अपने करियर के शुरुआती दिनों में आपके द्वारा किए गए संघर्षों के बारे में बताएँ?...


user

Avdesh Pratap Soam

Content Writer

6:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चलो बहुत अच्छे क्वेश्चन है कि अपने करियर के शुरुआती दिनों से संघर्ष करते हैं अधिकतर लोग जो मैंने क्या मैं अपना बता रहा हूं पहले कंप्लीट करने के बाद मिलेगी कैसे जो कैसे रोशनी है माय सिटी ताकि कुछ रिलेटिव है उनको क्रॉस करते हैं उनको मेल करते हैं हमसे फोन पर बात करते हैं लेकिन किसी एक पर्सन ने भी रिस्पांस नहीं दिया फिर जब आप कोई होता नहीं करना ही है कोई चीज आपको उस इसके लिए पूरी तरह से डेडीकेटेड हो सकता है क्या फुल टाइम ज्यादा लगेगा लेकिन आप कर लोगे तो वहां पे करनी है जो घर तो बैठना नहीं है वहां पर पर जैसे तैसे कहीं एक जगह का पता चला है कंपनी का पता चला एड्रेस लेकर डरते डरते वहां तक पहुंचे पहुंचे एंटर करने के बाद कंपनी प्रेमिसेस में वहां पर क्या हुआ वहां पर जो लोग थे जिनको हम को देखकर क्या हुआ नर्वस कॉन्फिडेंस लेवल जीरो जैसे भी हुआ इंटरव्यू हुआ इंटरव्यू रिक्रूटर पर हो ना कुछ सवाल पूछे वहां पर मैं आंसर ही नहीं कर पाए हालांकि नार्मल पीरियड आने पर अब क्या हुआ निरीक्षण हो गया लेकिन वापस आ गए पहले चले तो यही था आईडिया नहीं जॉब ढूंढने गया था लेकिन पहला रिएक्शन होने के बाद थोड़ा आईडिया हुआ एक ऐसे कैसे चीजें करनी है वापस आ गए वापस आने के बाद कि भैया दूसरी जो को कैसे पता चले फिर वही वोडा आइडिया हुआ कि चलो देखते हैं 10:00 बजे सर वहां पर फिर जो था कि जो रिजु मैरिज में क्या है कॉपी पेस्ट कर रखा है जैसे कॉलेज में कितनी चीजें नॉट कॉपी कर लिए प्रोजेक्ट खरीद लिया वहीं से थी लेकिन क्या हुआ जल्दी लिखना होता है उसका फेस आपका पिस्टल सबके नॉलेज सब फ्रिज में बताएगा प्रॉपर फॉर्मेट अच्छे से तैयार कीजिए और किसी को वापस कीजिए अप्रोच किसी ऑनलाइन पोर्टल को अगर आपके पास कोई ऐसे रख दिया सेलिंग रही है कि जहां आप जा सकते हैं इंटरव्यू बहुत सारे लोग यहां पर डरने की कोई रिक्वायरमेंट नहीं है प्रॉपर इंफॉर्मेशन ऑनलाइन देख naukri.com होटल है वहां पर अपडेट कर दी बिल्कुल आपको मिलेंगे कंसलटेंट को कॉल करेंगे अभी कुछ आज नहीं करता है दूसरे किसी भी एक कॉल और इंडस्ट्री में करियर बनाना चाह रहे हो गया ऑटोमोबाइल हो गया मैंने जो भी एक पढ़ना चाह रहे हैं इंडस्ट्री के बारे में थोड़ी दीजिए क्या है कैसे काम होता है कैसे वायरिंग कैसे रहोगे वहां पर कौन सी कंपनी है प्रेशर हो ज्वाइन कर लिया चलो फाइनली कैसे भी आपने फिर वहां पर क्या होगा कुछ टाइम बाद ओवरकॉन्फिडेंट हो जाओ बेसिक ट्रेनिंग करवा कर कैसे लोग बड़े कैसे पहुंच सकते हो एक मैसेज बनाई के हाथ को विश करना है अपने काम में क्या है पड़ी इस ऑफिस दोस्त कीजिए चाहेंगे जहां पर आपको डे बाय डे अपना बेस्ट भजन पांडव करना होगा अपने काम में व्यस्त नहीं अपना एकदम करना होगा पर आपको हर किसी के साथ एक बैलेंस को रिलेशन रखना है कांटेक्ट करना है काम करने पर कंप्रोमाइज कोई सपोर्ट नहीं करेगा अपने काम में से कुछ भी किसी सपोर्ट करेंगे शाम में बनी है और कोई सपोर्ट करेगा बोली है कि किसी के लाइव टीवी किसी की कैसे जॉब ढूंढते हैं कौन सी चीज है जिसे रिज में राइटिंग आपको आनी चाहिए इंटरव्यू के कोडिंग रोग रोल रिस्पांसिबिलिटी के कोडिंग कीजिए अपडेट करनी है उसमें इंडस्ट्री का सिलेक्शन कीजिए इंडस्ट्री के अंदर कंपनी का सिलेक्शन कीजिए इंटरव्यू किस तरह का होगा इंटरव्यू क्वेश्चन होंगे वह कैसे आंसर करोगे आप ऑफिस में काम कैसे होता है कैसे हरार की कैसे 1 लेवल टू अनदर लेवल पहुंचेंगे फील करोगे टायर्ड बोरिंग उसके बाद करने के लिए इंटरेस्ट को मेंटेन करने के लिए कैसे जीजीएसपी हेल्प करेंगे वह कौन सी चीजें होंगी आप आगे बढ़ो

