जिन पुरुषों पर प्रताड़िता का इल्ज़ाम लगता है, उनके परिवार को किस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता है?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:37
Play

Likes  135  Dislikes    views  1650
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deepika Bhardwaj

Independent journalist, Documentary filmmaker and Human Rights activist

2:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम पार्टी समय में जो पुरुष और उनके परिवार हैं उनको बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है खासकर अगर उनके ऊपर झूठे करेलू निगाहें क्यों भटकती अभी थोड़ी देर पहले चल रही थी बात करने के लिए दूसरे पक्ष का पेशेंट नहीं कर सकते क्योंकि आम बजट में लिखवा दिया जाता है और किस महिला के पास अधिकार है कि वह जहां पर भी है वहीं पर आ कर सकती है जो पुरुष के पूरे के पूरे परिवार के लोगों के अनुसार किलोमीटर 2000 किलोमीटर कहीं पर भी रहे हैं उनको इयररिंग्स के लिए जाना पड़ता है उसके लिए जाना पड़ता है और अगर नहीं कभी पति पत्नी के साथ रहेगी नहीं कहते हैं अनसपोर्टिव हैं कि उनको जरूर जाना ही पड़ेगा प्लेस्टेशन उनको अपनी हाजिरी लगवा करानी पड़ेगी इन्वेस्टिगेशन का पांच बनना पड़ेगा अपना पक्ष रखना पड़ेगा और फिर उसके बाद अगर पुलिस का मन करे तो उनका नाम निकाल देंगे और अगर कर उनका मन ऑफिस कैसे खाते नहीं करे तो नहीं निकालते हैं नाम तो फिर वह कोर्ट में जाता है कि सबको कोचिंग करानी पड़ती है भोजपुरी भाषा फिल्म चुनौती है बहुत सारा मेंटली हैरेसमेंट से आज के समय में जो मैत्री सामी नंबर के खिलाफ दो कोई फर्जी काम और एक सोनी kapoor.com उनके आत्महत्या की सरकारों ने अपना पक्ष रखा है चित्र के साथ चल सरकम्फ्रेंस जगत बिल्कुल आपके के सम्मेलन है तो उनकी वेबसाइट करते हुए आप रिक्वेस्ट कर सकते हैं कोर्ट को उसके को कॉल करने के लिए ताकि जीवन शैली जो पूरा फुल ट्रायल जो है वह या तो हस्बैंड वह किया था 2020 में उसको दिक्कत ना हो सकते हो

aam party samay mein jo purush aur unke parivar hai unko bahut dikkaton ka samana karna padta hai khaskar agar unke upar jhuthe karelu nigahen kyon bhatakti abhi thodi der pehle chal rahi thi baat karne ke liye dusre paksh ka patient nahi kar sakte kyonki aam budget mein likhva diya jata hai aur kis mahila ke paas adhikaar hai ki vaah jaha par bhi hai wahi par aa kar sakti hai jo purush ke poore ke poore parivar ke logo ke anusaar kilometre 2000 kilometre kahin par bhi rahe hai unko iyarrings ke liye jana padta hai uske liye jana padta hai aur agar nahi kabhi pati patni ke saath rahegi nahi kehte hai anasaportiv hai ki unko zaroor jana hi padega playstation unko apni hajiri lagwa karani padegi investigation ka paanch banna padega apna paksh rakhna padega aur phir uske baad agar police ka man kare toh unka naam nikaal denge aur agar kar unka man office kaise khate nahi kare toh nahi nikalate hai naam toh phir vaah court mein jata hai ki sabko coaching karani padti hai bhojpuri bhasha film chunauti hai bahut saara mentally hairesment se aaj ke samay mein jo maitri shami number ke khilaf do koi farji kaam aur ek sony kapoor com unke atmahatya ki sarkaro ne apna paksh rakha hai chitra ke saath chal sarakamfrens jagat bilkul aapke ke sammelan hai toh unki website karte hue aap request kar sakte hai court ko uske ko call karne ke liye taki jeevan shaili jo pura full trial jo hai vaah ya toh husband vaah kiya tha 2020 mein usko dikkat na ho sakte ho

आम पार्टी समय में जो पुरुष और उनके परिवार हैं उनको बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है खा

Romanized Version
Likes  103  Dislikes    views  2487
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसे परिवारों को सबसे पहले सामाजिक बदनामी का सामना करना पड़ता है इसके बाद आर्थिक और मानसिक परेशानी का भी सामना करना पड़ता है

aise parivaron ko sabse pehle samajik badnami ka samana karna padta hai iske baad aarthik aur mansik pareshani ka bhi samana karna padta hai

