play
user

Rajiv Ranjan

Account student,social thinker

1:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह जो HDFC मामला है जिसके कारण 2 अप्रैल 2018 को भारत को बंद रखा गया जगह-जगह प्रदर्शन किए गए तोड़फोड़ की गई रैलियां निकाली गई वह मामला यह है कि पहले s t s e f तथा जिसके तहत अगर कोई भी व्यक्ति एसटी एससी जाति वालों को कुछ भी अनुचित शब्द खाता था तो वह उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट यीशु करवा सकता था और उसे उसकी तुरंत गिरफ्तारी होती थी और फिर अग्रिम जमानत भी नहीं दी जाती थी परंतु सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट में इस एक्ट में संशोधन करते हुए यह बतलाया कि अगर कोई भी ऐसा मामला उभरता है तो सबसे पहले उसकी अच्छे से जांच की जाए बिना सबूत के आधार पर किसी को गिरफ्तार नहीं किया जाए 1 डिस्ट्रिक्ट लेवल ऑफिसर की अप्रूवल दी जाए और साथ ही साथ 7 दिनों तक का वक्त भी लिया जाए परंतु सुख ST वालों ने इसे अपने अधिकारों का हनन समझा और उन्होंने इतने बड़े हंगामे को अंजाम दिया परंतु यह सुप्रीम कोर्ट ने इसलिए किया था क्योंकि हाल ही में ऐसे लगभग 13 से 14 साल के शख्स का पता जितने कि SC ST वालों ने फर्जी किया है तो इसी कारण सुप्रीम कोर्ट ने यह कानून में संशोधन किया था क्योंकि इस पर बहुत ज्यादा फर्जीवाड़े हो रहे थे और ST वालों को भी सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करना चाहिए क्योंकि सुप्रीम कोर्ट जब भी कोई भी फैसला सुनाती है तो वह हमारे हित नहीं होता है देश के नागरिकों के हित में भी होता हित में ही होता है तो इसी कारण परंतु एसटी-एससी वालों ने ऐसा नहीं किया और उन्होंने इतने बड़े हंगामे को अंजाम दिया जो कि बहुत ही गलत था

yah jo HDFC maamla hai jiske karan 2 april 2018 ko bharat ko band rakha gaya jagah jagah pradarshan kiye gaye thorphor ki gayi railiyan nikali gayi vaah maamla yah hai ki pehle s t s e f tatha jiske tahat agar koi bhi vyakti ST SC jati walon ko kuch bhi anuchit shabd khaata tha toh vaah uske khilaf gair jamaanati warrant yeshu karva sakta tha aur use uski turant giraftari hoti thi aur phir agrim jamanat bhi nahi di jaati thi parantu supreme court ne is act mein is act mein sanshodhan karte hue yah batlaya ki agar koi bhi aisa maamla ubharata hai toh sabse pehle uski acche se jaanch ki jaaye bina sabut ke aadhaar par kisi ko giraftar nahi kiya jaaye 1 district level officer ki approval di jaaye aur saath hi saath 7 dino tak ka waqt bhi liya jaaye parantu sukh ST walon ne ise apne adhikaaro ka hanan samjha aur unhone itne bade hangame ko anjaam diya parantu yah supreme court ne isliye kiya tha kyonki haal hi mein aise lagbhag 13 se 14 saal ke sakhs ka pata jitne ki SC ST walon ne farji kiya hai toh isi karan supreme court ne yah kanoon mein sanshodhan kiya tha kyonki is par bahut zyada pharjivaade ho rahe the aur ST walon ko bhi supreme court ka sammaan karna chahiye kyonki supreme court jab bhi koi bhi faisla sunati hai toh vaah hamare hit nahi hota hai desh ke nagriko ke hit mein bhi hota hit mein hi hota hai toh isi karan parantu ST SC walon ne aisa nahi kiya aur unhone itne bade hangame ko anjaam diya jo ki bahut hi galat tha

यह जो HDFC मामला है जिसके कारण 2 अप्रैल 2018 को भारत को बंद रखा गया जगह-जगह प्रदर्शन किए ग

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  166
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!