chalo bahut acche question hai ki apne career ke shuruati dino se sangharsh karte hain adhiktar log jo maine kya main apna bata raha hoon pehle complete karne ke baad milegi kaise jo kaise roshni hai my city taki kuch relative hai unko cross karte hain unko male karte hain humse phone par baat karte hain lekin kisi ek person ne bhi response nahi diya phir jab aap koi hota nahi karna hi hai koi cheez aapko us iske liye puri tarah se dediketed ho sakta hai kya full time zyada lagega lekin aap kar loge toh wahan pe karni hai jo ghar toh baithana nahi hai wahan par par jaise taise kahin ek jagah ka pata chala hai company ka pata chala address lekar darte darte wahan tak pahuche pahuche enter karne ke baad company premises me wahan par kya hua wahan par jo log the jinako hum ko dekhkar kya hua nervous confidence level zero jaise bhi hua interview hua interview recruit par ho na kuch sawaal pooche wahan par main answer hi nahi kar paye halaki normal period aane par ab kya hua nirikshan ho gaya lekin wapas aa gaye pehle chale toh yahi tha idea nahi job dhundhne gaya tha lekin pehla reaction hone ke baad thoda idea hua ek aise kaise cheezen karni hai wapas aa gaye wapas aane ke baad ki bhaiya dusri jo ko kaise pata chale phir wahi voda idea hua ki chalo dekhte hain 10 00 baje sir wahan par phir jo tha ki jo riju marriage me kya hai copy paste kar rakha hai jaise college me kitni cheezen not copy kar liye project kharid liya wahi se thi lekin kya hua jaldi likhna hota hai uska face aapka pistol sabke knowledge sab fridge me batayega proper format acche se taiyar kijiye aur kisi ko wapas kijiye approach kisi online portal ko agar aapke paas koi aise rakh diya selling rahi hai ki jaha aap ja sakte hain interview bahut saare log yahan par darane ki koi requirement nahi hai proper information online dekh naukri com hotel hai wahan par update kar di bilkul aapko milenge consultant ko call karenge abhi kuch aaj nahi karta hai dusre kisi bhi ek call aur industry me career banana chah rahe ho gaya automobile ho gaya maine jo bhi ek padhna chah rahe hain industry ke bare me thodi dijiye kya hai kaise kaam hota hai kaise wiring kaise rahoge wahan par kaun si company hai pressure ho join kar liya chalo finally kaise bhi aapne phir wahan par kya hoga kuch time baad ovarakanfident ho jao basic training karva kar kaise log bade kaise pohch sakte ho ek massage banai ke hath ko wish karna hai apne kaam me kya hai padi is office dost kijiye chahenge jaha par aapko day bye day apna best bhajan pandav karna hoga apne kaam me vyast nahi apna ekdam karna hoga par aapko har kisi ke saath ek balance ko relation rakhna hai Contact karna hai kaam karne par compromise koi support nahi karega apne kaam me se kuch bhi kisi support karenge shaam me bani hai aur koi support karega boli hai ki kisi ke live TV kisi ki kaise job dhoondhate hain kaun si cheez hai jise ridge me writing aapko aani chahiye interview ke coding rog roll responsibility ke coding kijiye update karni hai usme industry ka selection kijiye industry ke andar company ka selection kijiye interview kis tarah ka hoga interview question honge vaah kaise answer karoge aap office me kaam kaise hota hai kaise harar ki kaise 1 level to another level pahunchenge feel karoge tired boaring uske baad karne ke liye interest ko maintain karne ke liye kaise GGSP help karenge vaah kaun si cheezen hongi aap aage badho

चलो बहुत अच्छे क्वेश्चन है कि अपने करियर के शुरुआती दिनों से संघर्ष करते हैं अधिकतर लोग जो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

5:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने करियर के शुरुआती दिनों में आपके द्वारा किए गए समझौतों के भजन यह तो संघर्ष किस दिन बहुत ही कठिन से और भगवान ने शक्ति दी और संघर्ष के दिन मिताली रोड साइकिल चलाकर और जाना करीबन 5 किलोमीटर ऊपर पहुंचा है बहुत ऊंचाई पर ध्यान चढ़ा कर जाना होगा कैसे के दिन बाद चार बार जाना पड़ता था ना जाना पड़ता था कई सालों तक दिखाएं और दिन रात मेहनत करते थे सुबह 7:00 बजे से लेकर रात को 11:12 बजे तक काम करते थे बस अभी पैसा कमाने की बसंती जेब में पैसे नहीं थे बैंक से लोन लेकर सेक्सी शुरुआत किसी पूरा घर क्या इनकम कैसे हो बिल्कुल निम्न मध्यम वर्ग की पिताजी का सपोर्ट इतना नहीं था और स्ट्रगल करते गए और एक के बाद एक अलग अलग पर रास्ता एक्सप्रेस बनाते टेक्निकल नॉलेज की नहीं था वही रिमझिम में काम सीखते सीखते और मेहनत करते करते हैं उसी ना बातें बातें और पहली सफलता में 5 साल साडे 4 साल बाद मिली सेक्सी करने के बाद और जो कर्जा हो गया था पहले वह फर्जी को पाटने में समय लग गया ब्याज सहित 70 जा चुकाते चुकाते दूसरे 4 साल के फिर बाद में बड़े की जगह में से लोन लेकर और कुत्ता सेठ बनाया वह भी अपने व्यापारियों की मदद से और विवाह भी किया अपने पैसे से लेकिन वह सब करने के बाद भी छोटा-मोटा स्कूटर एक के बाद एक पायदान चढ़ते के पुजारी किस तरह से निकल गया करीब 12 साल का समय निकल गया चार भाइयों की शादी की एक बहन की शादी की चार भाइयों के मकान बनाए कुत्ते से मकान बहुत स्ट्रगल के दिन से उसको याद करके आज भी पसीना छूट जाता है कि उस समय इतनी शक्ति कहां से आई इतना आत्मविश्वास कहां से है आत्मा स्वास्थ्य ही था गरीबी क्यों पढ़ना है क्योंकि मन में यही भावना घुस गई थी गरीबी एक अभिशाप है अगर गरीब घर में जन्म लिया है तो गरीब के रूप में वरना नहीं सिलेबस वही सुपर को बात करते हैं सबको जिंदगी में स्ट्रगल करना पड़ता है ऐसी बात नहीं है स्ट्रगल के बिना कुछ भी हासिल नहीं होता अट्ठारह अट्ठारह घंटे काम करने पड़ते हैं बहुत मेहनत करनी पड़ती है खाली पेट में बात करनी पड़ती है अपनी दो दैनिक दो उसको भी कभी रोक कर मेहनत करनी पड़ती इसलिए मेहनत से हमें कभी घबराना नहीं चाहिए स्ट्रगल करने के बाद अगर जब सफलता मिलती है तो उसकी खुशी बहुत ही अप्रतिम और बहुत ही अपरंपार खुशी होती है माता-पिता भी खुश होते हैं सब लोग खुश होते हैं और हम बिजनेसमैन 2 होता है वह इतने उसको अनुभव हो जाते हैं कि वह किसी गरीब का दुख देख नहीं पाता और हरे-हरे दुबिया गरीब लोगों के दुख को अपना दुख समझ कर हमेशा मदद करने की कोशिश जरूर करता है उसे जीवन मंत्र है पर आगे बढ़ते घटते बढ़ते जा रहे हैं प्रगति करते जा रहे हैं धन्यवाद

