यह बात कितनी ठीक लगती है, छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि ज़िंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती है?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आनंद की प्राप्ति छोटी-छोटी वस्तुओं से लेकर के बड़े-बड़े कार्यों में मानव को प्राप्त होती रही है आनंद वस्तुतः अंतर संतुष्टि है जब तक मानव अपने अंतर्मन में गंध आदि विकारों से ग्रस्त होता है तब तक वह आनंद को प्राप्त नहीं कर पाता है इसलिए छोटी छोटी चीजों को हम बहुत आसानी से और बहुत कम समय में ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं और उस ज्ञान को प्राप्त करने और अनुभव करने के बाद में हमें उसका विश्लेषण प्राप्त होता है और विश्लेषण अब हमारा फास्ट होता है तो हमें एक आनंद की अनुभूति होती है

anand ki prapti choti choti vastuon se lekar ke bade bade karyo me manav ko prapt hoti rahi hai anand vastutah antar santushti hai jab tak manav apne antarman me gandh aadi vikaron se grast hota hai tab tak vaah anand ko prapt nahi kar pata hai isliye choti choti chijon ko hum bahut aasani se aur bahut kam samay me gyaan prapt kar sakte hain aur us gyaan ko prapt karne aur anubhav karne ke baad me hamein uska vishleshan prapt hota hai aur vishleshan ab hamara fast hota hai toh hamein ek anand ki anubhuti hoti hai

आनंद की प्राप्ति छोटी-छोटी वस्तुओं से लेकर के बड़े-बड़े कार्यों में मानव को प्राप्त होती र

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  61
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nishant Kr. Sharma

Social Worker And Advocate

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र आप का प्रश्न है इस छोटी-छोटी बातों में आनंद होना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती है इसे बात कहने का एक कारण है जो कि बहुत अहम है और हमें उसे समझना चाहिए हम अपने जीवन में कई बार क्या होता है बहुत बड़ी खुशियों के चक्कर में छोटी-छोटी खुशियों को छोड़ देते हैं जबकि प्रभु जो आपको दे छोटी छोटी खुशियां ही मिलकर ही बड़ी खुशी बनती है और हमें जो खुशी मिल रही है हमें उसका आनंद लेना चाहिए कई बार क्या होता है बड़ी खुशी के चक्कर में छोटी खुशियों को छोड़ कर चले जाते हैं और बड़ी खुशी भी हमको प्राप्त जीवन में कभी कुछ पूर्ण नहीं होता और सब कुछ हमारे इच्छा के अनुसार नहीं इसलिए जब आपको जीवन में खुशी मिले तो उस का आनंद लीजिए बड़ी यह नहीं कि बड़ी खुशी के चक्कर में छोटी खुशी को त्याग लीजिए जो है आपके पास उसमें शहर खुश रहना सीखें ज्यादा का लालच ना करें

mitra aap ka prashna hai is choti choti baaton me anand hona chahiye kyonki zindagi me badi badi batein bahut kam hoti hai ise baat kehne ka ek karan hai jo ki bahut aham hai aur hamein use samajhna chahiye hum apne jeevan me kai baar kya hota hai bahut badi khushiyon ke chakkar me choti choti khushiyon ko chhod dete hain jabki prabhu jo aapko de choti choti khushiya hi milkar hi badi khushi banti hai aur hamein jo khushi mil rahi hai hamein uska anand lena chahiye kai baar kya hota hai badi khushi ke chakkar me choti khushiyon ko chhod kar chale jaate hain aur badi khushi bhi hamko prapt jeevan me kabhi kuch purn nahi hota aur sab kuch hamare iccha ke anusaar nahi isliye jab aapko jeevan me khushi mile toh us ka anand lijiye badi yah nahi ki badi khushi ke chakkar me choti khushi ko tyag lijiye jo hai aapke paas usme shehar khush rehna sikhe zyada ka lalach na kare

मित्र आप का प्रश्न है इस छोटी-छोटी बातों में आनंद होना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रामापीर कि आपका पत्नी यह बात इतनी छोटी छोटी बातों में एक साथ बैठते खुशियां ही छोटा जो है इतना सा है उसके दादा-दादी नाना-नानी है

ramapir ki aapka patni yah baat itni choti choti baaton me ek saath baithate khushiya hi chota jo hai itna sa hai uske dada dadi nana naani hai

रामापीर कि आपका पत्नी यह बात इतनी छोटी छोटी बातों में एक साथ बैठते खुशियां ही छोटा जो है इ

Romanized Version
Likes  535  Dislikes    views  5953
WhatsApp_icon
user

Bharat Bhushan Sharma

Doctorate/Traveller

8:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों तो यहां प्रश्न यह है कि यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती हैं मेरे विचार में इस सवाल का कोई एक उत्तर देना मुश्किल है जिस प्रकार हर चीज के दो पहलु हो सकते हैं उसी प्रकार इस प्रश्न के भी दो पहलू हैं तो पहले मैं यहां अपनी बात इसके पक्ष में रखना चाहूंगा कि यह बात कितनी ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में आग खोजना चाहिए अगर हम इस पृथ्वी पर जितने भी मनुष्य रह रहे हैं अगर हम उन सब के जीवन को देखें तो हम पाएंगे कि अधिकतर शायद वह 90% भी हो सकते हैं 90% से ऊपर भी हो सकते हैं अपर मुख्य बात यह है कि अधिकतर मेजॉरिटी में जो लोग हैं उनकी जो लाइफ है जो उनका जो जीवन है वह धीमी धीमी गति से आगे बढ़ता है ऐसे लोग आपको शायद बहुत कम मिलेंगे या जिनके जीवन में कोई क्रांति घटी हो और क्रांति ही वह चीज है जिससे जीवन में सही में बड़ी-बड़ी बातें हो सकती हैं लेकिन अधिकतर लोग अधिकतर लोग उनका जो जीवन है वह धीरे धीरे चलता है और बिना किसी क्रांति के ही चलता है तो अगर हम इस बात का ध्यान रखें कि अधिकतर लोगों का जीवन अधिकतर मनुष्य का जीवन धीमी धीमी गति से आगे बढ़ रहा है तो हम यह मान सकते हैं कि शायद जीवन में बड़ी-बड़ी बातें बातें बातों के होने की संभावना जो है वह कम रहती है और अगर ऐसे में व्यक्ति केवल केवल इसी बात का इंतजार करते रहे कि जब मेरे जीवन में कोई बड़ी घटना होगी तभी मस्त आनंद लूंगा तो शायद अधिकतर लोगों के लोगों के जीवन में वह पल आएगा ही नहीं तो हम यह भी कह सकते हैं कि जो अधिकतर लोग हैं क्योंकि उनके जीवन में यह पल आएगा ही नहीं तो अधिकतर लोग जो हैं वह आनंद से वंचित रह जाएंगे जीवन में कोई रस नहीं ले पाएंगे और जीवन में आनंद का नहीं होना हम समझ सकते हैं कि अगर जीवन में आनंद ना हो तो उसके जगह कुछ और चीजें आएंगी शायद वह डिप्रेशन होगा या फिर कुछ परेशानियां बढ़ती रहेंगी और परेशानियों में ही जीवन जीना है तो वह तो जीवन है ही नहीं जीवन को आनंदमय ही लिया जा सकता है और एक बड़ी क्रांति के इंतजार में अपना जीवन परेशानी हमें बता देना चाहे दिए एक सफल जीवन की निशानी नहीं होगी या नहीं है तो इसलिए यह बात बहुत ही प्रासंगिक हो जाती है कि जीवन में छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए जहां पर हम हैं वहां हमें संतुष्ट रहने की कोशिश करनी चाहिए और अगर हम अपने आसपास देखें तो मैं बहुत सारी चीजें ऐसी नजर आएंगी जो कि वाकई में हमें खुशी प्रदान कर सकती हैं उदाहरण के लिए अपने प्रिय जनों से बात करना प्रकृति को अनुभव करना यह अपने आप में ही आनंद का विषय है हमारे सामने हमारे आसपास प्रतिदिन प्रतिफल ऐसी घटनाएं हो रही है जिनमें हम वाकई में आनंद ले सकते हैं और हमें वह आनंद लेना भी चाहिए क्योंकि अगर वह हम आनंद लेंगे तो हम खुशहाल रहेंगे खुशहाल रहेंगे तो हम इस जीवन की रिस्पेक्ट भी करेंगे और आगे बढ़ने की सोचते भी रहेंगे बिना किसी परेशानी के बिना परेशान हुए हम आगे बढ़ने के बारे में सोच सकते हैं पर यहीं से मैं अपने दूसरे पहलू की शुरुआत भी करूंगा तो दूसरा पहलू यह है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए इसका मतलब यह नहीं होना चाहिए कि हम बड़ी-बड़ी बातों के लिए कोशिश ना करें हम जीवन में किसी क्रांति के घटने के लिए कोशिश ना करें छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजने का मतलब यह कतई नहीं होना चाहिए कि हम जहां पर हैं वहीं स्थिर हो जाए जीवन आगे बढ़ने का ही नाम है और शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति इस पृथ्वी पर हो जो यह नहीं चाहता हो कि उसके जीवन में क्रांति घटे उसकी जीवन में भी बड़ी-बड़ी बातें हो जैसा कि मैंने पहले कहा कि ऐसे लोग शायद कम हैं जिनके जीवन में प्रांतिक घटती हो लेकिन यहां पर मुख्य बात यह है कि ऐसे लोग हैं जीवन में क्रांति घटती है हमारे पास इस प्रकार के बहुत सारे उदाहरण हैं तो अगर किसी एक व्यक्ति के जीवन में भी क्रांति घट सकती है तो हमारे जीवन में भी क्रांति घट सकती है और हमें अपने जीवन में बड़े बदलाव लाने के लिए जो भी संभव प्रयास हो वह करने चाहिए लेकिन यहां पर मुख्य बात यह है कि जीवन में बड़े बदलाव लाने की कोशिश भी आनंद नहीं होनी चाहिए अगर हम दुखी भाव से जीवन में बड़े बदलाव लाने की कोशिश करेंगे तो हम वर्तमान में परेशान रहेंगे और अगर हमारा वर्तमान परेशानी में है तो कल के आनंद की भी कोई घंटी नहीं है जीवन में आज हो रही छोटी-छोटी बातों में पूरा आनंद लीजिए और उसी आनंदित मन से कल की बड़ी-बड़ी बातों की पूरी कोशिश करते रहिए मैं आज शाम एक यात्री हूं एक ट्रैवलर हूं और अपनी यात्राओं के दौरान इसी प्रश्न को मेरे सामने बार-बार आते देखा है और जो मैंने अपने विचार प्रस्तुत किए हैं वह मेरे अनुभवों पर आधारित है मेरी यात्रा के दौरान मुझे जो भी छोटे-मोटे अनुभव हुए उनका मैंने पूरा आनंद लिया और उसी आनंदित मनसे में बड़े बदलाव लाने की तरफ भी अग्रसर हूं धन्यवाद

