क्या कुण्डलीनी जागरण करना सही हैं?...


user

Akhil

Yoga Expert

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडलिनी एक शक्ति है जो सभी मनुष्यों में सुप्त रूप में है इसका स्थान रीड की हड्डी के नीचे का स्थान है कुंडलिनी जागरण के लिए आवश्यक है कि व्यक्ति अपने जीवन चर्या को नियंत्रित करें और पवित्र करें इसके जागरण पर विभिन्न शक्तियां आती हैं जिससे बड़े से बड़े काम बड़े आसानी से हो सकते हैं कुंडलिनी जागरण की साधना के लिए शरीर और मन की पवित्रता अत्यंत आवश्यक है क्योंकि अगर इस शक्ति का दुरुपयोग होता है तो यह व्यक्ति का विनाश कर सकती है कुंडलिनी जागरण सभी के लिए अनिवार्य नहीं है परंतु जो व्यक्ति यह साधना करते हैं उनको एक योग्य गुरु का मार्गदर्शन अवश्य देना चाहिए

kundalini ek shakti hai jo sabhi manushyo me supt roop me hai iska sthan read ki haddi ke niche ka sthan hai kundalini jagran ke liye aavashyak hai ki vyakti apne jeevan charya ko niyantrit kare aur pavitra kare iske jagran par vibhinn shaktiyan aati hain jisse bade se bade kaam bade aasani se ho sakte hain kundalini jagran ki sadhna ke liye sharir aur man ki pavitrata atyant aavashyak hai kyonki agar is shakti ka durupyog hota hai toh yah vyakti ka vinash kar sakti hai kundalini jagran sabhi ke liye anivarya nahi hai parantu jo vyakti yah sadhna karte hain unko ek yogya guru ka margdarshan avashya dena chahiye

कुंडलिनी एक शक्ति है जो सभी मनुष्यों में सुप्त रूप में है इसका स्थान रीड की हड्डी के नीचे

Romanized Version
Likes  265  Dislikes    views  2914
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं कुंडली जागरण करना सही नहीं है यदि आप ध्यान करते हैं और वह भी हृदय पर ध्यान करते हैं तो आपका जैसे जैसे पवित्र होता जाएगा आपकी सारी कुंडलियां शुद्ध और पवित्र होती जागृत करने की कोई जरूरत नहीं है उन्हें कभी भी जागृत नहीं की जाती यदि आपकी कुंडली आपके चक्र सुधार पवित होते चले जाएंगे और आप आगे बढ़ते चले जाएंगे तो आप ध्यान करें और आगे बढ़े

nahi kundali jagran karna sahi nahi hai yadi aap dhyan karte hain aur vaah bhi hriday par dhyan karte hain toh aapka jaise jaise pavitra hota jaega aapki saari kundaliyan shudh aur pavitra hoti jagrit karne ki koi zarurat nahi hai unhe kabhi bhi jagrit nahi ki jaati yadi aapki kundali aapke chakra sudhaar pavit hote chale jaenge aur aap aage badhte chale jaenge toh aap dhyan kare aur aage badhe

नहीं कुंडली जागरण करना सही नहीं है यदि आप ध्यान करते हैं और वह भी हृदय पर ध्यान करते हैं त

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  291
WhatsApp_icon
user

mohit

8307747204 Founder Abhyasa Yogshala

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

परम सत्य की ज्ञान के लिए जो परम सत्य है उसके ज्ञान के लिए कुंडलिनी जागरण करना आवश्यक है योग का लक्ष्य है और मोक्ष की प्राप्ति संभव होगी कुंडलिनी जागरण करने के बाद तू हमें सही रास्ते पर चलते हुए कुंडलिनी जागृत करने के लिए हमें इसका अभ्यास करना चाहिए योग के द्वारा योग की विभिन्न क्रियाएं हो सकती हैं योग के विभिन्न प्रकार हो सकते हैं जैसे क्रिया योग कर्म योग राजयोग हठ योग अष्टांग योग आप विभिन्न रास्तों पर जाकर कुंडलिनी जागृत कर सकते हैं धन्यवाद

param satya ki gyaan ke liye jo param satya hai uske gyaan ke liye kundalini jagran karna aavashyak hai yog ka lakshya hai aur moksha ki prapti sambhav hogi kundalini jagran karne ke baad tu hamein sahi raste par chalte hue kundalini jagrit karne ke liye hamein iska abhyas karna chahiye yog ke dwara yog ki vibhinn kriyaen ho sakti hain yog ke vibhinn prakar ho sakte hain jaise kriya yog karm yog rajyog hath yog ashtanga yog aap vibhinn raston par jaakar kundalini jagrit kar sakte hain dhanyavad