apne career ke shuruati dino mein aapke dwara kiye gaye samjhauton ke bhajan yah toh sangharsh kis din bahut hi kathin se aur bhagwan ne shakti di aur sangharsh ke din mitali road cycle chalakar aur jana kariban 5 kilometre upar pohcha hai bahut uchai par dhyan chadha kar jana hoga kaise ke din baad char baar jana padta tha na jana padta tha kai salon tak dikhaen aur din raat mehnat karte the subah 7 00 baje se lekar raat ko 11 12 baje tak kaam karte the bus abhi paisa kamane ki basanti jeb mein paise nahi the bank se loan lekar sexy shuruat kisi pura ghar kya income kaise ho bilkul nimn madhyam varg ki pitaji ka support itna nahi tha aur struggle karte gaye aur ek ke baad ek alag alag par rasta express banate technical knowledge ki nahi tha wahi rimjhim mein kaam sikhate sikhate aur mehnat karte karte hai usi na batein batein aur pehli safalta mein 5 saal saade 4 saal baad mili sexy karne ke baad aur jo karja ho gaya tha pehle vaah farji ko patne mein samay lag gaya byaj sahit 70 ja chukate chukate dusre 4 saal ke phir baad mein bade ki jagah mein se loan lekar aur kutta seth banaya vaah bhi apne vyapariyon ki madad se aur vivah bhi kiya apne paise se lekin vaah sab karne ke baad bhi chota mota scooter ek ke baad ek payadan chadhte ke pujari kis tarah se nikal gaya kareeb 12 saal ka samay nikal gaya char bhaiyo ki shadi ki ek behen ki shadi ki char bhaiyo ke makan banaye kutte se makan bahut struggle ke din se usko yaad karke aaj bhi paseena chhut jata hai ki us samay itni shakti kahaan se I itna aatmvishvaas kahaan se hai aatma swasthya hi tha garibi kyon padhna hai kyonki man mein yahi bhavna ghus gayi thi garibi ek abhishap hai agar garib ghar mein janam liya hai toh garib ke roop mein varna nahi syllabus wahi super ko baat karte hai sabko zindagi mein struggle karna padta hai aisi baat nahi hai struggle ke bina kuch bhi hasil nahi hota attharah attharah ghante kaam karne padte hai bahut mehnat karni padti hai khaali pet mein baat karni padti hai apni do dainik do usko bhi kabhi rok kar mehnat karni padti isliye mehnat se hamein kabhi ghabrana nahi chahiye struggle karne ke baad agar jab safalta milti hai toh uski khushi bahut hi apratim aur bahut hi aparampar khushi hoti hai mata pita bhi khush hote hai sab log khush hote hai aur hum bussinessmen 2 hota hai vaah itne usko anubhav ho jaate hai ki vaah kisi garib ka dukh dekh nahi pata aur hare hare dubiya garib logo ke dukh ko apna dukh samajh kar hamesha madad karne ki koshish zaroor karta hai use jeevan mantra hai par aage badhte ghatate badhte ja rahe hai pragati karte ja rahe hai dhanyavad

अपने करियर के शुरुआती दिनों में आपके द्वारा किए गए समझौतों के भजन यह तो संघर्ष किस दिन बह

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  1185
WhatsApp_icon
play
user

Neha Singh

Tarot Card Reader

0:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने आपको कभी भी करिए मैं बना रही है इस तरीके से नहीं लिया करो कार्ड मेरा हमेशा क्वेश्चन था तो जैसे मुझे लो आगे बढ़ती चली गई और मैं क्या करते हैं लोगों को

maine aapko kabhi bhi kariye main bana rahi hai is tarike se nahi liya karo card mera hamesha question tha toh jaise mujhe lo aage badhti chali gayi aur main kya karte hain logo ko

मैंने आपको कभी भी करिए मैं बना रही है इस तरीके से नहीं लिया करो कार्ड मेरा हमेशा क्वेश्चन

