पेरिस में हुई यूनेस्को (UNESCO) की जनरल कॉन्फ्रेंस में कहा गया की पाकिस्तान के डीएनए में है आतंकवाद, क्या ये कहना उचित है?...


user
1:12
Play

Likes  26  Dislikes    views  783
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पेरिस में हो यह लाश को के जनरल कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद क्या यह कहना उचित है जी हां यह कहना बिल्कुल उचित था क्योंकि पाकिस्तान का जो जन्म हुआ है वह धार्मिक कट्टरवाद के कारण हुआ है मोहम्मद अली जिन्ना और जवाहरलाल नेहरू उनकी महत्वाकांक्षाओं के कारण पाकिस्तान और उनका जन्म हुआ है और जो धार्मिक कट्टरता होती है वह आतंकवाद को जन्म देती है इसलिए जो यूनेस्को में इस तरह की बात कही गई है वह आज तक देख के नजदीक है और सीधी लड़ाई में जो पाकिस्तान भारत के मुकाबले में बहुत पीछे है विश्व स्तर पर जो दो देश के बीच में जो मतभेद होते हैं तो उसे टेबल पर बैठकर सुलझाया जा सकता है लेकिन जब मन में ही आतंकवाद हो और धार्मिक कट्टरता हो तो वह कहीं न कहीं उजागर होती है और वह आतंकवाद के रूप में पाकिस्तान दिखाएं है इसके अलावा जो पाकिस्तान की जो शासन वह इसमें बहुत ज्यादा करणपुर है क्योंकि जब से भारत और पाकिस्तान अलग दो देश के रूप में अस्तित्व में आए हैं तो पाकिस्तान जो है उसमें अधिकतर सैन्य शासन रहा है विदेशों के अभाव के कारण वहां पर जो शासन व्यवस्था जो है वह बनाने की कोशिश की गई की गई थी लेकिन फिर भी पीछे से जो बस ड्राइविंग हमेशा सैनी करता रहा है और समय-समय पर सैनिक के जो जनरल होते हैं वह सप्ताह पूरे विद्यालय से और खुद शासक बन जाते हैं चाहे अयूब खान हो चाहे या या खान हो चाहे परवेज मुशर्रफ चाहे अभी के बाजवा यह सब डेक्स विद ड्राइंग करते हैं और पाकिस्तान को चलाने वाले यही आईएसआई और सैन्य यही पाकिस्तान को असली शासक है होते और बीच में जितने भी शासक का है तो उन्हें अच्छा सा सन चल रहा था तो मैं कहीं किसी भी तरीके से हटा दिया गया और बस वही शासन की स्थापना कर दी गई कठपुतली सरकार बनाई जाती रे और से नहीं हो रहा है यह सही सिर्फ आतंकवाद के सहारे अपने देश को चला रहे हैं बहुत सारी समस्या है पाकिस्तान में है बेरोजगारी भुखमरी गरीबी और लोगों से जुड़ी हुई जन समस्याएं इतनी सारी है कि वह समस्या को सुलझाने के लिए भी वहां के शासक तैयार ना होकर उसके प्रति उन्होंने दुर्लक्ष रखा है और किस कश्मीर और भारत के साथ कैसे आतंकवाद प्रवृत्ति की जाए कैसे आतंकवादी पैदा की जाए वह आतंकवाद की फैक्ट्री बनकर एक पाकिस्तान इसलिए यूनेस्को में कहा गया है कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवादी है यह बिल्कुल सही बात है और आज नहीं तो कल आने वाले भविष्य में पाकिस्तान अपने हाथी टूट कर बिखर बिखर जाएगा धन्यवाद

