टैरो रीडिंग इतनी सटीक क्यों हैं?...


user

डॉ सुभाष गुप्ता

Professor (Journalism)/Journalist

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पैरों की भी रीडिंग पर कोई यकीन करता है वैसे तो यह किसी चुटकुले उससे ज्यादा नहीं लगता दिल बहलाने के लिए क्या लगता हो सकता है मैंने कुछ जवाब सुनेगी वर्ष की एनर्जी और आदमी की एनर्जी आप मुझे नहीं लगता कि आदमी अपनी अर्जी पर भी नियंत्रण कर पाता है यह ताश के पत्तों का जवाब चाहिए अगर इस तरह कोई संभव होता तो फिर तो रोना से क्या होने वाला है जम्मू कश्मीर का क्या होगा इन सब इस तरह के दुनिया के सवालों के जवाब रहता कुछ नहीं है

pairon ki bhi reading par koi yakin karta hai waise toh yah kisi chutkule usse zyada nahi lagta dil bahlane ke liye kya lagta ho sakta hai maine kuch jawab sunegi varsh ki energy aur aadmi ki energy aap mujhe nahi lagta ki aadmi apni arji par bhi niyantran kar pata hai yah tash ke patton ka jawab chahiye agar is tarah koi sambhav hota toh phir toh rona se kya hone vala hai jammu kashmir ka kya hoga in sab is tarah ke duniya ke sawalon ke jawab rehta kuch nahi hai

पैरों की भी रीडिंग पर कोई यकीन करता है वैसे तो यह किसी चुटकुले उससे ज्यादा नहीं लगता दिल ब

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  93
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!