सुख और दुख को किस प्रकार ग्रहण करना चाहिए?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखित सुख और दुख को किस प्रकार दिन करना चाहिए आपको सवाल है तो सुख और दुख आता है और जाता है इसको इस तरीके से एक्सेप्ट करना चाहिए सुख आता है तो इसका मतलब यह नहीं कि आप सुख में अपने बिल्कुल भूल जाए हर चीज को और बिल्कुल अपनी एक हो जाए आपकी सुख की स्थिति में आप एकदम से और बैल हो जाएं और आप कुछ देखे ही ना और अनस्टेबल हो जाए तो यह नहीं होना चाहिए सुख भी आया है तो अच्छा है आपने कुछ प्रयास किया आपको सफलता मिली तो आपको उससे सुख मिला या किसी और कारण से आपको सुख मिला उसमें भी आप को शांत और स्थिर रहना चाहिए और अगर दुखाता है तो दुख को भी आपको पूरी सहजता के साथ स्वीकार करना चाहिए क्योंकि ऐसा कभी होता नहीं कि हम केवल सुख ही सुख हम देखते चले जाएं या खुशी खुश रहे खुश है खुशी है तो उसकी जगह दुख भी है उसके बाद में तो वह सारी चीजें आती जाती है इसको इसी संस्था के साथ में लेना चाहिए बजाय की ओवर रिएक्ट किए हुए दोनों स्थितियों में अपने आप को स्टेबल करें और और उसको चीज को बिगाड़े तो पहुंचा स्वभाविक रूप से इसको ग्रहण करें देखें और दुखाता है तो दुख में भी शांत रहने की कोशिश करनी चाहिए टेबल रहने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि अगर कोई ऐसी नेचुरल कैलेमिटी है कोई विपत्ति है तो वह आएगी और अपने से ही जाती है उसमें हम अपने मन की स्थिति को यथासंभव शांति रखना चाहिए जिससे कि हम अच्छे से उसको समाधान या कोई भी अनुष्का शिवम पहुंच सके बाकी दोनों को आप को सहज रूप से ही लेना चाहिए

likhit sukh aur dukh ko kis prakar din karna chahiye aapko sawaal hai toh sukh aur dukh aata hai aur jata hai isko is tarike se except karna chahiye sukh aata hai toh iska matlab yah nahi ki aap sukh me apne bilkul bhool jaaye har cheez ko aur bilkul apni ek ho jaaye aapki sukh ki sthiti me aap ekdam se aur bail ho jayen aur aap kuch dekhe hi na aur unstable ho jaaye toh yah nahi hona chahiye sukh bhi aaya hai toh accha hai aapne kuch prayas kiya aapko safalta mili toh aapko usse sukh mila ya kisi aur karan se aapko sukh mila usme bhi aap ko shaant aur sthir rehna chahiye aur agar dukhata hai toh dukh ko bhi aapko puri sahajata ke saath sweekar karna chahiye kyonki aisa kabhi hota nahi ki hum keval sukh hi sukh hum dekhte chale jayen ya khushi khush rahe khush hai khushi hai toh uski jagah dukh bhi hai uske baad me toh vaah saari cheezen aati jaati hai isko isi sanstha ke saath me lena chahiye bajay ki over react kiye hue dono sthitiyo me apne aap ko stable kare aur aur usko cheez ko bigade toh pohcha swabhavik roop se isko grahan kare dekhen aur dukhata hai toh dukh me bhi shaant rehne ki koshish karni chahiye table rehne ki koshish karni chahiye kyonki agar koi aisi natural kailemiti hai koi vipatti hai toh vaah aayegi aur apne se hi jaati hai usme hum apne man ki sthiti ko yathasambhav shanti rakhna chahiye jisse ki hum acche se usko samadhan ya koi bhi anushka shivam pohch sake baki dono ko aap ko sehaz roop se hi lena chahiye

लिखित सुख और दुख को किस प्रकार दिन करना चाहिए आपको सवाल है तो सुख और दुख आता है और जाता है

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  244
KooApp_icon
WhatsApp_icon
15 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
sukh aur dukh ko kis prakar grahan karna chahie ; सुख और दुख को किस प्रकार ग्रहण करना चाहिए ; सुख और दुख किस प्रकार ग्रहण करना चाहिए ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!