भारतीय संविधान के अनुच्छेद 361 में क्या है?...


user

Prabhat Kumar

Teacher at Oxford English High School 7 year experience

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अनुच्छेद 361 संघ के राष्ट्रपति और राज्यों के राज्यपालों के लिए कुछ विशेष नियमों का उपबंध करता है भारत के राष्ट्रपति या राज्यों के राज्यपाल किसी भी ऐसे कार्य जो कि उनके कार्यकाल या कर्तव्यों के हेतु किया गया हो उनके लिए साधारण न्यायालय के प्रति उत्तरदाई नहीं है जब तक राष्ट्रपति और राज्यपाल अपने पद पर है तब तक उनके विरुद्ध कोई भी आपराधिक वाद नहीं चलाया जा सकता है जब तक राष्ट्रपति और राज्यपाल पद पर बने हैं तब तक उनके विरुद्ध गिरफ्तारी आकर आवास देने की प्रक्रिया ना तो शुरू की जाएगी नहीं जारी रहेगी ऐसे किसी दो विरुद्ध कार्य के लिए उन्हें पद ग्रहण करने के पूर्व जो किया है उस सिविल वाद की प्रक्रिया तब तक नहीं जारी की जाएगी जब तक वह उस पद पर आसीन है या उनको इस नोटिस दिए हुए 2 माह हो चुके हो या पद में हटने के बाद 2 माह बीत चुके हैं इन नियमों का अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि राष्ट्रपति और राज्यपाल को विधि विरुद्ध कार्य करने की इजाजत है उनके विरुद्ध भी आवश्यक और उचित कार्रवाई की जा सकती है जो कि अनुबंधों के अधीन है

anuched 361 sangh ke rashtrapati aur rajyo ke rajyapalon ke liye kuch vishesh niyamon ka upabandh karta hai bharat ke rashtrapati ya rajyo ke rajyapal kisi bhi aise karya jo ki unke karyakal ya kartavyon ke hetu kiya gaya ho unke liye sadhaaran nyayalaya ke prati uttardai nahi hai jab tak rashtrapati aur rajyapal apne pad par hai tab tak unke viruddh koi bhi apradhik vad nahi chalaya ja sakta hai jab tak rashtrapati aur rajyapal pad par bane hain tab tak unke viruddh giraftari aakar aawas dene ki prakriya na toh shuru ki jayegi nahi jaari rahegi aise kisi do viruddh karya ke liye unhe pad grahan karne ke purv jo kiya hai us civil vad ki prakriya tab tak nahi jaari ki jayegi jab tak vaah us pad par aaseen hai ya unko is notice diye hue 2 mah ho chuke ho ya pad mein hatane ke baad 2 mah beet chuke hain in niyamon ka arth yah bilkul nahi hai ki rashtrapati aur rajyapal ko vidhi viruddh karya karne ki ijajat hai unke viruddh bhi aavashyak aur uchit karyawahi ki ja sakti hai jo ki anubandhon ke adheen hai

अनुच्छेद 361 संघ के राष्ट्रपति और राज्यों के राज्यपालों के लिए कुछ विशेष नियमों का उपबंध क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  11
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
अनुच्छेद 147 ; अनुच्छेद 361 ; anuched 147 ; anuched 361 kya hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!