क्या कभी सोशल मीडिया पर आपने कुछ ऐसा लिखा है जिसे आप रिग्रेट करते हैं?...


play
user

Deepika Bhardwaj

Independent journalist, Documentary filmmaker and Human Rights activist

2:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किड्स रिलेटेड डा कितनी भी कई में जहां पर मैंने कोई फ्रेंड लिया परेशान पर लाठी थोड़े दिनों पहले सरजीत सिंह का कीर्तन है क्योंकि 2015 छुट्टियों में आया था उसको अपने स्तर पर बॉर्डर तारीफ करें कि उसको फोटो दी गई थी मैं क्या करूं बहुत उसको नाम दे दिए गए थे जो कि वह इंसान नहीं था और उस टाइम पर जिस लड़की ने उनके ऊपर आने के लिए लगाया था उसको विभाग और और भी बहुत सारी 4 साल बाद चकोर का कोई देता है और जब कोर्ट ने यह लड़की है उसका नाम की लड़कियां नोट राष्ट्रवादी और साजन को दिया है तू कोई गलत काम नहीं लिया जहां पर मुझे लगता है कि पुरुष गलत है वहां पर ऐसे बहुत सारे कैसे जाएं जहां पर मैंने ऊपर लिखा है चेक करके सो जा कुछ अच्छा तो मुझे लगा की जो आदत है वह जो आवाज उठाई है उनका उस का साथ देना चाहिए वहां पर मैंने उस कार्यकर्ता लिया जहां पर मुझे लगता है कि कोई लड़की गलत इल्जाम लगा वहां पर मैंने एक आदमी के कितने अपनी-अपनी अभी तक ऐसा मेरे कुछ नहीं लिखा है जो मुझे बाद में और उसका मुझे नहीं लगता कि कोई किसी की रिलेटेड या किसी ऐसे पोस्ट मिली मैंने किसी इंसान को बहुत बुरा बोला और उसके बाद मुझे सिगरेट हुआ शायद नहीं हुआ कभी ना कभी कबार पॉलिटिशन की तो मेरे ख्याल से सब लोग थोड़ा सा लिबर्टी ले लेते हैं उनके लिए कुछ लिखने की बढा कभी कबार बहुत जब गुस्सा आ जाता है तो किसी को गाली निकाल देती मुझे नहीं लगता है कि स्मार्ट बहुत है मतलब मुझे ऐसा नहीं किसी को गलत लिखना चाहिए या बैटिंग अपना टाइम पर नहीं यूज़ करना चाहिए

kids related da kitni bhi kai mein jaha par maine koi friend liya pareshan par lathi thode dino pehle sarjit Singh ka kirtan hai kyonki 2015 chhuttiyon mein aaya tha usko apne sthar par border tareef kare ki usko photo di gayi thi main kya karu bahut usko naam de diye gaye the jo ki vaah insaan nahi tha aur us time par jis ladki ne unke upar aane ke liye lagaya tha usko vibhag aur aur bhi bahut saree 4 saal baad chakor ka koi deta hai aur jab court ne yah ladki hai uska naam ki ladkiyan note rashtrawadi aur sajan ko diya hai tu koi galat kaam nahi liya jaha par mujhe lagta hai ki purush galat hai wahan par aise bahut saare kaise jaye jaha par maine upar likha hai check karke so ja kuch accha toh mujhe laga ki jo aadat hai vaah jo awaaz uthayi hai unka us ka saath dena chahiye wahan par maine us karyakarta liya jaha par mujhe lagta hai ki koi ladki galat illajam laga wahan par maine ek aadmi ke kitne apni apni abhi tak aisa mere kuch nahi likha hai jo mujhe baad mein aur uska mujhe nahi lagta ki koi kisi ki related ya kisi aise post mili maine kisi insaan ko bahut bura bola aur uske baad mujhe cigarette hua shayad nahi hua kabhi na kabhi kabar politician ki toh mere khayal se sab log thoda sa liberty le lete hain unke liye kuch likhne ki badha kabhi kabar bahut jab gussa aa jata hai toh kisi ko gaali nikaal deti mujhe nahi lagta hai ki smart bahut hai matlab mujhe aisa nahi kisi ko galat likhna chahiye ya batting apna time par nahi use karna chahiye

किड्स रिलेटेड डा कितनी भी कई में जहां पर मैंने कोई फ्रेंड लिया परेशान पर लाठी थोड़े दिनों

Romanized Version
Likes  104  Dislikes    views  2010
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!