ऐसे परिवारों को सबसे पहले सामाजिक बदनामी का सामना करना पड़ता है इसके बाद आर्थिक और मानसि

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  242
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिनको पत्रकारिता का इल्जाम लगता है उनके परिवार को किस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता है कि जिन पुरुषों पर अगर प्रसारिता का जाम लगता है कि जा सकते हैं और पुलिस में रेस्ट करके उनके विरुद्ध जो जुबानी जिसने इल्जाम लगाया है उनकी पत्नी भी हो सकती है या कोई अन्य महिला भी हो सकती है और महिला प्रताड़ना एग्जाम का सामना करना पड़ सकता है और जज को कोर्ट में अगर योग्य लगता है और जब चाबी देते हैं

jinako patrakarita ka illajam lagta hai unke parivar ko kis tarah ki musibaton ka samana karna padta hai ki jin purushon par agar prasarita ka jam lagta hai ki ja sakte hain aur police mein rest karke unke viruddh jo jubani jisne illajam lagaya hai unki patni bhi ho sakti hai ya koi anya mahila bhi ho sakti hai aur mahila prataadana exam ka samana karna pad sakta hai aur judge ko court mein agar yogya lagta hai aur jab chabi dete hain

जिनको पत्रकारिता का इल्जाम लगता है उनके परिवार को किस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  1231
WhatsApp_icon
play
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

2:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिन लोगों को प्रताड़ित का इंतजाम लगता है दुनिया के सबसे बदनसीब इंसान में चलाते हैं और जो पैसा देने वाली लड़की की वजह से हमको यह सब कुछ सहना पड़ता है वह यह नहीं सोचते कि समाज में उनकी इज्जत है और खास तौर पर क्या होता है जो लोग उनके साथ रहने वाले हैं वहीं उनकी खिल्ली उड़ाते हैं उनका मजाक उड़ाते हैं उनकी बातों का जग जाहिर करते हैं इस समाज में कोई किसी का अपना नहीं है अब तो तारीफ आदमी का यह हाल होता है वह डिप्रेशन में आ जाता है अपने घर में बंद हो जाता है ना कहीं जाता है नहीं कहीं आता है ना किस से मिलता है खुशी ही करता है सब लोग उससे दूर है और जिस से डिप्रेशन का शिकार हो जाता है जब कश्मीर के शिकार होने का मतलब यह है अपने जीवन को आधा खत्म कर दिया धीरे-धीरे करके ना उसको खाने का मन करता है मैं टीवी देखने का मन करता है ना जब बात करने का मन करता है और हर्ष याद आती हो जाती है उसके कुछ समझ में नहीं आता हर समय वही चाहते हैं कि आज मुझे मौत मिल जाए आज मुझे मौत मिल जाए लेकिन पता लेता करने वाला उसके ऊपर कोई असर नहीं हो पर आज के टाइम में हर 10 में से तीन जने जा है इस चीज के शिकार हैं एंटी डारी साल में प्रताड़ित हो रहे हैं परेशान है मां-बाप है जिंदगी अपने बच्चे हैं अपनी बेटी हैं अपने बेटे हैं उनको यह समझ नहीं आता कि कल को अगर हमारे बेटे की बहू ने भी हमें ऐसा कुछ करा तो हमारा क्या हाल होगा आज के टाइम में दूसरे का बुरा करने में गलत करने में कोई सोचता नहीं है उस पर को हमारी पर भी ऐसा हो सकता है उनको बाद में जीवन का अंत बहुत बुरा भोगना पड़ता है इसलिए बढ़िया है कि ऐसे कामों से दूर रहो और जो 40 आदमी है उसके साथ संबंधित को उसको समझाओ बुझाओ उसके साथ बातें करो उसको डिप्रेशन मत आने दो कि डिप्रेशन में आने के बाद आदमी को ही पता है जब तक कि मैं क्या कर रहा हूं खाना खाया नहीं खाया अगर सड़क पर चल रहा है तो किसी की तरफ नहीं कर सकता है नहीं भी जा सकता है और अगर के मकान में कहीं जा रहा है