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  1540
WhatsApp_icon
user

Dr Ramswaroop Babele

Astrologer Doctor Ayurveda Hypnotherepist

9:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप ने प्रश्न किया कि अपने कैरियर के शुरूआती दिनों के बारे में आपके द्वारा किए गए संघर्षों के बारे में बताएं तुम मैं आपको आज पूरी तरह विस्तार से बताता हूं जब मैंने हायर सेकेंडरी कि उसने हर सेकेंडरी बोर्ड एग्जाम होता था 11वीं और उसी वर्ष जो है 12वीं 10 दिन दो पद्धति लागू हुई थी तुम मुझे अगले वर्ष बार्बी भी करनी पड़ी 12वीं पास करने के बाद मैं मेडिकल एंट्रेंस का उसमें जो परीक्षा होती थी उसे पीएमटी कहते थे प्री मेडिकल टेस्ट जो उस समय 800 नंबर का हुआ करता था मैं मैं गांव से बिलोंग करता हूं उसी गांव में एक मास्टर साहब थे हमारे अहिरवार साहब उन्होंने हमें पढ़ाया भी उनका एक बालक था जो मेरा बहुत बचपन का दोस्त रहा मेरे साथ पढ़ा उसने भी 12वीं पास की विशाल और हमने दोनों ने एक साथ पीएमटी का फॉर्म भरा पीएमटी परीक्षा दी परीक्षा देने के बाद उसका परिणाम आया जब परिणाम आया तुम मुझे पीएमटी में 8 साल नंबर में से 470 नंबर मिले और मेरे साथ जो है वर्मा सब का बेटा जो मेरा दोस्त रहा चेतराम उसको और बड़ी खुशी हुई जानकर कि उस चेतराम को जयपुर में मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कर ले कर आया उसे सूचना आई थी आपको जयपुर में मेडिकल कॉलेज में एडमिशन मिलता है एमबीबीएस के लिए वहीं पर मेरे साथ यह हुआ क्योंकि मेरे नंबर 470 से फिर भी मैं उसके लिए उपयुक्त नहीं माना गया तो मेरे पास दूसरा विकल्प था कि मैं आयुर्वेद में जाऊं तो मैंने बीएमएस में एडमिशन लिया और मैंने बीएमएस किया डिग्री पहुंच गया जब मैं उसको पढ़ के कंप्लीट हुआ पढ़ाई करके बाहर आया उस समय आयुर्वेद जो है अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा था आयुर्वेद के बारे में लोगों की जानकारी बिल्कुल न करनी थी और अब आयुर्वेद की डिग्री लेकर और मुझे प्रैक्टिस करनी थी तब मैं प्रैक्टिस करने के लिए मंडीदीप भोपाल के पास में रायसेन डिस्ट्रिक्ट का एक इंडस्ट्री एरिया है वहां पर अपना क्लीनिक शुरू किया मैं प्रतिदिन क्लीनिक जाता था अपने समय पर पहुंचता था उस समय मोबाइल बगैर आईडी को मोबाइल वगैरह ऐसी चीजें तो नहीं होती थी कि आप अपना टाइम थोड़ा बहुत कर लो फेसबुक चला लो व्हाट्सएप कर लो चैटिंग कर लो यह सब तो नहीं था अब हमारा सबसे प्रिय मित्र जी को तू मेरी किताबें थी तो मुझे यहां से जब जाता था तो मेरे हाथ में किताब होती थी मैं रास्ते पर किताब पढ़ते हो जाता था वहां जाकर खाली बैठा था तो किताब पढ़ता था पढ़ते रहता था और मैं इस बात का इंतजार करता था कि कोई एक मरीज आएगा उसको नहीं डाल दूंगा वह ठीक होगा वहां से मेरा जीवन शुरू होगा लगातार 10 से 15 दिन तक में बैठकर आ जाता था तथा बैठता था कोई नहीं आता था निराशा होती थी परंतु अपनी हिम्मत में धैर्य को आगे बढ़ाते हुए मैं अपने काम में निरंतर लगा रहा हूं मेरे सामने बाजार में है एक जाने कि दुकान से उसके मालिक जैन साहब मेरे पड़ोस में एक लेटर की दुकान थी वह आपस में बातें किया करते थे याद में भी 6 महीने के अंदर या सुधर जाएगा समय गुजरता रहा मरीज आने शुरू हुए एक उसका इलाज किया ईश्वर की कृपा से ठीक हुआ फिर एक से दो दो से चार ऐसे करते-करते पढ़ते गए इसी बीच 6 महीने भी गुजर गए और मैं उस दुकान पर खाली करके नहीं गया बाद में पता चला कि दुकान के बारे में यह मान्यता थी लोगों की व्यापारियों की दुकान में जो भी व्यक्ति आया है 6 महीने से ज्यादा इसमें नहीं देखा है तो लोग यह सोचते थे कि यह भी 6 महीने में चले जाएगा परंतु मैं वहां पर ललित अपनी मेहनत से अपने बेहतर सोच अपना प्रयास करते रहे परिणाम स्वरूप सफलता के आती रही धीरे धीरे धीरे मैं मंडीदीप में एक प्रतिष्ठित चिकित्सक के रूप में जाना जा जाना जाने लगा उसी दौरान मेरे पास एक पालीवाल साहब आए उनका 10 महीने का बेटा बीमार था वह पहले मेरे पास अकेले आए उन्होंने बताया कि भाई साहब मेरा बालक अस्वस्थ है और मैं दो बच्चों के डॉक्टर दोपहिया जी सभी को दिखा चुका हूं मेरा बालक ठीक नहीं हो रहा है किसी ने यह बताया है कि आप तो उन्होंने कहा मेरा बालक ठीक नहीं हो रहा है मैंने कहा आप लेकर आई है वह अपने बालक को लेकर आए तो सर्दी थी नाक बह रही थी नेम उन्हें की स्थिति में था मैंने बच्चे को देखा और देखने के बाद समझने के बाद दोनों डॉक्टरों के पर्चे देखें दोनों परिचय देखने के बाद मुझे यह समझ में आए तो ठीक नहीं है यह बच्चा ठीक तो नहीं हुआ तब मुझे एक बात समझ में आई कि उन्होंने जो दवाई दी है वह तो सही दिए परंतु बच्चे की मां ने कहीं ना कहीं डर की वजह से जिस दूध में उसे देना चाहिए था उस दूध में उसे नहीं दिए इसलिए मैंने उनसे कंडीशन लड़की के साथ में आपको जो गोली सीसी नहीं लिखूंगा मैं आपको एक गोली लिखूंगा जो भूल जाती है पानी में आप उसे उसी हिसाब से ग्राउंड में टाइम देख लूंगा उस टाइम पर ही देना और मुझे कल आप फोन करके परिणाम बताइए मैं शाम को जब आऊंगा फिर इसको देख लूंगा और उन्होंने उसी तरह से किया बच्चे को आराम हो गया मोबाइल ठीक हुआ मैं निरंतर 15 साल तक अपना प्रैक्टिस करता रहा होते हैं और बड़ा सफल चिकित्सक के रूप में मेरी प्रतिष्ठा नहीं जीवन में बिना संघर्ष के कुछ भी प्राप्त नहीं होता संघर्ष जीवन को जीवन संघर्ष है इसलिए हमेशा प्रयासरत रहे सकारात्मक कार्य करते रहे परिणाम की चिंता ना करें कर्म की चिंता करें यदि आपका कर्म सही है तो परिणाम निश्चय ही सही होगा थोड़ी देर होगी परंतु निश्चय ही परिणाम सकारात्मक होंगे अपने कैरियर में थोड़ी बहुत भी कठिनाई उठा रहे हैं मैं उन्हें यह कहूंगा पहले रखिए अपना कार्य करते रहिए आप सफल होंगे मेरी आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्यवाद

