टेनिस कोर्ट की शपथ क्या थी ?...


user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टेनिस कोर्ट की शपथ ओवैसी के लिए यह है कि जब 23 जुलाई 1718 को अधिवेशन बुलाया गया था राज्यसभा का विपक्ष विधानसभा की घोषणा होने वाली थी उस वक्त तृतीय वर्ग के सदस्य अपनी बैठक खुद करते थे मैं तो सो जाओ सुबह नहीं था तो उस चीज को देखते हुए सदस्यों दरवाजे हमेशा के लिए बंद हो रहे थे इसी को देखते हुए उन्होंने उसके बगल के टेनिस कोर्ट की छत के सरल और वहीं पर शपथ ली कि जब फ्रांस के लिए जो संविधान की रचना नहीं कर लेते तब तक वह अपने अपने आप को भंग नहीं होने देंगे यह शपथ ली थी उस वक्त उस संपत्ति कारण पूरे राज्य चंद्र जयपुर से हिल गया था कि पूरी तरह से पुरातन व्यवस्था जो टूटने लगा था उस वक्त जो राज्य सामान्य सभा थी उसका अधिवेशन हुआ था Facebook रास्ता आसान था चुप था उसके प्रतीकों के कारण क्या हुआ कि रोटी की कीमत जो अनाज है बहुत कीमती है बढ़ गई उस वक्त ब्रोकर से पुणे

tennis court ki shapath owaisi ke liye yah hai ki jab 23 july 1718 ko adhiveshan bulaya gaya tha rajya sabha ka vipaksh vidhan sabha ki ghoshana hone wali thi us waqt tritiya varg ke sadasya apni BA ithak khud karte the main toh so jao subah nahi tha toh us cheez ko dekhte hue sadasyon darwaze hamesha ke liye BA nd ho rahe the isi ko dekhte hue unhone uske BA gal ke tennis court ki chhat ke saral aur wahi par shapath li ki jab france ke liye jo samvidhan ki rachna nahi kar lete tab tak vaah apne apne aap ko bhang nahi hone denge yah shapath li thi us waqt us sampatti karan poore rajya chandra jaipur se hil gaya tha ki puri tarah se puratan vyavastha jo tutne laga tha us waqt jo rajya samanya sabha thi uska adhiveshan hua tha Facebook rasta aasaan tha chup tha uske pratikon ke karan kya hua ki roti ki kimat jo anaaj hai BA hut kimti hai BA dh gayi us waqt broker se pune

टेनिस कोर्ट की शपथ ओवैसी के लिए यह है कि जब 23 जुलाई 1718 को अधिवेशन बुलाया गया था राज्यसभ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  266
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sid Malhotra

Volunteer

0:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टेनिस कोर्ट ओथ इसका मतलब था देखिए 20 जून 1779 में हुई थी जून 2019 में यह इसके अंदर जो फ्रैंकफर्ट स्टेट के मेंबर थे उसमें उन लोगों ने फ्रेंड स्टार्ट स्टेट के लोगों ने टेनिस कोर्ट ओथ ली थी और इसमें उन्होंने कहा था नोट टू सेपरेट यानी कि अलग नहीं होना है और टूर रिअसेंबल वैरावर सरकमस्टेंसस रिक्वायर यानी कि वापस एकजुट हो जाना है जब भी जरूरत पड़े और जरूरत के टाइम पे सब को एकजुट होकर रहना है ताकि संविधान जो है जब तक जब तक हमारा संविधान नहीं बन जाता और संविधान के बनते ही सबको फ्रीडम दे दी जाएगी और अब अपनी जिंदगी अपने तरीके से जी सकते हैं तो यह फ्रेंच रिवॉल्यूशन का एक पाठ था पिटल इवेंट था उसका एक टेनिस कोर्ट ओथ

tennis court oath iska matlab tha dekhiye 20 june 1779 mein hui thi june 2019 mein yah iske andar jo frainkafart state ke member the usme un logo ne friend start state ke logo ne tennis court oath li thi aur isme unhone kaha tha note to separate yani ki alag nahi hona hai aur tour reassemble vairawar sarakamastensas require yani ki wapas ekjut ho jana hai jab bhi zarurat pade aur zarurat ke time pe sab ko ekjut hokar rehna hai taki samvidhan jo hai jab tak jab tak hamara samvidhan nahi BA n jata aur samvidhan ke BA nte hi sabko freedom de di jayegi aur ab apni zindagi apne tarike se ji sakte hai toh yah french revolution ka ek path tha pital event tha uska ek tennis court oath

टेनिस कोर्ट ओथ इसका मतलब था देखिए 20 जून 1779 में हुई थी जून 2019 में यह इसके अंदर जो फ्रै