namaskar doston toh yahan prashna yah hai ki yah baat kitni theek lagti hai ki choti choti baaton me anand khojana chahiye kyonki zindagi me badi badi batein bahut kam hoti hain mere vichar me is sawaal ka koi ek uttar dena mushkil hai jis prakar har cheez ke do pahlu ho sakte hain usi prakar is prashna ke bhi do pahaloo hain toh pehle main yahan apni baat iske paksh me rakhna chahunga ki yah baat kitni theek hai ki choti choti baaton me aag khojana chahiye agar hum is prithvi par jitne bhi manushya reh rahe hain agar hum un sab ke jeevan ko dekhen toh hum payenge ki adhiktar shayad vaah 90 bhi ho sakte hain 90 se upar bhi ho sakte hain upper mukhya baat yah hai ki adhiktar mejariti me jo log hain unki jo life hai jo unka jo jeevan hai vaah dheemi dheemi gati se aage badhta hai aise log aapko shayad bahut kam milenge ya jinke jeevan me koi kranti ghati ho aur kranti hi vaah cheez hai jisse jeevan me sahi me badi badi batein ho sakti hain lekin adhiktar log adhiktar log unka jo jeevan hai vaah dhire dhire chalta hai aur bina kisi kranti ke hi chalta hai toh agar hum is baat ka dhyan rakhen ki adhiktar logo ka jeevan adhiktar manushya ka jeevan dheemi dheemi gati se aage badh raha hai toh hum yah maan sakte hain ki shayad jeevan me badi badi batein batein baaton ke hone ki sambhavna jo hai vaah kam rehti hai aur agar aise me vyakti keval keval isi baat ka intejar karte rahe ki jab mere jeevan me koi badi ghatna hogi tabhi mast anand lunga toh shayad adhiktar logo ke logo ke jeevan me vaah pal aayega hi nahi toh hum yah bhi keh sakte hain ki jo adhiktar log hain kyonki unke jeevan me yah pal aayega hi nahi toh adhiktar log jo hain vaah anand se vanchit reh jaenge jeevan me koi ras nahi le payenge aur jeevan me anand ka nahi hona hum samajh sakte hain ki agar jeevan me anand na ho toh uske jagah kuch aur cheezen aayengi shayad vaah depression hoga ya phir kuch pareshaniya badhti rahegi aur pareshaniyo me hi jeevan jeena hai toh vaah toh jeevan hai hi nahi jeevan ko anandamay hi liya ja sakta hai aur ek badi kranti ke intejar me apna jeevan pareshani hamein bata dena chahen diye ek safal jeevan ki nishani nahi hogi ya nahi hai toh isliye yah baat bahut hi prasangik ho jaati hai ki jeevan me choti choti baaton me anand khojana chahiye jaha par hum hain wahan hamein santusht rehne ki koshish karni chahiye aur agar hum apne aaspass dekhen toh main bahut saari cheezen aisi nazar aayengi jo ki vaakai me hamein khushi pradan kar sakti hain udaharan ke liye apne priya jano se baat karna prakriti ko anubhav karna yah apne aap me hi anand ka vishay hai hamare saamne hamare aaspass pratidin pratiphal aisi ghatnaye ho rahi hai jinmein hum vaakai me anand le sakte hain aur hamein vaah anand lena bhi chahiye kyonki agar vaah hum anand lenge toh hum khushahal rahenge khushahal rahenge toh hum is jeevan ki respect bhi karenge aur aage badhne ki sochte bhi rahenge bina kisi pareshani ke bina pareshan hue hum aage badhne ke bare me soch sakte hain par yahin se main apne dusre pahaloo ki shuruat bhi karunga toh doosra pahaloo yah hai ki choti choti baaton me anand khojana chahiye iska matlab yah nahi hona chahiye ki hum badi badi baaton ke liye koshish na kare hum jeevan me kisi kranti ke ghatane ke liye koshish na kare choti choti baaton me anand khojne ka matlab yah katai nahi hona chahiye ki hum jaha par hain wahi sthir ho jaaye jeevan aage badhne ka hi naam hai aur shayad hi koi aisa vyakti is prithvi par ho jo yah nahi chahta ho ki uske jeevan me kranti ghate uski jeevan me bhi badi badi batein ho jaisa ki maine pehle kaha ki aise log shayad kam hain jinke jeevan me prantik ghatati ho lekin yahan par mukhya baat yah hai ki aise log hain jeevan me kranti ghatati hai hamare paas is prakar ke bahut saare udaharan hain toh agar kisi ek vyakti ke jeevan me bhi kranti ghat sakti hai toh hamare jeevan me bhi kranti ghat sakti hai aur hamein apne jeevan me bade badlav lane ke liye jo bhi sambhav prayas ho vaah karne chahiye lekin yahan par mukhya baat yah hai ki jeevan me bade badlav lane ki koshish bhi anand nahi honi chahiye agar hum dukhi bhav se jeevan me bade badlav lane ki koshish karenge toh hum vartaman me pareshan rahenge aur agar hamara vartaman pareshani me hai toh kal ke anand ki bhi koi ghanti nahi hai jeevan me aaj ho rahi choti choti baaton me pura anand lijiye aur usi anandit man se kal ki badi badi baaton ki puri koshish karte rahiye main aaj shaam ek yatri hoon ek traveler hoon aur apni yatraon ke dauran isi prashna ko mere saamne baar baar aate dekha hai aur jo maine apne vichar prastut kiye hain vaah mere anubhavon par aadharit hai meri yatra ke dauran mujhe jo bhi chote mote anubhav hue unka maine pura anand liya aur usi anandit manse me bade badlav lane ki taraf bhi agrasar hoon dhanyavad

नमस्कार दोस्तों तो यहां प्रश्न यह है कि यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आन

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  302
WhatsApp_icon
user

Dr. Mrs. Pankaj (Priyanshi)

Ex-Lecturer (Ph.D in Philosophy), Meditation Teacher (Osho's-Vision), Translator, Youth Counselor, Motivational Speaker, Author, Reiki Healer.

