo gussa nahi karega vaah hamein sirf tabhi aata hai jab hamein lagta hai ki hum kuch kar sakte hain agar aapko aapke dost par gussa aa raha iska matlab aap apne dost ko gussa kar sakta hai na aapko apne gharwaalon ko gussa aa raha hai matlab aapke ghar walon ne aapko itni chhut de rakhi hai ki aap un par gussa kar sakte aapki life mein bhi aise log honge jin par aap chahkar bhi gussa nahi kar sakte na kyon kyonki unhone aapko permission nahi di kya aap un par gussa kare toh ek toh yah reason hota hai aana kyonki hamein pata hai gussa kar sakte hain kaise hum un par gussa karte hain dusri cheez agar hamein is cheez ko sudhaar nahi hai yahi problem hoti hai saare baccho ke saath agar unhe apni problem pata hai aur agar unko chahte hain apna gussa kam kare toh bahut simple bahut simple sa jab bhi gussa hai aur kuch karne ka man kare chalane ka man kare kisi ko maarne ka man kare kahin jaane ka man kare kabhi bhi what what to do sirf 10 second sirf 10 second aap shaant ho jaaye relax ho jayen kuch mat soche kisi kone mein jaakar ke baith gaye kisi ke saath bhi sirf 10 second of control kijiye ki aapko kuch nahi karna us 10 second mein aapka jo gussa hai vaah bilkul lo par chala jayega jo aap ka gussa pirfetab kuch karne ja rahe the sirf 10 second aap us aapko us gusse ko khatam kar dega bilkul toh aap aisa kar sakte hain jab bhi aapka man kare jisse par gussa karne ka ya kuch aise par chalane ka aapko sirf control karne thodi der aur hi aapko hamesha nahi karna jab aap thode din tak aisa follow karenge toh phir aapko is cheez ki aadat ho jayegi aur har baar jab aap gussa karne ko sochenge toh aap nahi kar payenge kyonki aapko is cheez ki aadat pad chuki hai na ho paap ko samajh mein aa gayi hogi baat thank you so match gayi

हेलो फ्रेंड्स काफी अच्छा सवाल है गुस्से पर कंट्रोल कैसे करें देखिए जो गुस्सा नहीं करेगा वह

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  944
WhatsApp_icon
user

Karishma

Psychologist

2:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको सच्ची में आप के गुस्से पर कंट्रोल लाना है तो सबसे पहले तो आपको किसी भी चीज के ऊपर इस तरीके से हावी नहीं होना है या फिर किसी भी चीज को इस तरीके से रिजेक्ट ना करो जो आपको नेगेटिव थॉट्स में लेकर जाती है गुस्से को कंट्रोल करने के लिए आपको हर एक टाइम पर फोकस करना पड़ेगा कि आपके सामने जो परिस्थिति है उसमें एक्चुअल में मुझे करना क्या है अगर आप उस परिस्थिति को देखे अनदेखे करके या फिर उसको तुरंत ही आपने फोन कर दिया तो जाहिर सी बात है कि आपको सोचने समझने का मौका ही ना मिला तो बेहतर है क्या कोई भी परिस्थिति में कोई क्रिएशन ना देते हुए उस परिस्थिति के बारे में उस घटना के बारे में डिटेल तक जाए और सारी चीजों को जाने की कोशिश करें अगर आपको रिक्वायर्ड लगता है कि वहां पर गुस्सा होना चाहिए तो आप उसको इस तरीके से अपना कोर्ट प्रेजेंट करो कि आपको सच्ची में तब्दील हो अंदर से कि जो आपने डिसीज उसको मैंने सही तरीके से लिया है क्योंकि बाद में एक बार गुस्से में आकर ज्योति से बोली जाती है उसके पीछे जो पछतावा होता है वह तो रिपीट नहीं होती बहुत लंबे समय तक रहती है कंट्रोल घटना के बारे में डिटेल में जानिए उन लोगों से है कि ऐसा क्यों होता है और किसकी गलती थी या फिर किसी की गलती है तो उसको अट ए टाइम मत बोलो क्योंकि उसको भी थोड़ा टाइम चाहिए होता है कि ज्योति से उसने अपने आप से होती हो कैसे स्टेशन होती है कि अपने आप से ऐसा कुछ हो जाता है तो हम किसी को ब्लेम नहीं कर सकते तुम बहुत सोच विचार करना होगा और आपको जब भी गुस्सा आता है क्या पानी पी लीजिए आराम से सांसे गहरी और उसको सी है कि ऐसा क्यों हो रहा है उसके बजाय कि आप जाकर टूटी पढ़ो किसी के ऊपर कि मुझे पहले जानना होगा कि प्रॉब्लम क्या है इसके लिए मैं इतना गुस्सा हो रहा हो और उसके बाद आप ट्राई करो

