क्या इंदौर सबसे स्वच्छ शहर बन पाएगा?...


user

Mr. Mukesh Kumar

Youtuber, https://youtu.be/lxwi7CXLHSQ

5:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए किसी भी स्थान की स्वच्छता बनाए रखने में वहां के निवासी का महत्वपूर्ण योगदान होता है क्योंकि उस स्थान पर जो रहेगा वही उसकी सफाई करेगा तो सब स्वच्छता में एक रफ्तार मिलेगी सपोज कीजिए कि सरकार अच्छी सी योजनाएं स्वच्छता के प्रति लागू करती है जहां वाहन योजना लागू की जा रही है वहां के लोग उससे के प्रति जागरूक ना हो उसकी अहमियत को ना समझे उसके द्वारा जो हमें लाभ पहुंचता है उसके बारे में ना जाने तो फिर वह वही गलतियां पुनः दोहराने लगते हैं जो उस योजना के पूर्व दोहरा रहे हो ऐसे में योजना सफल नहीं हो पाता है तो किसी भी राज्य किसी भी शहर को स्वच्छ बनाने में नागरिकों का हाथ होता है अगर सरकार को योजना नहीं चलाते यदि धार्मिक जाएं तो अपने बलबूते पर अपने अगल-बगल के तीन जगहों को साफ सुथरा रखकर स्वच्छ भारत का निर्माण कर सकते तो जहां तक प्रश्न है कि इंदौर सबसे अच्छा स्वच्छ शहर बन सकता है बन पाएगा तो मैं यही कहना चाहूंगा कोई भी जगह जरूर बन सकता है बस हमें अपने जिम्मेदारियों के प्रति सहज होना चाहिए हम जो कर रहे हैं वह केवल स्वयं के लिए ना करके दूसरों के बारे में भी सोचना चाहिए अक्सर होता क्या है कि हम लोग अपने घर के अंदर के कचरे को निकाल कर अपने घर की सफाई तो कर लेते हैं पर उनका चोरों को कौन जाओ पहले जाकर फेंक देते हैं निश्चय ही दूसरों को नुकसान पहुंचता है वहां फेंकने वाला यह समझता है कि मुझे किसी ने नहीं देखा है और अगर देख भी लिया है तो मेरा क्या कर लेगा यह तो सार्वजनिक स्थान है यहां कचरा फेंकना कोई मना नहीं है इसका मतलब यह है कि हम अपनी जिम्मेदारियों से छूटना चाहते हैं हम अपने अंदर वह भावना रखते हैं कि सिम तो हम दूसरे दूसरे को दुख पहुंचा तो इस प्रकार की बहाना यदि हम अपने मन से निकाल दे साथी साथिया अपने मन में गांठ पर ना लें कि अगर हम सोच रहे हैं तो हमारा समाज का जो भी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हैं वह दूर हो जाएगी और चुकी आज की युग में जिस प्रकार से बीमारियों की ग्रस्त हो रहे हैं विकारों का अपने अंदर समावेश कर रहे हैं वह समावेश इतने हमें जटिलताओं का सामना करने के लिए बाध्य कर रही है कि हमें ऐसी ऐसी बीमारियां हो रही है जिसके कारण हम अपने महीनों सालों की कमाई स्वास्थ्य पर खर्च कर दे रहे हैं यदि इस बात को सोचकर हम अपने अंदर एक वादा कर अपने आप से वादा करें प्रण करें कि हम स्वच्छ भारत बनाएंगे क्योंकि हमारा सेहत सुंदर रहेगा हमारा अगल-बगल का समाज सुंदर रहेगा वह सी जगह पर बच्चे हमारे अधिक चलेंगे इसी बात का डर भय नहीं रहेगा तो हम जरूर अपने समाज को स्वच्छ बना सकते हैं हम गवर्नमेंट की योजनाओं की तरह सोना विशेष ध्यान देकर खुद के भी हम अपनी योजना बना सकते हैं कुछ कमेटी का गठन कर प्रत्येक व्यक्ति कुछ पैसे इकट्ठा करें चंदा के रूप में हो चाहे जिस रूप में हों और उन पैसों से हम अपने जो साफ सफाई में खर्च किए जाते हैं जो सामग्री लगती है उसके ऊपर खर्च करके विश्वास बन सकते हैं तो इस प्रकार हम सारे नियम का फ्लोर करें अनुसरण करें तो हम इंदौर को सबसे खूबसूरत शहर तो बना सकते हैं साथ ही मेरे द्वारा कही गई बातें अन्य क्षेत्रों के लोग भी यदि सहमति से कार करें तो आकर बुजुर्गों को भी स्वच्छ बनाया जा सकता है मुझे पूर्ण विश्वास है कि आप लोगों को मेरी बातें पूर्व था तो नहीं मगर कुछ तो अच्छी लगी जिससे आप लोग उसी को मिलेगा और आगे इस चीज को अनुसरण करके आप स्वयं चाबी घर परिवार शरीर अगल-बगल के जगह को स्वच्छ