परम सत्य की ज्ञान के लिए जो परम सत्य है उसके ज्ञान के लिए कुंडलिनी जागरण करना आवश्यक है यो

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user

Dr. Mahesh Mohan Jha

Asst. Professor,Astrologer,Author

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या कुंडलिनी जागरण करना सही है अपने आध्यात्मिक विकास के लिए आप कुंडलिनी जागरण कर सकते हैं किंतु कुंडलिनी जागरण यह क्रिया एक बहुत ही जटिल किया है और इसको करने के लिए किसी योग्य गुरु या साधक के सानिध्य में ही करना चाहिए तथा खाली ही हो सकती है

namaskar aapka prashna hai kya kundalini jagran karna sahi hai apne aadhyatmik vikas ke liye aap kundalini jagran kar sakte hain kintu kundalini jagran yah kriya ek bahut hi jatil kiya hai aur isko karne ke liye kisi yogya guru ya sadhak ke sanidhya me hi karna chahiye tatha khaali hi ho sakti hai

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या कुंडलिनी जागरण करना सही है अपने आध्यात्मिक विकास के लिए आप कुं

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कुंडलिनी जागरण करना सही है जी हां कुंडली जागरण करना सही है पर हमारी जो सभी दोस्त था जो है वह काफी सदस्य मानसिकता विनती है कुंडली जागरण एक तरफ से योग है और वह टेक्निक जो है वह काफी प्राचीन है लेकिन योग्य शुरू और योग्य शिक्षा के अभाव में कुंडली जागरण करना पॉसिबल नहीं है इसलिए योग्य मार्गदर्शन सही कुंडली जागरण करना चाहिए और आत्म कल्याण और करना चाहिए

kya kundalini jagran karna sahi hai ji haan kundali jagran karna sahi hai par hamari jo sabhi dost tha jo hai vaah kaafi sadasya mansikta vinati hai kundali jagran ek taraf se yog hai aur vaah technique jo hai vaah kaafi prachin hai lekin yogya shuru aur yogya shiksha ke abhaav mein kundali jagran karna possible nahi hai isliye yogya margdarshan sahi kundali jagran karna chahiye aur aatm kalyan aur karna chahiye

क्या कुंडलिनी जागरण करना सही है जी हां कुंडली जागरण करना सही है पर हमारी जो सभी दोस्त था ज

