क्या यह सच है कि कश्मीर प्रशासनिक सेवा की चयन प्रक्रिया में मुसलमानों के प्रति पूर्वाग्रह है?...


user

Neeraj Gupta Bakshi

Director, Finance, Kashmir Administrative Service

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक सिंपल कह सकती हूं कि मैं खुद सिलेक्ट हुए थे हमारे तो 50% हम लोग को यहां के लोग हमारी सिलेक्शन में तो ऐसा कुछ नहीं लगा कि ऐसा हुआ है तो आ जाना कि अब कभी हिंदू ज्यादा हो सकती है तू कहीं ना कहीं होती है स्पेशली किया जाएगा या कहीं तो होगा हमारे टाइम में तो बिल्कुल ही बसैया शेमारू एंटरटेनमेंट डॉग मेडिसिन

ek simple keh sakti hoon ki main khud select hue the hamare toh 50 hum log ko yahan ke log hamari selection mein toh aisa kuch nahi laga ki aisa hua hai toh aa jana ki ab kabhi hindu zyada ho sakti hai tu kahin na kahin hoti hai speshli kiya jaega ya kahin toh hoga hamare time mein toh bilkul hi basaiya shemaroo Entertainment dog medicine

एक सिंपल कह सकती हूं कि मैं खुद सिलेक्ट हुए थे हमारे तो 50% हम लोग को यहां के लोग हमारी सि

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  939
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश में हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई कई धर्मों के लोग निवास करते हैं हमारी बगिया में कई प्रकार के फूल है भारत एक फुलवारी है इसमें नाना प्रकार के हैं और मुसलमान भी उसी फुलवारी के पुष्प हैं इसके पहले मुसलमानों को वोट बैंक बनाने के लिए स्पेशल ट्रीटमेंट दिया जाता था जो अब नहीं हो रहा है समतामूलक समाज की जब कल्पना होगी सबके लिए एक समान प्रक्रिया अपनाई जाएगी तो जिनको स्पेशल ट्रीटमेंट दिया जाता था जो लोग उन्हें वोट बैंक बना करके रखते उनको दुख लगेगा लेकिन ऐसा कुछ हो नहीं रहा भारत में फिलहाल जो भी हो रहा है सबके लिए हो रहा है सबको समान रूप से देखा जा

hamare desh mein hindu muslim sikh isai kai dharmon ke log niwas karte hain hamari BAGIYA mein kai prakar ke fool hai bharat ek phulwari hai isme nana prakar ke hain aur musalman bhi usi phulwari ke pushp hain iske pehle musalmanon ko vote bank banane ke liye special treatment diya jata tha jo ab nahi ho raha hai samatamulak samaj ki jab kalpana hogi sabke liye ek saman prakriya apnai jayegi toh jinako special treatment diya jata tha jo log unhe vote bank bana karke rakhte unko dukh lagega lekin aisa kuch ho nahi raha bharat mein filhal jo bhi ho raha hai sabke liye ho raha hai sabko saman roop se dekha ja

हमारे देश में हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई कई धर्मों के लोग निवास करते हैं हमारी बगिया में कई प्

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  976
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

4:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तस्वीर प्रशासन प्रक्रिया नहीं चाहिए लेकिन राजनीतिक चाल चली जा रही है हम सच कहें तो यह कहा जाता है कि तुम्हारे जैसे समर्थक हमने बहुत देखी मरियमपुर से चमचागिरी करने की अरे जनों के संकट पड़ेगा उसमें हिंदू को बताने हिंदू नहीं आएगा उतारा संकट के समय नफरत पैदा करने वाली मिटाने वाले क्योंकि पुलिस विभाग सरकार का विमान सूचना पर पुलिस के जवानों पर उनको पुलिस प्रशासन को बीच जनता आमने सामने आ जाए तो क्या यह सिख दंगों में नहीं देखा पाकिस्तान की बिल्कुल राजनीति कर रही है अपनी बात जनता के सामने रखें

tasveer prashasan prakriya nahi chahiye lekin raajnitik chaal chali ja rahi hai hum sach kahein toh yah kaha jata hai ki tumhare jaise samarthak humne bahut dekhi mariyamapur se chamchagiri karne ki are jano ke sankat padega usme hindu ko batane hindu nahi aayega utara sankat ke samay nafrat paida karne wali mitne waale kyonki police vibhag sarkar ka Vimaan soochna par police ke jawano par unko police prashasan ko beech janta aamane saamne aa jaaye toh kya yah sikh dango mein nahi dekha pakistan ki bilkul raajneeti kar rahi hai apni baat janta ke saamne rakhen

तस्वीर प्रशासन प्रक्रिया नहीं चाहिए लेकिन राजनीतिक चाल चली जा रही है हम सच कहें तो यह कहा

Romanized Version
Likes  262  Dislikes    views  2463
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!