आज के युग में साइंस के लोग भगवान को क्यों नहीं मानते हैं?...


user

Vedam Astro Life Sciences

सम्पूर्ण ज्योतिष एवम तंत्र अनुसंधान एवं वैदिक धर्म मे शिव तंत्र रहस्य अनुसंधान

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञान से जुड़े हुए सभी मनीषा मीना ईश्वर के सहयोग के या उनके स्नेह के बिना किसी भी कैलकुलेशन में आज तक आगे नहीं बढ़ पाए उदाहरण के लिए मैं छोटा सा उदाहरण है आप सभी के सम्मुख में रख रहा हूं कि आज विज्ञान ने टेलीस्कोप से वरना कूलर से तमाम तरीके की यंत्रों से हमारे ग्रह नक्षत्रों का दर्शन किया उनके बारे में जो पहले हमारे विद्वान बरसो नी बरसो ने व्याख्यान में धर्म दर्शन पुस्तकों में वेदों में जो कर दिया है उसके प्रमाणिकता उनको अपने टेलिस्कोप से मिले आज भी हमारे सनातन धर्म का पंचांग यह पूर्व में ही आपको बता देता है कि वर्ष में कितनी वर्षा होनी है किस प्रकार की खुशियां आने वाली हैं कैसे संकट यह सारी चीजें हमारी ज्योतिषियों और ज्योतिष हमारे धर्म की चीजें और धर्म ही हमारा ईश्वर है विद्वान जनों के लिए मेरी एक शब्द पर्याप्त हैं हां बहस करने वाले मूर्खों से किसी को भी नहीं कहूंगा कि वह अपना समय उनके इस तथाकथित करें जय श्री महाकाल

vigyan se jude hue sabhi manisha meena ishwar ke sahyog ke ya unke sneh ke bina kisi bhi calculation me aaj tak aage nahi badh paye udaharan ke liye main chota sa udaharan hai aap sabhi ke sammukh me rakh raha hoon ki aaj vigyan ne telescope se varna cooler se tamaam tarike ki yantron se hamare grah nakshatron ka darshan kiya unke bare me jo pehle hamare vidhwaan barso ni barso ne vyakhyan me dharm darshan pustakon me vedo me jo kar diya hai uske pramanikata unko apne telescope se mile aaj bhi hamare sanatan dharm ka panchang yah purv me hi aapko bata deta hai ki varsh me kitni varsha honi hai kis prakar ki khushiya aane wali hain kaise sankat yah saari cheezen hamari jyotishiyon aur jyotish hamare dharm ki cheezen aur dharm hi hamara ishwar hai vidhwaan jano ke liye meri ek shabd paryapt hain haan bahas karne waale murkhon se kisi ko bhi nahi kahunga ki vaah apna samay unke is tathakathit kare jai shri mahakal

विज्ञान से जुड़े हुए सभी मनीषा मीना ईश्वर के सहयोग के या उनके स्नेह के बिना किसी भी कैलकुल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  123
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!