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  1196
WhatsApp_icon
user

Anil Kumar Tiwari

Yoga, Meditation & Astrologer

9:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण ही क्या कुंडली जागरण करना सही है उत्तर है केवल कुंडली जागरण करना ही सही है और कुछ भी सही नहीं है इसके अलावा आप जो कुछ भी करते हैं तिरछी से कुंडलिनी जागृत होती है जाने अनजाने में तो सीधा उसी मार्ग पर क्यों ना चलते हम करते हैं भाव विभोर होकर कीर्तन करती है कुंडली जागृत जागृत होती है नृत्य करते हैं परमात्मा के आगे नृत्य करते हैं भाव धान गेहूं भाव भंगिमा में भरकर के कुंडली जागृत करते हैं कुंडली जागरण होती है अनुलोम-विलोम प्राणायाम भर्ती का परिणाम करते हैं कुंडली जागृत होती है या कोई मंत्र जपते हैं जैसे आप जिसे अपने चरण होते हैं गायत्री मंत्र का पुरश्चरण सवा लाख सवा सवा लाख के अनुष्ठान करते हैं इससे भी कुंडली जागृत होती है दुर्गा का पाठ अनुष्ठान करते हैं इससे भी कुंडली जागृत हो सूट आपकी कुंडली पर ही पड़ती है अगर मुझसे मिलेंगे तो मैं बताऊंगा सनातन धर्म के जितने शास्त्र हैं जितनी पुस्तकें हैं जितने पूजा-पाठ हैं उनका कुंडली से कैसा संबंध है यह बात अलग है कि योगी हठयोगी डायरेक्ट कुंडली की बात करता है मगर यह साधक यह जो ग्रंथ है जैसे आप रस्सी श्रीरामचरितमानस लीजिए गीता लीजिए श्रीमद् भागवत कथा लीजिए समुद्र मंथन लीजिए यह बात तो नहीं करते कि मगर इनकी जो प्रिया है उससे शक्ति कुंडली ही होती है ऊर्जा वितरण बसी कुंडली कुंडली आप ऐसा सब्जी किस प्रकार की आपके अंदर जो सूक्त ऊर्जा है उसको जगाना है या ऐसा नहीं कह सकते हैं भक्त मार दिए तो ऐसा कह सकते जो आत्मा बुझी बुझी सी है उसको खिलाना है या कोई कमल का फूल भीतर बुझाबु जाता है उसको खिलाना है कुल मिलाकर के संसार की कोई भी पूजा कर ले वह जगनी कुंडली ही है इसके कई मार्ग है एक माल नहीं इसके कई मार गए भक्ति बाग से कुंडली जन्मकुंडली जगती है ज्ञान मार्ग से कुंडली जाती है साधना मार्ग से कुछ सीख से कुंडली जगती है पंत मार्ग से कुंडली जगती है मंत्रियों से कुंडली जगती है हठयोग से कुंडली जगती है और जो कुंडल निशब्द दिया गया है यह विशेष करके हट योग का शब्द हठयोग में कुंडली दिया गया है ज्यादा मैं आपको अभी क्या बताऊं अभी चलिए बता रहा हूं आपको यह जो हम शिवलिंग की पूजा करते हैं शंकर जी की पूजा करते हैं जाने अनजाने में हम कुंडलिनी की ही पूजा करते हैं जो शंकर जी के ऊपर 3:30 तेरे नाम लेता हुआ है यह किस चीज का प्रतीक है उसी कुंडलिनी शक्ति का प्रतीक है बहुत बड़ा रहस्य है अभी स्टडी चार्ट गंभीरता से और स्पेल लंबे विचार करना संभव नहीं है कुल मिलाकर कि अभी इतना कहा जा सकता है इसके साथ और जोड़ सकता हूं आप डायल करते हैं लाइक के साथ बिल्कुल भाव विभोर होकर के मस्ती के साथ कोई गायन करते हैं वह वादे बजाते हैं कोई संगीतज्ञ हैं तबला बजाते हैं हनु नियम बजाते अपने आनंद के लिए अपने भाव के लिए इसमें यह ध्यान रखिएगा अगर तबला हारमोनियम बांसुरी गाना कोई वाद आप आर्थिक दृष्टि से बजा रहे हैं किसके बजाने में आपको कोई आर्थिक लाभ होगा या कहीं से पैसे मिलेंगे या कहीं सम्मान मिलेगा कोई देख रहा होगा कोई सुनने वाला होगा अगर इस भाव से बाजार हेतु भक्ति भाव नहीं है उससे कुछ ना होगा क्योंकि सारा सारा जवाब का मूल बिंदु है मूल जो आपका 1m है वह वह रहेगा इतना बजाऊंगा इतना अच्छा बजाऊंगा इतने