dekhiye kisi bhi sthan ki swachhta banaye rakhne mein wahan ke niwasi ka mahatvapurna yogdan hota hai kyonki us sthan par jo rahega wahi uski safaai karega toh sab swachhta mein ek raftaar milegi suppose kijiye ki sarkar achi si yojanaye swachhta ke prati laagu karti hai jaha vaahan yojana laagu ki ja rahi hai wahan ke log usse ke prati jagruk na ho uski ahamiyat ko na samjhe uske dwara jo hamein labh pahuchta hai uske bare mein na jaane toh phir vaah wahi galtiya punh dohrane lagte hai jo us yojana ke purv dohra rahe ho aise mein yojana safal nahi ho pata hai toh kisi bhi rajya kisi bhi shehar ko swachh banane mein nagriko ka hath hota hai agar sarkar ko yojana nahi chalte yadi dharmik jayen toh apne balbute par apne agal bagal ke teen jagaho ko saaf suthara rakhakar swachh bharat ka nirmaan kar sakte toh jaha tak prashna hai ki indore sabse accha swachh shehar ban sakta hai ban payega toh main yahi kehna chahunga koi bhi jagah zaroor ban sakta hai bus hamein apne jimmedariyon ke prati sehaz hona chahiye hum jo kar rahe hai vaah keval swayam ke liye na karke dusro ke bare mein bhi sochna chahiye aksar hota kya hai ki hum log apne ghar ke andar ke kachre ko nikaal kar apne ghar ki safaai toh kar lete hai par unka choron ko kaun jao pehle jaakar fenk dete hai nishchay hi dusro ko nuksan pahuchta hai wahan fenkne vala yah samajhata hai ki mujhe kisi ne nahi dekha hai aur agar dekh bhi liya hai toh mera kya kar lega yah toh sarvajanik sthan hai yahan kachra phenkana koi mana nahi hai iska matlab yah hai ki hum apni jimmedariyon se chutana chahte hai hum apne andar vaah bhavna rakhte hai ki sim toh hum dusre dusre ko dukh pohcha toh is prakar ki bahana yadi hum apne man se nikaal de sathi sathiya apne man mein ganth par na le ki agar hum soch rahe hai toh hamara samaj ka jo bhi swasthya sambandhi pareshaniya hai vaah dur ho jayegi aur chuki aaj ki yug mein jis prakar se bimariyon ki grast ho rahe hai vikaron ka apne andar samavesh kar rahe hai vaah samavesh itne hamein jatillataon ka samana karne ke liye badhya kar rahi hai ki hamein aisi aisi bimariyan ho rahi hai jiske karan hum apne mahinon salon ki kamai swasthya par kharch kar de rahe hai yadi is baat ko sochkar hum apne andar ek vada kar apne aap se vada kare pran kare ki hum swachh bharat banayenge kyonki hamara sehat sundar rahega hamara agal bagal ka samaj sundar rahega vaah si jagah par bacche hamare adhik chalenge isi baat ka dar bhay nahi rahega toh hum zaroor apne samaj ko swachh bana sakte hai hum government ki yojnao ki tarah sona vishesh dhyan dekar khud ke bhi hum apni yojana bana sakte hai kuch committee ka gathan kar pratyek vyakti kuch paise ikattha kare chanda ke roop mein ho chahen jis roop mein ho aur un paison se hum apne jo saaf safaai mein kharch kiye jaate hai jo samagri lagti hai uske upar kharch karke vishwas ban sakte hai toh is prakar hum saare niyam ka floor kare anusaran kare toh hum indore ko sabse khoobsurat shehar toh bana sakte hai saath hi mere dwara kahi gayi batein anya kshetro ke log bhi yadi sahmati se car kare toh aakar bujurgon ko bhi swachh banaya ja sakta hai mujhe purn vishwas hai ki aap logo ko meri batein purv tha toh nahi magar kuch toh achi lagi jisse aap log usi ko milega aur aage is cheez ko anusaran karke aap swayam chabi ghar parivar sharir agal bagal ke jagah ko swatch

देखिए किसी भी स्थान की स्वच्छता बनाए रखने में वहां के निवासी का महत्वपूर्ण योगदान होता है

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  382
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!