आपने कम्पनी खोलते समय किन मुश्किलों का सामना किया?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:31

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कंपनी करते समय किन मुश्किलों का सामना किया उनकी कंपनी खोलते समय बहुत ही मुश्किलें आती हैं सब लाइसेंस लेने के लिए फैक्ट्री एक्ट लाइसेंस लेने के लिए शॉप एक्ट लाइसेंस लेने के लिए बैंक से लोन लेने के लिए मशीनों का आर्डर देख कर और मशीनों को स्थापित करने के लिए बहुत मेहनत मांग लेता है बहुत ही मुश्किल आई थी और यह सब करने में काफी समय भी लगा और काफी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा 11 ऑफिस पर अखंड दत्तक चक्कर लगाने पड़ते थे बैंक के चक्कर लगा लगा कर भी संख्या का पंजा के लोन सेक्शन हुआ खुद भी पैसे का इंतजाम करना था बहुत ही कम जो कैपिटल थी और वहीं कैपिटल तो बहुत ही कम सीमित मात्रा में नकली पृथ्वी कांग्रेस ने बहुत ही मुसीबतों का सामना करना पड़ा और कल अपनी स्टार्ट करने के लिए भी बिजली विभाग चक्कर लगाने पड़े हर जगह पैसे मांगे जाते थे उसके दिनांक फाइल आगे नहीं पड़ती थी खासकर बिजली विभाग में बहुत ही हमारे यहां फैला हुआ है भ्रष्टाचार कनेक्शन पास कराने के लिए फाइल आगे बढ़ाने के लिए हर जगह थोड़े बहुत पैसे देने पर इसलिए करते समय मुसीबतों का सामना करके और किसी तरह स्टार्ट की तब जाकर धीमे-धीमे कंपनी शुरू हुई पूरी रात के साथ ले लेकिन अनुभव ना होने के कारण होती नुकसानी का सामना करना पड़ा फिर किधर करना 4:30 के बाद किस करने लगा और आटे का धन्यवाद

company karte samay kin mushkilon ka samana kiya unki company kholte samay bahut hi mushkilen aati hain sab license lene ke liye factory act license lene ke liye shop act license lene ke liye bank se loan lene ke liye machino ka order dekh kar aur machino ko sthapit karne ke liye bahut mehnat maang leta hai bahut hi mushkil I thi aur yah sab karne mein kafi samay bhi laga aur kafi dikkaton ka bhi samana karna pada 11 office par akhand dattak chakkar lagane padate the bank ke chakkar laga laga kar bhi sankhya ka panja ke loan section hua khud bhi paise ka intajam karna tha bahut hi kam jo capital thi aur wahin capital toh bahut hi kam simit matra mein nakli prithvi congress ne bahut hi musibaton ka samana karna pada aur kal apni start karne ke liye bhi bijli vibhag chakkar lagane pade har jagah paise mange jaate the uske dinank file aage nahi padti thi khaskar bijli vibhag mein bahut hi hamare yahan faila hua hai bhrashtachar connection paas karane ke liye file aage badhane ke liye har jagah thode bahut paise dene par isliye karte samay musibaton ka samana karke aur kisi tarah start ki tab jaakar dhime dhime company shuru hui puri raat ke saath le lekin anubhav na hone ke karan hoti nuksani ka samana karna pada phir kidhar karna 4 30 ke baad kis karne laga aur aate ka dhanyavad

कंपनी करते समय किन मुश्किलों का सामना किया उनकी कंपनी खोलते समय बहुत ही मुश्किलें आती हैं

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1251
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Binay Krishna Shivam

Co-Founder & COO @ TapChief

2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू ही मुश्किल है तो बहुत सारी होती है अलग-अलग प्रकार की होती हैं क्योंकि खासकर हमारे इसमें ज्योति हमको पांडे सर हम तीनों में से किसी के पास किसी भी प्रकार का बिजनेस कैसे खड़ी करते हैं रजिस्टर करते हैं क्या करना पड़ता है क्या किस तरीके से आपको अपना जो कैपिटल है या फिर आपको आपके जीवन में भी शक है उनको कैसे खोलना पड़ता है क्या करना पड़ता है तो हम लोग हमें बात करनी है उसके साउंडिंग ज्योति कैसे कनविंस करना है टू जॉइन कैसे आप अपना टीम बनाते हैं उसको मुश्किलों की तरह अगर देखेगा तो काफी अलग हो जाएगा इसके बाद से घी कैसे हमने उसको सामना किया हमारा बस यही चीज करनी है और जो भी ऐसे लोग जो आपको बताते हैं कि ऐसे निवेशक मिलेंगे दोस्त मिलेंगे जो आप अपने आसपास के लोग जिन्होंने किसी भी प्रकार का बिजनेस किया है उनसे उनसे बात कीजिए अगर जरूरत पड़े ऐसे सवालों के बारे में बता सकते हैं आप कहीं पर भी पढ़ते हैं यहां पर मैं उसके आगे भी आती