पैसे आएंगे इतना ना मिलेगा इतना यश मिलेगा बस चूक जाएंगे निस्वार्थ भाव से अपनी प्रसन्नता के लिए जब आप वाद्य का काम करते हैं कोई संगीत का काम करते हैं लाइव के साथ तबला हो हरमोनियम हो ढोलक हो जान हो घड़ी हो बांसुरी हो गिटार हो सितारों कुछ भी आप बजाएंगे तो इससे सकरी कुंडली होगी चलिए छोड़िए और एक बात बताता हूं अगर कोई बच्चा स्कूल में पढ़ने वाला बड़ी तन्मयता के साथ बड़े एकाग्रता के साथ विद्यार्थी विषय में बात करते हैं अभी हमने कहा कि विद्यार्थी कोई गणित का विद्यार्थी है अपने कोर्स को गणित के विज्ञान के सामानों को बोझ मान करके नहीं पड़ रहा है पास करना है यह मान के नहीं पड़ रहा है अपने आनंद से के लिए पढ़ाए सबको आनंद मिलता है ऐसा नहीं किसी को हिंदी में आनंद है किसी को अंग्रेजी में आने दे तो किसी को विज्ञान में भी आनंद आता है रुचि आती है तभी तो पैदा होते हैं उसमें उसको आनंद आ रहा जब उसको आनंद आ रहा तो बड़ी तन्मयता के साथ एकाग्रता के साथ बड़े आनंद से उसके साथ गणित के सवालों को हल करेगा इससे क्या होगा एकाग्रता तन्मयता एकाग्रता कर लेता और बढ़ती जाएगी और जितनी एकाग्रता और तन्मयता की लाइव बढ़ती जाएगी उतनी ही अनुपात में जाने अनजाने में शरीर के अंदर बैठी हुई जो नारी है कुंडली कि वह सक्रिय होना शुरू हो जाएगी इस सूत्र है तू के का गुरु तुम तन में हुए तुम मस्त हुए तुम सुनने हुए तुम विचार सुने हुए तुम निराकार सून हुए इतना जहां तुम हुए नहीं कि कुंडलिनी शक्ति सक्रिय होकर के जगली शुरू हो जाएगी सारा का सारा टीम कुंडलिका है यह लोगों ने आपको डलवा रखा समाज में कुंडली जागरण करो को तैसा हो जाएगा ऐसा हो जाएगा हो जाएगा बड़ा खतरनाक पॉइंट इसको नहीं करना चाहिए बहुत खतरनाक चीज है बड़ा बड़ा भय होता है बिना वह तो ठीक है कि बिना गुरु के कुछ नहीं करना चाहिए मगर कुंडली ऐसी चीज नहीं कितनी भयानक डरावनी हरि परमात्मा की उर्जा मैं तो कहता हूं कि साधु संत जो धोखा देते हैं समाज में जिस चीज से कुंडली बड़ी आसानी से विधियों से सक्रिय हो जाती है तो विधि क्यों नहीं देते सीधे-सीधे विधि देते हो ना कीर्तन से भी यह होना जाग-जाग से भी है मंत्र जाप जला देंगे सानू आदमी इसमें लगा रहेगा उसको पता नहीं क्यों ना मंत्र जाप से हल कीजिए देगी और जब विशेष ही कुंडल निन्नाडे चितचोर करने की विधियां योग शास्त्रों में दी है तो उस पर क्यों नहीं अमल करते हो इसलिए मेरी सुनो ना जगत के अन्य लोगों को सुनो जो कुंडली की बुराई करते हैं तो यम अभ्यास शुरू करो स्वयं कहीं से दीक्षा लेकर के जान लेकर के अभ्यास शुरू करो अभ्यास शुरू करने के बाद साल डेढ़ साल में खुद परिणाम देखो एक तराजू लेलु उत्तरा जून में कुंडली जागरण की विधि के पहले आप की मनोदशा भाव दशा और मन कैसा था ऊर्जा कैसी थी और कुंडलिनी जागरण की साधना आपने साल डेढ़ साल रेगुलर किया उसके बाद आज रात की आत्मिक उर्जा आत्मबल ज्ञान बुद्धि तन्मयता आनंद उत्साह कितना बड़ा इन दोनों के तराजू में तोल लो अब खुद फैसला कर लेंगे कि जो कर रहे हैं सही है या गलत गलत होता तो चल छोड़ दें सही हो तो कहने पर भी छोड़ नहीं सकते हैं लाख का आ जाए अब आपसे ना कोई कहे कुंडली जागरण ना करो आप उसकी तरफ देख के हंस देंगे मेरी बात अच्छी लगी हो कुछ समझ में आई हो तो कमेंट करिएगा कुछ पूछना हो तो कुंडली बिग के विषय में जो कुछ भी आपको पूछना हो किसी भी इंग्लिश से सब आप पूछते रहिए उत्तर आपको नहीं करेंगे धन्यवाद नमस्ते

