अपने देश में कभी भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है क्या?...


user

MAHFOOZ ALAM

Soft Skill Trainer

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आपका प्रश्न है कि अपने देश में कभी भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है क्या जरूर खत्म हो सकता है लेकिन मैं आपको बता दूं किसी भी अर्थव्यवस्था के लिए जो वहां की अर्थव्यवस्था चलती है वहां पर एक समानांतर अर्थव्यवस्था भी चलती है यानी कहीं ना कहीं हम आपको बता सकते हैं इस चीज को कह सकते हैं कि जब कोई अच्छी चीजें चलती है तो उनके साथ एक बुरी चीजें चलती है तो जब अच्छी चीजें चलेंगे और साथ में बुरी से चलेंगे तो डिपेंड करता वहां के लोकल लेने के जो आम लोग हैं वह किस ढर्रे पर चलते हैं यानी किस व्यवस्था के साथ चलते हैं अगर वह अपना ट्रेंड बदलते हैं नहीं अच्छी व्यवस्था के साथ चलते हैं तो इस भ्रष्टाचार को बहुत हद तक खत्म किया जा सकता है और शायद धीरे धीरे धीरे धीरे यह जड़ से खत्म हो जाए खत्म हो सकता है लेकिन अपने अंदर और लोगों को जागरूक करना होगा किया देश या हमारी अर्थव्यवस्था तभी सही से चल सकते जाम भ्रष्टाचार को खत्म कर सकते हैं और इसमें साथ एक और बात होती है मान लीजिए अगर कोई व्यक्ति गलत तरीके से पैसा कमाता है और उसको अपने देश में ही रखता है तो आप की अर्थव्यवस्था पर उसका प्रभाव उतना नहीं पड़ता है जितना कोई ईमानदारी से पैसा कमाता है और अपने देश के बाहर उसको भेज देता है तो यह दो चीजें बहुत जरूरी है कि समानांतर अर्थव्यवस्था में अच्छाई लाई जाए यानी कि जहां एक तरफ अच्छी व्यवस्था चलने के साथ-साथ दूसरी व्यवस्था है उस को बदलने का प्रयास किया जाए तो शायद यह भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है

jaisa ki aapka prashna hai ki apne desh me kabhi bhrashtachar khatam ho sakta hai kya zaroor khatam ho sakta hai lekin main aapko bata doon kisi bhi arthavyavastha ke liye jo wahan ki arthavyavastha chalti hai wahan par ek samanantar arthavyavastha bhi chalti hai yani kahin na kahin hum aapko bata sakte hain is cheez ko keh sakte hain ki jab koi achi cheezen chalti hai toh unke saath ek buri cheezen chalti hai toh jab achi cheezen chalenge aur saath me buri se chalenge toh depend karta wahan ke local lene ke jo aam log hain vaah kis dharre par chalte hain yani kis vyavastha ke saath chalte hain agar vaah apna trend badalte hain nahi achi vyavastha ke saath chalte hain toh is bhrashtachar ko bahut had tak khatam kiya ja sakta hai aur shayad dhire dhire dhire dhire yah jad se khatam ho jaaye khatam ho sakta hai lekin apne andar aur logo ko jagruk karna hoga kiya desh ya hamari arthavyavastha tabhi sahi se chal sakte jam bhrashtachar ko khatam kar sakte hain aur isme saath ek aur baat hoti hai maan lijiye agar koi vyakti galat tarike se paisa kamata hai aur usko apne desh me hi rakhta hai toh aap ki arthavyavastha par uska prabhav utana nahi padta hai jitna koi imaandaari se paisa kamata hai aur apne desh ke bahar usko bhej deta hai toh yah do cheezen bahut zaroori hai ki samanantar arthavyavastha me acchai lai jaaye yani ki jaha ek taraf achi vyavastha chalne ke saath saath dusri vyavastha hai us ko badalne ka prayas kiya jaaye toh shayad yah bhrashtachar khatam ho sakta hai

जैसा कि आपका प्रश्न है कि अपने देश में कभी भ्रष्टाचार खत्म हो सकता है क्या जरूर खत्म हो सक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  62
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!