agar aapko sachi mein aap ke gusse par control lana hai toh sabse pehle toh aapko kisi bhi cheez ke upar is tarike se haavi nahi hona hai ya phir kisi bhi cheez ko is tarike se reject na karo jo aapko Negative thoughts mein lekar jaati hai gusse ko control karne ke liye aapko har ek time par focus karna padega ki aapke saamne jo paristithi hai usme actual mein mujhe karna kya hai agar aap us paristithi ko dekhe anadekhe karke ya phir usko turant hi aapne phone kar diya toh jaahir si baat hai ki aapko sochne samjhne ka mauka hi na mila toh behtar hai kya koi bhi paristithi mein koi creation na dete hue us paristithi ke bare mein us ghatna ke bare mein detail tak jaaye aur saree chijon ko jaane ki koshish kare agar aapko required lagta hai ki wahan par gussa hona chahiye toh aap usko is tarike se apna court present karo ki aapko sachi mein tabdil ho andar se ki jo aapne disease usko maine sahi tarike se liya hai kyonki baad mein ek baar gusse mein aakar jyoti se boli jaati hai uske peeche jo pachtava hota hai vaah toh repeat nahi hoti bahut lambe samay tak rehti hai control ghatna ke bare mein detail mein janiye un logo se hai ki aisa kyon hota hai aur kiski galti thi ya phir kisi ki galti hai toh usko attack a time mat bolo kyonki usko bhi thoda time chahiye hota hai ki jyoti se usne apne aap se hoti ho kaise station hoti hai ki apne aap se aisa kuch ho jata hai toh hum kisi ko blame nahi kar sakte tum bahut soch vichar karna hoga aur aapko jab bhi gussa aata hai kya paani p lijiye aaram se sanse gehri aur usko si hai ki aisa kyon ho raha hai uske bajay ki aap jaakar tuti padho kisi ke upar ki mujhe pehle janana hoga ki problem kya hai iske liye main itna gussa ho raha ho aur uske baad aap try karo

अगर आपको सच्ची में आप के गुस्से पर कंट्रोल लाना है तो सबसे पहले तो आपको किसी भी चीज के ऊपर

Romanized Version
Likes  233  Dislikes    views  3282
WhatsApp_icon
user

RAJNISH SINGH

Teacher/Singer/Business.. What'sAp .7491907565

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने कुछ बात बात पर गुस्सा आता है यह कमियां है कि आप को नुकसान पहुंचा सकता है आप आराम से अंदर हो जाएगी थोड़ा थोड़ा गुस्से को शांत कीजिए मेरी गलती है और इस मच्छर को आप खुद करेंगे ठीक है फिजिकल कीजिए डोडिया

apne kuch baat baat par gussa aata hai yah kamiyan hai ki aap ko nuksan pohcha sakta hai aap aaram se andar ho jayegi thoda thoda gusse ko shaant kijiye meri galti hai aur is macchar ko aap khud karenge theek hai physical kijiye dodiya

अपने कुछ बात बात पर गुस्सा आता है यह कमियां है कि आप को नुकसान पहुंचा सकता है आप आराम से अ

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए गुस्सा एक प्राकृतिक गुण है जो सभी इंसान को आती है इससे बचने के लिए आप को समझना पड़ेगा कि गुस्सा सबसे पहले उसी को जलाती है जो गुस्सा करता है उसी कम नुकसान करता है जो गुस्सा करता है गुस्से में आदमी ऐसे से काम कर देता है जिस वजह से उसे लाइव भर पछताना पड़ता है इसलिए यह समझकर आपको गुस्से में कंट्रोल करना पड़ेगा जब भी गुस्सा आए तो आपको लंबी सांस लेनी है जिस वजह से वह गुस्सा कुछ क्षण के लिए रुक जाएगा इसलिए गुस्से पर कंट्रोल बहुत जरूरी है

dekhiye gussa ek prakirtik gun hai jo sabhi insaan ko aati hai isse bachne ke liye aap ko samajhna padega ki gussa sabse pehle usi ko jalati hai jo gussa karta hai usi kam nuksan karta hai jo gussa karta hai gusse mein aadmi aise se kaam kar deta hai jis wajah se use live bhar pachhataana padta hai isliye yah samajhkar aapko gusse mein control karna padega jab bhi gussa aaye toh aapko lambi saans leni hai jis wajah se vaah gussa kuch kshan ke liye ruk jaega isliye gusse par control bahut zaroori hai