krishna hi kya kundali jagran karna sahi hai uttar hai keval kundali jagran karna hi sahi hai aur kuch bhi sahi nahi hai iske alava aap jo kuch bhi karte hain tirchi se kundalini jagrit hoti hai jaane anjaane mein toh seedha usi marg par kyon na chalte hum karte hain bhav vibhor hokar kirtan karti hai kundali jagrit jaagarrett hoti hai nritya karte hain paramatma ke aage nritya karte hain bhav dhaan gehun bhav bhangima mein bharkar ke kundali jagrit karte hain kundali jagran hoti hai anulom vilom pranayaam bharti ka parinam karte hain kundali jagrit hoti hai ya koi mantra japte hain jaise aap jise apne charan hote hain gayatri mantra ka purashcharan sava lakh sava sava lakh ke anushthan karte hain isse bhi kundali jagrit hoti hai durga ka path anushthan karte hain isse bhi kundali jagrit ho suit aapki kundali par hi padti hai agar mujhse milenge toh main bataunga sanatan dharm ke jitne shastra hain jitni pustakein hain jitne puja path hain unka kundali se kaisa sambandh hai yah baat alag hai ki yogi hathyogi direct kundali ki baat karta hai magar yah sadhak yah jo granth hai jaise aap rassi Shriramcharitmanas lijiye geeta lijiye shrimad bhagwat katha lijiye samudra manthan lijiye yah baat toh nahi karte ki magar inki jo priya hai usse shakti kundali hi hoti hai urja vitaran basi kundali kundali aap aisa sabzi kis prakar ki aapke andar jo sukta urja hai usko jagaana hai ya aisa nahi keh sakte hain bhakt maar diye toh aisa keh sakte jo aatma bujhi bujhi si hai usko khilana hai ya koi kamal ka fool bheetar bujhabu jata hai usko khilana hai kul milakar ke sansar ki koi bhi puja kar le vaah jaguni kundali hi hai iske kai marg hai ek maal nahi iske kai maar gaye bhakti bagh se kundali janmakundali jagati hai gyaan marg se kundali jaati hai sadhna marg se kuch seekh se kundali jagati hai pant marg se kundali jagati hai mantriyo se kundali jagati hai hathyog se kundali jagati hai aur jo kundal nishabd diya gaya hai yah vishesh karke hut yog ka shabd hathyog mein kundali diya gaya hai zyada main aapko abhi kya bataun abhi chaliye bata raha hoon aapko yah jo hum shivling ki puja karte hain shankar ji ki puja karte hain jaane anjaane mein hum kundalini ki hi puja karte hain jo shankar ji ke upar 3 30 tere naam leta hua hai yah kis cheez ka prateek hai usi kundalini shakti ka prateek hai bahut bada rahasya hai abhi study chart gambhirta se aur spell lambe vichar karna sambhav nahi hai kul milakar ki abhi itna kaha ja sakta hai iske saath aur jod sakta hoon aap dial karte hain like ke saath bilkul bhav vibhor hokar ke masti ke saath koi gaayan karte hain vaah waade bajaate hain koi sangitagya hain tabla bajaate hain hanu niyam bajaate apne anand ke liye apne bhav ke liye isme yah dhyan rakhiega agar tabla Harmonium bansuri gaana koi vad aap aarthik drishti se baja rahe hain kiske bajane mein aapko koi aarthik labh hoga ya kahin se paise milenge ya kahin sammaan milega koi dekh raha hoga koi sunne vala hoga agar is bhav se bazaar hetu bhakti bhav nahi hai usse kuch na hoga kyonki saara saara jawab ka mul bindu hai mul jo aapka 1m hai vaah vaah rahega itna bajaunga itna accha bajaunga itne paise aayenge itna na milega itna yash milega bus chuk jaenge niswarth bhav se