सेवानिवृत्ति के बाद सेना के अधिकारी का जीवन कैसे बदल जाता है?...


play
user

Major Gen Ashim Kohli

Major General (Retd) of Indian Army with 36 years of experience

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चर्च मैंने बोला एक अलग बताया था कि एक आदमी एक अलग कल्चर है एक अलग तरह का की जीवन शैली है आपको उसमें बहुत साल से निकला क्या प्राप्त आर्मी के बाहर आते हैं कोई एक तारा एक कल्चर चेंज होता है आपके लिए जैसे 9 साल में गुजारे वापस आके मिले तुम कल सेट इंडिया क्योंकि आपको हर चीज सुव्यवस्थित मिलती है एक सुचारू ढंग से चलती है विनती है मेरे ख्याल से 99% हिस्से में सबसे एक चीज लोग दूसरे के दिमाग में होती है कि पैसा कैसे कमाया जाए उसके लिए कोई किसी का नहीं कर सकते कि वह क्या करेगा और हर चीज अगर आप देखे हैं सफाई पर ध्यान नहीं देना हेल्प पर ध्यान नहीं देना और एक रूटीन को अच्छे ढंग से चलाना वह नहीं होना और एक दूसरे के लिए इमोशंस कम होती जा रही है सोसायटी के अंदर समाज के अंदर एक दूसरे की मदद के लिए तो अचानक प्रीत जो जीवन शैली में आप आ जाती वार्मिग के बाहर निकल के तो जैसे मैंने जब आदमी मर जाते हो तो सबसे बड़ा चैलेंज आपको होता है आपको आपको मानसिक तौर के ऊपर बदलाव लाना पड़ती है क्या आप अपने मानसिक तौर पर अपने आप को दोबारा हम तो सुधरे में डालें लेकिन मैंने अटैचमेंट बोला था अपने बाकी ऑफिस को जब भी रिटायर होंगे यह ध्यान रखना कि आप अपना आर्मी काग्रेस अपने गढ़ बनाकर रखें ताकि लोग आपसे सीखे बजाय आप अपने आपको उसमें डालने की सोचें उस तरीके में जो तरीका ठीक नहीं

church maine bola ek alag bataya tha ki ek aadmi ek alag culture hai ek alag tarah ka ki jeevan shaili hai aapko usme bahut saal se nikala kya prapt army ke bahar aate hain koi ek tara ek culture change hota hai aapke liye jaise 9 saal mein gujare wapas aake mile tum kal set india kyonki aapko har cheez suvyavasthit milti hai ek sucharu dhang se chalti hai vinati hai mere khayal se 99 hisse mein sabse ek cheez log dusre ke dimag mein hoti hai ki paisa kaise kamaya jaaye uske liye koi kisi ka nahi kar sakte ki vaah kya karega aur har cheez agar aap dekhe hain safaai par dhyan nahi dena help par dhyan nahi dena aur ek routine ko acche dhang se chalana vaah nahi hona aur ek dusre ke liye emotional kam hoti ja rahi hai sociaty ke andar samaj ke andar ek dusre ki madad ke liye toh achanak prateet jo jeevan shaili mein aap aa jaati varmig ke bahar nikal ke toh jaise maine jab aadmi mar jaate ho toh sabse bada challenge aapko hota hai aapko aapko mansik taur ke upar badlav lana padti hai kya aap apne mansik taur par apne aap ko dobara hum toh sudhre mein Daalein lekin maine attachment bola tha apne baki office ko jab bhi retire honge yah dhyan rakhna ki aap apna army congress apne garh banakar rakhen taki log aapse sikhe bajay aap apne aapko usme dalne ki sochen us tarike mein jo tarika theek nahi

चर्च मैंने बोला एक अलग बताया था कि एक आदमी एक अलग कल्चर है एक अलग तरह का की जीवन शैली है आ

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  787
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!