jin logo ko pratarit ka intajam lagta hai duniya ke sabse badnaseeb insaan mein chalte hai aur jo paisa dene wali ladki ki wajah se hamko yah sab kuch sahna padta hai vaah yah nahi sochte ki samaj mein unki izzat hai aur khaas taur par kya hota hai jo log unke saath rehne waale hai wahi unki khilli udate hai unka mazak udate hai unki baaton ka jag jaahir karte hai is samaj mein koi kisi ka apna nahi hai ab toh tareef aadmi ka yah haal hota hai vaah depression mein aa jata hai apne ghar mein band ho jata hai na kahin jata hai nahi kahin aata hai na kis se milta hai khushi hi karta hai sab log usse dur hai aur jis se depression ka shikaar ho jata hai jab kashmir ke shikaar hone ka matlab yah hai apne jeevan ko aadha khatam kar diya dhire dhire karke na usko khane ka man karta hai TV dekhne ka man karta hai na jab baat karne ka man karta hai aur harsh yaad aati ho jaati hai uske kuch samajh mein nahi aata har samay wahi chahte hai ki aaj mujhe maut mil jaaye aaj mujhe maut mil jaaye lekin pata leta karne vala uske upar koi asar nahi ho par aaj ke time mein har 10 mein se teen jane ja hai is cheez ke shikaar hai anti dari saal mein pratarit ho rahe hai pareshan hai maa baap hai zindagi apne bacche hai apni beti hai apne bete hai unko yah samajh nahi aata ki kal ko agar hamare bete ki bahu ne bhi hamein aisa kuch kara toh hamara kya haal hoga aaj ke time mein dusre ka bura karne mein galat karne mein koi sochta nahi hai us par ko hamari par bhi aisa ho sakta hai unko baad mein jeevan ka ant bahut bura bhogna padta hai isliye badhiya hai ki aise kaamo se dur raho aur jo 40 aadmi hai uske saath sambandhit ko usko samjhao bujhao uske saath batein karo usko depression mat aane do ki depression mein aane ke baad aadmi ko hi pata hai jab tak ki main kya kar raha hoon khana khaya nahi khaya agar sadak par chal raha hai toh kisi ki taraf nahi kar sakta hai nahi bhi ja sakta hai aur agar ke makan mein kahin ja raha hai

जिन लोगों को प्रताड़ित का इंतजाम लगता है दुनिया के सबसे बदनसीब इंसान में चलाते हैं और जो प

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  663
WhatsApp_icon
user
0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जिन पुरुषों पर प्रताड़ित आकार जाम लगता है उनके परिवार वालों को बहुत सी मुसीबतों से गुजरना पड़ता है सर्वप्रथम तो किस तरह का एग्जाम है वायलेशन का है डोरी का है क्या है यह जान किस तरह से है तो उसके तहत अलग-अलग धाराएं लगाकर उन पर अलग-अलग स्थानों का बिल की जाती है उस सजा के अंतर्गत पूरे और उसके परिवार वाले कटघरे में आ जाते हैं और उनको तरह-तरह की सफाई देनी पड़ती है और कई तरह के उनके ऊपर फाइंड भी लगा दिए जाते हैं जब वह फाइनेंस पर झूलते रहते हैं तो फाइनेंशली तो उनका डिग्रेड होना शुरू हो जाता है और दूसरी बात सामाजिक प्रतिष्ठा जो है उस पर तो बात बन ही आती है तो इस तरह से जंतु सुपर पड़ता है जाम लगता है उनके परिवार को तो कई तरह की मुसीबतों से गुजर ना ही पड़ता है

dekhiye jin purushon par pratarit aakaar jam lagta hai unke parivar walon ko bahut si musibaton se gujarana padta hai sarvapratham toh kis tarah ka exam hai vayleshan ka hai dori ka hai kya hai yah jaan kis tarah se hai toh uske tahat alag alag dharayen lagakar un par alag alag sthano ka bill ki jaati hai us saza ke antargat poore aur uske parivar waale katghare me aa jaate hain aur unko tarah tarah ki safaai deni padti hai aur kai tarah ke unke upar find bhi laga diye jaate hain jab vaah finance par jhoolate rehte hain toh financially toh unka degrade hona shuru ho jata hai aur dusri baat samajik prathishtha jo hai us par toh baat ban hi aati hai toh is tarah se jantu super padta hai jam lagta hai unke parivar ko toh kai tarah ki musibaton se gujar na hi padta hai

देखिए जिन पुरुषों पर प्रताड़ित आकार जाम लगता है उनके परिवार वालों को बहुत सी मुसीबतों से ग

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

Angad Yadav

I.T.B.P Force .Teacher. Social Worker

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आकर प्रश्न है कि जिन पुरुषों के प्रभाविता का इल्जाम लगता है उनके परिवार को किस तरह की मुसीबतों का सामना कर अपने प्यारे भाइयों दोस्तों इस चीजों की परिवार बुरा असर पड़ता है इसमें जो भी क्यों कैसा है आशिक आशिक के बिरहा सामाजिक और प्रशासनिक कार्य सहित प्रशासनिक दबाव बढ़ता है सामाजिक दबाव पड़ता है आशिक से बयां करता है बताएं

jaisa ki aakar prashna hai ki jin purushon ke prabhaavita ka illajam lagta hai unke parivar ko kis tarah ki musibaton ka samana kar apne pyare bhaiyo doston is chijon ki parivar bura asar padta hai isme jo bhi kyon kaisa hai aashik aashik ke birha samajik aur prashaasnik karya sahit prashaasnik dabaav badhta hai samajik dabaav padta hai aashik se bayaan karta hai bataye

