गांधी महात्मा कैसे बने?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधी जी को उनके काम के लिए महात्मा की उपाधि दी गई थी और पॉपुलर जो जात लोग जानते हैं वह बताया जाता है कि रविंद्र टैगोर जी ने दी थी लेकिन जो नेशनल गांधी म्यूजियम है दिल्ली में उसमें जो सबसे पहला अकाउंट जो मौजूद है वह है एक थे उनका नाम था नौतम लाल भगवान जी नेता उन्होंने जनवरी 1915 में गांधी जी को महात्मा बुलाया था और बाद में रवीना टैगोर जी ने मार्च में इनको मार्च 1915 में गांधी जी को महात्मा बोला तो वह जाने जब जब काफी जाने पहचाने आदमी थे तो उनकी बात ज्यादा पॉपुलर हो गई सीधी सी बात है और गांधी जी महात्मा हो गए थैंक यू

gandhi ji ko unke kaam ke liye mahatma ki upadhi di gayi thi aur popular jo jaat log jante hain vaah bataya jata hai ki ravindra tagore ji ne di thi lekin jo national gandhi museum hai delhi mein usme jo sabse pehla account jo maujud hai vaah hai ek the unka naam tha nautam laal bhagwan ji neta unhone january 1915 mein gandhi ji ko mahatma bulaya tha aur baad mein ravina tagore ji ne march mein inko march 1915 mein gandhi ji ko mahatma bola toh vaah jaane jab jab kaafi jaane pehchane aadmi the toh unki baat zyada popular ho gayi seedhi si baat hai aur gandhi ji mahatma ho gaye thank you

गांधी जी को उनके काम के लिए महात्मा की उपाधि दी गई थी और पॉपुलर जो जात लोग जानते हैं वह बत

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1937
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है गांधी महात्मा कैसे बने एंड गांधीजी जिन्हें महात्मा गांधी के नाम से हम जानते हैं वैसे जानते हैं उनका नाम मोहनदास करमचंद गांधी था और महात्मा की उपाधि सबसे पहले जो है तो राजवैद्य 1915 में राजवैद्य जीवराम कालिदास ने महात्मा के नाम से संबोधित किया था उन्हें बापू के नाम से भी याद किया जाता है और सुभाष चंद्र बोस ने 6 जुलाई 1944 को रंगून रेडियो से गांधीजी के नाम जारी प्रसारण में उन्हें राष्ट्रपिता कह कर संबोधित करते हुए आजाद हिंद फौज के सैनिकों के लिए आशीर्वाद मांगा था और शुभकामनाएं भेजी थी तो भारत को आजादी दिला कर पूरी दुनिया और जनता के नागरिक को अधिकार एवं स्वतंत्रता के प्रति आंदोलन के लिए उन्हें प्रेरित किया इसलिए उन्हें भारत में महात्मा गांधी के नाम से भी जाना जाता है या राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है जो कि महात्मा मतलब होता एक सम्मान सूचक शब्द है

aapka prashna hai gandhi mahatma kaise bane and gandhiji jinhen mahatma gandhi ke naam se hum jante hain waise jante hain unka naam mohandas karamchand gandhi tha aur mahatma ki upadhi sabse pehle jo hai toh rajvaidya 1915 me rajvaidya jivram kalidas ne mahatma ke naam se sambodhit kiya tha unhe bapu ke naam se bhi yaad kiya jata hai aur subhash chandra bose ne 6 july 1944 ko Rangoon radio se gandhiji ke naam jaari prasaran me unhe rashtrapita keh kar sambodhit karte hue azad hind fauj ke sainikon ke liye ashirvaad manga tha aur subhkamnaayain bheji thi toh bharat ko azadi dila kar puri duniya aur janta ke nagarik ko adhikaar evam swatantrata ke prati andolan ke liye unhe prerit kiya isliye unhe bharat me mahatma gandhi ke naam se bhi jana jata hai ya rashtrapita ke naam se bhi jana jata hai jo ki mahatma matlab hota ek sammaan suchak shabd hai

आपका प्रश्न है गांधी महात्मा कैसे बने एंड गांधीजी जिन्हें महात्मा गांधी के नाम से हम जानते

