550वां प्रकाश पर्व: पंजाब में किस तरह मनाया जाता है गुरु नानक का जन्मदिन?...


user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

550 का प्रकाश पर्व पंजाब में किस तरह मनाया जाता है गुरु नानक का जन्मदिन गिरीश्वर 550 का प्रकाश पर्व मनाया गया था जिस दिन मोदी जी भी उस में सम्मिलित हुए थे और निश्चित रूप से एक बड़ा ही धार्मिक त्यौहार है जिसे बड़े गर्व के साथ मनाया जाता है इस त्यौहार के जरिए पूरे प्रदेश में लोगों को यह बताया जाता है किस प्रकार कई लोगों ने इस्लाम के लोगों ने किस प्रकार हम पर जुल्म किए थे और कैसे कई लोगों को धर्म परिवर्तन ना करने के कारण मार दिया काट दिया गया था लेकिन फिर भी उन्होंने धर्म परिवर्तन नहीं किया तो 1 लोगों में जूस के रूप में मनाया जाता है बताया जाता है कैसे हमारे लोगों ने धर्म नहीं बदला भले ही खुद के सामने खुद के परिवार को मारा गया लोगों में जोश भरने के रूप में उन्हें प्राप्त प्राचीन इतिहास बताने के लिए अपने गौरवशाली इतिहास बताने के रूप में और सभी लोगों को ही भोजन कराया जाता है लंदन लगते हैं उसने पूरे प्रदेश में जागरूकता फैलाई जाती है तो इसी ग्रुप में से एक पर्व के रूप में मनाया जाता है

550 ka prakash parv punjab me kis tarah manaya jata hai guru nanak ka janamdin girishwar 550 ka prakash parv manaya gaya tha jis din modi ji bhi us me sammilit hue the aur nishchit roop se ek bada hi dharmik tyohar hai jise bade garv ke saath manaya jata hai is tyohar ke jariye poore pradesh me logo ko yah bataya jata hai kis prakar kai logo ne islam ke logo ne kis prakar hum par zulm kiye the aur kaise kai logo ko dharm parivartan na karne ke karan maar diya kaat diya gaya tha lekin phir bhi unhone dharm parivartan nahi kiya toh 1 logo me juice ke roop me manaya jata hai bataya jata hai kaise hamare logo ne dharm nahi badla bhale hi khud ke saamne khud ke parivar ko mara gaya logo me josh bharne ke roop me unhe prapt prachin itihas batane ke liye apne gauravshali itihas batane ke roop me aur sabhi logo ko hi bhojan karaya jata hai london lagte hain usne poore pradesh me jagrukta failai jaati hai toh isi group me se ek parv ke roop me manaya jata hai

550 का प्रकाश पर्व पंजाब में किस तरह मनाया जाता है गुरु नानक का जन्मदिन गिरीश्वर 550 का प्

Romanized Version
Likes  104  Dislikes    views  2954
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:00
Play

Likes  149  Dislikes    views  2376
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:23
Play

Likes  88  Dislikes    views  1594
WhatsApp_icon
play
user
1:08

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु नानक का जन्म दिवस कार्तिक पूर्णिमा के दिन इस वर्ष 12 नवंबर को मनाया जाएगा गुरु नानक का 550 वां जन्मोत्सव प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाएगा पंजाब के सहित पूरे देश में गुरु नानक का जन्म दिवस मनाया जाएगा धूमधाम से मनाया जाएगा जगह-जगह गुरुद्वारों में सघन नाम किए जाएंगे झांकियां निकाली जाएगी या निकाली जाएगी लंगर खिलाए जाएंगे रोशनी आ जाएगी और भगवान के गुरु नाम किए जाएंगे करतारपुर साहिब में अवसर पर मेला भरा हुआ है वहां पे लाखों श्रद्धालुओं जाएंगे इस प्रकार गुरु नानक का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है

