आत्मा की शक्तियाँ क्या हैं?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ध्यान दें आत्मा अजर और अमर है आत्मा कभी मरती आत्मा तो केवल एक रूप में प्रवेश करती है इसलिए आत्मा की शक्ति को समझने के लिए व्यक्ति को वेदांतसार में जाना होगा क्योंकि वेदांत सारे आत्मा की परिभाषा बताती है और आत्मा अजर अमर है आत्मा भी एक प्रकार के अलग-अलग की शक्ति है जो सूक्ष्म होती है जिसकी अवधि होती है अनंत मत है इनके बारे में सनातन धर्म के अंदर में आना आत्मा की भी विशेषता है आत्मा को कोई न कोई रूप दिया जाता है बिना रूप का आत्मा का अपना अस्तित्व नहीं रहता है क्योंकि आत्मा सच होती है पूरे शरीर सरवान को चलाने का कार्य की आत्मा करती है तो खुशी आत्मा को जब वह शरीर नष्ट हो जाता है तो फिर आत्मा को दूसरे शरीर में प्रवेश करना होता है इसकी कुछ विधियां होती है कर्म जगत में इसलिए आपने देखा है जैसे मृतक के सोलह संस्कार होते हैं उन संस्कारों के बाद जो मृतक संस्कार है उन संस्कारों में आत्मा के लिए कुछ प्रक्रिया बताई गई है 1 वर्ष के बाद वर्षीय उपरांत के हथेली से लेकर बेर की बरसी के उपरांत की आत्मा को कोई न कोई रूप में प्रवेश मिलता है व्यक्ति चाहे जो भी कर्म करें कष्ट आत्मा को भी ग्रुप बना होता है वास्तविक रूप में कोई शरीर को कष्ट नहीं होता है वासांसि जीर्णानि यथा विहाय गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने सही कहा है अतः आत्मा की शक्ति को समझने के लिए आपको अध्यात्म की दुनिया में जाना होगा जय राम

dhyan de aatma ajar aur amar hai aatma kabhi marti aatma toh keval ek roop me pravesh karti hai isliye aatma ki shakti ko samjhne ke liye vyakti ko vedantasar me jana hoga kyonki vedant saare aatma ki paribhasha batati hai aur aatma ajar amar hai aatma bhi ek prakar ke alag alag ki shakti hai jo sukshm hoti hai jiski awadhi hoti hai anant mat hai inke bare me sanatan dharm ke andar me aana aatma ki bhi visheshata hai aatma ko koi na koi roop diya jata hai bina roop ka aatma ka apna astitva nahi rehta hai kyonki aatma sach hoti hai poore sharir sarvan ko chalane ka karya ki aatma karti hai toh khushi aatma ko jab vaah sharir nasht ho jata hai toh phir aatma ko dusre sharir me pravesh karna hota hai iski kuch vidhiyan hoti hai karm jagat me isliye aapne dekha hai jaise mritak ke solah sanskar hote hain un sanskaron ke baad jo mritak sanskar hai un sanskaron me aatma ke liye kuch prakriya batai gayi hai 1 varsh ke baad varshiye uprant ke hatheli se lekar ber ki barsi ke uprant ki aatma ko koi na koi roop me pravesh milta hai vyakti chahen jo bhi karm kare kasht aatma ko bhi group bana hota hai vastavik roop me koi sharir ko kasht nahi hota hai vasansi jirnani yatha vihay geeta me bhagwan shrikrishna ne sahi kaha hai atah aatma ki shakti ko samjhne ke liye aapko adhyaatm ki duniya me jana hoga jai ram

ध्यान दें आत्मा अजर और अमर है आत्मा कभी मरती आत्मा तो केवल एक रूप में प्रवेश करती है इसलिए

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  93
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!