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  2387
WhatsApp_icon
user

tej

Teacher

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधी महात्मा कैसे बने शराब का आंसर की 2018 में गुजरात के पोरबंदर में जन्मे महात्मा गांधी 19 साल की उम्र में तक गुजरात में ही रहे तब तक लोग उन्हें मोहनदास के नाम से जानते थे और पुकारते थे वह 13:30 बजे अल्पायु में उनकी शादी कस्तूरबा गांधी के साथ रहती थी जब गाली 16 वर्ष के हो तो उनके विधायक करमचंद गांधी का देहांत हो गया जिससे कानून उन्होंने महात्मा करने लगे लोग पार्क

gandhi mahatma kaise bane sharab ka answer ki 2018 me gujarat ke porbandar me janme mahatma gandhi 19 saal ki umar me tak gujarat me hi rahe tab tak log unhe mohandas ke naam se jante the aur pukarte the vaah 13 30 baje alpayu me unki shaadi kasturba gandhi ke saath rehti thi jab gaali 16 varsh ke ho toh unke vidhayak karamchand gandhi ka dehant ho gaya jisse kanoon unhone mahatma karne lage log park

गांधी महात्मा कैसे बने शराब का आंसर की 2018 में गुजरात के पोरबंदर में जन्मे महात्मा गांधी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user
0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी महात्मा कैसे बने बहुत से इतिहासकारों का कहना है असलियत में महात्मा गांधी को महात्मा दक्षिण अफ्रीका ने बनाया देव सिंह जैसे लेखक लेखक व इतिहासकार ने यह लिखा है कि महात्मा गांधी को महात्मा दक्षिण अफ्रीका ने बनाया है सचमुच

mahatma gandhi mahatma kaise bane bahut se itihasakaron ka kehna hai asliyat mein mahatma gandhi ko mahatma dakshin africa ne banaya dev Singh jaise lekhak lekhak va itihaaskar ne yah likha hai ki mahatma gandhi ko mahatma dakshin africa ne banaya hai sachmuch

महात्मा गांधी महात्मा कैसे बने बहुत से इतिहासकारों का कहना है असलियत में महात्मा गांधी को

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user

anu dube

Student

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि दादू महात्मा कैसे बने तो मैं आपको बता देना चाहता हूं कि जब गांधी जी ने बरनौली सत्याग्रह आंदोलन किया तो गांधीजी को वहां की महिलाओं ने तथा सरदार वल्लभभाई पटेल ने उनको महात्मा की उपाधि दी जिस दिन से गांधी जी को महात्मा कहा जाने लगा

aapka sawaal hai ki dadu mahatma kaise bane toh main aapko bata dena chahta hoon ki jab gandhi ji ne barnoli satyagrah andolan kiya toh gandhiji ko wahan ki mahilaon ne tatha sardar vallabhbhai patel ne unko mahatma ki upadhi di jis din se gandhi ji ko mahatma kaha jaane laga

आपका सवाल है कि दादू महात्मा कैसे बने तो मैं आपको बता देना चाहता हूं कि जब गांधी जी ने बरन

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बार की बात है जब महात्मा गांधी अपने वर्ग में टेस्ट दे रहे थे उस वक्त सारे बच्चों ने चीटिंग कर अच्छा मस्त लाया और महात्मा गांधी ने उस वक्त उस टेस्ट में खराब मार्क्स लाया उसी वक्त जब टीचर ने उनको मारना शुरू किया उसी आदमी आया और उनको बोला महात्मा आप जानते हैं कि वह व्यक्ति कौन थे वह व्यक्ति रवीना टैगोर थे और इन्हीं का गांधी को महात्मा के नाम से जानने लगे

ek baar ki baat hai jab mahatma gandhi apne varg mein test de rahe the us waqt saare baccho ne cheating kar accha mast laya aur mahatma gandhi ne us waqt us test mein kharab marks laya usi waqt jab teacher ne unko marna shuru kiya usi aadmi aaya aur unko bola mahatma aap jante hain ki vaah vyakti kaun the vaah vyakti ravina tagore the aur inhin ka gandhi ko mahatma ke naam se jaanne lage

एक बार की बात है जब महात्मा गांधी अपने वर्ग में टेस्ट दे रहे थे उस वक्त सारे बच्चों ने चीट

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
gandhi mahatma kaise bane ; gandhiji gandhiji kaise bane ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!