जैसा कि आकर प्रश्न है कि जिन पुरुषों के प्रभाविता का इल्जाम लगता है उनके परिवार को किस तरह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

की क्वेश्चन मेरे सामने आया कि जिन पुरुषों पर प्रताड़ना का इलाज भी जाम लगता है उनकी परिवार को किस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता है तू देखी मैं आपको मैं जो रियल है जो सत्य है जो सच्ची घटनाएं हैं जो आज का जो युग है जो आज की पीढ़ी कर रही है तो मैं उसके बारे में आपको बताना चाहता हूं कि आजकल कम से कम सौ परसेंट भी कम से कम मैं मान कर चलता हूं अस्सी परसेंट जो और कैसे चलते हैं परिवार उस में क्या कहते हैं परिवार न्यायालय में तू कम से कम 80 परसेंट जो पुरुषों पर केस किया जाता है तो 80 परसेंट की गलत होती हैं उनको जबरदस्ती उनकी पर कैसे लगाया जाता है क्योंकि इसके पहले किसी ने कहा कि सीमा वर्मा ने कहा कि लेडीस सुनाइए गलत और सही करनी नहीं कर पाते हैं लोग और जूली बीच कह दी मुझे मारा मुझे पीटा और मेरे साथ यह किया मुझ से देश मांगा तू तो सब जगह कहा जा रहा है कि औरतों की सुनवाई हेतु तुम उनकी कुछ भी आरोप लगा सकते हैं पुरुष को पर तो उनका सकते उनका मतलब माना जाता है साथ ही साथ परिवार का जो उन्होंने कहा कि उनकी परिवार को भी किस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ता तो सचमुच की शादी तो एक से होती है शादी तो होती है लेकिन इसका शिकार पूरा परिवार हो जाता है भाई बहन मां बाप सभी लोग शिकार हो जाते हैं लेकिन मैं आपको बता दूं कि भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं है आप भी जो है थोड़ा बहुत गलत करता है मैं तो यह कहना चाहता हूं कि आज की जो युवा पीढ़ी है आज की जो लड़कियां है वही घर तोड़ती हैं आप घर तोड़ने का पूरा प्रयास करती है कि मैं और मेरा पति रहे यह श्रीकृष्ण को सिखा कर के भेज देती है साथी साथ जौनपुर से गुप्ता का इल्जाम लगाया जाता है तुर्की परिवार वालों पर क्या बीती है परिवार वाले भी जेल जाती हैं उनको भी प्रताड़ना मतलब मुसीबतों का सामना करना पड़ता है तो मुसीबतों के सामने के साथ-साथ उस समय की बर्बादी होती है धन की बर्बादी होती है मानसिक तनाव होता है बहुत सी चीजें ऐसी होती है कि और मैंने बहुत से किसी से से देखेगी ज्योति कैसे लगाए जाते हैं अगर आप दोनों पति पति पति मिलने ही तालमेल बैठा है तो आप एक दूसरे को छोड़ सकते भी बोल दे सकते हो क्योंकि मैं आपको बता दूं आज की जो आज की जो हमारी युवा पीढ़ी है पुरुषों की बात में कर रहा हूं तुझे आज बेरोजगार बैठे हैं तो सिर्फ महिलाओं के कारण बेरोजगार बैठे हैं क्योंकि कंपनी भी कोई महिला कोई पुरुष 20000 15000 में काम कर रहा है दुबई कंपनी में वह महिला जो थोड़ा बहुत तो पढ़कर कि मैं महिलाओं का सम्मान करता हूं लेकिन मैं ऐसी महिलाओं को कहना चाहता हूं कि तू मतलब जो प्रताड़ना का आरोप लगाती है तो यह गलत करती है तो इनको खुद ही सूचना दी कि मैं भी किसी की बेटी हूं मैं भी किसी की बहू और मैं मुझ मेरे पास भी कल एक बेटा आएगा बीती होगी तो ही आगे की सोच आ जाए और मैं यह नहीं कहता हूं कि मैंने आपको आज भी बदलाव लोग लालच के कारण लोगों को जो प्रताड़ित करते हैं और उनको मतलब यह सारी चीजों पर हर चीज को लेकर कि उस को प्रताड़ित करते 30 प्रसिद्ध है अगर पूरा आ जाए तो इल्जाम लगाया जाता है