tu hi mushkil hai toh bahut saree hoti hai alag alag prakar ki hoti hain kyonki khaskar hamare isme jyoti hamko pandey sir hum teenon mein se kisi ke paas kisi bhi prakar ka business kaise khadi karte hain register karte hain kya karna padta hai kya kis tarike se aapko apna jo capital hai ya phir aapko aapke jeevan mein bhi shak hai unko kaise kholna padta hai kya karna padta hai toh hum log hamein baat karni hai uske sounding jyoti kaise kanavins karna hai to join kaise aap apna team banate hain usko mushkilon ki tarah agar dekhega toh kafi alag ho jaega iske baad se ghee kaise humne usko samana kiya hamara bus yahi cheez karni hai aur jo bhi aise log jo aapko batatey hain ki aise niveshak milenge dost milenge jo aap apne aaspass ke log jinhone kisi bhi prakar ka business kiya hai unse unse baat kijiye agar zaroorat pade aise sawalon ke bare mein bata sakte hain aap kahin par bhi padhte hain yahan par main uske aage bhi aati

तू ही मुश्किल है तो बहुत सारी होती है अलग-अलग प्रकार की होती हैं क्योंकि खासकर हमारे इसमें

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  821
WhatsApp_icon
user

Prabhu

Consultant : Marketing : PR

6:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिजनेस है किसी कंपनी को खोलने के लिए सबसे पहले आपको एक चीज पर काम करना पड़ेगा रेडियम आपको यह तय करना पड़ेगा आप करना क्या चाहते हैं और इसके बाद ही आपको कंपनी की नींव रखते कंपनी खोलने का सबसे बड़ा प्रॉब्लम सबसे शुरुआती दौर पर जो प्रॉब्लम होता है जो समस्याएं होती है वह है कंपनी के नाम को लेकर के या फिर कंपनी किस एड्रेस के ऊपर काम करती है उसे डियर को कंपनी का नाम देते हैं आपको पैसे की समस्या होती है और जहां तक मैं उसे मैं बताऊंगा कि जब मैं थोड़ी सी कंपनी खोलने के लिए जब मैंने सोचा तो मैंने अपनी हड्डियां पर काम किया मैंने से राय लिया बहुत सारे लोग मुझे फीडबैक दिया कुछ बुरे लोग आउट पर जाते तो कंपनी खुलेंगे कि सबसे पहले मैंने कौन से ध्यान रखना पड़ा मुझे काफी देर के साथ मैंने काम शुरू किया लोगों की प्रतिक्रिया मेरे काम के प्रति बहुत ही विपरीत और सही नहीं थी लोगों ने काफी रोकने की कोशिश की और उसके बारे में काफी मुझे सुनाया गया था जब मैं शुरू कर रहा था मुझे काफी मुश्किल है कि सामना किया तुम्हें समझ गया था कि अब जो काम सही कहा चीजें हैं जो सही काम मुश्किल से शुरू होती है तो मैंने दिमाग में बैठा लिया था और काफी समय से नहीं कि मैं को मैनेज कर सकूं मैं लोगों की जरूरत होती है फिर मैं स्टाफ रख सकूं मैं खुद ही आगे बढ़ा करने के लिए और कंपनी के लिए मैं खुद अभी से लेकर के पोछे लगाने वाला था मैं सारा काम मुझे ही करना पड़ रहा था और मैं याद करता हूं काफी संघर्षपूर्ण था मेरा काम और अब आप जनता सबसे बड़ी समस्या पैसे की थी लेकिन उन पैसों को मैं सोचा था मैं कहां से लू लू लू या फिर घरवाली से कैसे मदद करें मेडिसिन मेरा तो तुम मुझे भी और पैसे की व्यवस्था करा तो मैं किसी को लोड नहीं देना चाहता यार पैसे मांगने नहीं जा रहा था कि मुझे पैसे चाहिए और मुझे कंपनी और सबसे बड़ी चीज ताकि मैं अकेला था मैंने अपने दोस्त को कुछ बोला कि एक साथ देने के लिए किन चुकी है उनकी खुद की अपनी समस्या थी और इसलिए वह मेरे साथ नहीं सके लेकिन मैं चला कर भी गुजर रहा था कि उनसे सलाह मिलती किसी प्रकार की सलाह और इस पर कि मुझे वित्तीय सहायता बिल्कुल नहीं मिली लेकिन मैंने सोचा कि मुझे साड़ी पर काम करना ही है और सूरज दोनों गाड़ियां लोगों को पसंद नहीं आ रहा था कि चलेगा भी नहीं नहीं चलेगा तो मुझे काफी समस्या हो तो और मैं समझता हूं कि आपको सही लोग सही जगह और बहुत जरूरी है मुझे सही जगह और सही लोगों को खोजने में काफी समय लगा मैं इससे दूसरे शहर तक चुप करता राम में और उस उस दौरान पैसे की काफी समस्या हो गई थी मेरे साथ तो और रेट देने के रेट देने के लिए मेरे पास पैसे नहीं थे और मैंने बहुत मुश्किल से अपने को संभाला और चुकी मैं मेरे पास पीछे लौटने का कोई विकल्प नहीं था तो छोटे का कोई कारण नहीं था फिर कोई यह नहीं था कि मैं पीछे लौट जाऊं तो कि मैं काफी आगे निकल गया था अकेला बिल्कुल तो उस समय मैंने काफी अकेलापन महसूस किया और उस समय मेरा 1 मीटर था और मैं खुद जो कि मैंने खुद को मोटिवेट किया कि 1 दिन से नहीं होगा लेकिन एक दिन जरूर होगा लेकिन मैं नहीं होगा लेकिन एक दिन जरूर होगा इस चीज को लेकर मैं आगे बढ़ता गया उसके बाद थोड़े दिन में थोड़ी सी ठीक हूं मैं मैंने थोड़ा सा ड्राप की आईडिया को और कंपनी में मैंने काम की कुछ पैसे जुटाए और फिर उस पैसे से मैंने कंपनी की नींव रखी और धीरे-धीरे करके मेरी कंपनी थोड़ी आगे बढ़ी और अभी-अभी अच्छी आ रही है तो मैं लोगों को नहीं बोलता हूं लोगों को मेरे मदद की मैंने कभी उनको नहीं बोला कि आपने हेल्प नहीं कीमत नहीं किया लेकिन ना जब मैं अजीश कंपनी का चेयरमैन सोचता हूं तो मैं पिछले अपने संघर्ष को देखता हूं कि कहा था मैं अगर हिम्मत हार जाता तो शायद मैं अभी जो हूं वह नहीं हो पाता तो यह मेरे लिए काफी सुखद अनुभव रहा कि मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे काफी आराम मिलता है कि कि मैं काफी थक गया था और लेकिन जब मैं इसे स्टाइलिश कर लिया अपनी कंपनी को उसके बाद मुझे मायाराम लगा उसने मेरी सारी थकावट उस कंपनी को खड़ा करने के लिए दौड़ जो मैंने जद्दोजहद किया था उसको सारा को भुला दिया लेकिन हां मैंने मुश्किल का सामना किया और ईश्वर मेरे साथ था और आज मैं जो भी हूं ईश्वर की दया से ही हूं जिन्होंने मुझे मोटिवेट करते रहो और इस मुकाम पर पहुंचे