apni prasannata ke liye jab aap vadhya ka kaam karte hain koi sangeet ka kaam karte hain live ke saath tabla ho haramoniyam ho dholak ho jaan ho ghadi ho bansuri ho guitar ho sitaron kuch bhi aap bajaenge toh isse sakari kundali hogi chaliye chodiye aur ek baat batata hoon agar koi baccha school mein padhne vala badi tanmayata ke saath bade ekagrata ke saath vidyarthi vishay mein baat karte hain abhi humne kaha ki vidyarthi koi ganit ka vidyarthi hai apne course ko ganit ke vigyan ke samanon ko bojh maan karke nahi pad raha hai paas karna hai yah maan ke nahi pad raha hai apne anand se ke liye padhaye sabko anand milta hai aisa nahi kisi ko hindi mein anand hai kisi ko angrezi mein aane de toh kisi ko vigyan mein bhi anand aata hai ruchi aati hai tabhi toh paida hote hain usme usko anand aa raha jab usko anand aa raha toh badi tanmayata ke saath ekagrata ke saath bade anand se uske saath ganit ke sawalon ko hal karega isse kya hoga ekagrata tanmayata ekagrata kar leta aur badhti jayegi aur jitni ekagrata aur tanmayata ki live badhti jayegi utani hi anupat mein jaane anjaane mein sharir ke andar baithi hui jo nari hai kundali ki vaah sakriy hona shuru ho jayegi is sutra hai tu ke ka guru tum tan mein hue tum mast hue tum sunne hue tum vichar sune hue tum nirakaar soon hue itna jaha tum hue nahi ki kundalini shakti sakriy hokar ke jagali shuru ho jayegi saara ka saara team kundalika hai yah logo ne aapko dalwa rakha samaj mein kundali jagran karo ko taisa ho jaega aisa ho jaega ho jaega bada khataranaak point isko nahi karna chahiye bahut khataranaak cheez hai bada bada bhay hota hai bina vaah toh theek hai ki bina guru ke kuch nahi karna chahiye magar kundali aisi cheez nahi kitni bhayanak daravni hari paramatma ki urja main toh kahata hoon ki sadhu sant jo dhokha dete hain samaj mein jis cheez se kundali badi aasani se vidhiyon se sakriy ho jaati hai toh vidhi kyon nahi dete sidhe seedhe vidhi dete ho na kirtan se bhi yah hona jag jag se bhi hai mantra jaap jala denge sanu aadmi isme laga rahega usko pata nahi kyon na mantra jaap se hal kijiye degi aur jab vishesh hi kundal ninnade chitchor karne ki vidhiyan yog shastron mein di hai toh us par kyon nahi amal karte ho isliye meri suno na jagat ke anya logo ko suno jo kundali ki burayi karte hain toh yum abhyas shuru karo swayam kahin se diksha lekar ke jaan lekar ke abhyas shuru karo abhyas shuru karne ke baad saal dedh saal mein khud parinam dekho ek taraju lelu uttara june mein kundali jagran ki vidhi ke pehle aap ki manodasha bhav dasha aur man kaisa tha urja kaisi thi aur kundalini jagran ki sadhna aapne saal dedh saal regular kiya uske baad aaj raat ki atmik urja atmabal gyaan buddhi tanmayata anand utsaah kitna bada in dono ke taraju mein tol lo ab khud faisla kar lenge ki jo kar rahe hain sahi hai ya galat galat hota toh chal chod de sahi ho toh kehne par bhi chod nahi sakte hain lakh ka aa jaaye ab aapse na koi kahe kundali jagran na karo aap uski taraf dekh ke hans denge meri baat achi lagi ho kuch samajh mein I ho toh comment kariega kuch poochna ho toh kundali big ke vishay mein jo kuch bhi aapko poochna ho kisi bhi english se sab aap poochhte rahiye uttar aapko nahi karenge dhanyavad namaste