ki question mere saamne aaya ki jin purushon par prataadana ka ilaj bhi jam lagta hai unki parivar ko kis tarah ki musibaton ka samana karna padta hai tu dekhi main aapko main jo real hai jo satya hai jo sachi ghatnaye hain jo aaj ka jo yug hai jo aaj ki peedhi kar rahi hai toh main uske bare me aapko batana chahta hoon ki aajkal kam se kam sau percent bhi kam se kam main maan kar chalta hoon assi percent jo aur kaise chalte hain parivar us me kya kehte hain parivar nyayalaya me tu kam se kam 80 percent jo purushon par case kiya jata hai toh 80 percent ki galat hoti hain unko jabardasti unki par kaise lagaya jata hai kyonki iske pehle kisi ne kaha ki seema verma ne kaha ki ladies sunaiye galat aur sahi karni nahi kar paate hain log aur julie beech keh di mujhe mara mujhe pita aur mere saath yah kiya mujhse se desh manga tu toh sab jagah kaha ja raha hai ki auraton ki sunvai hetu tum unki kuch bhi aarop laga sakte hain purush ko par toh unka sakte unka matlab mana jata hai saath hi saath parivar ka jo unhone kaha ki unki parivar ko bhi kis tarah ki musibaton ka samana karna padta toh sachmuch ki shaadi toh ek se hoti hai shaadi toh hoti hai lekin iska shikaar pura parivar ho jata hai bhai behen maa baap sabhi log shikaar ho jaate hain lekin main aapko bata doon ki bhagwan ke ghar me der hai andher nahi hai aap bhi jo hai thoda bahut galat karta hai main toh yah kehna chahta hoon ki aaj ki jo yuva peedhi hai aaj ki jo ladkiya hai wahi ghar todti hain aap ghar todne ka pura prayas karti hai ki main aur mera pati rahe yah shrikrishna ko sikha kar ke bhej deti hai sathi saath jaunpur se gupta ka illajam lagaya jata hai turkey parivar walon par kya biti hai parivar waale bhi jail jaati hain unko bhi prataadana matlab musibaton ka samana karna padta hai toh musibaton ke saamne ke saath saath us samay ki barbadi hoti hai dhan ki barbadi hoti hai mansik tanaav hota hai bahut si cheezen aisi hoti hai ki aur maine bahut se kisi se se dekhenge jyoti kaise lagaye jaate hain agar aap dono pati pati pati milne hi talmel baitha hai toh aap ek dusre ko chhod sakte bhi bol de sakte ho kyonki main aapko bata doon aaj ki jo aaj ki jo hamari yuva peedhi hai purushon ki baat me kar raha hoon tujhe aaj berozgaar baithe hain toh sirf mahilaon ke karan berozgaar baithe hain kyonki company bhi koi mahila koi purush 20000 15000 me kaam kar raha hai dubai company me vaah mahila jo thoda bahut toh padhakar ki main mahilaon ka sammaan karta hoon lekin main aisi mahilaon ko kehna chahta hoon ki tu matlab jo prataadana ka aarop lagati hai toh yah galat karti hai toh inko khud hi soochna di ki main bhi kisi ki beti hoon main bhi kisi ki bahu aur main mujhse mere paas bhi kal ek beta aayega biti hogi toh hi aage ki soch aa jaaye aur main yah nahi kahata hoon ki maine aapko aaj bhi badlav log lalach ke karan logo ko jo pratarit karte hain aur unko matlab yah saari chijon par har cheez ko lekar ki us ko pratarit karte 30 prasiddh hai agar pura aa jaaye toh illajam lagaya jata hai

की क्वेश्चन मेरे सामने आया कि जिन पुरुषों पर प्रताड़ना का इलाज भी जाम लगता है उनकी परिवार