देखिए गुस्सा एक प्राकृतिक गुण है जो सभी इंसान को आती है इससे बचने के लिए आप को समझना पड़ेग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user
3:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात बात पर गुस्सा आता है गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए तो मरना है भाई यह बड़े धीरे तक की चीज है लिरिक के साथ धीरे-धीरे गुस्सा कम होता जाता है समय अपने बलवान होता है समय के अनुरूप अपना पुलिस थी धीरे-धीरे ढलता है वह धीरे-धीरे अपने आप को अच्छाई को ले जाता है ग्रुप को कम करता है प्रारंभ में मनुष्य जब अपने कार्य में लगता है कि हर व्यक्ति ऐसा नहीं होता है कि वह गुस्सा ना करें कार्य के अधिकतर कार्य को सही ढंग से नहीं करने के कारण या कार्य को कोई व्यक्ति दरबार बंदूक निकालना यह सब कारण व्यक्ति को गुस्सा दिलाता है भक्ति के राम बसे हर व्यक्ति कितना अध्यक्ष अभाव एक नेचर बनावे दा है कोई प्रारंभ से इंसान तो संभोग करता है उन्हें कितना प्रयोग कराया जाएगा गुस्सा नहीं कर पाते कुछ व्यक्ति प्रारंभ से ही ऐसे टॉपिक पर बैठा हूं इससे गुस्सा करते रहते हैं समय देश में किसी के द्वारा साधन बातों को भी वह कंट्रोल नहीं कर पाता गुस्सा आता है तो फिर गुस्से का कहानी रहता है कि वह अपने आप को एक तो या तो सुपर केटेगरी यंत्र को मानता है या यह रहता है कि वह कार्य को अच्छे ढंग से नहीं कर पाता अपना पे विश्वास नहीं हो पाता है या विश्वास इतना अधिक करता है कि वह कार्य करते हैं उसको अपने आपको लगता है कि उसके कार्य में किसी प्रकार की कोई कमी है पैसे नहीं है तो और उसे किसी के द्वारा दिखाया जाता है कि देखो आपके द्वारा यह कार्य श्रेष्ठ ढंग से नहीं किया गई है अच्छे ढंग से नहीं करेगा तो उसको कोतवाल मारता है और वह बड़े तूफानी रूप से अपने गुस्से को उत्पन्न करता है अब बता दी है कि गुस्से को कंट्रोल कैसे किया जाए कि कम हो जाए या ना तो गुस्से को कंट्रोल करना धीरे-धीरे करके अपने आदतों को सुधार करके हम कर सकते हैं यदि कोई व्यक्ति हमें बार बार टूटता है उसको सहने की आदत धीरे-धीरे डालें और समझे और उसको जवाब दे शांति दे सकें उन्होंने बताया कि जो आप बोलते हो तारे भगत के बस में नहीं है और यह कार्य को इसमें शामिल किया है आप जिस बच्चे पर गलत हो तो आप एक बार फिर से इसको देखें और समझें कि मैंने जो किया वो सही किया है इससे धीरे-धीरे अपने बातों से से समझाए और वह उसे उसके बातों में जो कमी उनको दिखाई दे रे सुधार करें इसी प्रकार के धीरे धीरे कम करने का आदत डालें अपना को शांति रखें सकारात्मक सोच रखें भगवान शिव से प्रार्थना करें सुबह घूम के घूमने जाए मंत्र शांत रहेगा घूम कर आ कर अपने कार्य का विभाजन करें दिन भर के कार्य की चर्चा करेगी किससे कार्यक्रम आप को संपादित करना है 29 तारीख को किस-किस रूप में करना है आसानी से अपने कार्य को करने लगोगे कार्य पूर्ण होगा तो गुस्सा कम आएगा कार्य की अधिकता और कार्य को समय पर न करने का कारण क्या होता है कि क्रोध के अधिक मात्रा आती है फुल फॉर्म क्रोध करते हैं वह क्रोध बढ़ता जाता है पर दी यदि अंत समय निर्धारित करके समय पर उठकर समय पर कार्य करेंगे तो नीचे लिखे धीरे-धीरे वह कार्य पूर्ण होगा और कार्य पूर्ण होगा तो हमको भी होगा और शानदार को संतोष होगा वो सामने वाला हमें किसी प्रकार के दिन में नहीं दिखा देगा और इस रंगीन देखने एक निकालेगा हमारे भी गुस्सा नहीं करेगा वह हमें कुकड़ो जलाने को परेशान नहीं करेगा फलसफा में कौन आएगा और मन शांत होगा और इस प्रकार यदि क्रोध अधिक आ रहा है तो उसमें हम अपने आपको मन को शांत रखें या उस जगह से उठकर कहीं और थोड़ा से घूम फिर के बाहर से आ जाए तो मन शांत हो जाएगा उतना अपने कार्य में लग जाए और किसी प्रकार का किसी को जवाब गलत सजा देने का प्रयत्न करें तो क्रोध के धीरे-धीरे मात्राएं कम होगी धन्यवाद