guru nanak ka janam divas kartik poornima ke din is varsh 12 november ko manaya jaega guru nanak ka 550 va janmotsav prakash parv ke roop mein manaya jaega punjab ke sahit poore desh mein guru nanak ka janam divas manaya jaega dhumadham se manaya jaega jagah jagah gurudwaron mein saghan naam kiye jaenge jhankiyan nikali jayegi ya nikali jayegi langar khilaye jaenge roshni aa jayegi aur bhagwan ke guru naam kiye jaenge kartarpur sahib mein avsar par mela bhara hua hai wahan pe laakhon shraddhaluon jaenge is prakar guru nanak ka janmotsav dhumadham se manaya ja raha hai

गुरु नानक का जन्म दिवस कार्तिक पूर्णिमा के दिन इस वर्ष 12 नवंबर को मनाया जाएगा गुरु नानक क

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  1994
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

5:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

550 वां प्रकाश वर्ष पंजाब में किस तरह मनाया जाता है गुरु नानक का जन्म तिथि गुरु नानक जी का जन्मदिन कार्तिक पूर्णिमा को मनाते हैं जो कि इस साल 12 नवंबर जाने की आज है इतने लोग इस तरह मनाते हैं जैसे कि वाहेगुरु जगते हैं वाहेगुरु का पाठ करते हैं सुबह-सुबह में प्रभात तेरी होती है शब्द कीर्तन बाद में होता है और सिख भाई जो है रुमाला चलाते हैं और शाम को लंगर होता है और सभी भाई और जो भी लोग अपनी शक्ति के अनुसार उसमें सेवा देते हैं यानी कि सब खुद ही सेवा करते हैं और वाहेगुरु वाहेगुरु बोलते हैं और एक भाई जो है वह गुरुवाणी का पाठ करते हैं 15 अप्रैल 1469 में रायपुर तलवंडी अब वो जो कि पंजाब के पाकिस्तान में है वहां पर ओ ननकाना साहिब जगह हो गई है और वहां पर बहुत बड़ा गुरुद्वारा है जो शेरे पंजाब रणजीत सिंह ने गुरुद्वारा ननकाना साहिब का निर्माण करवाया था और गुरु नानक जी जो कि वह पहले ग्रुप से हमको पंजाब में नानक देव जी के भी नाम से बुलाते हैं बाबा नानक के नाम से बुलाते हैं कोई नानक शाह के नाम से भी बुलाते हैं और यहां तक कि लद्दाख को तिब्बत में उनको नानक लामा के नाम से बुलाते हैं उन्होंने मानवता की सेवा में पूरी जिंदगी बिता दी उनका जिओ विवाह हुआ था वह 16 साल की उम्र में हो गया था तो लक्ष्मी नाम की कन्या से उनकी शादी हुई थी और उनके दो बेटे थे श्रीचंद और लक्ष्मी दास और 1539 में करतारपुर के एक धर्मशाला में उनका देहावसान हुआ था और उनके उन्होंने भेजो गड्डी थी अमजद देव नाम के उनके उनको दे दी थी और फिर बाद में वह दूसरे धर्म गुरु गुरु अंगद देव सिख धर्म में सबसे माने जाते हैं इससे जो गुरु नानक यह में सिख धर्म का सिख पंथ का निर्माण किया था और उन्होंने सिख धर्म को स्थापित किया था और चलाया था और अपनी मानवता की सेवा में पूरी जिंदगी खफा दी थी और इसके अलावा जो है वह अफगानिस्तान ईरान पर अब वहां तक उन्होंने यात्रा की थी और इस यात्रा को उदासियां कहते हैं इसलिए उनके जो अनुयाई हैं वह सब जगह फैले हुए हैं इनको हमेशा याद रखा जाएगा उनकी बहुत ही मामला पुलिस सिख समुदाय में है वह पहला जो गुरु हैं उनके पहले वही नानक देव जी का जन्म दिवस मनाया जाता है पंजाब में और हमारे वर्तमान में इस बार जन्म शताब्दी महोत्सव के तहत करतारपुर कॉरिडोर का जो निर्माण हुआ है और $20 की फीस रखी गई है और पहले जत्थे में जो कैप्टन अमरिंदर सिंह और मनमोहन सिंह पूर्व प्रधानमंत्री हो गए हैं हेलो जबसे में सपोर्ट नरेंद्र मोदी यात्रा को हरी झंडी दिखाकर किया था और आज 12 नवंबर को सेवा पूजा अरदास सब लोग करेंगे धन्यवाद