business hai kisi company ko kholne ke liye sabse pehle aapko ek cheez par kaam karna padega radium aapko yah tay karna padega aap karna kya chahte hain aur iske baad hi aapko company ki neev rakhte company kholne ka sabse bada problem sabse shuruati daur par jo problem hota hai jo samasyaen hoti hai vaah hai company ke naam ko lekar ke ya phir company kis address ke upar kaam karti hai use dear ko company ka naam dete hain aapko paise ki samasya hoti hai aur jaha tak main use main bataunga ki jab main thodi si company kholne ke liye jab maine socha toh maine apni haddiyan par kaam kiya maine se rai liya bahut saare log mujhe feedback diya kuch bure log out par jaate toh company khulenge ki sabse pehle maine kaun se dhyan rakhna pada mujhe kaafi der ke saath maine kaam shuru kiya logo ki pratikriya mere kaam ke prati bahut hi viprit aur sahi nahi thi logo ne kaafi rokne ki koshish ki aur uske bare me kaafi mujhe sunaya gaya tha jab main shuru kar raha tha mujhe kaafi mushkil hai ki samana kiya tumhe samajh gaya tha ki ab jo kaam sahi kaha cheezen hain jo sahi kaam mushkil se shuru hoti hai toh maine dimag me baitha liya tha aur kaafi samay se nahi ki main ko manage kar sakun main logo ki zarurat hoti hai phir main staff rakh sakun main khud hi aage badha karne ke liye aur company ke liye main khud abhi se lekar ke poche lagane vala tha main saara kaam mujhe hi karna pad raha tha aur main yaad karta hoon kaafi sangharshapurn tha mera kaam aur ab aap janta sabse badi samasya paise ki thi lekin un paison ko main socha tha main kaha se loo loo loo ya phir gharwali se kaise madad kare medicine mera toh tum mujhe bhi aur paise ki vyavastha kara toh main kisi ko load nahi dena chahta yaar paise mangne nahi ja raha tha ki mujhe paise chahiye aur mujhe company aur sabse badi cheez taki main akela tha maine apne dost ko kuch bola ki ek saath dene ke liye kin chuki hai unki khud ki apni samasya thi aur isliye vaah mere saath nahi sake lekin main chala kar bhi gujar raha tha ki unse salah milti kisi prakar ki salah aur is par ki mujhe vittiy sahayta bilkul nahi mili lekin maine socha ki mujhe saree par kaam karna hi hai aur suraj dono gadiyan logo ko pasand nahi aa raha tha ki chalega bhi nahi nahi chalega toh mujhe kaafi samasya ho toh aur main samajhata hoon ki aapko sahi log sahi jagah aur bahut zaroori hai mujhe sahi jagah aur sahi logo ko khojne me kaafi samay laga main isse dusre shehar tak chup karta ram me aur us us dauran paise ki kaafi samasya ho gayi thi mere saath toh aur rate dene ke rate dene ke liye mere paas paise nahi the aur maine bahut mushkil se apne ko sambhala aur chuki main mere paas peeche lautne ka koi vikalp nahi tha toh chote ka koi karan nahi tha phir koi yah nahi tha ki main peeche lot jaaun toh ki main kaafi aage nikal gaya tha akela bilkul toh us samay maine kaafi akelapan mehsus kiya aur us samay mera 1 meter tha aur main khud jo ki maine khud ko motivate kiya ki 1 din se nahi hoga lekin ek din zaroor hoga lekin main nahi hoga lekin ek din zaroor hoga is cheez ko lekar main aage badhta gaya uske baad thode din me thodi si theek hoon main maine thoda sa drop ki idea ko aur company me maine kaam ki kuch paise jutaye aur phir us paise se maine company ki neev rakhi aur dhire dhire karke meri company thodi aage badhi aur abhi abhi achi aa rahi hai toh main logo ko nahi bolta hoon logo ko mere madad ki maine kabhi unko nahi bola ki aapne help nahi kimat nahi kiya lekin na jab main ajish company ka chairman sochta hoon toh main pichle apne sangharsh ko dekhta hoon ki kaha tha main agar himmat haar jata toh shayad main abhi jo hoon vaah nahi ho pata toh yah mere liye kaafi sukhad anubhav raha ki main peeche mudkar dekhta hoon toh mujhe kaafi aaram milta hai ki ki main kaafi thak gaya tha aur lekin jab main ise stylish kar liya apni company ko uske baad mujhe mayaram laga usne meri saari thakawat us company ko khada karne ke liye daudh jo maine jaddojahad kiya tha usko saara ko bhula diya lekin haan maine mushkil ka samana kiya aur ishwar mere saath tha aur aaj main jo bhi hoon ishwar ki daya se hi hoon jinhone mujhe motivate karte raho aur is mukam par pahuche