baat baat par gussa aata hai gusse ko kaise control kiya jaaye toh marna hai bhai yah bade dhire tak ki cheez hai lirik ke saath dhire dhire gussa kam hota jata hai samay apne balwan hota hai samay ke anurup apna police thi dhire dhire dhalta hai vaah dhire dhire apne aap ko acchai ko le jata hai group ko kam karta hai prarambh mein manushya jab apne karya mein lagta hai ki har vyakti aisa nahi hota hai ki vaah gussa na kare karya ke adhiktar karya ko sahi dhang se nahi karne ke karan ya karya ko koi vyakti darbaar bandook nikalna yah sab karan vyakti ko gussa dilata hai bhakti ke ram base har vyakti kitna adhyaksh abhaav ek nature banave the hai koi prarambh se insaan toh sambhog karta hai unhe kitna prayog raya jaega gussa nahi kar paate kuch vyakti prarambh se hi aise topic par baitha hoon isse gussa karte rehte hain samay desh mein kisi ke dwara sadhan baaton ko bhi vaah control nahi kar pata gussa aata hai toh phir gusse ka kahani rehta hai ki vaah apne aap ko ek toh ya toh super category yantra ko manata hai ya yah rehta hai ki vaah karya ko acche dhang se nahi kar pata apna pe vishwas nahi ho pata hai ya vishwas itna adhik karta hai ki vaah karya karte hain usko apne aapko lagta hai ki uske karya mein kisi prakar ki koi kami hai paise nahi hai toh aur use kisi ke dwara dikhaya jata hai ki dekho aapke dwara yah karya shreshtha dhang se nahi kiya gayi hai acche dhang se nahi karega toh usko kotwal maarta hai aur vaah bade tufani roop se apne gusse ko utpann karta hai ab bata di hai ki gusse ko control kaise kiya jaaye ki kam ho jaaye ya na toh gusse ko control karna dhire dhire karke apne aadaton ko sudhaar karke hum kar sakte hain yadi koi vyakti hamein baar baar tootata hai usko sahane ki aadat dhire dhire Daalein aur samjhe aur usko jawab de shanti de sake unhone bataya ki jo aap bolte ho taare bhagat ke bus mein nahi hai aur yah karya ko isme shaamil kiya hai aap jis bacche par galat ho toh aap ek baar phir se isko dekhen aur samajhe ki maine jo kiya vo sahi kiya hai isse dhire dhire apne baaton se se samjhaye aur vaah use uske baaton mein jo kami unko dikhai de ray sudhaar kare isi prakar ke dhire dhire kam karne ka aadat Daalein apna ko shanti rakhen sakaratmak soch rakhen bhagwan shiv se prarthna kare subah ghum ke ghoomne jaaye mantra shaant rahega ghum kar aa kar apne karya ka vibhajan kare din bhar ke karya ki charcha karegi kisse karyakram aap ko sanpadit karna hai 29 tarikh ko kis kis roop mein karna hai aasani se apne karya ko karne lagoge karya purn hoga toh gussa kam aayega karya ki adhikata aur karya ko samay par na karne ka karan kya hota hai ki krodh ke adhik matra aati hai full form krodh karte hain vaah krodh badhta jata hai par di yadi ant samay nirdharit karke samay par uthakar samay par karya karenge toh niche likhe dhire dhire vaah karya purn hoga aur karya purn hoga toh hamko bhi hoga aur shandar ko santosh hoga vo saamne vala hamein kisi prakar ke din mein nahi dikha dega aur is rangeen dekhne ek nikalega hamare bhi gussa nahi karega vaah hamein kukdo jalane ko pareshan nahi karega falsafa mein kaun aayega aur man shaant hoga aur is prakar yadi krodh adhik aa raha hai toh usme hum apne aapko man ko shaant rakhen ya us jagah se uthakar kahin aur thoda se ghum phir ke bahar se aa jaaye toh man shaant ho jaega utana apne karya mein lag jaaye aur kisi prakar ka kisi ko jawab galat saza dene ka prayatn kare toh krodh ke dhire dhire matraen kam hogi dhanyavad

