खुसरो के चरित्र की प्रमुख विशेषता बताएँ?...


user

Prabhat Kumar

Teacher at Oxford English High School 7 year experience

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अमीर खुसरो का जन्म 1253 ईस्वी एटा उत्तर प्रदेश में हुआ था वह हिंदी खड़ी बोली के पहले लोकप्रिय कवि थे जिन्होंने कई गजल ख्याल कव्वाली रुबाई आदि स्थानों की रचना की थी अमीर खुसरो की मां दौलत ना आज हिंदू राजपूत यह दिल्ली केक रईस अहमद आलू मुल्क की पुत्री थी अमीन दाल मुखवाता बलबन के युद्ध मंत्री थे यह राजनीतिक दबाव के कारण मैंने मुसलमान बने थे इस्लाम ग्रहण करने के बावजूद उनके घरों में सारे रीति रिवाज हिंदुओं के थे खुसरो के ननिहाल में गाने बजाने और संगीत का माहौल था खुसरो के नाना को पान खाने का बहुत शौक था इस बात से खुश रहो ने तंबोला नाम की एक अजनबी भी लिखी थी इसमें मिले-जुले घर आने एवं दो परंपराओं का मेल का असर किशोर खुसरूपुर पर आवे जीवन के कुछ अलग हटकर करना चाहते थे और वाकई ऐसा हुआ खुसरो के श्याम वर्ण रईस नाना इन दालु मुल्क और पिता आमिर सैफुद्दीन दोनों ने चिश्तिया सूफी प्रदा संप्रदाय के महान सूफी सादर गम संत हजरत मोहम्मद निजामुद्दीन औलिया सिर्फ सुलतानत माता के भक्त और मुरली थे उनके समस्त परिवार ने अली साहब की धर्म दीक्षा ली थी उस समय खुसरो केवल 7 वर्ष के थे 7 वर्ष की अवस्था में खुसरो के पिता का देहांत हो गया किंतु खुसरो की शिक्षा-दीक्षा में बात नहीं आई अपने समय के दर्शन तथा विज्ञान में उन्होंने विद्वता प्राप्त की किंतु उनकी प्रतिभा बाल्यावस्था में ही काव्य उन्मुख थी किशोरावस्था में उन्होंने कविता लिखना प्रारंभ किया और 20 वर्ष के होते हुए तू कबूल के रूप में प्रसिद्ध हो गए

amir khusro ka janam 1253 isvi etah uttar pradesh mein hua tha vaah hindi khadi boli ke pehle lokpriya kabhi the jinhone kai gazal khayal qawwali rubai aadi sthano ki rachna ki thi amir khusro ki maa daulat na aaj hindu rajput yah delhi cake raees ahmad aalu mulk ki putri thi ameen daal mukhvata BA lban ke yudh mantri the yah raajnitik dabaav ke karan maine muslim BA ne the islam grahan karne ke BA wajud unke gharon mein saare riti rivaaj hinduon ke the khusro ke nanihaal mein gaane BA jane aur sangeet ka maahaul tha khusro ke nana ko pan khane ka BA hut shauk tha is BA at se khush raho ne tambola naam ki ek ajnabee bhi likhi thi isme mile joule ghar aane evam do paramparaon ka male ka asar kishore khusrupur par aawe jeevan ke kuch alag hatakar karna chahte the aur vaakai aisa hua khusro ke shyam varn raees nana in dalu mulk aur pita aamir saifuddin dono ne chishtiya sufi prada sampraday ke mahaan sufi sadar gum sant hazrat muhammad nizamuddin auliya sirf sulatanat mata ke bhakt aur murli the unke samast parivar ne ali saheb ki dharm diksha li thi us samay khusro keval 7 varsh ke the 7 varsh ki avastha mein khusro ke pita ka dehant ho gaya kintu khusro ki shiksha diksha mein BA at nahi I apne samay ke darshan tatha vigyan mein unhone vidwata prapt ki kintu unki pratibha BA alyaavastha mein hi kavya unmukh thi kishoraavastha mein unhone kavita likhna prarambh kiya aur 20 varsh ke hote hue tu kabool ke roop mein prasiddh ho gaye

अमीर खुसरो का जन्म 1253 ईस्वी एटा उत्तर प्रदेश में हुआ था वह हिंदी खड़ी बोली के पहले लोकप्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  126
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
amir khusro ki kavyagat visheshtaen ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!