aap ne prashna kiya ki apne carrier ke shuruati dino ke bare mein aapke dwara kiye gaye sangharshon ke bare mein bataye tum main aapko aaj puri tarah vistaar se batata hoon jab maine hire secondary ki usne har secondary board exam hota tha vi aur usi varsh jo hai vi 10 din do paddhatee laagu hui thi tum mujhe agle varsh barbie bhi karni padi vi paas karne ke baad main medical entrance ka usme jo pariksha hoti thi use pmt kehte the pri medical test jo us samay 800 number ka hua karta tha main main gaon se belong karta hoon usi gaon mein ek master saheb the hamare ahirvar saheb unhone hamein padhaya bhi unka ek balak tha jo mera bahut bachpan ka dost raha mere saath padha usne bhi vi paas ki vishal aur humne dono ne ek saath pmt ka form bhara pmt pariksha di pariksha dene ke baad uska parinam aaya jab parinam aaya tum mujhe pmt mein 8 saal number mein se 470 number mile aur mere saath jo hai verma sab ka beta jo mera dost raha chetram usko aur baadi khushi hui jaankar ki us chetram ko jaipur mein medical college mein admission kar le kar aaya use soochna I thi aapko jaipur mein medical college mein admission milta hai MBBS ke liye wahi par mere saath yah hua kyonki mere number 470 se phir bhi main uske liye upyukt nahi mana gaya toh mere paas doosra vikalp tha ki main ayurveda mein jaaun toh maine BMS mein admission liya aur maine BMS kiya degree pohch gaya jab main usko padh ke complete hua padhai karke bahar aaya us samay ayurveda jo hai apne sabse bure daur se gujar raha tha ayurveda ke bare mein logo ki jaankari bilkul na karni thi aur ab ayurveda ki degree lekar aur mujhe practice karni thi tab main practice karne ke liye mandideep bhopal ke paas mein raisen district ka ek industry area hai wahan par apna clinic shuru kiya main pratidin clinic jata tha apne samay par pahuchta tha us samay mobile bagair id ko mobile vagera aisi cheezen toh nahi hoti thi ki aap apna time thoda bahut kar lo facebook chala lo whatsapp kar lo chatting kar lo yah sab toh nahi tha ab hamara sabse priya mitra ji ko tu meri kitaben thi toh mujhe yahan se jab jata tha toh mere hath mein kitab hoti thi main raste par kitab padhte ho jata tha wahan jaakar khaali baitha tha toh kitab padhata tha padhte rehta tha aur main is baat ka intejar karta tha ki koi ek marij aayega usko nahi daal dunga vaah theek hoga wahan se mera jeevan shuru hoga lagatar 10 se 15 din tak mein baithkar aa jata tha tatha baithta tha koi nahi aata tha nirasha hoti thi parantu apni himmat mein dhairya ko aage badhate hue main apne kaam mein nirantar laga raha hoon mere saamne bazaar mein hai ek jaane ki dukaan se uske malik jain saheb mere pados mein ek letter ki dukaan thi vaah aapas mein batein kiya karte the yaad mein bhi 6 mahine ke andar ya sudhar jaega samay guzarta raha marij aane shuru hue ek uska ilaj kiya ishwar ki kripa se theek hua phir ek se do do se char aise karte karte padhte gaye isi beech 6 mahine bhi gujar gaye aur main us dukaan par khaali karke nahi gaya baad mein pata chala ki dukaan ke bare mein yah manyata thi logo ki vyapariyon ki dukaan mein jo bhi vyakti aaya hai 6 mahine se zyada isme nahi dekha hai toh log yah sochte the ki yah bhi 6 mahine mein chale jaega parantu main wahan par lalit apni mehnat se apne behtar soch apna prayas karte rahe parinam swaroop safalta ke aati rahi dhire dhire dhire main mandideep mein ek pratishthit chikitsak ke roop mein jana ja jana jaane laga usi dauran mere paas ek paliwal saheb aaye unka 10 mahine ka beta bimar tha vaah pehle mere paas akele aaye unhone bataya ki bhai saheb mera balak aswasth hai aur main do baccho ke doctor dophiya ji sabhi ko dikha chuka hoon mera balak theek nahi ho raha hai kisi ne yah bataya hai ki aap toh unhone kaha mera balak theek nahi ho raha hai maine kaha aap lekar I hai vaah apne balak ko lekar aaye toh sardi thi nak wah rahi thi name unhe ki sthiti mein tha maine bacche ko dekha aur dekhne ke baad samjhne ke baad dono doctoron ke parche dekhen dono parichay dekhne ke baad mujhe yah samajh mein aaye toh theek nahi hai yah baccha theek toh nahi hua tab mujhe ek baat samajh mein I ki unhone jo dawai di hai vaah toh sahi diye parantu bacche ki maa ne kahin na kahin dar ki wajah se jis doodh mein use dena chahiye tha us doodh mein use nahi diye isliye maine unse condition ladki ke saath mein aapko jo goli cc nahi likhunga main aapko ek goli likhunga jo bhool jaati hai paani mein aap use usi hisab se ground mein time dekh lunga us time par hi dena aur mujhe kal aap phone karke parinam bataye main shaam ko jab aaunga phir isko dekh lunga aur unhone usi tarah se kiya bacche ko aaram ho gaya mobile theek hua main nirantar 15 saal tak apna practice karta raha hote hai aur bada safal chikitsak ke roop mein meri prathishtha nahi jeevan mein bina sangharsh ke kuch bhi prapt nahi hota sangharsh jeevan ko jeevan sangharsh hai isliye hamesha prayasarat rahe sakaratmak karya karte rahe parinam ki chinta na kare karm ki chinta kare yadi aapka karm sahi hai toh parinam nishchay hi sahi hoga thodi der hogi parantu nishchay hi parinam sakaratmak honge apne carrier mein thodi bahut bhi kathinai utha rahe hai unhe yah kahunga pehle rakhiye apna karya karte rahiye aap safal honge meri aapko bahut bahut subhkamnaayain dhanyavad