बात बात पर गुस्सा आता है गुस्से को कैसे कंट्रोल किया जाए तो मरना है भाई यह बड़े धीरे तक की

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
user

Chandrakant Shrivastav

Educationist N Counsellor. PD Trainer. Motivator

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बात-बात पर गुस्सा आना यह एक मानसिक बीमारी है मैंने कई लोग देखे हैं ऐसी बात पर उनको गुस्सा आ जाता है जो गुस्सा करने के लायक है ही नहीं इसमें होता है तो ऐसे लोगों को सीरियसली लेने की जरूरत पहली बात नहीं है और ऐसे ही बढ़ाते हैं खुद जलते हैं नुकसान उनका खुद का ही है आपकी बात समझिए आपको बार-बार गुस्सा आ रहा है किसी का कुछ नहीं बिगड़ेगा बॉडी आपकी रिएक्ट करेगी धड़कन ही आपकी बढ़ेगी सांसी आपकी खुलेगी जोर-जोर से सांस लोगे सांसो का संतुलन बिगड़ने से मृत्यु के करीब जाते हैं जैसे मोबाइल में टॉप टेन बड़ा होता है ना ऐसी कुदरत ने हमारे अंदर एक नंबर की सांसे भरी हुई है यदि उसको ज्यादा उपयोग करेंगे इंसानों का तो फिर इतनी सारी कम हो जाएगी हमारा विषय कम हो जाएगा अपने आप को शांत रखने के लिए सबसे पहले शांति जो है वह आप बाहर ढूंढिए और अंदर भी ढूंढकर ढूंढना पड़ेगा आपको बार-बार गुस्सा आता है उसके पीछे भी बहुत से कारण हो गए उनको और सबसे पहले तो भगवान से प्रार्थना कीजिए आप सुबह उठकर ईश्वर मुझे असीम शांति प्रदान कीजिए कि मैं शांत रहूं और दुनिया में भी शांति दूत बनो दिल से प्रार्थना कीजिए रिजल्ट अवश्य मिलेगा हम अपनी संस्कृति भूत रहे इसके वजह से सारी समस्याएं आई करके देखिए साहब दो तीन चार दिन में रिजल्ट आपको मिलेगा जब लगेगी जब मुझे गुस्सा आ रहा है बस मुंह से कुछ निकलने वाला है उसी स्थान को तुरंत छोड़ कर निकल जाइए नियम बना लीजिए जब भी गुस्सा आएगा मैं बाथरूम चला जाऊंगा बाथरूम के साबुन से हाथ का फायदा हो जाएगा और लोगों को पता चल जाएगा कि नहीं 1 दिन को गुस्सा आता है तो चले जाते हैं और आपको एक टेप इंप्रूव हो जाएगी फिर धीरे-धीरे आपको असीम शांति प्रदान होगी धन्यवाद

