काव्य की विशेषता बताएँ?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

काव्य की विशेषताएं कई विशेषताएं रवि एक ऐसा स्वरूप है ऐसी शैली है जिसमें अलंकार वर्षों की प्रधानता है समावेश से का विग्रह जा सकता है पढ़ा जा सकता है अनुभव किया जा सकता है उसका आनंद लिया जा सकता है इसलिए का वीडियो मनोरंजन बाइक रेसिंग सीखने प्रेरणात्मक सभी तरह से रोहतक हैं आकर्षक हैं प्रिय लोकप्रिय हैं वे साहित्य की गद्य शैली

kavya ki visheshtayen kai visheshtayen ravi ek aisa swaroop hai aisi shaili hai jisme alankar varshon ki pradhanta hai samavesh se ka vigrah ja sakta hai padha ja sakta hai anubhav kiya ja sakta hai uska anand liya ja sakta hai isliye ka video manoranjan bike racing sikhne prernatmak sabhi tarah se rohatak hain aakarshak hain priya lokpriya hain ve sahitya ki gadya shaili

काव्य की विशेषताएं कई विशेषताएं रवि एक ऐसा स्वरूप है ऐसी शैली है जिसमें अलंकार वर्षों की प

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  729
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुड इवनिंग जान डांस बिकिनी बिलास शर्मा फ्रॉम कृष्ण काव्य की विशेषताएं की तो बहुत सारे विशेषताएं नहीं दिन में आपको बहुत संक्षिप्त रूप में बताऊंगी कि काव्य किसे कहते हैं कभी की क्या मुख्य विशेषता है कभी की मुख्य विशेषता यह है कि काव्य रही है जिसे गाया जा सके काबिल गए जिसमें एक लहू कब भेजो एक तुकांत हो एक तू और एक मैं हूं एक ताल हूं जिसे अच्छे सर में गाए जा सके काव्य है जिसमें शब्दों की रचना सुदृढ़ हो सरल बहुत सरल हो लेकिन तार्किक हूं बहुत गम में हूं अच्छी हो यह मेरा और दूसरी विशेषता दो भाषा की विशेषताएं बताने के लिए दो लेकिन अभी नहीं बताऊंगी मैं आपको थैंक्यू

good evening jaan dance bikini bilas sharma from krishna kavya ki visheshtayen ki toh bahut saare visheshtayen nahi din mein aapko bahut sanshipta roop mein bataungi ki kavya kise kehte hain kabhi ki kya mukhya visheshata hai kabhi ki mukhya visheshata yah hai ki kavya rahi hai jise gaaya ja sake kaabil gaye jisme ek lahoo kab bhejo ek tukant ho ek tu aur ek main hoon ek taal hoon jise acche sir mein gaayen ja sake kavya hai jisme shabdon ki rachna sudridh ho saral bahut saral ho lekin tarkik hoon bahut gum mein hoon achi ho yah mera aur dusri visheshata do bhasha ki visheshtayen batane ke liye do lekin abhi nahi bataungi main aapko thainkyu

गुड इवनिंग जान डांस बिकिनी बिलास शर्मा फ्रॉम कृष्ण काव्य की विशेषताएं की तो बहुत सारे विशे

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
user

Ht Kanhaiya dubey

I'm a psychologist, Mind Programming , Spritual & Memory Power Expert Clinical Hypnotherapist, life Coach

1:53
Play

Likes  8  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kavyansh ki bhasha ki do visheshta ka ullekh kijiye ; kavya ki bhasha ki do visheshta ka ullekh kijiye ; काव्य की भाषा की दो विशेषताओं का उल्लेख कीजिए ; kavya ki bhasha ki do visheshtaen ka ullekh kijiye ; kavyansh ki bhasha ki do visheshtaen ; kavyansh ki bhasha ki do visheshtaen ka ullekh kijiye ; kavya ki visheshtaen ; काव्यांश की भाषा की दो विशेषताएं ; kavyansh ki bhasha ki do visheshta ; kavyansh ki bhasha ki do visheshtaon ka ullekh kijiye ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!