आप ने प्रश्न किया कि अपने कैरियर के शुरूआती दिनों के बारे में आपके द्वारा किए गए संघर्षों

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  198
WhatsApp_icon
user

Dr.Santosh Adil

Motivational Speaker & Career Counselor

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं अपने स्ट्रगल की कहानी बताओ तो मैं एक छोटे से गांव से पढ़ा लिखा हूं वहां उसी गांव के स्कूल में पढ़ाई किया क्लास 1 से लेकर क्लास 12वीं तक है 12वीं क्लास तो अपने गांव में था नहीं वहां से 9 किलोमीटर दूर जाना पड़ता था और अब मेरे पेरेंट्स की बात रही पूनम ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है पांचवीं और छठी पेरेंट्स पड़े हैं लेकिन मेरा जब मैं स्कूल में था उसी टाइम मेरा टारगेट है कि कैसे भी करके ऐसे भी हो सिचुएशन लेकिन मुझको डॉक्टर बनना है हालांकि मैं जानता था कि मेरी परिस्थितियां उस चीज को अलाउड नहीं कर रहा था क्योंकि फाइनेंशली भी हम लोग काफी कमजोर से और दूसरी मेरे मां-बाप पढ़े-लिखे गीत अनीता और तीसरा एक गांव का टक्कर माहौल था तो सारे चीजें मेरे अधीन था यह टाइम था तो उन्होंने 2000 की 1999 और 2000 की जब मेडिकल के सीट भी काफी कम था एमबीबीएस का और कंपटीशन काफी काफी काफी टफ था और उसी फिर मैंने यह टारगेट बनाया था कि नहीं डॉक्टर की बनना है एक बार सोच गए कि भैया डॉक्टर ही बनना है तो मुसीबत है तो सामने आनी ही थी कई तरह की मुसीबतें आई लेकिन अब कई सारे पैसे भी अब लगता था यार कि डॉक्टर बनना अपने बस की बात नहीं छोड़ देना चाहिए क्योंकि बार-बार बार-बार फेल हो हाथ लग रहा था एक बार दिया फेल हो गया दूसरी बार फिर तीसरी बार फेल ऐसे ऐसे करके हर साल फेल हो तो बोर हो रहा था पीएमटी में प्री मेडिकल टेस्ट में पास में किसी कोने में था कि यार बनेंगे तो बनना तो डॉक्टर ही है उसके सिवा दूसरा चीजें नहीं करना है तो मैंने चौथ एयरटेल भी दिया आप फिर से ट्राई किया और कहते हैं ना कि अगर आप बार-बार किसी चीज को ट्राई करते हैं तो एक समय ऐसा आता है तो ऊपर वाला भी हार मान जाता है उनको देना पड़ता है और इस चीज में सबसे ज्यादा काम आता है आपका लगन आपका डेडीकेशन तो फाइनली मेरा सिलेक्शन पीएमटी में हुआ था लंबी विश्व मेरा नहीं हुआ उसमें कुछ नंबर कमरा गया था लेकिन फाइनली मुझे वेटनरी कॉलेज मिला वेटनरी कॉलेज मैंने फिनिश किया और अभी मैं ऐसा गवर्नमेंट डॉक्टर छत्तीसगढ़ गवर्नमेंट के अंदर में काम कर रहा हूं मैं क्लास 10 रितु गजटेड ऑफिसर और सबसे अच्छी बातें कि मैंने पूरी अपने गांव का और पूरे आप अपने आसपास के एरिया का सबसे पहला स्टूडेंट हो जो पीएमटी क्या किया और फिर पीट में जनरल की सीट में जाकर वेटनरी कॉलेज किया मैंने अपने स्कूल का पूरे स्कूल का चाहे वह अपने प्राइमरी स्कूल कॉमेडी स्कूल का हाई स्कूल का पहला स्टूडेंट हूं जो पीएमटी ट्रैक किया और उसके बाद तो शक है दो-तीन लोग और थे लेकिन सबसे पहला वहां कहीं भी मेरा था तो फाइनली में आपको यह बोलना चाहूंगा कि अगर आप कुछ करना चाहते तो सबसे ज्यादा इंपोर्टेंट है आपका फोकस जाना अपने टारगेट की तरफ अगर आपके पास इटारगेट नहीं है तो मान के चलिए आप कहीं भी नहीं जा पाएंगे सर जी आप पहले इस बात पर डिपेंड बिल्कुल भी नहीं करता है कि आप कितने इंटेलिजेंट है बल्कि इस बात पर ज्यादा डिपेंड करता है कि कितने आप शो करें