550 va prakash varsh punjab mein kis tarah manaya jata hai guru nanak ka janam tithi guru nanak ji ka janamdin kartik poornima ko manate hai jo ki is saal 12 november jaane ki aaj hai itne log is tarah manate hai jaise ki vaheguru jagte hai vaheguru ka path karte hai subah subah mein prabhat teri hoti hai shabd kirtan baad mein hota hai aur sikh bhai jo hai rumala chalte hai aur shaam ko langar hota hai aur sabhi bhai aur jo bhi log apni shakti ke anusaar usme seva dete hai yani ki sab khud hi seva karte hai aur vaheguru vaheguru bolte hai aur ek bhai jo hai vaah guruvani ka path karte hai 15 april 1469 mein raipur talwandi ab vo jo ki punjab ke pakistan mein hai wahan par o nankana sahib jagah ho gayi hai aur wahan par bahut bada gurudwara hai jo shere punjab ranjeet Singh ne gurudwara nankana sahib ka nirmaan karvaya tha aur guru nanak ji jo ki vaah pehle group se hamko punjab mein nanak dev ji ke bhi naam se bulate hai baba nanak ke naam se bulate hai koi nanak shah ke naam se bhi bulate hai aur yahan tak ki ladakh ko tibet mein unko nanak lama ke naam se bulate hai unhone manavta ki seva mein puri zindagi bita di unka jio vivah hua tha vaah 16 saal ki umr mein ho gaya tha toh laxmi naam ki kanya se unki shadi hui thi aur unke do bete the shrichand aur laxmi das aur 1539 mein kartarpur ke ek dharmasala mein unka dehavasan hua tha aur unke unhone bhejo gaddi thi amjad dev naam ke unke unko de di thi aur phir baad mein vaah dusre dharm guru guru angad dev sikh dharm mein sabse maane jaate hai isse jo guru nanak yah mein sikh dharm ka sikh panth ka nirmaan kiya tha aur unhone sikh dharm ko sthapit kiya tha aur chalaya tha aur apni manavta ki seva mein puri zindagi khafa di thi aur iske alava jo hai vaah afghanistan iran par ab wahan tak unhone yatra ki thi aur is yatra ko udasiyan kehte hai isliye unke jo anuyayi hai vaah sab jagah failen hue hai inko hamesha yaad rakha jaega unki bahut hi maamla police sikh samuday mein hai vaah pehla jo guru hai unke pehle wahi nanak dev ji ka janam divas manaya jata hai punjab mein aur hamare vartaman mein is baar janam shatabdi mahotsav ke tahat kartarpur corridor ka jo nirmaan hua hai aur 20 ki fees rakhi gayi hai aur pehle jatthe mein jo captain amarindar Singh aur manmohan Singh purv pradhanmantri ho gaye hai hello jabse mein support narendra modi yatra ko hari jhandi dikhakar kiya tha aur aaj 12 november ko seva puja ardas sab log karenge dhanyavad

550 वां प्रकाश वर्ष पंजाब में किस तरह मनाया जाता है गुरु नानक का जन्म तिथि गुरु नानक जी का

Romanized Version
Likes  66  Dislikes    views  1323
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
550वां प्रकाश पर्व ; apmip login ; गुरु गोविन्द सिंह की जीवनी ; गुरु पर्व कब है ; साधना सिंह की जीवनी ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!