5:01
Play

Likes  3  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

Deepak Tiwari

Freelance Writer And Poet, Working As Journalist

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से यह बात पूरी तरह से ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में आनंदपुरी लेना चाहिए खुशी का बहाना ढूंढ लेना चाहिए और इस तरह की छोटी छोटी खुशियां हमें प्रफुल्लित करती हैं अलादीन करते हैं और उत्साहित करते हैं कभी हताश नहीं होने देती

mere hisab se yah baat puri tarah se theek hai ki choti choti baaton me anandapuri lena chahiye khushi ka bahana dhundh lena chahiye aur is tarah ki choti choti khushiya hamein prafullit karti hain alladin karte hain aur utsaahit karte hain kabhi hathaash nahi hone deti

मेरे हिसाब से यह बात पूरी तरह से ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में आनंदपुरी लेना चाहिए खुशी का

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  200
WhatsApp_icon
user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है यह बात कितनी ठीक लगती है छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी बड़ी बातें बहुत कम होती है इसका उत्तर है यह कथन सत्य है बड़े अवसर बहुत कम आते हैं और छोटी छोटी अवसर छोटी छोटी बातें हमेशा आती रहती हैं इसलिए अपनी छोटी-छोटी बातों में आनंद खोज करके आनंदित होना चाहिए करो योग रहो निरोग

prashna hai yah baat kitni theek lagti hai choti choti baaton me anand khojana chahiye kyonki zindagi me badi badi batein bahut kam hoti hai iska uttar hai yah kathan satya hai bade avsar bahut kam aate hain aur choti choti avsar choti choti batein hamesha aati rehti hain isliye apni choti choti baaton me anand khoj karke anandit hona chahiye karo yog raho nirog

प्रश्न है यह बात कितनी ठीक लगती है छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी मे

Romanized Version
Likes  97  Dislikes    views  1939
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

4:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी आपके सवाल है यह बात कितनी ठीक लगी है छोटी-छोटी बातों में आनंद को चाहिए कि वे जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती है और किसको और शहद रखें और सिंपल रखिए कहीं पर कुछ खोजने की जरूरत नहीं होनी चाहिए वही आपको छोटी-छोटी बातों ढूंढ के उसमें खोजने की जरूरत नहीं होती है हमें तो अपने जीवन को इस तरीके से जीना चाहिए कि हर पल मैं आनंद में हो रहा हूं मैं उस सुख का और संतोष का अनुभव तेरी बड़ी सिंपल सी बात है जरूरी नहीं है कि छोटी-छोटी चीज में आपको आनंद ही मिलेगा लेकिन सबसे पहले तो आपको यह करना है कि क्या आपका जीवन संतोष पूर्वक कुशल से बढ़िया तरीके से बीत रहा है यानी वह बड़ा इंपॉर्टेंट हो जाता है अब आपको आईडेंटिफाई नहीं करना और अपने आप को खुश करने के लिए कोई कारण नहीं ढूंढना होता भाई आप अगर कुछ नहीं बिका मैं तो आपके जीवन में उथल-पुथल मतलब आपके दिमाग में उथल-पुथल नहीं होने से बैलेंस से जितना हो कर रहेंगे उतना बढ़िया रहेगा ना खुशी में बहुत ज्यादा खुशी होना गांव में बहुत ज्यादा दुखी हूं अगर आप अपने आप को संभाल में रख सकते हैं मध्य भाग में रख सकते हैं तो वह बहुत बढ़िया है बहुत हितकारी है क्यों क्योंकि वेरी सुन बहुत कम होता है और आप बार-बार अपने आप को उस स्थिति में ला पाएंगे जहां पर आप एक संतोष पूर्वक जीवन व्यतीत कर सकते हैं भले ही आपके पास सब कुछ हो ना हो कुछ हो ना हो पर ऐसे ही जैसे भी हो आप अपने आप को मैनेज कर सकते हैं कर पाएंगे आंखें दुनिया में लोग दुखी क्यों होते हैं अधिकतर अगर आप ध्यान से सोचेंगे तो बात इतनी सी है कि भाई दुनिया में लोगों को फिजिकल दुख नहीं है मतलब शारीरिक दुख नहीं है वह कम है या उसकी पीड़ा कम है उससे ज्यादा पीड़ा उनको मानसिक पीड़ा होती है और मानसिक पीड़ा क्या होती है भाई कोई कोई और देता नहीं है कोई और पता नहीं कि यह लो मेरी तरफ से तुम को मानसिक पीड़ा या मेरी तरफ से आपको कोई कष्ट नहीं हम अपने दिमाग में क्या चोरी बनाते रहते हैं क्या सोचते रहते हैं कि किस तरीके से चीजों को देखते हैं वही हमारे पीड़ा का कारण में जाते हैं तो हमें जितना सहज होकर रहना है उतना बढ़िया रहेगा मेरी आंतरिक स्थिति कैसी है उतना बड़े अब्बू अब उस पर ध्यान देने की जरूरत है मैं कितने संतोष पूर्वक अपना जीवन बिताता हूं वह जरूरी है इसका मतलब यह नहीं होता कि आप किसी लक्ष्य प्राप्ति के लिए आगे नहीं बढ़ेंगे आप लक्ष्मी बनाएंगे आप कुछ हासिल नहीं करेंगे जी नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आपको जो करना है आपको कीजिए जो अटेंड करना चाहते कीजिए देखने की याद आ रही है लेकिन साथ में आप अपने आप को कैसे मैनेज करते हैं यह बड़ा इंपॉर्टेंट हो जाते हैं तो मैं बता रहा था कि दुनिया में आज लोग दुखी क्यों हैं वह दुखी इसलिए हैं कि मेरा दिमाग मेरी बात नहीं मानता सोच कर देखें मैं रहना तो ऐसा चाहता हूं कि मैं पास के बारे में यह फ्यूचर के बारे में ना सोचो ना विचार करो और ना दुखी हूं लेकिन क्या मैं वैसा रह पाता हूं नहीं और यही तो दुख का कारण है इसी पर तो हमें काम करना है दूसरों को कंट्रोल नहीं करना दूसरा हमें दुख या सुख नहीं देता हम अपने आप को दुखी और सुखी बनाते हैं और वह प्राइमरी इसीलिए बनाते हैं इसी तरीके से बनाते हैं सब का तरीका वही होता है कि हम अपने अंदर क्या ख्याल रखते हैं उन खयालों को किस तरीके से देखते हैं किस तरीके से उस उन ख्यालों में उलझे रहते हैं या उन को समझाते हैं और आगे बढ़ते हैं यही हमारे सुख दुख का कारण हो जाता है तो इसीलिए भाई आमिर ज्यादा कुछ नहीं करना पास को छोड़ दीजिए फ्यूचर की चिंता ज्यादा मत कीजिए यह देखे कि आज अभी इस पर मुझे क्या करना है उस पर ध्यान दीजिए कर्म धर्म के रास्ते पर ना उस पर ध्यान दीजिए और अग्रसर रहें यही करने की जरूरत है और प्रयास कीजिए कि जितना हम अब मध्य भाग में रहे ना ज्यादा खुश हो ना ज्यादा दुखी हो बस

ji aapke sawaal hai yah baat kitni theek lagi hai choti choti baaton me anand ko chahiye ki ve zindagi me badi badi batein bahut kam hoti hai aur kisko aur shehed rakhen aur simple rakhiye kahin par kuch khojne ki zarurat nahi honi chahiye wahi aapko choti choti baaton dhundh ke usme khojne ki zarurat nahi hoti hai hamein toh apne jeevan ko is tarike se jeena chahiye ki har pal main anand me ho raha hoon main us sukh ka aur santosh ka anubhav teri badi simple si baat hai zaroori nahi hai ki choti choti cheez me aapko anand hi milega lekin sabse pehle toh aapko yah karna hai ki kya aapka jeevan santosh purvak kushal se badhiya tarike se beet raha hai yani vaah bada important ho jata hai ab aapko aidentifai nahi karna aur apne aap ko khush karne ke liye koi karan nahi dhundhana hota bhai aap agar kuch nahi bika main toh aapke jeevan me uthal puthal matlab aapke dimag me uthal puthal nahi hone se balance se jitna ho kar rahenge utana badhiya rahega na khushi me bahut zyada khushi hona gaon me bahut zyada dukhi hoon agar aap apne aap ko sambhaal me rakh sakte hain madhya bhag me rakh sakte hain toh vaah bahut badhiya hai bahut hitkari hai kyon kyonki very sun bahut kam hota hai aur aap baar baar apne aap ko us sthiti me la payenge jaha par aap ek santosh purvak jeevan vyatit kar sakte hain bhale hi aapke paas sab kuch ho na ho kuch ho na ho par aise hi jaise bhi ho aap apne aap ko manage kar sakte hain kar payenge aankhen duniya me log dukhi kyon hote hain adhiktar agar aap dhyan se sochenge toh baat itni si hai ki bhai duniya me logo ko physical dukh nahi hai matlab sharirik dukh nahi hai vaah kam hai ya uski peeda kam hai usse zyada peeda unko mansik peeda hoti hai aur mansik peeda kya hoti hai bhai koi koi aur deta nahi hai koi aur pata nahi ki yah lo meri taraf se tum ko mansik peeda ya meri taraf se aapko koi kasht nahi hum apne dimag me kya chori banate rehte hain kya sochte rehte hain ki kis tarike se chijon ko dekhte hain wahi hamare peeda ka karan me jaate hain toh hamein jitna sehaz hokar rehna hai utana badhiya rahega meri aantarik sthiti kaisi hai utana bade abbu ab us par dhyan dene ki zarurat hai main kitne santosh purvak apna jeevan bitata hoon vaah zaroori hai iska matlab yah nahi hota ki aap kisi lakshya prapti ke liye aage nahi badhenge aap laxmi banayenge aap kuch hasil nahi karenge ji nahi aisa bilkul bhi nahi hai aapko jo karna hai aapko kijiye jo attend karna chahte kijiye dekhne ki yaad aa rahi hai lekin saath me aap apne aap ko kaise manage karte hain yah bada important ho jaate hain toh main bata raha tha ki duniya me aaj log dukhi kyon hain vaah dukhi isliye hain ki mera dimag meri baat nahi maanta soch kar dekhen main rehna toh aisa chahta hoon ki main paas ke bare me yah future ke bare me na socho na vichar karo aur na dukhi hoon lekin kya main waisa reh pata hoon nahi aur yahi toh dukh ka karan hai isi par toh hamein kaam karna hai dusro ko control nahi karna doosra hamein dukh ya sukh nahi deta hum apne aap ko dukhi aur sukhi banate hain aur vaah primary isliye banate hain isi tarike se banate hain sab ka tarika wahi hota hai ki hum apne andar kya khayal rakhte hain un khayalo ko kis tarike se dekhte hain kis tarike se us un khyalon me ulajhe rehte hain ya un ko smajhate hain aur aage badhte hain yahi hamare sukh dukh ka karan ho jata hai toh isliye bhai aamir zyada kuch nahi karna paas ko chhod dijiye future ki chinta zyada mat kijiye yah dekhe ki aaj abhi is par mujhe kya karna hai us par dhyan dijiye karm dharm ke raste par na us par dhyan dijiye aur agrasar rahein yahi karne ki zarurat hai aur prayas kijiye ki jitna hum ab madhya bhag me rahe na zyada khush ho na zyada dukhi ho bus