agar main apne struggle ki kahani batao toh main ek chote se gaon se padha likha hoon wahan usi gaon ke school mein padhai kiya class 1 se lekar class vi tak hai vi class toh apne gaon mein tha nahi wahan se 9 kilometre dur jana padta tha aur ab mere parents ki baat rahi poonam zyada padhe likhe nahi hai panchavin aur chathi parents pade hain lekin mera jab main school mein tha usi time mera target hai ki kaise bhi karke aise bhi ho situation lekin mujhko doctor banna hai halaki main jaanta tha ki meri paristhiyaann us cheez ko allowed nahi kar raha tha kyonki financially bhi hum log kaafi kamjor se aur dusri mere maa baap padhe likhe geet anita aur teesra ek gaon ka takkar maahaul tha toh saare cheezen mere adheen tha yah time tha toh unhone 2000 ki 1999 aur 2000 ki jab medical ke seat bhi kaafi kam tha MBBS ka aur competition kaafi kafi kaafi tough tha aur usi phir maine yah target banaya tha ki nahi doctor ki banna hai ek baar soch gaye ki bhaiya doctor hi banna hai toh musibat hai toh saamne aani hi thi kai tarah ki musibatein I lekin ab kai saare paise bhi ab lagta tha yaar ki doctor banna apne bus ki baat nahi chod dena chahiye kyonki baar baar baar baar fail ho hath lag raha tha ek baar diya fail ho gaya dusri baar phir teesri baar fail aise aise karke har saal fail ho toh bore ho raha tha pmt mein pri medical test mein paas mein kisi kone mein tha ki yaar banenge toh banna toh doctor hi hai uske siva doosra cheezen nahi karna hai toh maine chauth airtel bhi diya aap phir se try kiya aur kehte hain na ki agar aap baar baar kisi cheez ko try karte hain toh ek samay aisa aata hai toh upar vala bhi haar maan jata hai unko dena padta hai aur is cheez mein sabse zyada kaam aata hai aapka lagan aapka dedikeshan toh finally mera selection pmt mein hua tha lambi vishwa mera nahi hua usme kuch number kamra gaya tha lekin finally mujhe veterinary college mila veterinary college maine finish kiya aur abhi main aisa government doctor chattisgarh government ke andar mein kaam kar raha hoon main class 10 ritu gajted officer aur sabse achi batein ki maine puri apne gaon ka aur poore aap apne aaspass ke area ka sabse pehla student ho jo pmt kya kiya aur phir peat mein general ki seat mein jaakar veterinary college kiya maine apne school ka poore school ka chahen vaah apne primary school comedy school ka high school ka pehla student hoon jo pmt track kiya aur uske baad toh shak hai do teen log aur the lekin sabse pehla wahan kahin bhi mera tha toh finally mein aapko yah bolna chahunga ki agar aap kuch karna chahte toh sabse zyada important hai aapka focus jana apne target ki taraf agar aapke paas itarget nahi hai toh maan ke chaliye aap kahin bhi nahi ja payenge sir ji aap pehle is baat par depend bilkul bhi nahi karta hai ki aap kitne Intelligent hai balki is baat par zyada depend karta hai ki kitne aap show karen

अगर मैं अपने स्ट्रगल की कहानी बताओ तो मैं एक छोटे से गांव से पढ़ा लिखा हूं वहां उसी गांव क

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  2035
WhatsApp_icon
user

मुनि श्री अशोक कुमार मेरा नाम है

Business Owner ज्योतिष के विशेषज्ञ जनरल रोज

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शुरुआती दिनों में केरियर के आपके द्वारा किए गए संघर्ष में बताए हुए हैं तो संगत तो देखो हर व्यक्ति के अंदर आता है संघर्ष करना जानता पर उसका संकल्प अगर बलवान है तो मैं तो कहता हूं उसका भविष्य अपने आप उसके हाथ

shuruati dino me Career ke aapke dwara kiye gaye sangharsh me bataye hue hain toh sangat toh dekho har vyakti ke andar aata hai sangharsh karna jaanta par uska sankalp agar balwan hai toh main toh kahata hoon uska bhavishya apne aap uske hath

शुरुआती दिनों में केरियर के आपके द्वारा किए गए संघर्ष में बताए हुए हैं तो संगत तो देखो हर

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा कैरियर आगे चलकर एमबीबीएस बंदा इसलिए मैं बहुत ही संघर्ष के अनुसार घर से मैं सारी बुक ग्रहण कर रहा हूं क्योंकि मैं mb20 बन सकूं और गरीब लोगों की सेवा कर सकूं सभी लोगों को इसके लिए मेरा

mera carrier aage chalkar MBBS banda isliye main bahut hi sangharsh ke anusaar ghar se main saari book grahan kar raha hoon kyonki main mb20 ban sakun aur garib logo ki seva kar sakun sabhi logo ko iske liye mera

मेरा कैरियर आगे चलकर एमबीबीएस बंदा इसलिए मैं बहुत ही संघर्ष के अनुसार घर से मैं सारी बुक ग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरा जवाब तो मैं बताना चाहूंगा यदि आप गरीब परिवार से बिलॉन्ग करते हो तो अपने करियर को शुरू से ध्यान दें तो अच्छा रहेगा क्योंकि आपके पास जितने भी गुणवत्ता होगी और कितनी भी कुछ होगी मैं भी 4 साल से मैथ पढ़ा रहा हूं तुम मेरे पास B.Ed की डिग्री नहीं है तो लोगों के पास पेमेंट नहीं देखते आजकल आजकल डिग्री देखते हैं पंजाब डिग्री लो आपके पास टैलेंट कितना भी होगा टैलेंट आपका कहीं नहीं लिखा जाएगा आपके पास अच्छा टैलेंट होगा ना वह भी अभी काम नहीं आएगा सबसे पहले मेरा कहना यही है आपकी पढ़ाई लिखाई के साथ-साथ अब डिग्री पास करो दूसरी बात मैं यह कहूंगा कि आपके पास कोई भी गेम है ऐसा कोई काम नहीं मिला दुनिया में जो आप पास नहीं कर सकते हैं कर सकते हो पंडित पास क्यों नहीं कर सकते क्या कहानी है कि आपका एग्जाम का 3 में नहीं रहते जब आप पढ़ना स्टार्ट करते हैं सभी एग्जाम में लगभग समान शक्ति मैच समाप्ति रैली समान होती है करण फेस आएगा चिक्की आएगा इसकी आएगी किस चीज चीज को एक बार पढ़ने के बाद में सवाल तो उनमें से आए थे आप एक दो बार ढंग से पढ़ लेते हैं उसके बाद मैं आपके पास नहीं होती हूं यह मेरी गलती है क्योंकि हम पढ़ नहीं पाते तो मेरे सभी भाइयों से एक बार चीज याद करने के बाद फिर तो आपने याद से कितना भी कर लिया रूटीन में रखी एक घंटा की गाड़ी ओके भाइयों

dekhiye mera jawab toh main batana chahunga yadi aap garib parivar se Belong karte ho toh apne career ko shuru se dhyan de toh accha rahega kyonki aapke paas jitne bhi gunavatta hogi aur kitni bhi kuch hogi main bhi 4 saal se math padha raha hoon tum mere paas B Ed ki degree nahi hai toh logo ke paas payment nahi dekhte aajkal aajkal degree dekhte hain punjab degree lo aapke paas talent kitna bhi hoga talent aapka kahin nahi likha jaega aapke paas accha talent hoga na vaah bhi abhi kaam nahi aayega sabse pehle mera kehna yahi hai aapki padhai likhai ke saath saath ab degree paas karo dusri baat main yah kahunga ki aapke paas koi bhi game hai aisa koi kaam nahi mila duniya me jo aap paas nahi kar sakte hain kar sakte ho pandit paas kyon nahi kar sakte kya kahani hai ki aapka exam ka 3 me nahi rehte jab aap padhna start karte hain sabhi exam me lagbhag saman shakti match samapti rally saman hoti hai karan face aayega chikki aayega iski aayegi kis cheez cheez ko ek baar padhne ke baad me sawaal toh unmen se aaye the aap ek do baar dhang se padh lete hain uske baad main aapke paas nahi hoti hoon yah meri galti hai kyonki hum padh nahi paate toh mere sabhi bhaiyo se ek baar cheez yaad karne ke baad phir toh aapne yaad se kitna bhi kar liya routine me rakhi ek ghanta ki gaadi ok bhaiyo