paris mein ho yah laash ko ke general conference mein kaha gaya hai ki pakistan ke DNA mein aatankwad kya yah kehna uchit hai ji haan yah kehna bilkul uchit tha kyonki pakistan ka jo janam hua hai vaah dharmik kattarvad ke karan hua hai muhammad ali jinnah aur jawaharlal nehru unki mahatwakankshaon ke karan pakistan aur unka janam hua hai aur jo dharmik kattartaa hoti hai vaah aatankwad ko janam deti hai isliye jo UNESCO mein is tarah ki baat kahi gayi hai vaah aaj tak dekh ke nazdeek hai aur seedhi ladai mein jo pakistan bharat ke muqable mein bahut peeche hai vishwa sthar par jo do desh ke beech mein jo matbhed hote hain toh use table par baithkar sulajhaya ja sakta hai lekin jab man mein hi aatankwad ho aur dharmik kattartaa ho toh vaah kahin na kahin ujagar hoti hai aur vaah aatankwad ke roop mein pakistan dikhaen hai iske alava jo pakistan ki jo shasan vaah isme bahut zyada karanapur hai kyonki jab se bharat aur pakistan alag do desh ke roop mein astitva mein aaye hain toh pakistan jo hai usme adhiktar sainya shasan raha hai videshon ke abhaav ke karan wahan par jo shasan vyavastha jo hai vaah banane ki koshish ki gayi ki gayi thi lekin phir bhi peeche se jo bus driving hamesha saini karta raha hai aur samay samay par sainik ke jo general hote hain vaah saptah poore vidyalaya se aur khud shasak ban jaate hain chahen aayub khan ho chahen ya ya khan ho chahen Parvez Musharraf chahen abhi ke bajva yah sab decks with drying karte hain aur pakistan ko chalane waale yahi isi aur sainya yahi pakistan ko asli shasak hai hote aur beech mein jitne bhi shasak ka hai toh unhe accha sa san chal raha tha toh main kahin kisi bhi tarike se hata diya gaya aur bus wahi shasan ki sthapna kar di gayi kathaputali sarkar banai jaati ray aur se nahi ho raha hai yah sahi sirf aatankwad ke sahare apne desh ko chala rahe hain bahut saree samasya hai pakistan mein hai berojgari bhukhmari garibi aur logo se judi hui jan samasyaen itni saree hai ki vaah samasya ko suljhane ke liye bhi wahan ke shasak taiyar na hokar uske prati unhone durlaksh rakha hai aur kis kashmir aur bharat ke saath kaise aatankwad pravritti ki jaaye kaise aatankwadi paida ki jaaye vaah aatankwad ki factory bankar ek pakistan isliye UNESCO mein kaha gaya hai ki pakistan ke DNA mein aatankwadi hai yah bilkul sahi baat hai aur aaj nahi toh kal aane waale bhavishya mein pakistan apne haathi toot kar bikhar bikhar jaega dhanyavad

पेरिस में हो यह लाश को के जनरल कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1171
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बारिश में हुई यूनेस्को की जोनल कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद है चाय कहना उचित है कि डीएनए हमारे जीन का स्ट्रक्चर है या नहीं वह जींस जिससे के हमारी हम पूरे बनते हैं और जींस हम लाते हैं अपने पूर्वजों से अपने मां-बाप से अपनी फैमिली से और आतंकवादी होना या आतंकवाद किसी के जींस में नहीं होता क्योंकि एक बच्चा पैदाइशी टेररिस्ट नहीं होता तो चाहे यह पाकिस्तान का रीजन हो या कहीं कोई भी कंट्री हो हम किसी पर भी हाथ रख के नहीं कह सकते कि पैदाइशी लोग टेरेरिस्ट पैदा हो रहे हैं कि किन के जींस में जींस में बीमारियां होती है अगर किसी के आंसेस्टर्स में किसी को कैंसर था या किसी को कोई और ऐसी बीमारी थी तो डॉक्टर्स भी जब डायनोस करते हैं तो पूछते हैं कि आपके माता-पिता को या बाप दादा को क्या बीमारियां रही है यह फैमिली हिस्ट्री में क्या बीमारी रही है क्योंकि यह बहुत मुमकिन है कि वह जींस में इंसान को वह चीजें हैं जिनसे आपके लुक्स बनते हैं फिजिकल आज इनसे हाइट जींस में यह आता है कि कैसा इंसान का जो है फिजिकल स्ट्रक्चर होगा लेकिन पैदाइशी जींस में यह नहीं आता कि कोई टेरर्स बनेगा या कोई बहुत ही शांति वादक सिटीजन बनेगा यह तो इंसान के अपने जो है उसकी परवरिश है उसकी सोच है उसकी समाज है जिसमें उठता बैठता है और वह इस तरह की सूची से अपना लेता है जो गलत है तो इस तरह का कमेंट करना थोड़ा सा फिर एलिमेंट है मेरी नजर में और एमएस लेने कह रही क्योंकि पाकिस्तान के लिए मैं किसी भी देश के लिए अगर यूनेस्को में आ जाता तो यही कहते कि यह एक अति रेलीवेंट कमेंट पास किया गया है धन्यवाद