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
user
2:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिनेश कोर्ट की शपथ क्या थी 20 जून 1789 को फ्रेंच स्टेटस जनरल या फिर तीसरे स्टेटस के सदस्य जिन्होंने खुद को राष्ट्रीय असेंबली बुलाया था उन्होंने टेनिस कोर्ट ओथ में शपथ ली थी राज्य के संविधान की स्थापना होने तक जहां भी परिस्थितियों की आवश्यकता होती है अलग अलग अलग करने के लिए अलग नहीं होना चाहिए फिर से इकट्ठा करना या फ्रांसीसी क्रांति का एक महत्वपूर्ण घटना थी स्टेटस जनरल को देखकर राजकोषीय और कृषि संकट को संबोधित करने के लिए बुलाया गया था लेकिन मई 1789 में बुलाए जाने के तुरंत बाद जो प्रतिनिधित्व थे प्रतिनियुक्त के मुद्दे में फस गए थे विशेष रूप से चाहे वह सिर से मतदान करेंगे या फिर आदेश के अनुसार तो 17 जून को कॉमेडी मीराबाई के नित्य में तीसरा स्टेट खुद को नेशनल असेंबली कहलाता था 20 जून की डिप्टी को यह पता लगाने के लिए चौका दिया गया कि रक्षा दरवाजा बंद कर दिया गया था और सैनिकों द्वारा संरक्षित किया गया था तो उस वक्त राजा लुइस 16 में दौरा शाही हमले के तुरंत बाद सबसे बड़ी और चिंतित होने से डरते हुए पैलेस के पास वरसाई शहर के सेंट लुइस जिले में आज के इंदौर जयू डूबा वोट में डिप्टी एकत्र हुए थे वहां दूसरे स्टेट के 577 सदस्यों में से 576 ने सामूहिक शपथ ली थी अलग अलग नहीं होने के लिए और जहां भी परिस्थितियों की आवश्यकता होती है तब तक साम्राज्य की स्थापना की जाती और देखा जाए तो देखे फ्रांसीसी क्रांति की शुरुआत में ही 20 जून 1789 में ट्रिब्यूनल का तीसरा सदस्य बार सेल्स के महल के समीप टेनिस कोर्ट में करता हुआ और उन्होंने वचन दिया कि वह संविधान की स्थापना तक बंद नहीं होंगे विंगली जो किंग लुइ 16 व्हेन ए टी विधायक की गतिविधियों को बंद करने के लिए फर्स्ट को बंद करने का कारण बना दिया था

dinesh court ki shapath kya thi 20 june 1789 ko french status general ya phir teesre status ke sadasya jinhone khud ko rashtriya assembly bulaya tha unhone tennis court oath mein shapath li thi rajya ke samvidhan ki sthapna hone tak jaha bhi paristhitiyon ki avashyakta hoti hai alag alag alag karne ke liye alag nahi hona chahiye phir se ikattha karna ya francisi kranti ka ek mahatvapurna ghatna thi status general ko dekhkar rajkoshiya aur krishi sankat ko sambodhit karne ke liye bulaya gaya tha lekin may 1789 mein bulaye jaane ke turant BA ad jo pratinidhitva the pratiniyukt ke mudde mein fas gaye the vishesh roop se chahen vaah sir se matdan karenge ya phir aadesh ke anusaar toh 17 june ko comedy mirabai ke nitya mein teesra state khud ko national assembly kehlata tha 20 june ki deputy ko yah pata lagane ke liye chowka diya gaya ki raksha darwaja BA nd kar diya gaya tha aur sainikon dwara sanrakshit kiya gaya tha toh us waqt raja luis 16 mein daura shahi hamle ke turant BA ad sabse BA di aur chintit hone se darte hue Palace ke paas varsai shehar ke sent luis jile mein aaj ke indore jayu dooba vote mein deputy ekatarr hue the wahan dusre state ke 577 sadasyon mein se 576 ne samuhik shapath li thi alag alag nahi hone ke liye aur jaha bhi paristhitiyon ki avashyakta hoti hai tab tak samrajya ki sthapna ki jaati aur dekha jaaye toh dekhe francisi kranti ki shuruat mein hi 20 june 1789 mein tribunal ka teesra sadasya BA ar sales ke mahal ke sameep tennis court mein karta hua aur unhone vachan diya ki vaah samvidhan ki sthapna tak BA nd nahi honge vingali jo king lui 16 when a T vidhayak ki gatividhiyon ko BA nd karne ke liye first ko BA nd karne ka karan BA na diya tha

दिनेश कोर्ट की शपथ क्या थी 20 जून 1789 को फ्रेंच स्टेटस जनरल या फिर तीसरे स्टेटस के सदस्य

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
टेनिस कोर्ट की शपथ ; tennis court ki shapath kya thi ; टेनिस कोर्ट की शपथ क्या थी ; tennis court ki shapath ; france ki kranti ke samay tennis court ki shapath hui ; france ki kranti ke samay tennis court ki shapath kab hui ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!