क्या भारत का इकॉनमी ग्रोथ चिंता का विषय बनता जा रहा है? क्या कर रही है मोदी सरकार, आपकी क्या राय है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

8:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या भारत का इकोनामी ग्रोथ चिंता का विषय बनता जा रहा क्या कर रही है मोदी सरकार आपकी क्या राय है भारत का इकोनामिक ग्रोथ चिंता का विषय तो है ही है क्योंकि जनवरी माह 2015 में भारत का रिकॉर्ड मित्रों 5:30 प्रतिशत रहा था चाइना का ₹700 का फास्टेस्ट ग्रोइंग इकोनामी 2014 और 15 में हमें मिली थी उसने इंडिया का जो पवित्र तथा उसकी ग्रोथ द स्पॉट 15555 सेक्टर 4 कांटेक्ट एग्रीकल्चर ग्रोथ आफ 2% भारत को अगर ग्रुप करने हैं तो भविष्य में इन्वेस्टमेंट बढ़ाना पड़ेगा आईएमएफ के अनुसार जो इंडियन अनुरोध है 7:30 से 7:00 5% 2021 में जाकर होगा यह बहुत ही डेंजरस टाइम है क्योंकि हमारे भाई अमित ने अभी जो आंकड़े दिए हैं उसके हिसाब से तो 2019 में 5% के आसपास हमारी जीडीपी आ जाएगी हर साल 3 से लेकर 3:30 4:00 5% तक की रेंज में हमारा विरोध होता है तो वह व्यक्ति मायने में सही कहा जाता है लेकिन यह सोडा जो हो रहा है वह short-term नहीं ऐसा में नहीं मानना चाहिए कि यह स्लोडाउन जो हो रहा है वह कम है होने का कारण जो हमारे नेहरू विजन है उसकी वजह से लिबरेशन की वजह से मोरे विक्रमजोत काफी कम है 91 को मनमोहन सिंह ने कहा था हिंदी शायरियां अब इंडिया का समय है लेकिन जो कम हुआ है वर्तमान में इस समय जो इंडियन इकोनामी जॉब क्रिएशन में सही साबित नहीं भाई बहुत सारे कारण हैं il&fs की जो सिर सर्वेंट और उनकी लाइफस्टाइल काफी एंजॉय उन्होंने की थी बहुत सारे हुए थे ठीक है जो हो गया सो हो गया लेकिन जो हमें 11 सेक्टर में ध्यान देना चाहिए मोदी सरकार को एक को एक सेक्टर में ध्यान देना पड़ेगा चाहे वही कल्चर सेक्टर हो चाहे इंडस्ट्रियल सेक्टर हो यदि इंडस्ट्रियल सेक्टर हो या सर्विस सेक्टर होते हैं उसमें अगर 11 सेक्टर में अगर ध्यान दिया जाएगा उसको अभी कॉरपोरेट सेक्टर को उन्होंने बढ़ावा देने के लिए जो कदम उठाए लेकिन उसका फल अभी तक नहीं मिला हो सकता है कि आने वाले समय में इसका हमें रिजल्ट देखने को मिले लेकिन मोदी सरकार भले ही और क्षेत्रों में अच्छा कर रही हो दिखाओ कर रही हो अच्छा लेकिन इकोनॉमिक्स क्या है वह अभी तक क्लियर नहीं हो पाया है उसके कारण से जो गिरावट आई है वह तो अपना काम करिए लेकिन इंडियन मार्केट खुदी एक बहुत बड़ा कंस्यूमर मार्केट है अगर हम खाली अपने इंडियन कंजूमर मार्केट हिसाब से भी चले तो हमारी इंडियन इंडस्ट्रीज और इंडियन जो एग्रीकल्चर है और जो सेवा क्षेत्र है उसे बहुत स्कोप है घरेलू उद्योगों को घरेलू खेती को अगर बड़वा मिलेगा तभी जाकर इंडियन इकोनामी ग्रोथ करेगी ना उस को बढ़ावा देना वहीं मोदी सरकार का जन्म होना चाहिए वहीं उनकी फर्ज होनी चाहिए लोकेशन क्षेत्र में तो बहुत इन्वेस्टमेंट करना पड़ेगा तो इसके लिए और वह इनवेस्टमेंट करने के लिए एक विजन चाहिए कि हम किसी को ऐसे ही फैला दे देंगे हम कर्ज माफी की बहुत सारी स्कीम निकाल देंगे तो क्या कर्ज माफी से हमारा जीडीपी बढ़ जाएगा यह सब सोच होती है अलग-अलग नेताओं के अलग अलग सोच होती है और बहुत सारे हमारे को नॉमिस हैं हमारे देश में ऐसा नहीं है रघुराम राजन उसमें से एक थे तो रघुराम राजन जी के सब क्या किया हुआ क्या हुआ उनको फिर से विजय जाना पड़ा तो चलेगा लेकिन जो एक उनका विजन था उनके निधन को माफ तो देना चाहिए अपने जो महत्वाकांक्षा होती हैं जो अपनी सोच होती है कि जैसे कि महाराजा अकबर से