baat baat par gussa aana yah ek mansik bimari hai maine kai log dekhe hain aisi baat par unko gussa aa jata hai jo gussa karne ke layak hai hi nahi isme hota hai toh aise logo ko seriously lene ki zarurat pehli baat nahi hai aur aise hi badhate hain khud jalte hain nuksan unka khud ka hi hai aapki baat samjhiye aapko baar baar gussa aa raha hai kisi ka kuch nahi bigadega body aapki react karegi dhadkan hi aapki badhegi Sansi aapki khulegi jor jor se saans loge saanso ka santulan bigadne se mrityu ke kareeb jaate hain jaise mobile me top ten bada hota hai na aisi kudrat ne hamare andar ek number ki sanse bhari hui hai yadi usko zyada upyog karenge insano ka toh phir itni saari kam ho jayegi hamara vishay kam ho jaega apne aap ko shaant rakhne ke liye sabse pehle shanti jo hai vaah aap bahar dhundhiye aur andar bhi dhundhakar dhundhana padega aapko baar baar gussa aata hai uske peeche bhi bahut se karan ho gaye unko aur sabse pehle toh bhagwan se prarthna kijiye aap subah uthakar ishwar mujhe asim shanti pradan kijiye ki main shaant rahun aur duniya me bhi shanti dut bano dil se prarthna kijiye result avashya milega hum apni sanskriti bhoot rahe iske wajah se saari samasyaen I karke dekhiye saheb do teen char din me result aapko milega jab lagegi jab mujhe gussa aa raha hai bus mooh se kuch nikalne vala hai usi sthan ko turant chhod kar nikal jaiye niyam bana lijiye jab bhi gussa aayega main bathroom chala jaunga bathroom ke sabun se hath ka fayda ho jaega aur logo ko pata chal jaega ki nahi 1 din ko gussa aata hai toh chale jaate hain aur aapko ek tape improve ho jayegi phir dhire dhire aapko asim shanti pradan hogi dhanyavad

बात-बात पर गुस्सा आना यह एक मानसिक बीमारी है मैंने कई लोग देखे हैं ऐसी बात पर उनको गुस्सा

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  260
WhatsApp_icon
user
1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देंगे सबसे पहले तो हम आपसे यही राय कहेंगे कि गुस्सा को कंट्रोल करने के लिए अपने आपकी आंखें बंद कर लीजिए ताकि सामने की चीज जो गुस्से वाली चीज हो जो गुस्से वाला आदमी वह दिखाई नहीं देगा और मन के अंदर एक ऐसा भाव व्यक्त कीजिए कि अगला वाला आपको अच्छा दिखाई दे तो अब गुस्सा जाहिर सी बात है कि आएगा ही नहीं और जैसे कि कोई गुस्सा कर रहा है तो उसकी बातों का ध्यान मत दीजिए नमस्ते दोस्तों गुस्सा को कंट्रोल करने के लिए दोस्तों सबसे बड़ी एक यही उपाय है कि सामने वाले को कभी आप बुरा मत सोचो और जब भी सामने वाले से या सामने वाली चीज से आपको गुस्सा आता हो तो कृपया कर अपनी आंखें बंद कर ले कुछ क्षणों के लिए और उसमें से हट जाए और दूसरी चीज है कि खुद के बारे में सोचें और दूसरे के बारे में इतना ना सोचे जब अपने मन के अंदर अच्छा भाव वेट करेंगे अच्छा भाव प्रकट करेंगे अब अच्छा बर्ताव करेंगे तो जाहिर सी बात है कि आपको गुस्सा नहीं आएगा

denge sabse pehle toh hum aapse yahi rai kahenge ki gussa ko control karne ke liye apne aapki aankhen band kar lijiye taki saamne ki cheez jo gusse wali cheez ho jo gusse vala aadmi vaah dikhai nahi dega aur man ke andar ek aisa bhav vyakt kijiye ki agla vala aapko accha dikhai de toh ab gussa jaahir si baat hai ki aayega hi nahi aur jaise ki koi gussa kar raha hai toh uski baaton ka dhyan mat dijiye namaste doston gussa ko control karne ke liye doston sabse badi ek yahi upay hai ki saamne waale ko kabhi aap bura mat socho aur jab bhi saamne waale se ya saamne wali cheez se aapko gussa aata ho toh kripya kar apni aankhen band kar le kuch kshanon ke liye aur usme se hut jaaye aur dusri cheez hai ki khud ke bare mein sochen aur dusre ke bare mein itna na soche jab apne man ke andar accha bhav wait karenge accha bhav prakat karenge ab accha bartaav karenge toh jaahir si baat hai ki aapko gussa nahi aayega

देंगे सबसे पहले तो हम आपसे यही राय कहेंगे कि गुस्सा को कंट्रोल करने के लिए अपने आपकी आंखें

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!