जी आपके सवाल है यह बात कितनी ठीक लगी है छोटी-छोटी बातों में आनंद को चाहिए कि वे जिंदगी में

Romanized Version
Likes  732  Dislikes    views  5125
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छोटी छोटी चीजें छोटी छोटी बातें जो खुशियों का स्रोत होती है भिन्न-भिन्न तरीके की खुशियां प्राप्त होती हैं मैं आपकी बात से सहमत लिए छोटी-छोटी बातों में घर परिवार में प्रेम में खुशियां ढूंढिए

choti choti cheezen choti choti batein jo khushiyon ka srot hoti hai bhinn bhinn tarike ki khushiya prapt hoti hain main aapki baat se sahmat liye choti choti baaton me ghar parivar me prem me khushiya dhundhiye

छोटी छोटी चीजें छोटी छोटी बातें जो खुशियों का स्रोत होती है भिन्न-भिन्न तरीके की खुशियां प

Romanized Version
Likes  211  Dislikes    views  2134
WhatsApp_icon
user

Dr Bhanu Shrivastav

Author, Astrologer, Spiritual Guru

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही है जीवन का गूढ़ रहस्य ही है क्या छोटी-छोटी बातों में अमित खोजिए एक्चुअली आनंद की को परिभाषित जब हम करते हैं तो इसकी कोई विशेष परिभाषा नहीं होगी आनंद एक मस्तिष्क का प्रकार है जिसे अनुभव किया जाता है यदि हमें सकारात्मक सोच के साथ किसी चीज को लेते हैं तो वह आनंद में परिवर्तित हो जाता है और जब उसी बात को नकारात्मक रूप ले लिया जाता है तो वह दुख बन जाता है जैसे किसी व्यक्ति के पास ₹90 हैं और वह सकारात्मक रूप से अगर सोचता है कि मेरे पास ना दर्द हो तो उसका ही आनंद महसूस होगा लेकिन जब नकारात्मक सोचेगा तो कहेगा कि लोगों के पास तो है मेरे पास सुना दो उसे दुख होगा आनंद सिर्फ और सिर्फ हमारी सकारात्मक सोच पर निर्भर करता है आप सकारात्मक सोच को रखी आपके जीवन में बहुत बड़ा परिवर्तन होगा आपका जीवन बदल जाएगा जीवन जीने का तरीका बदल जाएगा आपकी लाइफ में कुछ ऐसे परिवर्तन होंगे जिनके आप ने कल्पना भी नहीं की यही छोटा-छोटा आनंद आपको बड़ी-बड़ी खुशियां देना शुरू कर देगा

bilkul sahi hai jeevan ka gurh rahasya hi hai kya choti choti baaton me amit khojiye actually anand ki ko paribhashit jab hum karte hain toh iski koi vishesh paribhasha nahi hogi anand ek mastishk ka prakar hai jise anubhav kiya jata hai yadi hamein sakaratmak soch ke saath kisi cheez ko lete hain toh vaah anand me parivartit ho jata hai aur jab usi baat ko nakaratmak roop le liya jata hai toh vaah dukh ban jata hai jaise kisi vyakti ke paas Rs hain aur vaah sakaratmak roop se agar sochta hai ki mere paas na dard ho toh uska hi anand mehsus hoga lekin jab nakaratmak sochega toh kahega ki logo ke paas toh hai mere paas suna do use dukh hoga anand sirf aur sirf hamari sakaratmak soch par nirbhar karta hai aap sakaratmak soch ko rakhi aapke jeevan me bahut bada parivartan hoga aapka jeevan badal jaega jeevan jeene ka tarika badal jaega aapki life me kuch aise parivartan honge jinke aap ne kalpana bhi nahi ki yahi chota chota anand aapko badi badi khushiya dena shuru kar dega

बिल्कुल सही है जीवन का गूढ़ रहस्य ही है क्या छोटी-छोटी बातों में अमित खोजिए एक्चुअली आनंद

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
play
user
0:34

Likes  191  Dislikes    views  1677
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात कितनी अच्छी लगती है छोटी-छोटी बातों में आना चाहिए रोजमर्रा के जीवन में छोटी-छोटी खुशियों की परेशानी घटना घटना और खुशी आती नहीं और हम बड़ी छोटी छोटी बातों में जीवन आनंद का झरना बन जाएगा

yah baat kitni achi lagti hai choti choti baaton me aana chahiye rozmarra ke jeevan me choti choti khushiyon ki pareshani ghatna ghatna aur khushi aati nahi aur hum badi choti choti baaton me jeevan anand ka jharna ban jaega

यह बात कितनी अच्छी लगती है छोटी-छोटी बातों में आना चाहिए रोजमर्रा के जीवन में छोटी-छोटी खु

Romanized Version
Likes  229  Dislikes    views  1946
WhatsApp_icon
user

Prakash sharma

Social Worker

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात कितनी फीस लगती है छोटी-छोटी बातों में आनंद खोलना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती है छोटी-छोटी बातों में जवाब है दोस्तों सोचो की बात मान को देंगे तभी जीवन का आनंद ले पाएंगे बड़ी-बड़ी बातें तो हकीकत है बहुत ही कम होती है छोटा से छोटा जो भी काम करते कुछ भी करते हैं उसमें हम आनंद को देंगे तो आपका जीवन हमेशा सफल रहेगा

yah baat kitni fees lagti hai choti choti baaton me anand kholna chahiye kyonki zindagi me badi badi batein bahut kam hoti hai choti choti baaton me jawab hai doston socho ki baat maan ko denge tabhi jeevan ka anand le payenge badi badi batein toh haqiqat hai bahut hi kam hoti hai chota se chota jo bhi kaam karte kuch bhi karte hain usme hum anand ko denge toh aapka jeevan hamesha safal rahega

यह बात कितनी फीस लगती है छोटी-छोटी बातों में आनंद खोलना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें छोटी-छोटी बातों का जिंदगी में आना उठाना चाहिए क्योंकि हम अगर भरी बाथरूम में आने उठाने का सोचेंगे तो क्या पता हमारी जिंदगी में कभी बड़ी-बड़ी बातें हुई नहीं हर पल को अच्छे से जीना चाहिए और खुशियां चाहिए और आनंद उठाते रहना चाहिए अपनी जिंदगी

hamein choti choti baaton ka zindagi me aana uthana chahiye kyonki hum agar bhari bathroom me aane uthane ka sochenge toh kya pata hamari zindagi me kabhi badi badi batein hui nahi har pal ko acche se jeena chahiye aur khushiya chahiye aur anand uthate rehna chahiye apni zindagi

हमें छोटी-छोटी बातों का जिंदगी में आना उठाना चाहिए क्योंकि हम अगर भरी बाथरूम में आने उठाने