देखिए मेरा जवाब तो मैं बताना चाहूंगा यदि आप गरीब परिवार से बिलॉन्ग करते हो तो अपने करियर क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user

AMan SiNgH

TEACHER AND YOUNG MOTIVATOR 🔥🔥

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त कैरियर की जो शुरुआत होती है उसमें आपको संघर्ष तो करना ही पड़ेगा क्योंकि हर सफलता के पीछे बहुत मेहनत कर आज होता है और आपसे सब खैरियत आपकी मेहनत और पसीना मांगता है धन्यवाद

dost carrier ki jo shuruat hoti hai usme aapko sangharsh toh karna hi padega kyonki har safalta ke peeche bahut mehnat kar aaj hota hai aur aapse sab khairiyat aapki mehnat aur paseena mangta hai dhanyavad

दोस्त कैरियर की जो शुरुआत होती है उसमें आपको संघर्ष तो करना ही पड़ेगा क्योंकि हर सफलता के

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  5
WhatsApp_icon
user
1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे करियर के शुरुआती दिनों जेल में रहे हैं क्योंकि जब मैं अपने कॉलेज से पास आउट हुआ तब मैंने अपना एक एनर्जी ड्रिंक का बिजनेस डार्लिंग सोती जैसलमेर कुछ अपने मेस्ट्रो अपने दोस्तों से बात करी और उस बोतल में क्या-क्या इनके लिए ही अंश है उस पर रिसर्च करी उसके बाद उसके बाद सब कुछ डिसाइड एस्सार कंपनी में पाटनर पाटनर है और सब ठीक था और हमवतन तक की देख आए थे लेकिन कुछ मिस्टेक के कारण किया नहीं कुछ अनबन के कारण हमारा वह सारे का सारा प्लान कैंसिल करना पड़ा और उसके बाद मेरी लाइफ में बहुत स्ट्रगल मैंने काम करा मैंने टाटा मोटर्स में भी काम किया वैसे सुपरवाइजर और बहुत सारी चीजें मैंने अपनी लाइफ में एक्सपीरियंस की एंड फिर मेरी लाइफ में एक ही उठाना या मैंने एक नेटवर्क मार्केटिंग ज्वाइन कीजिए की थी जहां पर एक लीडर थे ओम शुक्ला को बहुत ही अच्छे लीडर थे और हमने साथ में मिलकर प्लान बन मैं कि हम नेटवर्क मार्केटिंग को एक नेक्स्ट स्टेप तक लेकर जाएंगे यानी कि जो हम लोग को कंसल्ट कर रहे हैं 11 बुलाकर हम उन तक एक किड बनाकर भेजेंगे बेचेंगे तो वह हमारे किस का आईडिया था जहां पर हमने कहा कि हमें बड़े-बड़े प्लान देने होंगे तो उसके लिए हमें कार रेंट के लिए थी और उसमें भी सेम सिचुएशन यह हुई कि हमारी पार्टियों में बन नहीं पाई और उसको भी प्लान फॉर्मेट ऑफ करना पड़ा एंड फाइनली उसके बाद फिर मैंने अभी तक कोई बिजनेस का ही नहीं किया था कि मैंने अपनी मेडिकल लाइन में मेरे अपने भाई के साथ और मेडिकल लाइन से मेरे को साले तेरा और एक्सपीरियंस करके मैं तेरे को हॉस्पिटल जिसका दाम मेडिसिटी हॉस्पिटल में वहां पर अपने वर्ग को करने लगा अभी मैं ऑफिस में हूं और सीख रहा हूं इसके

mere career ke shuruati dino jail mein rahe hain kyonki jab main apne college se paas out hua tab maine apna ek energy drink ka business darling soti jaisalmer kuch apne mestro apne doston se baat kari aur us bottle mein kya kya inke liye hi ansh hai us par research kari uske baad uske baad sab kuch decide essar company mein partner partner hai aur sab theek tha aur hamavatan tak ki dekh aaye the lekin kuch mistake ke karan kiya nahi kuch anban ke karan hamara vaah saare ka saara plan cancel karna pada aur uske baad meri life mein bahut struggle maine kaam kara maine tata motors mein bhi kaam kiya waise supervisor aur bahut saree cheezen maine apni life mein experience ki and phir meri life mein ek hi uthana ya maine ek network marketing join kijiye ki thi jaha par ek leader the om shukla ko bahut hi acche leader the aur humne saath mein milkar plan ban main ki hum network marketing ko ek next step tak lekar jaenge yani ki jo hum log ko Consult kar rahe hain 11 bulakar hum un tak ek kidde banakar bhejenge bechenge toh vaah hamare kis ka idea tha jaha par humne kaha ki hamein bade bade plan dene honge toh uske liye hamein car rent ke liye thi aur usme bhi same situation yah hui ki hamari partiyon mein ban nahi payi aur usko bhi plan format of karna pada and finally uske baad phir maine abhi tak koi business ka hi nahi kiya tha ki maine apni medical line mein mere apne bhai ke saath aur medical line se mere ko saale tera aur experience karke main tere ko hospital jiska daam medicity hospital mein wahan par apne varg ko karne laga abhi main office mein hoon aur seekh raha hoon iske

मेरे करियर के शुरुआती दिनों जेल में रहे हैं क्योंकि जब मैं अपने कॉलेज से पास आउट हुआ तब मै

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!