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
user

V.k.jha

Marketeer

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आपने मुझे बताया है कि उसे प्रताड़ित किया जाता है जाम लगाया जाता है तो उसमें सबसे पहले कि 2014 से पहले जो भी तेज है तो उसमें सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को पाया था कि जो भी कैसी है जो भी आपके तथ्य हैं वह सब जितने भी केस सुप्रीम कोर्ट में आए थे लड़कियों ने जी ने पेपर तारीख तक जाम लगाया था या झूठा केस के नाम लगाया था तो सुप्रीम कोर्ट ने यह जजमेंट दिया था कि इसमें कई झूठे मुकदमें आते हैं इसलिए जब भी कोई लड़की आपके परिवार में शिक्षिका नाम देती है एक्स वाई जेड किसी दूर के रिश्तेदार का नाम देती है तो उसमें बिल्कुल मत घबराइए आपको ना रेस्ट किया जाएगा ना आपसे कोई बदतमीजी की जाएगी आप चाहिए अपना जो आपका खाना पड़ता है वहां पर जाइए अपनी बातों को अपने पक्ष को रखिए पक्ष को रखने के बाद श्री अगर इसमें डीएम डिसाइड करेगा जिला कलेक्टर डिसाइड करेगा मिस्टर डिसाइड करेगा गिरफ्तारी होगी कि नहीं होगी आप बिल्कुल अगला पर्सेंट है तो आप अपना जाइए वहां जाने के बाद अपनी बात को पुलिस में अपने पक्ष को रखिए तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि आपको यह महसूस किया कि आपके परिवार वालों किया जाएगा पूरा इंक्वायरी होगा इंक्वायरी में अगर आपको इनोसेंट है तो आपके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी अगर आपकी इनोसेंट नहीं है तो जाहिर सी बात तो खिला दो पर आगे कार्रवाई हो सकती है तो इसके लिए आप अपना पक्ष रखें अगर कंप्लेन आपके ऊपर हुई है तो आप जाइए जाकर अपना बात रखी अपना पक्ष रखें और पक्ष रखने के बाद अपने कानून के साथ चलिए नियमों का पालन की भी ऐसी कोई दिक्कत वाली बात नहीं है

jaisa ki aapne mujhe bataya hai ki use pratarit kiya jata hai jam lagaya jata hai toh usme sabse pehle ki 2014 se pehle jo bhi tez hai toh usme supreme court ne is baat ko paya tha ki jo bhi kaisi hai jo bhi aapke tathya hain vaah sab jitne bhi case supreme court me aaye the ladkiyon ne ji ne paper tarikh tak jam lagaya tha ya jhutha case ke naam lagaya tha toh supreme court ne yah judgement diya tha ki isme kai jhuthe mukadamen aate hain isliye jab bhi koi ladki aapke parivar me shikshika naam deti hai x why z kisi dur ke rishtedar ka naam deti hai toh usme bilkul mat ghabaraiye aapko na rest kiya jaega na aapse koi badatamiji ki jayegi aap chahiye apna jo aapka khana padta hai wahan par jaiye apni baaton ko apne paksh ko rakhiye paksh ko rakhne ke baad shri agar isme dm decide karega jila collector decide karega mister decide karega giraftari hogi ki nahi hogi aap bilkul agla percent hai toh aap apna jaiye wahan jaane ke baad apni baat ko police me apne paksh ko rakhiye toh aisa bilkul bhi nahi hai ki aapko yah mehsus kiya ki aapke parivar walon kiya jaega pura enquiry hoga enquiry me agar aapko Innocent hai toh aapke upar koi karyawahi nahi ki jayegi agar aapki Innocent nahi hai toh jaahir si baat toh khila do par aage karyawahi ho sakti hai toh iske liye aap apna paksh rakhen agar complain aapke upar hui hai toh aap jaiye jaakar apna baat rakhi apna paksh rakhen aur paksh rakhne ke baad apne kanoon ke saath chaliye niyamon ka palan ki bhi aisi koi dikkat wali baat nahi hai

जैसा कि आपने मुझे बताया है कि उसे प्रताड़ित किया जाता है जाम लगाया जाता है तो उसमें सबसे प

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं मानती हूं कि समाज में स्त्रियों पर अत्याचार होते हैं दहेज जैसी कुप्रथा के कारण अनेक सारे प्रताड़ना हिलाओ को झेलनी पड़ती है कई ऐसी महिलाएं हैं जो अपनी आवाज चीज मांगे पूरी नहीं होने के कारण अपने ससुराल वालों पर अपने पति पर गलत इल्जाम लगा देते हैं ऐसे परिवार को समाज में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है उसने अपराध किया हो या नहीं क्या लेकिन फिर भी समाज उन्हें दृष्टि से देश व समाज में उपेक्षित नजर से देखे जाते हैं उनसे समाज व खानपान छोड़ दिया जाता है उनसे संबंध तोड़ के लिए यह जाते हैं सबसे पहले मैं यह कहना चाहूंगा ऐसे लोगों से कि हमें पहले सच्चाई का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है कि क्या वह वास्तव में अपराधी है या नहीं इससे मुक्त समाज में हो रहे गलत प्रथा ग़लत प्रथा के नाम पर प्रताड़ना को उसे बढ़ सकते हैं सरकार को या अधिकार है कि वह ऐसी महिलाओं पर करें एक्शन ले जो कानून के नाम पर बेकसूर लोगों पर प्रताड़ना प्रताड़ना करती है ऐसे लोगों पर इल्जाम लगाती झूठा इल्जाम लगाती है जो निर्दोष होते हैं