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्टार आपका पसंद है यह बात कितनी फीस लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी बड़ी बड़ी बातें बहुत कम होती है जी हां यदि हम छोटी बातों में खुश नहीं हो पाएंगे तो बड़ी बातें हमारी जीवन में नहीं आएंगी खुश होना मायने रखता है खुशी का कारण नहीं यदि आप छोटी बात पर खुश होते हैं तो आपके जीवन में बड़ी खुशी भी आकर्षित होगी परंतु यदि आप छोटी बातों को हल्के में लेते हैं और सोचते हैं कि जब कुछ बड़ा होगा तभी मैं खुश हूं लूंगा तो कहीं ना कहीं आप गलती कर रहे हैं क्योंकि आपके जीवन में खुशी से नहीं आ पाएगी बड़ी घटना नहीं हो पाएंगे बल्कि जो छोटी खुशियां आती है वह भी कहीं ना कहीं रुक जाएंगे धन्यवाद

star aapka pasand hai yah baat kitni fees lagti hai ki choti choti baaton me anand khojana chahiye kyonki zindagi badi badi batein bahut kam hoti hai ji haan yadi hum choti baaton me khush nahi ho payenge toh badi batein hamari jeevan me nahi aayengi khush hona maayne rakhta hai khushi ka karan nahi yadi aap choti baat par khush hote hain toh aapke jeevan me badi khushi bhi aakarshit hogi parantu yadi aap choti baaton ko halke me lete hain aur sochte hain ki jab kuch bada hoga tabhi main khush hoon lunga toh kahin na kahin aap galti kar rahe hain kyonki aapke jeevan me khushi se nahi aa payegi badi ghatna nahi ho payenge balki jo choti khushiya aati hai vaah bhi kahin na kahin ruk jaenge dhanyavad

स्टार आपका पसंद है यह बात कितनी फीस लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंक

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  3625
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:55
Play

Likes  159  Dislikes    views  4196
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आना चाहिए क्योंकि जिंदगी बड़ी बड़ी बातें बहुत कम होती है मैं तो कितनी बार यह कह चुकी हूं कि यह बड़ी बातों में आनंद मिलता समझ नहीं आती तो छोटी-छोटी बातों में आने से छोटी बात जो आपको अच्छी लगती हो जैसे चिड़ियों का चहचहाना अच्छी लगती है तो बर्ड वाचिंग करिए सुबह के घरवालों से निकल के आकाश में उड़ के लाइन में जाती है मथुरा बाद सोना इसी तरह और पक्षी को सुनने उनको देखो कहां टाइम मिलता है और जो आपके पसंद की बात है वह करके देखिए अपने तो 20 रोगियों को पसंद का इंटरेस्ट को पूरा करें खोजिए तो जब छोटे-छोटे इंटरव्यू पूरा करोगे खुशी होगी उनसे आपको तो कल बड़ी-बड़ी बातें करोगे और बड़ी करोगे और बड़ी करोगे और 1 दिन दुनिया में जो सबसे ज्यादा कर पाओगे फिर आपको कितनी खुश हो गया

aapka prashna hai ki yah baat kitni theek lagti hai ki choti choti baaton me aana chahiye kyonki zindagi badi badi batein bahut kam hoti hai main toh kitni baar yah keh chuki hoon ki yah badi baaton me anand milta samajh nahi aati toh choti choti baaton me aane se choti baat jo aapko achi lagti ho jaise chidiyon ka chahachahana achi lagti hai toh bird vaching kariye subah ke gharwaalon se nikal ke akash me ud ke line me jaati hai mathura baad sona isi tarah aur pakshi ko sunne unko dekho kaha time milta hai aur jo aapke pasand ki baat hai vaah karke dekhiye apne toh 20 rogiyon ko pasand ka interest ko pura kare khojiye toh jab chote chote interview pura karoge khushi hogi unse aapko toh kal badi badi batein karoge aur badi karoge aur badi karoge aur 1 din duniya me jo sabse zyada kar paoge phir aapko kitni khush ho gaya

आपका प्रश्न है कि यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आना चाहिए क्योंकि जिंदगी

Romanized Version
Likes  263  Dislikes    views  4336
WhatsApp_icon
user
1:17
Play

Likes  50  Dislikes    views  1512
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जैसे कि आपका प्रश्न है यह बात कितने ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोलना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती है तो यहां को बताना चाहेंगे बिल्कुल सही बात है इंसान को अपनी जिंदगी में छोटे-छोटे अवसरों पर खुशी होनी चाहिए उन छोड़कर शुरू को मूल्यवान बनाना चाहिए उसी के लिए प्रयास करना चाहिए क्योंकि यह छोटे-छोटे लम्हे आपको आगे तक ले कर जाते हैं और इनसे जो खुशी मिलती है बड़ी से बड़ी बात से खुशी इतनी नहीं मिलेगी तो छोटी-छोटी बातों में मिलती है मान लीजिए आपने 500001 कार खरीदी इन बड़ी बात हो गई कि ठीक है कि मुझे क्लास बंदे ने अगर 5 लाख की कार खरीदी है तो उसके लिए बड़ी बात है लेकिन कितनी बार यह जिंदगी में आपके अवसर आएंगे एक बार 2 बार 4 बार अगर मैं यहां पर कहूं कि आपने किसी गरीब की मदद की किसी भूखे को खाना खिलाया भले आपने उसको दो रोटी की ढाई ₹5 ₹10 के आपने उसको कुछ मदद करें यह आपके जीवन में कितनी बार हो सकती है तो तेरी थी शायद अनेक बार अगर आप चाहे तो तो यहां पर यह देखना है कि आपको खुशी किस से मिल रही है और ऐसे छोटी-छोटी चीज है जो छोटे-छोटे शरण अपने जीवन में एकत्रित करने है इकट्ठे करने हैं और उनसे अपने जीवन को और अधिक मूल्यवान बनाना है मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद

likhe jaise ki aapka prashna hai yah baat kitne theek hai ki choti choti baaton mein anand kholna chahiye kyonki zindagi mein badi badi batein bahut kam hoti hai toh yahan ko bataana chahenge bilkul sahi baat hai insaan ko apni zindagi mein chhote chhote avasaron par khushi honi chahiye un chhodkar shuru ko mulyavan banana chahiye usi ke liye prayas karna chahiye kyonki yah chhote chhote lamhe aapko aage tak le kar jaate hain aur inse jo khushi milti hai badi se badi baat se khushi itni nahi milegi toh choti choti baaton mein milti hai maan lijiye aapne 500001 car kharidi in badi baat ho gayi ki theek hai ki mujhe class bande ne agar 5 lakh ki car kharidi hai toh uske liye badi baat hai lekin kitni baar yah zindagi mein aapke avsar aayenge ek baar 2 baar 4 baar agar main yahan par kahun ki aapne kisi garib ki madad ki kisi bhukhe ko khana khilaya bhale aapne usko do roti ki dhai Rs Rs ke aapne usko kuch madad kare yah aapke jeevan mein kitni baar ho sakti hai toh teri thi shayad anek baar agar aap chahen toh toh yahan par yah dekhna hai ki aapko khushi kis se mil rahi hai aur aise choti choti cheez hai jo chhote chhote sharan apne jeevan mein ekatrit karne hai ikatthe karne hain aur unse apne jeevan ko aur adhik mulyavan banana hai subhkamnaayain aapke saath hai dhanyavad

लिखे जैसे कि आपका प्रश्न है यह बात कितने ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोलना चाहिए क्

Romanized Version
Likes  399  Dislikes    views  6297
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे आपकी यह बात बिल्कुल सही लगती है 100% सही लगती है कि जिंदगी में हमेशा छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए जो छोटी-छोटी बातों के अंदर आनंद का अनुभव करते हैं खुश होते हैं तो इसका मतलब हम वर्तमान में जीना सकते हैं और जब हम वर्तमान में जीना सीख लेते हैं तो बड़ी-बड़ी बातें कम नहीं होती बड़ी-बड़ी बातें जल्दी-जल्दी आपके जीवन में स्वयं ही होने लगती है आंखों के लिए कुछ नहीं करना पड़ता आप सिर्फ अपना ध्यान छोटी बातों से आनंद को महसूस करने में लगाए रखें और मेरी बहुत सारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं

mujhe aapki yah baat bilkul sahi lagti hai 100 sahi lagti hai ki zindagi mein hamesha choti choti baaton mein anand khojana chahiye jo choti choti baaton ke andar anand ka anubhav karte hain khush hote hain toh iska matlab hum vartaman mein jeena sakte hain aur jab hum vartaman mein jeena seekh lete hain toh badi badi batein kam nahi hoti badi badi batein jaldi jaldi aapke jeevan mein swayam hi hone lagti hai aankho ke liye kuch nahi karna padta aap sirf apna dhyan choti baaton se anand ko mehsus karne mein lagaye rakhen aur meri bahut saree subhkamnaayain aapke saath hain

मुझे आपकी यह बात बिल्कुल सही लगती है 100% सही लगती है कि जिंदगी में हमेशा छोटी-छोटी बातों