बिजनेस है किसी कंपनी को खोलने के लिए सबसे पहले आपको एक चीज पर काम करना पड़ेगा रेडियम आपको

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  61
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जब मैंने कंपनी खोला तो उसने तुमसे दिक्कत परेशानी है पहले नंबर परेशानी होता है वर्करों के लिए वर्कर कहां से ढूंढ के लाए वह कितना पैसा दिन कि वह भी खुश राम काम अधिक से अधिक हो कंपनी में पैसे की प्रॉब्लम आती है जब आदमी पहले कोई भी काम करता है तो उसी में जब अपना सारा पैसा निवेश कर देता है तो फिर उसे आगे का कोई काम लगता है तो पैसे की परेशानी भी उसे आती है यह दिक्कतें होती हैं कंपनी खोलने में कैसे क्या किया जाएगा मशीन कहां से आएगी सैलरी वर्करों को कैसे दिया जाएगा इन तमाम चीजों का सामना किया है मैंने

dekhiye jab maine company khola toh usne tumse dikkat pareshani hai pehle number pareshani hota hai warkaron ke liye worker kahaan se dhundh ke laye vaah kitna paisa din ki vaah bhi khush ram kaam adhik se adhik ho company mein paise ki problem aati hai jab aadmi pehle koi bhi kaam karta hai toh usi mein jab apna saara paisa nivesh kar deta hai toh phir use aage ka koi kaam lagta hai toh paise ki pareshani bhi use aati hai yah dikkaten hoti hain company kholne mein kaise kya kiya jaega machine kahaan se aaegi salary warkaron ko kaise diya jaega in tamaam chijon ka samana kiya hai maine

देखिए जब मैंने कंपनी खोला तो उसने तुमसे दिक्कत परेशानी है पहले नंबर परेशानी होता है वर्करो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!