main maanati hoon ki samaj mein sthreeyon par atyachar hote hain dahej jaisi kupratha ke karan anek saare prataadana hilao ko jhelani padti hai kai aisi mahilaye hain jo apni awaaz cheez mange puri nahi hone ke karan apne sasural walon par apne pati par galat illajam laga dete hain aise parivar ko samaj mein kai kathinaiyon ka samana karna padta hai usne apradh kiya ho ya nahi kya lekin phir bhi samaj unhe drishti se desh va samaj mein upekshit nazar se dekhe jaate hain unse samaj va khanpan chod diya jata hai unse sambandh tod ke liye yah jaate hain sabse pehle main yah kehna chahunga aise logo se ki hamein pehle sacchai ka gyaan hona bahut aavashyak hai ki kya vaah vaastav mein apradhi hai ya nahi isse mukt samaj mein ho rahe galat pratha galat pratha ke naam par prataadana ko use badh sakte hain sarkar ko ya adhikaar hai ki vaah aisi mahilaon par kare action le jo kanoon ke naam par bekasur logo par prataadana prataadana karti hai aise logo par illajam lagati jhutha illajam lagati hai jo nirdosh hote hain

मैं मानती हूं कि समाज में स्त्रियों पर अत्याचार होते हैं दहेज जैसी कुप्रथा के कारण अनेक सा

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महिला को प्रताड़ित करना जिस प्रकार कहा जाता है कि पुरुषों पर इस तरह कल शाम लगता है तो मैं मानता हूं कुछ हद तक यह जाम गलत होते हैं लेकिन कुछ हद तक एग्जाम सही भी होते हैं रही बात परिवार की कि परिवार द्वारा जो प्रताड़ना का दर्द सहना पड़ता है मर्दों के घर को वह गलत होता है अन्याय पूर्ण होता है अगर वह पुरुष जाम लगाया गया है उन्हें दोष है लेकिन अगर वह दोषी है तो कहीं ना कहीं उस और उसके घर वालों का भी सहयोग काफी हद तक कानूनी कार्रवाई में देखा गया है कि पाया गया जैसे जेठानी जय नंद सास ससुर तो इतना कई प्रकार की होती है घरेलू हिंसा महिला के साथ मारपीट करना दहेज हिंसा 498 जिसको आपका कहा जाता है इस प्रकार खेलती रहती है का शिकार होती रहती है तथा अपने परिवार के मान सम्मान के लिए चुप रहती है परंतु इंसान अगर गलत है तो इसका खामियाजा पुरुष और उसके परिवार को बहुत-बहुत ना पड़ता है कि सामाजिक प्रतिष्ठा मानसिक स्थिति गिर जाती है क्योंकि दहेज उत्पीड़न घरेलू हिंसा इन सब मामलों के केस में बहुत समय लग जाता है और ऐसी हरकत अगर पुरुष देखी है तो उसके साथ उसके घर की जिंदगी भी अगर बात होती है पुरुषों द्वारा प्रताड़ना होती घरेलू हिंसा दहेज हिंसा किसी और के साथ पुरुष का शादी के बाद फिर उन्हें या अन्य प्रकार भी इस घटना का

mahila ko pratarit karna jis prakar kaha jata hai ki purushon par is tarah kal shaam lagta hai toh main maanta hoon kuch had tak yah jam galat hote hain lekin kuch had tak exam sahi bhi hote hain rahi baat parivar ki ki parivar dwara jo prataadana ka dard sahna padta hai mardon ke ghar ko vaah galat hota hai anyay purn hota hai agar vaah purush jam lagaya gaya hai unhe dosh hai lekin agar vaah doshi hai toh kahin na kahin us aur uske ghar walon ka bhi sahyog kaafi had tak kanooni karyawahi me dekha gaya hai ki paya gaya jaise jethani jai nand saas sasur toh itna kai prakar ki hoti hai gharelu hinsa mahila ke saath maar peet karna dahej hinsa 498 jisko aapka kaha jata hai is prakar khelti rehti hai ka shikaar hoti rehti hai tatha apne parivar ke maan sammaan ke liye chup rehti hai parantu insaan agar galat hai toh iska khamiyaja purush aur uske parivar ko bahut bahut na padta hai ki samajik prathishtha mansik sthiti gir jaati hai kyonki dahej utpidan gharelu hinsa in sab mamlon ke case me bahut samay lag jata hai aur aisi harkat agar purush dekhi hai toh uske saath uske ghar ki zindagi bhi agar baat hoti hai purushon dwara prataadana hoti gharelu hinsa dahej hinsa kisi aur ke saath purush ka shaadi ke baad phir unhe ya anya prakar bhi is ghatna ka