तो उनके नवरत्न हुआ करते थे नवरत्न में एक एक से बढ़कर एक रत्न से अब आप उन रखो की कदर नहीं करेंगे तो फिर बाद में कैसे आपको रिजल्ट मिल पाएगा अब यह सोचे कि हम जिसके वह प्रखर विद्वान नहीं है और उस क्षेत्र में आप सोते किए अच्छा करते दिखाएंगे ऐसा कभी नहीं हुआ यही मिशन में फर्क है जो एक खामी हमें दिखाई देती है और रिजल्ट के रूप में भी इस तरह से अभी दिखाई दे रहा है हम्मा हम्मा हमारे नेताओं में एक खामी यह होती है कि वह अपने आप को सही साबित करने के लिए अच्छे-अच्छे जो मास्टर होते हैं उनको बोलना साबित करने की कोशिश करती हमारे देश में बैलेंस की कमी नहीं है ऐसा नहीं है कि टैलेंट नहीं है हमारे देश में अच्छे-अच्छे कॉन्डम्स बाहर जाकर और अपना नाम कर लेते हैं उनको बहुत सारे वर्ड मिल जाते हैं और भारत में उनकी कोई कदर नहीं होती है तो क्यों ना उन लोगों को हम अपने देश में इनवाइट करें और भारत के एक को नवमी को बढ़ावा देने के लिए जीडीपी बढ़ाने के लिए उनके समक्ष क्यों नहीं उनका सरकार ने क्या आता है कौन ना बोलता हमारे राजनेताओं को कौन रोक सकता है कि हम अच्छे इकोनॉमिक क्यों नहीं हम कर सकते जब चाइना कर सकता है अमेरिका कर सकता है काम क्यों नहीं कर सकते इसलिए सोच ऊंची होनी चाहिए और उसके लिए अकेला कोई इंसान नहीं कर सकता पूरी टीम बनानी पड़ती है इसलिए ऐसे सरकार की अपेक्षा हम मोदी जी से करते हैं ऐसे ही जन की अपेक्षा हर एक भारतवासी अपनी वर्तमान सरकार से आशा भरी नजरों से देख रहा धन्यवाद जय हिंद

kya bharat ka economy growth chinta ka vishay baata ja raha kya kar rahi hai modi sarkar aapki kya rai hai bharat ka economic growth chinta ka vishay toh hai hi hai kyonki january mah 2015 mein bharat ka record mitron 5 30 pratishat raha tha china ka Rs ka fastest growing economy 2014 aur 15 mein hamein mili thi usne india ka jo pavitra tatha uski growth the spot 15555 sector 4 Contact agriculture growth of 2 bharat ko agar group karne hai toh bhavishya mein investment badhana padega imf ke anusaar jo indian anurodh hai 7 30 se 7 00 5 2021 mein jaakar hoga yah bahut hi dangerous time hai kyonki hamare bhai amit ne abhi jo aankade diye hai uske hisab se toh 2019 mein 5 ke aaspass hamari gdp aa jayegi har saal 3 se lekar 3 30 4 00 5 tak ki range mein hamara virodh hota hai toh vaah vyakti maayne mein sahi kaha jata hai lekin yah soda jo ho raha hai vaah short term nahi aisa mein nahi manana chahiye ki yah slowdown jo ho raha hai vaah kam hai hone ka karan jo hamare nehru vision hai uski wajah se liberation ki wajah se more vikramjot kaafi kam hai 91 ko manmohan Singh ne kaha tha hindi shayriyan ab india ka samay hai lekin jo kam hua hai vartaman mein is samay jo indian economy job creation mein sahi saabit nahi bhai bahut saare karan hai il fs ki jo sir servant aur unki lifestyle kaafi enjoy unhone ki thi bahut saare hue the theek hai jo ho gaya so ho gaya lekin jo hamein 11 sector mein dhyan dena chahiye modi sarkar ko ek ko ek sector mein dhyan dena padega chahen wahi culture sector ho chahen Industrial sector ho yadi Industrial sector ho ya service sector hote hai usme agar 11 sector mein agar dhyan diya jaega usko abhi corporate sector ko unhone badhawa dene ke liye jo kadam uthye lekin uska fal abhi