barish mein hui UNESCO ki jonal conference mein kaha gaya hai ki pakistan ke DNA mein aatankwad hai chai kehna uchit hai ki DNA hamare gene ka structure hai ya nahi vaah jeans jisse ke hamari hum poore bante hain aur jeans hum laate hain apne purvajon se apne maa baap se apni family se aur aatankwadi hona ya aatankwad kisi ke jeans mein nahi hota kyonki ek baccha paidaishi terrorist nahi hota toh chahen yah pakistan ka reason ho ya kahin koi bhi country ho hum kisi par bhi hath rakh ke nahi keh sakte ki paidaishi log terrorist paida ho rahe hain ki kin ke jeans mein jeans mein bimariyan hoti hai agar kisi ke ansestars mein kisi ko cancer tha ya kisi ko koi aur aisi bimari thi toh doctors bhi jab daynos karte hain toh poochhte hain ki aapke mata pita ko ya baap dada ko kya bimariyan rahi hai yah family history mein kya bimari rahi hai kyonki yah bahut mumkin hai ki vaah jeans mein insaan ko vaah cheezen hain jinse aapke looks bante hain physical aaj inse height jeans mein yah aata hai ki kaisa insaan ka jo hai physical structure hoga lekin paidaishi jeans mein yah nahi aata ki koi terrors banega ya koi bahut hi shanti vaadak citizen banega yah toh insaan ke apne jo hai uski parvarish hai uski soch hai uski samaj hai jisme uthata baithta hai aur vaah is tarah ki suchi se apna leta hai jo galat hai toh is tarah ka comment karna thoda sa phir element hai meri nazar mein aur ms lene keh rahi kyonki pakistan ke liye main kisi bhi desh ke liye agar UNESCO mein aa jata toh yahi kehte ki yah ek ati relivent comment paas kiya gaya hai dhanyavad

बारिश में हुई यूनेस्को की जोनल कॉन्फ्रेंस में कहा गया है कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  4374
WhatsApp_icon
user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पेरिस में हुई यूनेस्को की जनरल कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद कहां जाना है यह अनुचित है पाकिस्तान में आतंकवाद का मुख्य कारण विदेशी ताकतें हैं जो भारत की गरिमा को मिटाने की कोशिश करने के लिए पाकिस्तान को उसका ते हैं और बढ़ावा देते हैं आतंकवाद के प्रति अकेले पाकिस्तान का दोस्त नहीं है दूध नहीं अगर विश्व समुदाय वास्तविक शांति चाहता है तो उसे अन्य राष्ट्रों के कार्यो की भी समीक्षा करनी अन्यथा पाकिस्तान के डीएनए में ही आतंकवाद नहीं है अपितु समय आने पर गुजरते वक्त का अनेकों राष्ट्र के डीएनए में आतंकवाद होगा

paris mein hui UNESCO ki general conference mein pakistan ke DNA mein aatankwad kahaan jana hai yah anuchit hai pakistan mein aatankwad ka mukhya karan videshi takaten hain jo bharat ki garima ko mitne ki koshish karne ke liye pakistan ko uska te hain aur badhawa dete hain aatankwad ke prati akele pakistan ka dost nahi hai doodh nahi agar vishwa samuday vastavik shanti chahta hai toh use anya rashtro ke karyon ki bhi samiksha karni anyatha pakistan ke DNA mein hi aatankwad nahi hai apitu samay aane par gujarate waqt ka anekon rashtra ke DNA mein aatankwad hoga

पेरिस में हुई यूनेस्को की जनरल कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद कहां जाना है

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  389
WhatsApp_icon
user
0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब जब आतंकवाद का नाम आता है तो लोगों के दिमाग में पाकिस्तान भी आता है आतंकवाद का दूसरा पहलू पाकिस्तान से ही लेते हैं इस प्रकार एक सिक्के के दो पहलू चित्रपट है वैसे ही आतंकवाद का भी दूसरा किनारा पाकिस्तान है क्योंकि वही परिजन होता है आतंकवाद का उन्हीं को धारा पाला पोसा जाता है आतंकवाद को लेकर आना आसान होगा कि पाकिस्तान के डीएनए में आतंकवाद है

jab jab aatankwad ka naam aata hai toh logo ke dimag mein pakistan bhi aata hai aatankwad ka doosra pahaloo pakistan se hi lete hain is prakar ek sikke ke do pahaloo chitrapat hai waise hi aatankwad ka bhi doosra kinara pakistan hai kyonki wahi parijan hota hai aatankwad ka unhi ko dhara pala posa jata hai aatankwad ko lekar aana aasaan hoga ki pakistan ke DNA mein aatankwad hai

जब जब आतंकवाद का नाम आता है तो लोगों के दिमाग में पाकिस्तान भी आता है आतंकवाद का दूसरा पहल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अक्की पावर ऑफ द इंडिया इंटरेस्ट को पेरिस में हुई इंग्लिश को किस जनरल और पुरुष में कहा गया कि पाकिस्तान ने डीएम में आतंकवाद क्यों क्योंकि भारत माता में जो फूल है डीएनए से बनता है इसलिए पाकिस्तान में कहां गया

akki power of the india interest ko paris mein hui english ko kis general aur purush mein kaha gaya ki pakistan ne dm mein aatankwad kyon kyonki bharat mata mein jo fool hai DNA se banta hai isliye pakistan mein kahaan gaya

अक्की पावर ऑफ द इंडिया इंटरेस्ट को पेरिस में हुई इंग्लिश को किस जनरल और पुरुष में कहा गया

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  24
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!