महिला को प्रताड़ित करना जिस प्रकार कहा जाता है कि पुरुषों पर इस तरह कल शाम लगता है तो मैं

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Arvind Kumar

govt Job

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिन पुरुषों पर प्रतियोगिता का इल्जाम लगता है सर्वप्रथम उन्हें समाज की दृष्टि में सबसे बड़ा मुसीबतों का सामना करना पड़ता है एक महिला पुरुष पत्रकारिता का इल्जाम लगाती है समाज में पुरुषों को हर व्यक्ति की नजर में एक गिरी हुई नजर से देखा जाता है देखा जाता है कि पुरुषों के एक महिला के ऊपर इतना जुलुम कर कर रहे हैं उसको प्रताड़ित कर रहे हैं चाहे महिला सही है या गलत है यह कोई नहीं देखता दूसरा मां-बाप की नजरों में सोशियल रिलेशन परिवार पुलिस की नजरों में शहर पड़ोसी उनकी नजरों दीवान यदि उस पर पुरुष के अपने खुद के स्वयं के बच्चे हैं तो उनकी नजरों में करना पड़ता है आगे जैसे-जैसे वाइफ चलती है बढ़ती है कंडीशन इनके डिवोर्स पर चली जाती है उनकी पूरा जीवन ही अंधकार में हो जाता है क्योंकि एक जीवन का सफल जीवन का एक मोर मंत्र होता है कि रिलेशन लॉन्ग लाइफ से लेनदेन डेट यदि ऐसा नहीं होता तो पुरुष को पुरुष के जो मां बाप है उनको बहुत ही अत्यधिक पीड़ा होती है एक मां बाप की हमेशा है अपेक्षा रहती है कि उसके बच्चे उसकी बीवी ओके पोते पोते साथ में रहे खेले कूदे बड़े जीवन में अपनी उपलब्धियां पाए तो उनको मिशन निराशा देखनी पड़ती है इवन इन कम बैटरी अधिक सॉल्यूशन नहीं होता तो कई बार इनके ऊपर दहेज की प्रताड़ना इनका मां बाप को भी निर्वहन करना पड़ता है आए दिन कोर्ट ओके थाना के अन्य जगह चक्कर लगाने पड़ते हैं उनका व्यवसाय बिजनेस जो भी है सब इससे प्रभावित होते हैं इनका मोक्ष और बच्चों की पढ़ाई लिखाई भाई बहनों की जिम्मेदारियां सब कुछ इन चीजों से प्रभावित होती है ओके थैंक यू

jin purushon par pratiyogita ka illajam lagta hai sarvapratham unhe samaj ki drishti me sabse bada musibaton ka samana karna padta hai ek mahila purush patrakarita ka illajam lagati hai samaj me purushon ko har vyakti ki nazar me ek giri hui nazar se dekha jata hai dekha jata hai ki purushon ke ek mahila ke upar itna julum kar kar rahe hain usko pratarit kar rahe hain chahen mahila sahi hai ya galat hai yah koi nahi dekhta doosra maa baap ki nazro me social relation parivar police ki nazro me shehar padosi unki nazro deevan yadi us par purush ke apne khud ke swayam ke bacche hain toh unki nazro me karna padta hai aage jaise jaise wife chalti hai badhti hai condition inke divorce par chali jaati hai unki pura jeevan hi andhakar me ho jata hai kyonki ek jeevan ka safal jeevan ka ek mor mantra hota hai ki relation long life se lenden date yadi aisa nahi hota toh purush ko purush ke jo maa baap hai unko bahut hi atyadhik peeda hoti hai ek maa baap ki hamesha hai apeksha rehti hai ki uske bacche uski biwi ok pote pote saath me rahe khele kude bade jeevan me apni upalabdhiyaan paye toh unko mission nirasha dekhni padti hai even in kam battery adhik solution nahi hota toh kai baar inke upar dahej ki prataadana inka maa baap ko bhi nirvahan karna padta hai aaye din court ok thana ke anya jagah chakkar lagane padate hain unka vyavasaya business jo bhi hai sab isse prabhavit hote hain inka moksha aur baccho ki padhai likhai bhai bahnon ki zimmedariyan sab kuch in chijon se prabhavit hoti hai ok thank you

जिन पुरुषों पर प्रतियोगिता का इल्जाम लगता है सर्वप्रथम उन्हें समाज की दृष्टि में सबसे बड़ा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  65
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!