tak nahi mila ho sakta hai ki aane waale samay mein iska hamein result dekhne ko mile lekin modi sarkar bhale hi aur kshetro mein accha kar rahi ho dikhaao kar rahi ho accha lekin economics kya hai vaah abhi tak clear nahi ho paya hai uske karan se jo giraavat I hai vaah toh apna kaam kariye lekin indian market khudi ek bahut bada consumer market hai agar hum khaali apne indian consumer market hisab se bhi chale toh hamari indian industries aur indian jo agriculture hai aur jo seva kshetra hai use bahut scope hai gharelu udhyogo ko gharelu kheti ko agar barava milega tabhi jaakar indian economy growth karegi na us ko badhawa dena wahi modi sarkar ka janam hona chahiye wahi unki farz honi chahiye location kshetra mein toh bahut investment karna padega toh iske liye aur vaah investment karne ke liye ek vision chahiye ki hum kisi ko aise hi faila de denge hum karj maafi ki bahut saree scheme nikaal denge toh kya karj maafi se hamara gdp badh jaega yah sab soch hoti hai alag alag netaon ke alag alag soch hoti hai aur bahut saare hamare ko namis hai hamare desh mein aisa nahi hai raghuram rajan usme se ek the toh raghuram rajan ji ke sab kya kiya hua kya hua unko phir se vijay jana pada toh chalega lekin jo ek unka vision tha unke nidhan ko maaf toh dena chahiye apne jo mahatwakanksha hoti hai jo apni soch hoti hai ki jaise ki maharaja akbar se toh unke navratna hua karte the navratna mein ek ek se badhkar ek ratna se ab aap un rakho ki kadar nahi karenge toh phir baad mein kaise aapko result mil payega ab yah soche ki hum jiske vaah prakhar vidhwaan nahi hai aur us kshetra mein aap sote kiye accha karte dikhayenge aisa kabhi nahi hua yahi mission mein fark hai jo ek khami hamein dikhai deti hai aur result ke roop mein bhi is tarah se abhi dikhai de raha hai hamma hamma hamare netaon mein ek khami yah hoti hai ki vaah apne aap ko sahi saabit karne ke liye acche acche jo master hote hai unko bolna saabit karne ki koshish karti hamare desh mein balance ki kami nahi hai aisa nahi hai ki talent nahi hai hamare desh mein acche acche kandams bahar jaakar aur apna naam kar lete hai unko bahut saare word mil jaate hai aur bharat mein unki koi kadar nahi hoti hai toh kyon na un logo ko hum apne desh mein invite kare aur bharat ke ek ko navami ko badhawa dene ke liye gdp badhane ke liye unke samaksh kyon nahi unka sarkar ne kya aata hai kaun na bolta hamare rajnetao ko kaun rok sakta hai ki hum acche economic kyon nahi hum kar sakte jab china kar sakta hai america kar sakta hai kaam kyon nahi kar sakte isliye soch uchi honi chahiye aur uske liye akela koi insaan nahi kar sakta puri team banani padti hai isliye aise sarkar ki apeksha hum modi ji se karte hai aise hi jan ki apeksha har ek bharatvasi apni vartaman sarkar se asha bhari nazro se dekh raha dhanyavad jai hind

क्या भारत का इकोनामी ग्रोथ चिंता का विषय बनता जा रहा क्या कर रही है मोदी सरकार आपकी क्या र

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1403
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!