Romanized Version
Likes  304  Dislikes    views  4435
WhatsApp_icon
user

Harsh Verdhan

Trainer | Motivational Speaker |Mind Power Consultant

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात बिल्कुल ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में ही आनंदित होना चाहिए क्योंकि बड़ी बातें ऑफिस लिए बहुत कम होती है या बड़े मौके बहुत कम होते हैं और छोटे-छोटे मुखी हमारे पास सो जाते हैं तो हमें छोटी-छोटी चीजों को भी सेलिब्रेट करना चाहिए उसको भी इंजॉय करना चाहिए उसमें भी आनंद होना चाहिए और से भी चीज है क्योंकि छोटी चीज देखी हमारी लाइफ को ज्यादा डिस्टर्ब करती हैं जैसे कि आपने देखा है मच्छर में काटता कभी आती नहीं करता है ना तो रमेश काटकर छोटी छोटी छोटी छोटी छोटी छोटी स्टेशंस को छोटे-छोटे सेलिब्रेशन स्कोर में करते रहना चाहिए

yah baat bilkul theek hai ki choti choti baaton mein hi anandit hona chahiye kyonki badi batein office liye bahut kam hoti hai ya bade mauke bahut kam hote hain aur chhote chhote mukhi hamare paas so jaate hain toh hamein choti choti chijon ko bhi celebrate karna chahiye usko bhi enjoy karna chahiye usme bhi anand hona chahiye aur se bhi cheez hai kyonki choti cheez dekhi hamari life ko zyada disturb karti hain jaise ki aapne dekha hai macchar mein katata kabhi aati nahi karta hai na toh ramesh katkar choti choti choti choti choti choti steshans ko chhote chhote celebration score mein karte rehna chahiye

यह बात बिल्कुल ठीक है कि छोटी-छोटी बातों में ही आनंदित होना चाहिए क्योंकि बड़ी बातें ऑफिस

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  517
WhatsApp_icon
user

VC. Speaks

Soft Skill Trainer

2:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती हैं वह इसकी पहली पाठ से तुम्हें पूरी तरह खरी करता हूं कि हमें छोटी-छोटी बातों में आनंद जरूर खोजना चाहिए क्योंकि इंसान का नेचुरल स्टेट नॉर्मल और खुश है दुखी तो हम किसी न किसी कारण से होते हैं तो नॉर्मल रहना या खुश रहना यह हमारा नेचुरल स्टेट है और होना चाहिए इसलिए हर चीज के अंदर कोई ना कोई कारण जरूर मिल जाता है मैं खुशी ढूंढने का अब छोटी और बड़ी जो दूसरी आपके पास पाठ द क्वेश्चन है छोटी और बड़ी अब खुशियों को आप तो बोल रहे हैं या उनका साइज नाप रहे हैं तब वह छोटी या बड़ी हो जाती हैं वरना कोई भी खुशी-खुशी है उसके अंदर उस वक्त इंजॉय करना अपने आपको और दूसरों को उसके वजह से आनंद दे पाना यह हमारी कोशिश होनी चाहिए और बड़ी चीज है अगर आप छोटी और बड़ी की बात करते हैं तो बड़ी भी चीज में भी ऐसा नहीं है कि बहुत कम होती है अगर आप अपने टारगेट ठीक से बना कर चलते रहे तो टारगेट पूरा होना अपने आप में खुशी है अगर आप ध्यान से सोचें तो हर रोज सुबह उठ पाना भी खुश होने का कारण होना चाहिए अब इसे आप छोटी बात कहेंगे या बड़ी बात क्योंकि हम आज तक रोज सुबह उठते आ रहे हैं इसलिए हम यह सोचते ही नहीं ऐसे बहुत से लोग हैं जो रातों-रात चले गए सुबह उठ तक नहीं पाए इसलिए बात छोटी और बड़ी आपके सोच पर डिपेंड करेगी खुशी-खुशी हम हर बात में ढूंढ सकते हैं हर बात में हम पहले ढूंढे नेगेटिव बाद में ढूंढो हमें रोज खुश होने के बाद अवसर मिल सकते हैं सुनने के लिए थैंक यू

yah baat kitni theek lagti hai ki choti choti baaton mein anand khojana chahiye kyonki zindagi mein baadi badi batein bahut kam hoti hai vaah iski pehli path se tumhe puri tarah khadi karta hoon ki hamein choti choti baaton mein anand zaroor khojana chahiye kyonki insaan ka natural state normal aur khush hai dukhi toh hum kisi na kisi karan se hote hai toh normal rehna ya khush rehna yah hamara natural state hai aur hona chahiye isliye har cheez ke andar koi na koi karan zaroor mil jata hai khushi dhundhne ka ab choti aur baadi jo dusri aapke paas path the question hai choti aur baadi ab khushiyon ko aap toh bol rahe hai ya unka size naap rahe hai tab vaah choti ya baadi ho jaati hai varna koi bhi khushi khushi hai uske andar us waqt enjoy karna apne aapko aur dusro ko uske wajah se anand de paana yah hamari koshish honi chahiye aur baadi cheez hai agar aap choti aur baadi ki baat karte hai toh baadi bhi cheez mein bhi aisa nahi hai ki bahut kam hoti hai agar aap apne target theek se bana kar chalte rahe toh target pura hona apne aap mein khushi hai agar aap dhyan se sochen toh har roj subah uth paana bhi khush hone ka karan hona chahiye ab ise aap choti baat kahenge ya baadi baat kyonki hum aaj tak roj subah uthte aa rahe hai isliye hum yah sochte hi nahi aise bahut se log hai jo raatoon raat chale gaye subah uth tak nahi paye isliye baat choti aur baadi aapke soch par depend karegi khushi khushi hum har baat mein dhundh sakte hai har baat mein hum pehle dhundhe Negative baad mein dhundho hamein roj khush hone ke baad avsar mil sakte hai sunne ke liye thank you

यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-ब

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  2321
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाश वाले की बात कितनी फीस लगती है छोटी-छोटी बातें मालूम होना चाहिए क्योंकि दुनिया बड़ी बड़ी बातें बहुत कम होती है तुझे यह बात बिल्कुल सही है जहां आप छोटी-छोटी बातों में खुशियों को ढूंढना शुरू कर देंगे आप खुद महसूस करें कि आप पहले से ज्यादा खुश रहना शुरू कर दिया है आपने और जब आप खुद खुश रहेंगे तो आप अपने आसपास के लोगों को भी खुशियां बाटेंगे और मेरे को ले खुशनुमा माहौल हो जाएगा तो आपके पास में अगर कोई छोटी मोटी तकलीफ होगी या कोई दुख परेशानी होगी तो आप उसको आराम से नजरअंदाज करके अपनी

akash waale ki baat kitni fees lagti hai choti choti batein maloom hona chahiye kyonki duniya badi badi batein bahut kam hoti hai tujhe yah baat bilkul sahi hai jaha aap choti choti baaton mein khushiyon ko dhundhana shuru kar denge aap khud mehsus kare ki aap pehle se zyada khush rehna shuru kar diya hai aapne aur jab aap khud khush rahenge toh aap apne aaspass ke logo ko bhi khushiya batenge aur mere ko le khushnuma maahaul ho jaega toh aapke paas mein agar koi choti moti takleef hogi ya koi dukh pareshani hogi toh aap usko aaram se najarandaj karke apni

आकाश वाले की बात कितनी फीस लगती है छोटी-छोटी बातें मालूम होना चाहिए क्योंकि दुनिया बड़ी बड

Romanized Version
Likes  178  Dislikes    views  3382
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी बात में दम है छोटी-छोटी बातों में हमको भी चाहिए और यह केवल फिल्मों में होता है चंद्रिका बड़े-बड़े शहरों में छोटी-छोटी बातें होने रहते होती रहती है छोटे छोटे शहर में बड़ी बातें आपको हर छोटी चीज में आनंद का अनुभव करेंगे तो आप बड़े कामों के लिए अपने को प्रस्तुत करता है और जिंदगी में छोटी-छोटी बातों का आनंद नहीं उठाएं आपका जीवन नीरस हो जाएगा और कोई बड़ा काम बड़ी लक्षित काम को आप हर वक्त काम को आनंद गुरुजी हर काम में आनंद को जीवन में बड़े की तरफ आगे बढ़ पाएंगे और उसको पूरा भी करते हैं शुक्रिया

aapki baat mein dum hai choti choti baaton mein hamko bhi chahiye aur yah keval filmo mein hota hai chandrika bade bade shaharon mein choti choti batein hone rehte hoti rehti hai chote chhote shehar mein baadi batein aapko har choti cheez mein anand ka anubhav karenge toh aap bade kaamo ke liye apne ko prastut karta hai aur zindagi mein choti choti baaton ka anand nahi uthaye aapka jeevan niras ho jaega aur koi bada kaam baadi lakshit kaam ko aap har waqt kaam ko anand guruji har kaam mein anand ko jeevan mein bade ki taraf aage badh payenge aur usko pura bhi karte hai shukriya

