एक पुलीस अफ़सर के रूप में क्या आपको कभी किसी ने रिश्वत दी है? आप इस से कैसे इंकार करते हैं?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने का एक पुलिस अफसर के रूप में क्या आपको कभी किसी ने देश छोड़ दी है आप इसे कैसे इनकार करते हैं श्रीमान जी मैं कभी पुलिस मेक में मेरा आईना कांस्टेबल ना ऐसा E7 सेक्टर 9 सेक्टर 9 में कोई उच्च अधिकारी पद एसीपीडीसी पिक्चर तुम्हें कैसे अपना अनुभव बताएं जो चीज मैंने खाई नहीं उसका साथ कैसे बताऊं जो चीज मैंने पहनी नहीं उसका नाक कैसे बताऊं फिटिंग कैसे बताऊं डिपार्टमेंट ने काम नहीं किया तो बताओ मैं कैसे हम करता हूं अभी टीटू से कि रिश्वत देने की पेशकश मन की मन में रिसर्च की कभी ना देने की ना कभी देने की प्रश्न ही नहीं उठता कि कभी सोचा भी हो कि रिश्वत देकर कोई काम का है या रिश्वत देकर किसी का काम करना जिंदगी में भेंट देने क्यों शर्माता है कि लोग हमें उपहार देकर अपने कार्य के साथ देता लेकिन उनके भाव को समझते हुए 21 शब्द सर में इन शब्दों को स्वीकार नहीं करता मौका नहीं चूकता कर देने वाला ना लेने वाला बस आप चाहिए क्योंकि छोटे से उपहार में आपकी आत्मा को भेजो जो इससे अच्छा है आप गरीब घर के बन के रहो जो आज हम हैं सिर्फ अपनी ईमानदारी के बल पर ही आत्मबल के बल पर ही आजम गरीबी रेखा के अंतर्गत नैना जो कभी देखा ना कभी गरिमा का और ना ही कभी किसी उच्च स्तर के फायदा उठाने की कल्पना की

apne ka ek police officer ke roop me kya aapko kabhi kisi ne desh chhod di hai aap ise kaise inkar karte hain shriman ji main kabhi police make me mera aaina constable na aisa E7 sector 9 sector 9 me koi ucch adhikari pad ACPDC picture tumhe kaise apna anubhav bataye jo cheez maine khai nahi uska saath kaise bataun jo cheez maine pahani nahi uska nak kaise bataun fitting kaise bataun department ne kaam nahi kiya toh batao main kaise hum karta hoon abhi titu se ki rishwat dene ki peshkash man ki man me research ki kabhi na dene ki na kabhi dene ki prashna hi nahi uthata ki kabhi socha bhi ho ki rishwat dekar koi kaam ka hai ya rishwat dekar kisi ka kaam karna zindagi me bhent dene kyon sharmata hai ki log hamein upahar dekar apne karya ke saath deta lekin unke bhav ko samajhte hue 21 shabd sir me in shabdon ko sweekar nahi karta mauka nahi chukta kar dene vala na lene vala bus aap chahiye kyonki chote se upahar me aapki aatma ko bhejo jo isse accha hai aap garib ghar ke ban ke raho jo aaj hum hain sirf apni imaandaari ke bal par hi atmabal ke bal par hi azam garibi rekha ke antargat naina jo kabhi dekha na kabhi garima ka aur na hi kabhi kisi ucch sthar ke fayda uthane ki kalpana ki

अपने का एक पुलिस अफसर के रूप में क्या आपको कभी किसी ने देश छोड़ दी है आप इसे कैसे इनकार कर

Romanized Version
Likes  354  Dislikes    views  4486
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!