कृष्ण ही क्या कुंडली जागरण करना सही है उत्तर है केवल कुंडली जागरण करना ही सही है और कुछ भी

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  531
WhatsApp_icon
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए कुंडलिनी जागरण का अर्थ बताएं कि आप से अज्ञान से ज्ञान की ओर बढ़े आप हमेशा ऊपर की तरफ अग्रसर हो आपको हमेशा और गति को प्राप्त करें कभी अधोगति को प्राप्त ना करें जिससे मैं आपको अतिथि अंधकार से प्रकाश की ओर चलने का मार्ग अपनाते हैं तो वही आपका जीवन का उद्देश्य बन जाता है आप हमेशा सकारात्मक जीवन जीते हैं सकारात्मक जीवन जीना हमारे जीवन का उद्देश्य है तो कुंडलिनी जागरण का अर्थ है अंधकार से उजाले की और पढ़ना है धन्यवाद

dekhiye kundalini jagran ka arth bataye ki aap se agyan se gyaan ki aur badhe aap hamesha upar ki taraf agrasar ho aapko hamesha aur gati ko prapt kare kabhi adhogati ko prapt na kare jisse main aapko atithi andhakar se prakash ki aur chalne ka marg apanate hain toh wahi aapka jeevan ka uddeshya ban jata hai aap hamesha sakaratmak jeevan jeete hain sakaratmak jeevan jeena hamare jeevan ka uddeshya hai toh kundalini jagran ka arth hai andhakar se ujale ki aur padhna hai dhanyavad

देखिए कुंडलिनी जागरण का अर्थ बताएं कि आप से अज्ञान से ज्ञान की ओर बढ़े आप हमेशा ऊपर की तरफ

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  230
WhatsApp_icon
user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडलिनी जागरण करना इतना सरल और सहज नहीं है यह बोलने में अच्छा लगता है लेकिन इसे वास्तविक रूप से करने में बरसों युग जाते हैं और कड़ी तपस्या मेहनत करना पड़ती है कुंडली जागरण का जो कल लेता है वह परम ज्ञानी को ज्ञानी बन जाता है

kundalini jagran karna itna saral aur sehaz nahi hai yah bolne mein accha lagta hai lekin ise vastavik roop se karne mein barson yug jaate hain aur kadi tapasya mehnat karna padti hai kundali jagran ka jo kal leta hai vaah param gyani ko gyani ban jata hai

कुंडलिनी जागरण करना इतना सरल और सहज नहीं है यह बोलने में अच्छा लगता है लेकिन इसे वास्तविक

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1586
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्या कुंडली जागरण करना चाहिए देखिए कुंडली जागरण करना सही है अभी आप चाहते हैं तो बताते तो आप कर सकते हैं लेकिन किसी कुशल योग गुरु के निर्देशन में ही करें अन्यथा आपको हानि की संभावना रहेगी धन्यवाद

aapka kya kundali jagran karna chahiye dekhiye kundali jagran karna sahi hai abhi aap chahte hain toh batatey toh aap kar sakte hain lekin kisi kushal yog guru ke nirdeshan mein hi kare anyatha aapko hani ki sambhavna rahegi dhanyavad

आपका क्या कुंडली जागरण करना चाहिए देखिए कुंडली जागरण करना सही है अभी आप चाहते हैं तो बताते

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  2177
WhatsApp_icon
user

जय किशन मौर्य

टेलर मास्टर

1:11
Play

Likes  10  Dislikes    views  293
WhatsApp_icon
user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुंडली जागरण करना सही होता है क्योंकि यह करने से शांति होती है और विशिष्ट रूप से देखा जाए तो इस पूजा में कई लोगों को शामिल होना और इसे एक धीरज एक दरिया बना रहता है घर में और घर में जो है सुख शांति की भावना होती है इस हिसाब से कुंडलिनी जागरण चाहिए जरूरी होती है

kundali jagran karna sahi hota hai kyonki yah karne se shanti hoti hai aur vishisht roop se dekha jaaye toh is puja mein kai logo ko shaamil hona aur ise ek dheeraj ek dariya bana rehta hai ghar mein aur ghar mein jo hai sukh shanti ki bhavna hoti hai is hisab se kundalini jagran chahiye zaroori hoti hai

कुंडली जागरण करना सही होता है क्योंकि यह करने से शांति होती है और विशिष्ट रूप से देखा जाए

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!