आपकी बात में दम है छोटी-छोटी बातों में हमको भी चाहिए और यह केवल फिल्मों में होता है चंद्रि

Romanized Version
Likes  257  Dislikes    views  3439
WhatsApp_icon
user

Norang sharma

Social Worker

4:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है यह बात कितनी ठीक लगती है कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए क्योंकि जिंदगी में बड़ी-बड़ी बातें बहुत कम होती हैं दोस्तों जिंदगी की तल्ख सच्चाई यों में से एक यह है कि हम लोग हमेशा अपनी खुशियों को आने वाले समय पर डालते रहते हैं आप लोगों ने भी बहुत सारी खुशियों को डाला होगा क्योंकि जब हम बचपन में होते हैं तो अक्सर हम लोग कई बार मजाक में यह बात कहते थे कि जब मैं बड़ा हो जाऊंगा तो यह करूंगा बड़ा हो जाऊंगा तो यह बनूंगा अपने भविष्य पर डाल दी मां बाप कहते हैं कि जब बच्चे बड़े हो जाएंगे तब हम करेंगे यह सब बच्चों की शादियां हो जाएंगी तब हम यह करेंगे हम लोग लगातार अपनी खुशियों को खुश होने की हर मौके को हम लोग आगे पर डालते हैं और हम देखते हैं कि 1 दिन चलते चलते हर चीज आखिर में हमारी जिंदगी को टाल देती कि पूरी जिंदगी टल जाती है और वह लम्हा वह पल जिसे हम हमेशा अपने आने वाले कल में ढूंढते थे वह कहीं खो जाता हम कभी खुश हो ही नहीं पाते वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग ऐसे भी हैं जो हर छोटी छोटी चीजों में खुशियां ढूंढ लेते हैं चाय की चुस्कियां से लेकर तो गप्पे लड़ाने में किताब पढ़ने में अपनी दादी या नानी के साथ प्यार भरी दो बात करने में परिवार के साथ कुछ वक्त बिताने में यानी हर छोटी से छोटी चीज में वह खुशियां ढूंढने की कोशिश करते हैं और शायद जिंदगी को जी भी वही लोग पाते हैं बाकी लोग तो सिर्फ टल जाते हैं जीते नहीं है जितने वही लोग हैं जो हमेशा अपने आज में जीते हैं और आज उन लम्हों को वह अपने प्रयासों से बनाते हैं जिन लम्हों के अंदर प्यार हो विश्वास हो जिन लम्हों में खुशियां हो चुकी लम्हों का इंतजार करने से वह चलते हैं लेकिन जब हम खुद यादें बनाते हैं तो हमारा आज बेहतर होता है पर हम जिंदगी को एक संजीदगी के साथ जी पाते हैं कि जिंदगी का मजा तो जीने में है जिंदगी को गुजारने में उसका मजा नहीं लेकिन जब हम टालमटोल पर आ जाते हैं जब हम लगातार चीजों को आने वाले कल पर अवलंबित करने पर आ जाते हैं तो जिंदगी चलती है इसलिए छोटी छोटी सी बातों में भी अगर आप खुशी ढूंढ पाते हैं तो बहुत ही खुशकिस्मत इंसान हैं और बहुत ही लाइफ को एक पॉजिटिव अप्रोच के साथ लेकर चलने वाले इंसान हैं इसलिए जब भी लोगों से मिले और उनसे बात करें तो कुछ इस तरीके से करें जैसे आपके बीच में यह बहुत ही अंतिम बात है उसके बाद आपको शायद मौका ना मिले जब आप यह सोचकर किसी से व्यवहार करेंगे तो शायद ही आप किसी को तकलीफ पहुंचा पाए या किसी को बहुत कड़वी बात शायद ही आप कह पाए जब आप अपनी हर बात को अपने अंतिम वार्तालाप मानकर जब दिल करेंगे ना लोगों से तो आप कोशिश करेंगे कि कुछ ऐसा कह दें जो इसके दिल को शायद आप कुछ ऐसा कहने की कोशिश करेंगे जिससे उसके चेहरे पर एक विजई मुस्कान आ जाए और आपके लिए उसके दिल में इज्जत आ जाए धन्यवाद

namaskar doston vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai yah baat kitni theek lagti hai ki choti choti baaton mein anand khojana chahiye kyonki zindagi mein baadi badi batein bahut kam hoti hai doston zindagi ki talkh sacchai yo mein se ek yah hai ki hum log hamesha apni khushiyon ko aane waale samay par daalte rehte hai aap logo ne bhi bahut saree khushiyon ko dala hoga kyonki jab hum bachpan mein hote hai toh aksar hum log kai baar mazak mein yah baat kehte the ki jab main bada ho jaunga toh yah karunga bada ho jaunga toh yah banunga apne bhavishya par daal di maa baap kehte hai ki jab bacche bade ho jaenge tab hum karenge yah sab baccho ki shadiyan ho jayegi tab hum yah karenge hum log lagatar apni khushiyon ko khush hone ki har mauke ko hum log aage par daalte hai aur hum dekhte hai ki 1 din chalte chalte har cheez aakhir mein hamari zindagi ko tal deti ki puri zindagi tal jaati hai aur vaah lamha vaah pal jise hum hamesha apne aane waale kal mein dhoondhate the vaah kahin kho jata hum kabhi khush ho hi nahi paate wahi dusri taraf kuch log aise bhi hai jo har choti choti chijon mein khushiya dhundh lete hai chai ki chuskiyan se lekar toh gappe ladane mein kitab padhne mein apni dadi ya naani ke saath pyar bhari do baat karne mein parivar ke saath kuch waqt bitane mein yani har choti se choti cheez mein vaah khushiya dhundhne ki koshish karte hai aur shayad zindagi ko ji bhi wahi log paate hai baki log toh sirf tal jaate hai jeete nahi hai jitne wahi log hai jo hamesha apne aaj mein jeete hai aur aaj un lamhon ko vaah apne prayaso se banate hai jin lamhon ke andar pyar ho vishwas ho jin lamhon mein khushiya ho chuki lamhon ka intejar karne se vaah chalte hai lekin jab hum khud yaadain banate hai toh hamara aaj behtar hota hai par hum zindagi ko ek sanjidagi ke saath ji paate hai ki zindagi ka maza toh jeene mein hai zindagi ko gujarne mein uska maza nahi lekin jab hum talamatol par aa jaate hai jab hum lagatar chijon ko aane waale kal par avalambit karne par aa jaate hai toh zindagi chalti hai isliye choti choti si baaton mein bhi agar aap khushi dhundh paate hai toh bahut hi khushkismat insaan hai aur bahut hi life ko ek positive approach ke saath lekar chalne waale insaan hai isliye jab bhi logo se mile aur unse baat kare toh kuch is tarike se kare jaise aapke beech mein yah bahut hi antim baat hai uske baad aapko shayad mauka na mile jab aap yah sochkar kisi se vyavhar karenge toh shayad hi aap kisi ko takleef pohcha paye ya kisi ko bahut kadavi baat shayad hi aap keh paye jab aap apni har baat ko apne antim vartalaap maankar jab dil karenge na logo se toh aap koshish karenge ki kuch aisa keh de jo iske dil ko shayad aap kuch aisa kehne ki koshish karenge jisse uske chehre par ek vijayi muskaan aa jaaye aur aapke liye uske dil mein izzat aa jaaye dhanyavad

