जजिया कर किसने शुरू किया था ?...


play
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी हम बात करें जजिया कर की तो देखा जाए तो यह एक ऐसा करें जो कि हमारे इस्लामिक चाचा कुतुबुद्दीन ऐबक ने पहली बार गैर मुसलमानों पर लगाया था जो आज भी कहा जाता है सोलहवीं शताब्दी में इसे मुगल शासक अकबर द्वारा समाप्त कर दिया गया था लेकिन 17 वीं शताब्दी में जो उनके और उनके बच्चे उनके अकबर ने चाहा कि लोगों के लिए हेल्पलाइन के आने के बाद

abhi hum BA at kare jajeeya kar ki toh dekha jaaye toh yah ek aisa kare jo ki hamare islamic chacha kutubuddin aibak ne pehli BA ar gair musalmanon par lagaya tha jo aaj bhi kaha jata hai solahavin shatabdi mein ise mughal shasak akbar dwara samapt kar diya gaya tha lekin 17 vi shatabdi mein jo unke aur unke BA cche unke akbar ne chaha ki logo ke liye helpline ke aane ke BA ad

अभी हम बात करें जजिया कर की तो देखा जाए तो यह एक ऐसा करें जो कि हमारे इस्लामिक चाचा कुतुबु

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  225
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

shweta1994soni

Mppsc aspiriant

0:00
Play

जजिया कर को सर्वप्रथम भारत में गुलाम वंश के शासक कुतुबद्दीन ऐबक ने लागू किया था.इसका समय 1206 से 1210 के मध्य था जजिया कर गैर मुस्लिमों पर लगाया जाने वाला कर था उनसे यह कर मुस्लिम शासकों द्वारा उनकी सुरक्षा करने के लिए हर्जाने के रूप में लिया जाता था। मुस्लिम शासक इस कर से एकत्रित हुए धन का प्रयोग सेना सबंधी खर्च उठाने के लिए किया करते थे। इस कर के लिए एक नियम बनाया गया था कि जो भी व्यक्ति मुस्लिम धर्म स्वीकार कर लेगा उस पर जजिया कर नही लगाया जाएगा इसका एक प्रभाव ये हुआ कि जो गरीब व्यक्ति यह कर दे पाने में असमर्थ होता था उसे इस्लाम कबूल करने पर विवश होना पड़ता था। इसलिए इस कर को मुस्लिम शासकों द्वारा अपने धर्म को फैलाने के लिए रचे गए षड्यंत्र की तरह देखा जाता था!!!

jajeeya kar ko sarvapratham bharat mein gulam vansh ke shasak kutubddin aibak ne laagu kiya tha iska samay 1206 se 1210 ke madhya tha jajeeya kar gair muslimo par lagaya jaane vala kar tha unse yah kar muslim shaasakon dwara unki suraksha karne ke liye harjane ke roop mein liya jata tha muslim shasak is kar se ekatrit hue dhan ka prayog sena sabandhi kharch uthane ke liye kiya karte the is kar ke liye ek niyam BA naya gaya tha ki jo bhi vyakti muslim dharm sweekar kar lega us par jajeeya kar nahi lagaya jaega iska ek prabhav ye hua ki jo garib vyakti yah kar de paane mein asamarth hota tha use islam kabool karne par vivash hona padta tha isliye is kar ko muslim shaasakon dwara apne dharm ko felane ke liye rache gaye shadyantra ki tarah dekha jata tha

जजिया कर को सर्वप्रथम भारत में गुलाम वंश के शासक कुतुबद्दीन ऐबक ने लागू किया था.इसका समय 1

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  24
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
जजिया कर किसने लगाया ; जजिया कर किसने हटाया ; jajiya kar kisne lagu kiya ; jajiya kar kisne lagu kiya tha ; jajiya kar kisne shuru kiya tha ; जजिया कर किसने लगाया था ; jajiya कर kisne lagaya था ; जजिया कर पुनः किसने लगाया ; jajiya kar kisne lagaya tha ; जजिया कर की शुरुआत किसने की ; जजिया कर दीजिए ; जजिया कर सबसे पहले किसने लगाया ; सर्वप्रथम जजिया कर किसने लगाया था ; jajiya कर kisne lagaya ; जजिया कर ; jajiya kar kisne hataya ; भारत में सर्वप्रथम जजिया कर किसने लगाया था ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!