नमस्कार दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  1100
WhatsApp_icon
user

jyotsna

Teacher

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों जैसे शब्द मिलकर एक सेंटेंस बनता है ना जब दो या दो से अधिक समय मिलते ही पर एक वाक्य बनता है वह चाहिए छोटी-छोटी बातें मिलकर बड़ी बातें बनती है तो गर्म छोटी बातों में खुशियां खो जाएंगे ना तो बड़ी बातों में खुशियां खुद-ब-खुद आने लगी तो मेरा मानना है कि हम जीवन में छोटी-छोटी बातों में खुशियां ढूंढते रहे हो उन छोटी-छोटी बातों की खुशियों से ही खुश हो तरह खुश होते तो फिर बड़ी-बड़ी बातों में बड़ी-बड़ी खुशियां अपने आप आने लगी उसके लिए हमें कुछ ज्यादा खुशियों की खोजने की जरूरत नहीं होगी बस छोटी-छोटी बातों में खुशियां खोज कर जीते रहें हर पल का आनंद उठाते रहे जिंदगी जीने का नाम है बस उसकी हर पल को अगर हम अपने दिमाग में तनाव रखते हैं ना हर चीज को लेकर कि हां यह इसमें ऐसे दुख होगा तब ना मुंह बनाकर रखते हैं अरे अब दुख में भी हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए डटे रहिए बस इन इसी को तो जीना कहते हैं छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए छोटी छोटी बातें भी हमें बहुत आनंदित करती है कभी कभी ऐसा होता है कि हम छोटे बच्चे को मुस्कुराते हुए देखते हो और खुद ब खुद मुस्कुरा लेते हैं तो आप बस जिस जगह से गुजरते हैं जहां पर रह रहे हैं किसी रास्ते से गुजरे उसमें जो दुख भरा काम हो रहा है ना उसको मत देखिए जहां से आनंद मिलता है उस चीज पर ध्यान दीजिए उस चीज को देखें आपको आपका जीवन जीने दो आसान हो जाएगा और एकदम मस्त खेलते एकदम खुशी से आपका जीवन चलते जाते रहेगा दोस्तों जिंदगी में ज्यादा टेंशन नहीं लेना बस बिंदास होकर जीना है और खुश रहना

doston jaise shabd milkar ek sentence baata hai na jab do ya do se adhik samay milte hi par ek vakya baata hai vaah chahiye choti choti batein milkar badi batein banti hai toh garam choti baaton mein khushiya kho jaenge na toh badi baaton mein khushiya khud bsp khud aane lagi toh mera manana hai ki hum jeevan mein choti choti baaton mein khushiya dhoondhate rahe ho un choti choti baaton ki khushiyon se hi khush ho tarah khush hote toh phir badi badi baaton mein badi badi khushiya apne aap aane lagi uske liye hamein kuch zyada khushiyon ki khojne ki zarurat nahi hogi bus choti choti baaton mein khushiya khoj kar jeete rahein har pal ka anand uthate rahe zindagi jeene ka naam hai bus uski har pal ko agar hum apne dimag mein tanaav rakhte hain na har cheez ko lekar ki haan yah isme aise dukh hoga tab na mooh banakar rakhte hain are ab dukh mein bhi hansate rahiye muskurate rahiye date rahiye bus in isi ko toh jeena kehte hain choti choti baaton mein anand khojana chahiye choti choti batein bhi hamein bahut anandit karti hai kabhi kabhi aisa hota hai ki hum chote bacche ko muskurate hue dekhte ho aur khud bsp khud muskura lete hain toh aap bus jis jagah se gujarate hain jaha par reh rahe hain kisi raste se gujare usme jo dukh bhara kaam ho raha hai na usko mat dekhiye jaha se anand milta hai us cheez par dhyan dijiye us cheez ko dekhen aapko aapka jeevan jeene do aasaan ho jaega aur ekdam mast khelte ekdam khushi se aapka jeevan chalte jaate rahega doston zindagi mein zyada tension nahi lena bus bindas hokar jeena hai aur khush rehna

दोस्तों जैसे शब्द मिलकर एक सेंटेंस बनता है ना जब दो या दो से अधिक समय मिलते ही पर एक वाक्य

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
Likes  6  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले मैं आपको यहां यह बताना चाहूंगा कि आनंद में और सुख में क्या अंतर है आपको गर्मी लगती है अपने पंखा चालू कर लिया आपको शारीरिक सुख की अनुभूति हुई कूलर चालू कर लिया आपको शारीरिक सुख के ना होते हुए गर्मी दूर भाग लेकिन यदि आप उसी गर्मी को दूर करने के लिए किस पेड़ की छांव के नीचे चले जाते हैं किसी झड़ने के में बैठ जाते हैं प्रकृति से उस गर्मी को दूर करने की कोशिश करते हैं तो आपको आने का तात्पर्य कि यदि शरीर और मन और इंद्रियों की अभिलाषा ओं को पूर्ण करने के लिए जहां भौतिक साधनों की का उपयोग करते हैं तो मैं सुख मिलता है और जब हम अपनी इंद्रिय और अपने शरीर और मन की अभिलाषा को पूर्ण करने के लिए अब होते बस तुम्हें अर्थात प्रकृति की ओर जाते हैं प्रकृति के साथ रहते हैं प्रकृति के संसाधनों का उपयोग करते हैं आत्मिक आनंद की अनुभूति होती है अब आपने यह पूछा कि छोटी-छोटी बातों में आनंद खोजना चाहिए बिल्कुल सही हमें हमेशा छोटे-छोटे आनंद को खोजना चाहिए हम किसी की सेवा करते हैं हमें आनंद मिलता है हम किसी बच्चे के साथ बच्चे बन जाते हैं और उसके साथ खेलते हैं फल मिलता है अपने दादा-दादी में उसे बैठ कहानियां सुनते हैं मैं आनंद मिलता है हम अपनी फीलिंग्स को किसी दूसरे के साथ शेयर करते हैं मैं आनंद मिलता है दूसरे की फीलिंग को हम सुनते हैं और हम उसके सुख के साथ सोते हैं उसी के दुख दुखी हो जाते तो हमारे जीवन के 24 घंटे जवाब देने की शुरुआत करते हो रात के सोने के पूर्व आपको हर कदम पर छोटी-छोटी चीजें ऐसी दिखाई देंगी जिनका उपयोग करके आप आनंद ले सकते हैं क्योंकि आनंद आप मंत्री रहते हैं आत्मा से प्रेरित है उसे परमेश्वर का आशीर्वाद मिलता है और परमेश्वर का अनुक्रम और आशीष जब आपको मिलता है अब अपनी आत्मा में छोटी छोटी चीजों से आनंद से भर जाते हैं और आपका मन हमेशा प्रफुल्लित रहता है किसी ने कहा भी है कि लाइव को लेकर बड़े प्लान नहीं बनाना चाहिए सिंपल होना चाहिए क्योंकि प्लान बहुत बड़े हो जाएं तो लाइफ के लिए जगह नहीं बचती आनंददायक लाइफ जीना चाहते हैं तो छोटी छोटी चीजों में आनंद को ढूंढने की कोशिश करें और अपने मन को प्रसन्न रहें यही सृष्टि का नियम है यही प्रकृति चाहती है और हमारी जो अंतर जीतना है वह भी यही चाहती है बहुत धन्यवाद

sabse pehle main aapko yahan yah batana chahunga ki anand me aur sukh me kya antar hai aapko garmi lagti hai apne pankha chaalu kar liya aapko sharirik sukh ki anubhuti hui cooler chaalu kar liya aapko sharirik sukh ke na hote hue garmi dur bhag lekin yadi aap usi garmi ko dur karne ke liye kis ped ki chanv ke niche chale jaate hain kisi jhadne ke me baith jaate hain prakriti se us garmi ko dur karne ki koshish karte hain toh aapko aane ka tatparya ki yadi sharir aur man aur indriyon ki abhilasha on ko purn karne ke liye jaha bhautik saadhano ki ka upyog karte hain toh main sukh milta hai aur jab hum apni indriya aur apne sharir aur man ki abhilasha ko purn karne ke liye ab hote bus tumhe arthat prakriti ki aur jaate hain prakriti ke saath rehte hain prakriti ke sansadhano ka upyog karte hain atmik anand ki anubhuti hoti hai ab aapne yah poocha ki choti choti baaton me anand khojana chahiye bilkul sahi hamein hamesha chote chote anand ko khojana chahiye hum kisi ki seva karte hain hamein anand milta hai hum kisi bacche ke saath bacche ban jaate hain aur uske saath khelte hain fal milta hai apne dada dadi me use baith kahaniya sunte hain main anand milta hai hum apni feelings ko kisi dusre ke saath share karte hain main anand milta hai dusre ki feeling ko hum sunte hain aur hum uske sukh ke saath sote hain usi ke dukh dukhi ho jaate toh hamare jeevan ke 24 ghante jawab dene ki shuruat karte ho raat ke sone ke purv aapko har kadam par choti choti cheezen aisi dikhai dengi jinka upyog karke aap anand le sakte hain kyonki anand aap mantri rehte hain aatma se prerit hai use parmeshwar ka ashirvaad milta hai aur parmeshwar ka anukram aur aashish jab aapko milta hai ab apni aatma me choti choti chijon se anand se bhar jaate hain aur aapka man hamesha prafullit rehta hai kisi ne kaha bhi hai ki live ko lekar bade plan nahi banana chahiye simple hona chahiye kyonki plan bahut bade ho jayen toh life ke liye jagah nahi bachati anand dayak life jeena chahte hain toh choti choti chijon me anand ko dhundhne ki koshish kare aur apne man ko prasann rahein yahi shrishti ka niyam hai yahi prakriti chahti hai aur hamari jo antar jeetna hai vaah bhi yahi chahti hai bahut dhanyavad

सबसे पहले मैं आपको यहां यह बताना चाहूंगा कि आनंद में और सुख में क्या अंतर है आपको गर्मी लग

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  100
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  5  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  8  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
छोटी लगती ; छोटी लगती है ; छोटी-छोटी बातों पर लगाए ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!